Tourist Places Of Pushkar In Hindi

Tourist Places Of Pushkar In Hindi | पुष्कर के प्रमुख पर्यटन स्थल और जानकारी

नमस्कार दोस्तों Places To Visit In Pushkar In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम पुष्कर के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी बताने वाले है। गुलाब उद्यान के नाम से प्रसिद्ध पुष्कर शहर राजस्थान के अजमेर जिले में स्थित हैं। संस्कृति और बुद्धि का शहर कहेजाने वाला यह नगर में परमपिता ब्रह्मा जी का एक मात्र मंदिर बन हुआ है। अजमेर से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पुष्कर शहर चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है और यहां पर आपको बहुत सारे मोर देखने के लिए मिलते हैं। शहर के प्राचीन मंदिरों को मुगल बादशाह औरंगजेब ने तुड़वा दिया था। लेकिन आज पुनः निर्मित करवाया गया है।

यहाँ पर्यटक भगवान परमपिता ब्रह्मा जी के दर्शन के लिए आया करते है। यह स्थान दिव्य आध्यात्मिक महत्व वाले हिंदु धर्म के मंदिरो में से एक और राजस्थान के सबसे पुराने शहरों में से एक है। हमारे हिन्दू धर्म की मान्यतों के अनुसार पुष्कर में स्थित पुष्कर झील में स्नान करने से पापों से मुक्ति मिलती है। और मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है। पुष्कर में 50 से भी ज्यादा घाट बने हुए हैं। पुष्कर ऊंट मेला बहुत प्रसिद्ध हैं वह वर्ष में नवम्बर के महीने में धूम-धाम से मनाया जाता हैं। अगर आप राजस्थान के खूबसूरत शहर पुष्कर के हत्वपूर्ण पर्यटक स्थलों जानकारी जानना चाहते है। तो आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े।

Pushkar History In Hindi

पुष्कर का एक दिलचस्प इतिहास है। क्योकि संस्कृत में पुष्कर शब्द का अर्थ नीले कमल का फूल होता है। और किंवदंतियों के मुताबिक ब्रह्मा ने अपने महायान को आदर्श बनने के लिए पारशकर को मिले थे। उस समय उन्हें पता चला की एक राक्षस शहर के लोगों को मार रहा था। भगवान  ब्रह्मा ने कमल के फूल पर एक मंत्र का जप करके दानव को मार डाला था। उसके तीन टुकड़े हुए जो पुष्कर शहर की तीन जगहों पर गिरा था। जिन्हे य्याष्ठा, मध्य और कनिष्ठ पुष्कर कहा जाता है। यह शहर को राक्षसों से बचाने ने के लिए ब्रह्मा ने एक यज्ञ किया था। लेकिन यज्ञ की प्रदक्षिणा करने के लिए ब्रह्मा की पत्नी सावित्री की जरुरत थी। माता सावित्री उस स्थल पर नहीं थी। इसीलिए यज्ञ की पूर्णाहुति के लिए गुर्जर समुदाय से गायत्री नाम की लड़की से शादी की थी।

Pushkar Photos
Pushkar Photos

पुष्कर घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय

राजस्थान के खूबसूरत पर्यटक स्थल पुष्कर मौसम और उत्सव पूरे साल अच्छा रहता हैं। लेकिन पवित्र शहर की यात्रा का सबसे अच्छा समय नवंबर और मार्च के बीच का है। इस समय के दौरान, मौसम सुहावना होता है, और रेगिस्तान उन दिन भर की सफारी के लिए पूरी तरह से अच्छा होता है। पुष्कर का मौसम आमतौर पर रातें ठंडी और दिन काफी गर्म होते हैं। क्योकि यह एक रेगिस्तानी क्षेत्र है। आप यहां किसी भी मौसम में घूमने जा सकते है।

Pushkar Tourist Places

पुष्कर भारत के सबसे पुराने शहरों में से एक है। अजमेर के उत्तर-पश्चिम में स्थित, पुष्कर का शांत शहर राजस्थान में आने वाले हजारों पर्यटकों और भक्तों के लिए एक पसंदीदा स्थान है। 510 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पुष्कर तीन तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। ‘नाग पहाड़’, जिसका शाब्दिक अर्थ है नाग पर्वत अजमेर और पुष्कर के बीच एक प्राकृतिक सीमा बनाता है। ‘राजस्थान के गुलाब उद्यान’ के रूप में जाना जाता है, प्रसिद्ध पुष्कर गुलाब का सार दुनिया भर में निर्यात किया जाता है। एक दिलचस्प पौराणिक इतिहास के साथ, कालातीत स्थापत्य विरासत की विरासत पुष्कर को एक आकर्षक शहर बनाती है।

