Vaishali Tourism in Hindi

Vaishali Tourism in Hindi | वैशाली का इतिहास और पर्यटन स्थल की जानकारी

नमस्कार दोस्तों Vaishali in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम भगवान महावीर का जन्मस्थान यानि वैशाली के टॉप पर्यटन स्थल और उसकी पूरी जानकारी बताने वाले है। वैशाली तीर्थ स्थल बिहार का एक छोटा सा जिला और बौद्ध, जैन और हिन्दू धर्म के भक्तो के लिए एक तीर्थ स्थल के रूप में प्रसिद्ध हैं। दुनिया के पहले गणराज्य के रूप में वैशाली का नाम महाभारत के समय से राजा विशाल के नाम पर रखा गया था। यह पवित्र स्थान पर भगवान बुद्ध ने अपना समय व्यतीत किया था।

यह शहर में भगवान महावीर का जन्म हुआ था, और यही शहर में भग्वान बुद्ध ने अपना अंतिम उपदेश दिया था। केले के पेड़ों और चावल के खेत से घिरा यह शहर बिहार का एक हिस्सा है। यह गांव एक महत्वपूर्ण धार्मिक और ऐतिहासिक आकर्षण स्थल है। राजा अशोक जिन्होंने कलिंग के नरसंहार के बाद बौद्ध धर्म ग्रहण किया था। उन्होंने यहां अपना एक उल्लेखनीय स्तंभ खड़ा करने का फैसला किया था। दुनिया के पहले लोकतांत्रिक गणराज्यों में से एक छठी शताब्दी ईसा पूर्व में यह शहर फला-फूला था।

History of Vaishali

बौद्ध धर्म या जैन धर्म की स्थापना से पहले भी वैशाली छठी शताब्दी ईसा पूर्व में मिथिला के वज्जी वंश की राजधानी हुआ करता था। यह प्राचीन यूनान में पाए जाने वाले गणराज्यों से भी पहले दुनिया का पहला गणराज्य था। यहाँ जैन धर्म और बौद्ध धर्म दोनों से संबंधित कई ग्रंथ पाए जाते हैं। वह धर्मों के बारे में ज्यादा जानकारी का स्रोत माना जाता हैं। उसमे दो सबसे महत्वपूर्ण घटनाएँ हैं- वर्धमान महावीर का जन्म और गौतम बुद्ध ने यहाँ अपना अंतिम उपदेश दिया था।

पहले वैशाली शहर मुजफ्फरपुर जिले का हिस्सा हुआ करता था। प्रसिद्ध विश्व शांति शिवालय (विश्व शांति स्तूप) का निर्माण एक जापानी फूजी गुरू लोगन द्वारा किया गया था। यह अंबापाली के जन्मस्थान के रूप में भी प्रसिद्ध और लोकप्रिय है। जो एक प्रसिद्ध भारतीय वेश्या है। और कई लोककथाओं में दिखाई देती है। वैशाली 1972 में मुजफ्फरपुर से अलग होकर एक जिला बना और बिहार का हिस्सा बन गया है।

Vaishali images
Vaishali images

इसके बारेमे भी जानिए – प्राचीन शहर मधुबनी बिहार के पर्यटन स्थल की जानकारी

Best Time To Visit Vaishali

वैशाली जाने का सबसे अच्छा समय – अगर आप वैशाली की यात्रा की योजना बना रहे हैं। तो आपको बतादे की वैशाली की जलवायु उपोष्णकटिबंधीय है। या गर्मियों में झुलसाने वाली और सर्दियों में ठंडी देने वाले मौसम देखने को मिलता है। साल के कोई भी या कभी भी शहर का दौरा किया जा सकता है। लेकिन यहाँ आपको विश्व शांति महोत्सव के महोत्सव के समय में आना चाहिए। क्योकि उस समय में जायदातर पर्यटक सर्दियों में शहर आते रहते हैं।

वैशाली में धर्मों का संगम

हिंदू महाकाव्यों में वर्णित वैशाली एक प्राचीन शहर और आज भी बौद्ध और जैन धर्म के अनुयाईओ के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान है। राजा विशाल के नाम पर वैशाली महावीर का जन्मस्थान भी है। लिच्छवियों की पूर्व राजधानी वर्तमान समय में वैशाली भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नियंत्रण में है। यह छोटे शहर में भगवान गौतम बुद्ध ने अपने शिष्यों को पढ़ाया था। उसका प्रमाण यह विस्तार में खुदाई किए गए विहारों से उजागर होता है। शहर में बुद्ध के ज्ञान को मानने और बौद्ध धर्म का प्रचार करने के लिए अशोक के योगदान का प्रमाण देखने को मिलता है। वैशाली दुनिया में सबसे अधिक देखे जाने तीर्थ केंद्रों में से एक है।

वैशाली जिला का फोटो
वैशाली जिला का फोटो

वैशाली का यात्रा कार्यक्रम

पहला दिन

  • सबसे पहले वैशाली शहर में पहुंचें एव प्रसिद्ध अशोक स्तंभ को देख सकते है।
  • उसको राजा अशोक ने कलिंग युद्ध के नरसंहार के बाद बौद्ध धर्म में परिवर्तित होने के लिए बनाया था।
  • उसके बाद विश्व शांति स्तूप का दौरा करने के लिए जा सकते है।
  • विश्व शांति स्तूप को जापान सरकार के सहयोग से बनाया गया है।
  • बाद में बुद्ध के स्तूप 1 और स्तूप 2 को जरूर देखना चाहिए।

दूसरे दिन

  • आधा दिन विशाल किले के खंडहरों को देखने में बिताना चाहिए।
  • वहा लिच्छवी जनजाति का 1 किमी का विशाल गवर्निंग हाउस है।
  • उसके बाद हिंदू देवी-देवताओं की छवियों को देखने बावन पोखरा मंदिर जाएँ।
  •  यात्रा समाप्त करने के समय अभिषेक पुष्करण में समय बिताएं।
  • वहा कुंड के पवित्र पानी से पिछले राजाओं के राज्याभिषेक के लिए किया जाता था।

Places To Visit In Vaishali

The Ashoka pillar

राजा अशोक कलिंग के नरसंहार के पश्यात बौद्ध धर्म के महान अनुयायी बन गए थे। उन्होंने वैशाली में प्रसिद्ध अशोक स्तंभ बनवाया था। वह यहां हुए भगवान बुद्ध के अंतिम उपदेश को याद करने के लिए था। उत्तर की ओर मुख किए हुए स्तंभ के शीर्ष पर भगवान बुद्ध की अंतिम यात्रा की दिशा के रूप में माना जाता है। एक सिंह की जीवन जैसी आकृति जो निर्दोष रूप से उकेरी गई है। ध्रुव के बगल में एक ईंट का स्तूप और एक तालाब है। उस को रामकुंड के नाम से जानते है। वह स्थल बौद्धों के लिए पवित्र स्थान है।

Vaishali Photos
Vaishali Photos

इसके बारेमे भी जानिए – राजगीर में घूमने लायक पर्यटन स्थल की जानकारी

Sonepur Mela Vaishali 

वैशाली में सोनपुर मेला एशिया के सबसे बड़े जानवरों के मेलों में से एक है। बिहार के वैशाली जिले में प्रतिवर्ष लगता है। गंडक नदी के तट पर स्थित सोनपुर शहर में वार्षिक पशुधन मेला लगता है। सोनपुर मेले में सुई से लेकर हाथी तक सब कुछ खरीद सकते है। लेकिन न्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के लागू होने के बाद हाथियों की बिक्री और खरीद को 2004 से अवैध घोषित कर दिया गया है।

मगर सोनपुर मेला में आज भी आगंतुकों के लिए बहुत कुछ है। यहाँ देश भर के साथ विदेशों से भी हस्तशिल्प की दुकानों से लेकर कुत्तों, भैंसों और गधों के व्यापार तक आते हैं। मेला 15 दिनों से लेकर एक महीने तक चलता है। सोनपुर मेला शुरू होने की तारीख हिंदू कैलेंडर के अनुसार तय की जाती है। कार्तिक के महीने में पूर्णिमा का दिन या पांचवां चंद्र दिवस होता है। 

Vishwa Shanti Stupa

Vishwa Shanti Stupa , Abhishek pushkarni (coronation tank) and Archeological museums – बौद्ध विहार समाज और जापानी सरकार के सहयोग से बनाया गया 125 फीट लंबा शांति शिवालय 1969 में खोदा गया था। वह विशाल, सफेद, सुंदर स्तूप है जो विशाल हरियाली, शांति और एक तालाब से घिरा हुआ है। यहाँ पर्यटक नौका विहार और ताजी हवा ले सकते है। विश्व शांति स्तूप के नजदीक अभिषेक पुष्कर्णी है, वह राज्याभिषेक टैंक के रूप में प्रसिद्ध है। उसके तालाब का पवित्र जल का उपयोग लिच्छवियों के समय  पिछले राजाओं के राज्याभिषेक के लिए किया जाता था।