Pushkar Photo
Pushkar Photo

Man Mahal Pushkar

पुष्कर का फेमस पर्यटन स्थल मन महल का निर्माण शाही निवास के लिए किया गया था। मन महल पुष्कर के सबसे महान महलों में से एक है। राजा मान सिंह प्रथम के गेस्ट हाउस के रूप में निर्मित, यह महल पुष्कर में घूमने के लिए सबसे आकर्षक स्थानों में से एक है। यह राजा मान सिंह प्रथम के लिए एक शाही अतिथि गृह के रूप में काम करने के लिए बनाया गया था। शाही युग से राजस्थानी वास्तुकला जो महल को सुशोभित करती है। आज एक विरासत होटल में बदल दिया गया है। जिसे आरटीडीसी होटल सरोवर भी कहते है। यहाँ पर्यटक महल की सुंदरता एव झील के चारों ओर झीलों और मंदिरों के नयनरम्य दृश्य देख सकते है।

Brahma Temple Pushkar Rajasthan

Brahma Mandir पुष्कर में स्थित भगवान ब्रह्मा जी को समर्पित एक पवित्र मंदिर हैं। नंगापर्वत और आनासागर झील के पार पुष्कर घाटी में स्थित ब्रह्मा मंदिर भारतीयों के लिए एक विशेष स्थान है। यह दुनिया का एकमात्र मंदिर है, जो भगवान ब्रह्मा को समर्पित है। संगमरमर से निर्मित और चांदी के सिक्कों से सजाए गए। यह मंदिर लाल शिखर और एक हंस की छवि बनी हुई है। उसमे भगवान ब्रह्मा की चतुर्मुखी (चार मुखी) मूर्ति आंतरिक गर्भगृह में स्थित है। मंदिर में सूर्य देव की संगमरमर की मूर्ति भी है। ब्रह्मा जी का यह मंदिर 2000 साल पुराना माना जाता है।

Pushkar Photo Gallery
Pushkar Photo Gallery

Varaha Temple Pushkar

वराह मंदिर पुष्कर का सबसे बड़ा और सबसे प्राचीन मंदिर है। 12वीं शताब्दी के शासक, राजा अनाजी चौहान द्वारा निर्मित, यह मंदिर एक जंगली सूअर के रूप में भगवान विष्णु के तीसरे अवतार को समर्पित है। किंवदंती है कि वराह ने पृथ्वी को प्राचीन जल की गहराई से बचाया था। जहां इसे एक राक्षस (हिरणायक) ने खींच लिया था। यह पुष्कर में सबसे अधिक देखे जाने वाले मंदिरों में से एक है। भगवान विष्णु के अवतार का दर्शन करने के लिए वराह पुष्कर मंदिर जरूर जाना चाहिए ।

Pushkar Lake

पुष्कर झील राजस्थान के पुष्कर में अरावली पर्वतमाला के बीच स्थित है। और हिंदू शास्त्रों में पुष्कर झील को सभी तीर्थ स्थलों के राजा तीर्थ राज कहा गया है। पवित्र पुष्कर झील में डुबकी के बिना कोई भी तीर्थयात्रा पूरी नहीं होती है। ऐसा कहाजाता है। अर्ध-गोलाकार आकार में और 8-10 मीटर गहरी, पुष्कर झील 52 स्नान घाटों और 500 से अधिक मंदिरों से घिरी हुई है। यह जिल को सामूहिक नाम पंच-सरोवर के नाम से जिसमे बिन्दु सरोवर, मानसरोवर, पंपा सरोवर, पुष्कर सरोवर और नारायण सरोवर हैं।

पुष्कर फोटो
पुष्कर फोटो

Atmeshwar Temple Pushkar

आत्मतेश्वर मंदिर भगवान शिव शंकर को समर्पित एक प्रसिद्ध धार्मिक और आकर्षित मंदिर है। खूबसूरत मंदिर का निर्माण 12वीं सदी के समय में हुआ था। उसका निर्माण जटिल हेमाडपंती स्थापत्य शैली में हुआ है। नक्काशी मंदिर को एक शानदार रूप देती है। शिवरात्रि के दिनों में यहां महापूजा होती है। एव हजारों भक्त दर्शन के लिए आते है। मंदिर का शिवलिंग तांबे से बने नाग से घिरा हुआ हैं।

Rangji Temple Pushkar

रंगजी मंदिर भव्य और विशिष्ट रंगजी मंदिर एक और लोकप्रिय मंदिर है। जिसमे आपको मुगलो की वास्तुकला, राजपूत शैली के साथ दक्षिण भारतीय स्थापत्य शैली देखने को मिलती है। यह मंदिर भगवान विष्णु का अवतार रंगजी को समर्पित है। मंदिर की बनावट में आपको ‘गोपुरम’ मंदिर की एक और विशेषता देखने को मिलती जो पर्यटकों को ज्यादा आकर्षित करती है।

Pushkar Fair

पुष्कर पशु मेला (Pushkar Cattle Fair) पुष्कर राजस्थान का एक वार्षिक पांच दिवसीय ऊंट मेला है। जिसमे दुनिया के सबसे बड़े ऊँटों को देखा सकते हैं। यह मेले का आयोजन राजस्थान के पुष्कर शहर में पुष्कर झील के किनारे होता है। यहाँ आपको कई प्रतियोगिता देखें को मिलती है। जैसे की सबसे लंबी मूंछें, मटका फोड़, और दुल्हन प्रतियोगिता मुख्य है। पुष्कर ऊंट मेला का 2021 में 11 नवंबर से 19 नवंबर के दौरान राजस्थान के पुष्कर शहर में होने वाला है।

Pushkar Images
Pushkar Images

Pap Mochani Temple | Gayatri Temple Pushkar

Pap Mochani Mandir भक्तो को को उनके मुख्य पापों से राहत प्रदान करता है। पुष्कर के उत्तरी विभाग में स्थित यह मंदिर पुष्कर के मुकुट में मोती के समान है। यह मंदिर की शक्तिशाली देवी भक्तजनों को पापो से मुक्ति दिलाती देती हैं। मंदिर महाभारत के समय से भी जुड़ा हैं। गुरुद्रोर्ण के पुत्र अश्वत्थामा ने यही मंदिर में मोक्ष की याचना की थी। मोचीनी मंदिर राजस्थान के सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है।

Gurudwara Singh Sabha Pushkar

पुष्कर के पूर्वी भाग में स्थित गुरुद्वारा सिंह सभा का निर्माण 19वीं शताब्दी की शुरुआत में प्रथम और दसवें गुरु नानक देव और गुरु गोविंद सिंहजी की स्मृति के लिए किया गया था। यह स्थान गुरु नानक धर्मशाला के नाम से भी प्रसिद्ध है। और पुष्कर में देखने लायक यात्रा स्थल है। यहा साल भर पर्यटक की लाइन लगी रहती है। आपको भी यह स्थल को जरूर देखना चाहिए।

पुष्कर के प्रमुख पर्यटन स्थल और जानकारी
पुष्कर के प्रमुख पर्यटन स्थल और जानकारी

Savitri Temple Pushkar 

भगवान ब्रह्मा की पत्नी देवी सावित्री को समर्पित यह मंदिर ब्रह्मा मंदिर के ठीक पीछे एक पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर की ओर जाने वाली सीढ़ियों की लंबी श्रृंखला पर चढ़ते समय, झील, आसपास के मंदिरों और रेत के टीलों का मनोरम दृश्य दिखाई देते है। पुष्कर में एकमात्र ब्रह्मा मंदिर की उपस्थिति, पुष्कर में अपना यज्ञ शुरू करते समय, भगवान ने एक अन्य देवी गायत्री से शादी करने के लिए ब्रह्मा को सावित्री के श्राप का यह परिणाम है। यहाँ ब्रह्मा जी की पहली पत्नी सावित्री और दूसरी पत्नी गायत्री दोनों मुर्तिया हैं।