विश्व शांति स्तूप के चारों ओर घूमते हैं। तो पर्यटक उत्तरी तट पर एक संग्रहालय देख सकते है। उसमे यहाँ की खुदाई के दौरान मिली कलाकृतियों को चार विभागों में विभाजित किया गया है। एक मानव आकृतियों की टेराकोटा वस्तुएं हैं, दूसरी गैलरी में पहियों के साथ जानवरों की आकृतियों के टेराकोटा आइटम, कास्ट सिक्के आदि हैं। तीसरी गैलरी में मृगों, हड्डियों और लोहे और तांबे की वस्तुओं को प्रदर्शित किया गया है। और चौथी गैलरी में मिट्टी के बर्तन देखने को मिलते हैं।

Buddha’s Stupa

बुद्ध का स्तूप वैशाली में आपको दो स्तूप देखने का मौका मिलता हैं। उसको स्तूप 1 और स्तूप 2 का नाम उसकी खोज और उत्खनन के आधार पर दिया गया है। उस दोनों के पास भगवान बुद्ध की राख (जो आठ भागों में विभाजित थी) पत्थर के ताबूतों में संरक्षित है। दोनों स्तूप अब जीर्ण-शीर्ण अवस्था में दिखाई देते हैं। मगर बौद्ध धर्म में लोगो में आज भी बहुत श्रद्धा देखने को मिलती है।

Vishal Fort or Vishal Garh

ऐसा कहाजाता है, की वैशाली शहर का नाम रामायण काल ​​से राजा विशाल के नाम पर पड़ा है। उसमे विशाल किला लिच्छवीस के 1 किमी विशाल संसद भवन सिर्फ एक खंडहर रूप में दिखाई देता है। ऐसा कहा जाता है कि राजनीतिक मामलों पर चर्चा करने के लिए तक़रीबन सात हजार प्रतिनिधि यहां एकत्रित होते थे। लेकिन आज सिर्फ उसके नस्ट अवशेष ही दिखाई देते है।

वैशाली फोटो गैलरी
वैशाली फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी जानिए – बोधगया दर्शनीय स्थल का इतिहास और यात्रा की जानकारी

Hajipur Vaishali

हाजीपुर भारत के उस शहरों में से एक है जो वर्षों से अतीत और वर्तमान को एक सहज संक्रमण में जोड़ा है। हाजीपुर भारतीय इतिहास के पन्नों में वापस आता रहता है। उसमे भगवान बुद्ध का समय हो या इस्लाम का शासन या ब्रिटिश काल, किसी न किसी तरह से, हाजीपुर हमेशा रहता है। वैशाली जिला का हाजीपुर मुख्यालय होने के साथ सबसे बड़ा शहर भी है। यह स्थान पर भगवान गौतम बुद्ध ने अपने अंतिम विश्राम के बाद मृत्यु यानि निर्वाण का फैसला किया था।

हाजीपुर में पर्यटक कई हिंदू मंदिरों के दर्शन कर सकते है। हिंदू धर्म के दो महत्वपूर्ण संप्रदाय वैष्णववाद और शैववाद दोनों के अनुयायी पूरे शहर में फैले कई पूजा स्थलों के लिए आते हैं। कृषि भूमि और एक एकड़ केले के बागानों के बीच स्थित मंदिर उन लोगों को आकर्षित करते हैं जिनके लिए यात्रा के मूल में आध्यात्मिकता है। हाजीपुर में एशिया का सबसे लंबा पुलों गंगा नदी पर 5.75 किमी तक फैला है।

Bawan Pokhra temple

बावन पोखर के उत्तरी छोर पर स्थित हिंदू देवी-देवताओं की कुछ सुंदर छवियों का आवास, बावन पोखर मंदिर पाल वंश के शासन के दौरान निर्मित प्राचीन कला का एक टुकड़ा है। पाल काल में निर्मित एक पुराना मंदिर बावन पोखर के उत्तरी तट पर स्थित है। और कई हिंदू देवताओं की सुंदर छवियों को स्थापित करता है। आपको यह स्थल को जरूर देखना चाहिए। 

How to Reach Vaishali Bihar

ट्रेन से वैशाली कैसे पहुंचे

How to reach Vaishali by train –

रेल द्वारा वैशाली शहर जाने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन हाजीपुर है। वह वैशाली से सिर्फ 2.5 किमी दूर है। वहां से महत्वपूर्ण ट्रेनें नियमित रूप से हाजीपुर के लिए चलाई जाती हैं। कोई भी पर्यटक पुरे भारत से प्रमुख शहरों से हाजीपुर पहुंच सकते है। हाजीपुर वैशाली से तक़रीबन 15 किमी दूर है। वहा से पर्यटक ऑटो रिक्शा से पहुंच सकते है।