Digambar Jain Mandir Pushkar 

19वीं शताब्दी में निर्मित दिगंबर जैन मंदिर पुष्कर की बनावट बलुआ पत्थर से हुई है। जैन धर्म का मंदिर सोने से सजा हुआ देख आप अचंभित हो जाएंगे। ऋषभ या आदिनाथ को समर्पित दिगंबर जैन मंदिर स्‍थापत्‍य कला का एक भव्य जैन मंदिर है। उसको सोनीजी की नसियां के नाम से भी जाना जाता है। भारत के सबसे अमीर मंदिरों में यह मंदिर भी शामिल। मंदिर का निर्माण 19वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में हुआ था। और मंदिर के स्वर्ण कक्ष के निर्माण में 1000 किलो सोने का उपयोग हुआ है।

Meera Bai Temple Merta City Pushkar

पुष्कर से 60 किलोमीटर दूर मेड़ता सिटी में भगवान श्रीकृष्ण की परम भक्त मीरा बाई का जन्म स्थल है। मेड़ता सिटी में भक्त मीरा बाई को समर्पित 500 साल पुराना प्राचीन मंदिर है। मीरा बाई के दर्शन के लिए कई देश विदेश यात्री और श्रद्धालु मेड़ता सिटी आते है। मेड़ता सिटी में मीरा बाई मंदिर के पास में एक संग्रहालय भी बना हुआ है। मंदिर में राजपूतों, मराठों और मुगलों शासको के शासन को देख सकते हैं।

पुष्कर की फोटो गैलरी
पुष्कर की फोटो गैलरी

Market Places And Pushkar Bazaar

पुष्कर बाजार से खरीदारी में विभिन्न तरह के हस्तशिल्प से बने हुए उत्पादों से भरा हुआ बाज़ार है। पुष्कर के नजदीकी क्षेत्र में फूलों की खेती की जाती है। इसलिए इत्र और गुलकंद यहाँ से खरीद सकते है। पुष्कर बाजार में लकड़ी, पत्थर, कांच, कपड़ा और चमड़े से बनी हुए कई चीजे खरीद सकते है। यह बाजार खरीदने के लिए सबसे अच्छा बाजार कहा जाता है।

Famous Food Of Pushkar

यहां की भोजन सामग्री पर्यटकों को बहुत पसंद आती है। पुष्कर का प्रसिद्ध भोजन में आपको मालपुआ, पोहा, दाल चाट, दाल बाटी चूरमा और लस्सी जैसे भोजन खाने को मिलते है। यहां के स्थानीय रेस्तरां इतालवी से लेकर चीनी तक कई प्रकार के व्यनजन आपकी सेवा में पेश करते है। आपको बतादे की पुष्कर का स्थानीय भोजन बहुत ही कम कीमत पर मिलता है। पुष्कर धार्मिक शहर हैं, इसलिए यहाँ मांस और शराब पूरी तरह से प्रतिबंधित हैं।

पुष्कर में रुकने के लिए होटल 

पुष्कर में यात्रियों के लिए ठहरने के लिये बहुत सारी सुविधाएं उपलब्ध है। जैसे धर्मशाला, होटल और रिसोर्ट । पुष्कर एक बहुत ही प्रसिद्ब पर्यटक स्थल है। कई सारी होटल्स और रिसॉर्ट्स को आप ऑनलाइन ही बुक कर सकते हो। बहुत सारी ट्रेवल एजेंसिस पुष्कर के लिए पूरा ट्रेवल प्लान भी उपलब्ध करवाती है जिसमें आपके पुष्कर आने से लेकर वापस जाने तक पूरा ट्रेवल मैप तैयार किया जाता है।

  • होटल ब्रह्मा होरिजन
  • वेस्टिन पुष्कर रिज़ॉर्ट और स्पा
  • अनंता स्पा एंड रिसॉर्ट्स
  • होटल प्रेम विलास
  • होटल राधिका पैलेस

How To Reach Pushkar

ट्रेन से पुष्कर कैसे पहुंचे

अजमेर रेलवे स्टेशन पुष्कर के लिए सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है।