सड़क मार्ग से वैशाली कैसे पहुंचे

How to reach Vaishali by road –

सड़क मार्ग से वैशाली पहुंच ने  के लिए एक सुविधाजनक सड़क नेटवर्क वैशाली को बिहार के सभी शहरों से जोड़ता है। उसमे पटना 55, बोधगया 163, राजगीर 145, मुजफ्फरपुर 37 और नालंदा 140 किमी की दुरी पर स्थित हैं। आप अपने वाहन को लेकर के भी जा सकते है। या बस भी पकड़ सकते जिससे यह स्थल तक पहुंच सकते है।

फ्लाइट से वैशाली कैसे पहुंचे

How to reach Vaishali by flight –

बिहार की राजधानी पटना वैशाली शहर का निकटतम हवाई अड्डा है। पटना नियमित उड़ानों से महत्वपूर्ण शहरों से जुड़ा हुआ है। वह से दिल्ली, कोलकाता, वाराणसी, लखनऊ और काठमांडू के लिए हवाई उड़ने भरी जाती है। वह से आप बस या कैब की सहायता से बहुत आसानी से वैशाली तक पहुंच सकते है।

वैशाली का इतिहास और पर्यटन स्थल की जानकारी
वैशाली का इतिहास और पर्यटन स्थल की जानकारी

इसके बारेमे भी जानिए – मेघालय के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

Vaishali Map वैशाली का लोकेशन

Vaishali Tourism in Hindi Video

Interesting Facts About Vaishali

  • वैशाली में दुनिया का पहला गणराज्य स्थापित हुआ था। 
  • वैशाली में पर्यटको को प्रकृति का नजारा बेहद सुंदर और आकर्षक नजर आता है। 
  • भगवान महावीर का जन्मस्थान प्राचीन वैशाली शहर इतिहास प्रेमियों के लिए स्वर्ग है। 
  • यह स्थान बेहद धार्मिक और ऐतिहासिक होने के कारन सालों भर यात्री आते रहते है।
  • वैशाली जिले का नाम महाराज विशाल के नाम पर रखा गया था। 
  • वैशाली की सैर का सबसे अच्‍छा समय अक्‍टूबर से मार्च के दौरान होता है।

FAQ

Q .वैशाली कहा है?

वैशाली हमारे देश भारत के बिहार राज्य का एक छोटा सा जिला है।

Q .वैशाली नाम कैसे पड़ा?

वैशाली का नाम महाभारत काल के राजा विशाल के नाम से रखा गया है।

Q .वैशाली कौन से राज्य में है?

बिहार

Q .वैशाली में कितना जिला है?

वैशाली जिला 3 अनुमंडल, 16 प्रखंड, 291 ग्राम पंचायत तथा 1638 गाँवों में विभाजित है।

Q .वैशाली का वर्तमान नाम क्या है?

प्राचीन नगर वैशाली को पालि में वैसाली कहा जाता है

Q .वैशाली का मतलब क्या होता है?

वैशाली का मतलब भारत, ग्रेट, राजकुमारी की एक प्राचीन शहर होता है। 

Q .वैशाली जिला की स्थापना कब हुई थी?

वैशाली को 10 दिसंबर 1972 को जिले का दर्जा हासिल हुआ था। 

Q .वैशाली जिला के पर्यटन स्थल बताए?

  • अशोक स्तंभ
  • बुद्ध स्‍तूप
  • कंदलपुर
  • राज विशाल का घर
  • कोरोनेशन टैंक
  • बुद्धि माई
  • रामचाऊरा
  • वैशाली संग्रहालय
  • विश्‍व शांति शिवालय

Conclusion

आपको मेरा Vaishali Tourism in Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Vaishali tourist places , Vaishali stupa

और Vaishali bihar history से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Sarnath, Muzaffarpur या Vaishali Distric Bihar की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Vaishali district

Vaishali ghaziabad, Vaishali nic in, patna, darbhanga, sitamarhi, Vaishali bih.nic.in recruitment, Vaishali movie, Vaishali takkar, max hospital vaishali, max vaishali, Vaishali thaniga, etv news live, wyd full form, stoop meaning, वैशाली किसकी राजधानी है, वैशाली किस राज्य में है, वैशाली जिला में कितने प्रखंड है, वैशाली के प्रमुख संघ कौन-कौन से हैं, वैशाली जिला का SP कौन है, वैशाली का नंबर, वैशाली गढ़, वैशाली जिले का नक्शा

इसके बारेमे भी जानिए – चेरापूंजी में नोहकलिकाई वॉटरफॉल्स घूमने की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.