पुष्कर इसकी दूरी लगभग 14 किलोमीटर है।

रेलवे स्टेशन आप को पुष्कर के लिए कैब और टैक्सी सर्विस मिल जाएगी।

जिसकी सहायता से आप पुष्कर पहुंच सकते है।

अजमेर रेलवे स्टेशन भारत के सभी बड़े शहरों से अच्छे से जुड़ा हुआ हैं।

रेलवे स्टेशन से पहले अजमेर बस स्टेशन और बादमे पुष्कर पहुंच सकते है।

सड़क मार्ग से पुष्कर कैसे पहुंचे

एक प्रसिद्ध पर्यटक और धार्मिक स्थल होनेके कारन पुष्कर देश और

राजस्थान के शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

अजमेर का बस स्टैंड देश के प्रमुख शहरों से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। 

अजमेर से पुष्कर की दूरी 16 किमी हैं। पर्यटक यहां से आसानी से पुष्कर पहुंच जायेंगे।

जयपुर और अजमेर जैसे बड़े शहरों से सरकारी और निजी दोनों तरह की बस सेवा मिल जाएगी।

हवाई जहाज से पुष्कर कैसे पहुंचे

किशनगढ़ एयरपोर्ट की पुष्कर से दूरी मात्र 50 किलोमीटर है।

उसके अलावा जयपुर एयरपोर्ट की पुष्कर से दूरी मात्र 150 किलोमीटर है।

जहा से जयपुर एयरपोर्ट की विश्व के दूसरे देशों से कनेक्टिविटी बहुत अच्छी है।

मुम्बई, दिल्ली और कोलकत्ता जैसे शहरों से किशनगढ़ एयरपोर्ट आ सकते है।

यहाँ से आप को पुष्कर के लिए बस और कैब सर्विस मिल जाएगी।

जयपुर एयरपोर्ट से सिंधी कैम्प बस स्टेशन से पुष्कर के लिए सीधी बस मिल जाएगी।

Pushkar Map पुष्कर की लोकेशन

Pushkar Tourist Places In Hindi Video

Interesting Facts

  • राजस्थान के अजमेर जिले में स्थित अरावली रेंज के बीच, पुष्कर को तीर्थ-राज कहते है।
  • पुष्कर अरावली पर्वतमाला से घिरा एक प्राचीन और पौराणिक शहर है।
  • पुष्कर झील में स्नान करने से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है।
  • पद्मपुराण, वाल्मीकि रामायण और महाभारत जैसे ग्रंथों में पुष्कर का उल्लेख है।
  • ऋषि विश्वामित्र, अगस्त्य ऋषि, वामदेव और राजा भृतहरि ने पुष्कर में तपस्या की थी।
  • अजमेर से पुष्कर शहर की दुरी 15 किलोमीटर है।
  • ब्रह्मा जी का एक मात्र मंदिर पुष्कर में ही बना हुआ हैं।
  • यह सुन्दरता, धार्मिक वातावरण श्रद्धालुओं और पर्यटकों के लिए स्वर्ग के समान है।

FAQ

Q : पुष्कर कहा है?

पुष्कर राजस्थान का विख्यात तीर्थस्थान जो राजस्थान के अजमेर जिले में स्थित हैं।

Q : पुष्कर का दूसरा नाम क्या है?

पुष्कर को तीर्थों का सम्राट और तीर्थ गुरू नाम से भी प्रसिद्ध है।

Q : पुष्कर में कौन कौन से मंदिर है?

पुष्कर का मुख्य मन्दिर ब्रह्माजी का मन्दिर उसके कई मंदिर स्थित है।

Q : पुष्कर की उत्पत्ति कैसे हुई?

ब्रह्मा जी के हाथ से कमल का पुष्प गिरने से तीनों सरोवर ज्येष्ठ पुष्कर,

कनिष्ठ पुष्कर और मध्य पुष्कर के नाम से प्रसिद्द हुए।

Q : पुष्कर में मेला कब लगता है?

यहां पर कार्तिक पूर्णिमा को मेला लगता है।

Conclusion

आपको मेरा Tourist Places Of Pushkar बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Sunanda pushkar, Pushkar temple

, Westin pushkar से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Pushkar resort, पुष्कर मंदिर पुष्कर राजस्थान या  Pushkar is famous for की कोई जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

इसके बारेमे भी जानिए –

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस का इतिहास और जानकारी 

हेमिस राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

नामेरी राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

मानस राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

दार्जिलिंग टूरिज्म की संपूर्ण जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *