Tirupati Balaji Mandir in Hindi

Tirupati Balaji Mandir in Hindi | तिरुपति बालाजी मंदिर की यात्रा और इतिहास

नमस्कार दोस्तों Tirupati Balaji Mandir in Hindi में आपका स्वागत है आज हम भारत के आंध्र प्रदेश राज्य के चित्तूर जिले में स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर की यात्रा और इतिहास की जानकारी बताने वाले है। हमारे भारत के सभी तीर्थस्थलों में सबसे ज्यादा देखे जाने वाले मंदिरो में तिरुपति भगवान वेंकटेश्वर मंदिर सबसे पहले है। यहाँ हमारे भारत के अलावा विदेशी पर्यटक भी तिरुपति बालाजी मंदिर दर्शन करने के लिए आते है। तिरुमाला (तिरुपति की सात पहाड़ियों में से एक) का उल्लेख प्राचीन वेदों और पुराणों में भी देखने को मिलता है। यह खेत्र हरे-भरे वनस्पतियों और छोटी पहाड़ियों से घिरा खूबसूरत शहर है।

आंध्र प्रदेश में तिरुपति हिन्दू मंदिरों के लिए एक प्रसिद्ध स्थान है। Tirupati मे पर्यटक को कई दूसरे मंदिर भी देखने को मिलते हैं। जैसे की श्री गोविंदराजस्वामी मंदिर, श्री कालहस्ती मंदिर, परशुरामेश्वर मंदिर, इस्कॉन मंदिर और कोंडंदरमा मंदिर बहुत ही अदभुत मंदिर शामिल हैं। आपको बतादे की तिरुपति एक अद्वितीय भूवैज्ञानिक आश्चर्य का घर है। जिसे आपको रूबरू देखना चाहिए। क्योकि यहाँ प्राकृतिक मेहराब है। यहाँ आपको ओम नमो वेंकटेशया का निरंतर जाप, पागल तीर्थयात्री भीड़ और भगवान वेंकटेश्वर की 8 फीट ऊंची मूर्ति देखने को मिलती है। श्री वेंकटेश्वर मंदिर 26 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला सात पहाड़ियों का मंदिर कहा जाता है।

Tirupati Balaji Mandir History In Hindi

तिरुपति बालाजी मंदिर का इतिहास (Tirupati Balaji Temple History) देखे तो तिरुपति बालाजी का निर्माण 300 ईस्वी में शुरू हुआ था। प्राचीन काल से समय-समय पर कई सम्राट और राजाओं ने मंदिर के निर्माण में अहम भूमिका निभाई है। उसमे मुख्य भूमिका 18वीं सदीं में मराठा जनरल राघोजी भौंसले ने निभाई थी। क्योकि मंदिर की व्यवस्था देखने के लिए उन्होंने स्थायी प्रबंधन समीति बनाई थी। जिन्हे तिरूमाला तिरुपति देवस्थानम नाम दिया था। उसके तहत 1933 में टीटीएी अधिनियम के माध्यम से मंदिर को विकसित किया गया था। पांचवी सदी में तिरुपति वैष्णव धर्म का मुख्य केन्द्र बना था। यहाँ 11वीं सदीके श्रीकुर्मम मंदिर में तिरुपति श्रीवैष्णवुला रक्षा के अभिलेख भी स्थापित हैं।

Balaji tirupati mandir को पृथ्वी का वैकुंठ और भगवान विष्णु का निवास स्थान कहा जाता है। भगवान विष्णु ने काल युग के समय में भक्तों को मोक्ष के लिए मार्गदर्शन करने और निर्देशित करने के लिए मंदिर में खुद को प्रकट किया है। पौराणिक कथाओं के मुताबिक भगवान भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए पृथ्वी पर प्रकट हुए थे। वाराह पुराण के अनुसार त्रेता युग में भगवान राम ने माता सीता और लक्ष्मण के साथ लंकापुरी से वापस आते समय यहां विश्राम किया था। 19वीं सदी में अंग्रेजों ने मंदिर पर कब्ज़ा किया और 1843 में दूसरे मंदिरों के साथयह मंदिर का संचालन हाथीरामजी मठ के महंतों के हाथों में दे दिया था।

Tirupati balaji mandir photo
Tirupati balaji mandir photo

इसके बारेमे भी जानिए – सिख धर्म का दूसरा सबसे पवित्र स्थान आनंदपुर साहिब का इतिहास और घूमने की जानकारी

Best Tourist Places Tirupati

  • Sri Venkateswara Temple
  • Akasaganga Teertham
  • Silathoranam
  • Swami Pushkarini Lake
  • City Shopping
  • Vedadri Narasimha Swamy Temple
  • Sri Padmavathi Ammavari Temple
  • TTD gardens
  • Sri Venkateswara Dhyana Vignan Mandiram
  • Sri Govindarajaswami Temple
  • Chittoor
  • Sri Varahaswami Temple
  • Sri Venugopalaswami Temple
  • Nellore
  • ISKCON Tirupati
  • Tumburu Teertham
  • Deer Park, Tirupati
  • Kapila Teertham
  • Talakona Waterfall
  • Rock Garden, Tirupati
  • Japali Teertham
  • Papavinasam Theertham
  • Chandragiri Palace & Fort
  • Sri Bedi Ananjaneyaswami Temple
  • Chakra Teertham Waterfalls
  • Sri Venkateswara National Park
  • Srivari Museum
  • Sri Veda Nayaranaswami Temple
  • Srivari Padalu
  • Regional Science Centre, Tirupati
  • Kanipakam
  • Vaikuntha Teertham
  • Sri Kalyana Venkateswaraswami Temple
  • Nagalapuram
  • Sri Prasanna Venkateswaraswami Temple
  • Kapila Theertham
  • Highway Grand World
  • Teppotsavam
  • Brahmotsavam Festival in Tirupati
  • Kodandarama Swamy Temple

    Tirupati balaji temple images
    Tirupati balaji temple images

Architecture Of Tirumala Venkateshwara Temple

तिरुपति बालाजी मंदिर की वास्तुकला देखे तो मंदिर का निर्माण द्रविड़ वास्तुकला में हुआ है। उसका निर्माण कार्य 300 ईस्वी से हुआ था। मंदिर के गर्भगृह को आनंद निलयम कहते है। उसमे वेंकटेश्वर भगवन खड़े मुद्रा में हैं और गर्भ गृह में पूर्व की ओर मुख किए हुए हैं। ऐसा देखे तो दक्षिण भारत के सभी मंदिरों की वास्तुकला खूबसूतर है। तिरुपति बालाजी मंदिर में विष्णु भगवान की मूर्ति किसी ने बनाई नहीं बल्कि खुद जमीन से प्रकट हुई है। मंदिर में पूजा करने के लिए वैखनासा अगमा परंपरा निभाई जाती है। और जगह को लेकर बहुत सी पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं। कहा जाता है कि यहां स्थापित भगवान वेंकटेश्वरा की प्रतिमा कलयुग के अंत तक यहाँ रहने वाली है।

मंदिर के तीन प्रवेश द्वार बाहर से गर्भगृह की ओर ले जाते हैं। महाद्वार को पडिकावली कहा जाता है। महाद्वार के ऊपर 50 फीट, पांच मंजिला गोपुरम (मंदिर का टॉवर) बनाया गया है। उसके शीर्ष पर सात कलश हैं। उन्हें वेंडीवकिली या नादिमिपादिकवली के नाम से भी जाना जाता है। दूसरा प्रवेश द्वार संपांगीप्रकर्म के माध्यम से प्रदान किया जाता है। उसमे तीन मंजिला गोपुरम का निर्माण वेंडीविली के ऊपर किया गया है। उसके शीर्ष पर सात कलाम हैं।  बंगारुविली को स्वर्ण प्रवेश या तीसरा प्रवेश द्वार कहा जाता है। वह गर्भगृह में प्रवेश करता है। द्वार के दोनों ओर द्वारपालक जया-विजया की दो लंबी तांबे की प्रतिमाएँ हैं। लकड़ी का मोटा दरवाजा सोने की गिल्ट की प्लेटों से ढका है। 

तिरुपति बालाजी जाने का सबसे अच्छा समय

Best Time To Visit Tirupati Balaji – तिरुपति मंदिर में पुरे साल पर्यटक की भीड़ जमा रहती है। मगर तिरुपति की यात्रा का सबसे अच्छा समय सितंबर से फरवरी महीने का होता है। उस समय मौसम में रुक-रुक कर बारिश होती रहती है। इसीलिए जलवायु नम होता है। गर्म मौसम में तिरुपति घूमने के लिए अच्छा नहीं कहा जाता हैं। सर्दियों के मौसम में यहाँ के दर्शनीय स्थलों की यात्रा और मंदिर जाने के लिए आदर्श होते हैं। क्योकि उस समय यहाँ का मौसम सुहावना होता है। उस समय सितंबर में तिरुपति के शुभ त्योहारों में से एक ब्रह्मोत्सवम की शुरुआत है। अक्टूबर में नवरात्रि और दशहरा के त्योहारों के कारण मंदिर में घूमने के लिए सबसे अच्छा मौसम है।

Darshan Timings Of Tirupati Balaji 

Tirupati बालाजी मंदिर में वीआईपी दर्शन के लिए 300 रूपए देकर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होता है। उसमे आपको आधा घंटा से 3 घंटे का समय लगता हैं। तिरुपति बालाजी मंदिर 24 घंटे खुला रहता है। (tirupati balaji darshan) तिरुपति में फ्री दर्शन के लिए मंदिर सुबह के 2:30 बजे से अगले दिन सुबह 1:30 बजे तक खुला रहता है। यहाँ फ्री दर्शन के लिए आपको कितना समय लगता है। यह अनुमान नहीं लगाया सकता है। क्योकि दर्शन करने में भीड़ काम हो तो 3 से 4 घंटे लगते है। और ज्यादा भीड़ होती है। तो 18 घंटे तक लाइन में खड़ा रहना पड़ता है। तिरुपति बालाजी दर्शन का सही समय कम भीड़ होता है।

तिरुपति बालाजी मंदिर की यात्रा और इतिहास
तिरुपति बालाजी मंदिर की यात्रा और इतिहास

Darshan Timings Of Senior Citizen In Tirupati Balaji

तिरुपति बालाजी में बुजुर्ग नागरिकों के लिए दक्षिण मादा स्ट्रीट या दूसरे द्वार से व्यवस्था है। वह गेट के जरिए विशेष दर्शन की व्यवस्था है। सिनियर सिटीजन में आने वाले तीर्थयात्रियों को दो अलग-अलग स्लॉट्स में दोपहर 3 बजे दर्शन की अनुमति है। उसमे शामिल होने के लिए आपको उम्र का प्रूव यानि आईडी या कोई प्रासंगिक मेडिकल सर्टीफिकेट पेश करना पड़ता है। तिरुपति बालाजी मंदिर ट्रस्ट से तीर्थयात्रियों को लाभ लेने के लिए दो घंटे पहले यहां रिपोर्ट करना होता है।

इसके बारेमे भी जानिए – हिमाचल के पास पठानकोट में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह की जानकारी

Friday Darshan Of Venkateswara Temple

शुक्रवार को भगवान वेंकटेश्वर की पूरी मूर्ति के दर्शन करने के लिए सप्ताह में एक दिन यानि शुक्रवार को भक्तों को भगवान की पूरी मूर्ति देखने का मौका मिलता है। शुक्रवार को भगवान के दर्शन तीन बार होते हैं। उस दर्शन को कोई भी शुल्क नहीं लिया जाता है। शुक्रवार को सुबह अभिषेक के समय भक्त भगवान वेंकटेश्वर की मूर्ति के दर्शन कर सकते है। जिनके दर्शन से आप धन्य हो सकते है।

Why Do People Donate Hair At Tirupati Balaji

तिरुपति बालाजी में बाल क्यों देते हैं, Tirupati balaji temple में बाल दान करने की परंपरा काफी पुरानी है। हिंदू मान्यता के मुताबिक दान को देने का कारण भगवान वेंकटेश्वर कुबेर से लिया गया कर्ज चुका देते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान वेंकटेश्वर हम जो बालों की कीमत देते हैं। वह आपको उससे दस गुना अधिक देते हैं। Balaji temple tirupati में ये बाल भेट करने की परंपरा को मोक्कू कहते है। यहाँ प्रति वर्ष 20 हजार लोग प्रतिदिन बाल दान करते हैं। उसके लिए मंदिर में 600 नाई की व्यवस्था है। यह बालों को विदेशों में अच्छे दामों में बेचा जाता है। क्योकि यह बालों की क्वालिटी बहुत अच्छी होती है।

Tirupati balaji temple photos
Tirupati balaji temple photos

Rules Of Donating Hair In Tirupati Balaji

  • तिरुपति बालाजी में भक्तो को बाल दान करने के लिए कुछ नियम हैं।
  • पर्यटक को तिरुपति बालाजी मंदिर में दर्शन करने से पहले बाल दान करने होंगे। 
  • बाल दान करने में नाईयों द्वारा कोई शुल्क नहीं लिया जाता है।
  • मगर कई भक्त अपनी मर्जी से नाईयों को पैसा दे देते हैं।
  • बाल दान करने के लिए आपको मंदिर की ऑथेरिटी से ब्लेड खुद लानी होती है।
  • श्रद्धालु को बाल कटाने के लिए लाइन में लगना होता है।
  • बाल दान करने के पश्यात स्नान करके, कपड़े बदलकर मंदिर में दर्शन के लिए जाना हैं।

तिरुपति बालाजी के लड्डू

तिरुपति में भगवान वेंकटेश्वर को प्रसाद के रूप में लड्डू चढ़ाया जाता है। तिरूमलि तिरुपति देवस्थानम पोटू किचन में काफी स्वादिष्ट लड्डू बनाते है। क्योकि यह लड्डू विशेष रूप से बनाये जाते है। पोटू किचन की क्षमता हररोज 8 लाख लड्डू बनाने की है। एक लड्डू का वजन 175 ग्राम और यह लड्डू को सिर्फ तिरूमाला तिरुपति देवस्थानम ही बना और बेच सकते हैं। लड्डू देने की शुरुआत 2 अगस्त 1715 में शुरू की गई थी। लड्डू बनाने के लिए हररोज 10 टन चीनी, 10 टन आटा, 300 से 500 लीटर घी, 700 किग्रा काजू, 500 किग्रा 540 ग्राम किशमिश और चीनी कैंडी का उपयोग किया जाता है।

Food of Tirupati Balaji Mandir

तिरुपति का भोजन बताये तो आपको यहाँ शहर की थाली में तमिल, आंध्र और हैदराबादी व्यंजन का स्वाद देखने को मिलता है।तिरुपति धार्मिक महत्व का स्थल होने की वजह से सिर्फ शाकाहारी भोजन मिलते है। यहां दालचीनी, काली मिर्च, मिर्च, तेल, इमली, मूंगफली और नारियल की अलग बनावट का स्वाद मिलता हैं। तिरुपति की लोकप्रिय वस्तुएं मीठे चावल,रवा खिचड़ी, टमाटर चावल, डोसा, नींबू चावल, हलवा, शीरमल, लड्डू, पायसम और काजा का मजा मिलता हैं।

Tirupati Tourist Places
Tirupati Tourist Places

इसके बारेमे भी जानिए – कोलकाता शहर के बिच स्थित विक्टोरिया मेमोरियल की जानकारी

तिरुपति बालाजी में ठहरने की व्यवस्था

Arrangement Of Stay in Tirupati Balaji – पर्यटकों को तिरुमाला में परिवारों के लिए आराम में रहने के लिए मुफ्त कमरे भी मिलते हैं। उसमे बिजली और पानी भी मुफ़्त में उपलब्ध होता हैं। मुफ्त आवास के लिए यात्री तिरुमाला के बस स्टैंड के नजदीक स्थित केंद्रीय रिसेप्शन कार्यालय कला संपर्क कर सकते हैं। यात्री टीटीडी का छात्रावास हॉल में आराम कर सकते हैं। लेकिन अगर आप पैसे से कमरा लेते है तो वह भी उपलब्ध है।

पैसे के भुगतान पर तिरुपति बालाजी में ठहरने की व्यवस्था – पर्यटक सहायक कार्यकारी अधिकारी (रिसेप्शन -1) टीटीडी, तिरुमाला – 517504 को लिखित रूप से तिरुमाला में यात्रा के समय जाने से पहले 30 दिन पेड आवास बुक करा सकते हैं। पत्र के साथ एक रु 100.00 के डिमांड ड्राफ्ट के साथ कार्यकारी अधिकारी, टीटीडी के पक्ष में, तिरुपति में देय,,  होंगा और किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक द्वारा तैयार किया गया हो।

How to Reach Tirupati

तिरुपति देश के प्रमुख शहरों से सड़क, रेल और हवाई मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। तिरुपति हवाई अड्डा शहर से 15 किमी दूर है। और रेलवे स्टेशन भी नजदीक है। तिरुपति सड़कों के जरिये अच्छी तरह से दूसरे शहरों से जुड़ा हुआ है। चेन्नई प्रमुख निकटतम रेलवे जंक्शन है। तिरुपति को नजदीकी शहरो वाली लक्जरी और मानक बसें उपलब्ध होती है। जिससे पर्यटक आरामदायक यात्रा करते हैं।

Venkateswara Temple images
Venkateswara Temple images

ट्रेन से तिरुपति कैसे पहुंचे

तिरुपति रेलवे स्टेशन दक्षिण भारत के सभी मुख्य रेलवे स्टेशनों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। तिरुपति में 3 रेलवे स्टेशन रेनिगुंटा, तिरुपति मेन और अनंतराजुपेट हैं। वहा स्टेशन से कई एक्सप्रेस और सुपरफास्ट ट्रेन देश के प्रमुख शहरों के लिए चलती है। आप शहर में अपने पसंदीदा गंतव्य तक जाने के लिए बस या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। जिससे आप बहुत आसानी से घूम सकते है।

सड़क मार्ग से तिरुपति कैसे पहुंचे

सड़क मार्ग से जाने में आपको बहुत रोमांचकारी अनुभव हो सकता है। क्योंकि पुणे, बेंग्लुरु, दिल्ली और बेंग्लुरु से सड़क मार्ग बेहद अच्छी तरह से जुड़ा है। तिरुपति के पास आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु राज्य की नजदीकी शहरों के लिए नियमित बस सेवाएं उपलब्ध हैं। तिरुपति में स्थानीय परिवहन में बस या कैब किराए पर उपलब्ध हैं। उससे आप बहुत आसानी से घूम सकते है।

फ्लाइट से तिरुपति कैसे पहुंचे

तिरुपति का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा मुख्य शहर से 15 किमी दूर रेनिगुंटा में स्थित है। रैनीगुंटा हवाई अड्डे को केन्द्र सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर का हवाई अड्डा बनाया गया है। वहा से नई दिल्ली, विशाखापट्टनम और हैदराबाद जैसे बड़े शहरो के लिए सीधी उड़ानों की व्यवस्था होती रहती है। वह हवाई अड्डे के बहार से आप बस या कैब की सहायता ले करके आसानी से घूम सकते है।

Venkateswara Temple photos
Venkateswara Temple photos

इसके बारेमे भी जानिए – असम राज्य के सबसे महत्वपूर्ण शहर डिब्रूगढ़ के टॉप पर्यटन स्थलों की जानकारी

Tirupati Map तिरुपति का लोकेशन

Tirupati Balaji Mandir in Hindi Video

Interesting Facts About Tirupati Balaji Mandir

  • तिरुपति भारत के आंध्र प्रदेश राज्य के चित्तूर जिले का एक शहर है।
  • तिरुपति का अर्थ शाब्दिक अर्थ तमिल भाषा में सम्मानीय पति होता है।
  • भारत के बेहद पवित्र धार्मिक स्थलों में तिरुपति एक प्रमुख पर्यटन स्थल है।
  • तिरुपति वेंकटेश्वर मन्दिर में सबसे बड़ा वार्षिक उत्सव ब्रह्मोत्सवम है।
  • लोकप्रिय तिरुमाला वेंकटेश्वर मंदिर या तिरुपति बालाजी मंदिर का है।
  • तिरुपति को आंध्र प्रदेश की आध्यात्मिक राजधानी कहा जाता है।
  • तिरुपति बालाजी मंदिर को पृथ्वी का वैकुंठम कहा जाता है।

FAQ

Q .तिरुपति बालाजी मंदिर कहा है?

वेंकटेश्वर मंदिर भारत के आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले के तिरुपति में तिरूमाला की पहाड़ी पर स्थित है।

Q .तिरुपति बालाजी मंदिर किस राज्य में है?

आंध्रप्रदेश

Q .वरिष्ठ नागरिकों के लिए बालाजी दर्शन करने का समय क्या है?

वरिष्ठ नागरिकों के लिए दोपहर 3 बजे दर्शन की विशेष दर्शन अनुमति होती है।

Q .तिरुपति बालाजी मंदिर में बाल क्यों चढ़ाए जाते हैं?

भक्त यहां अपनी मर्जी से बालों का दान देते हैं।

Q .तिरुपति बालाजी कौन से भगवान है?

यह मंदिर भगवान विष्णु के अवतार प्रभु वेंकटेश्वर (Venkateswara) या बालाजी (Balaji) को समर्पित है।

Q .तिरुपति बालाजी कितने किलोमीटर है?

अपने लोकेशन के मुताबिक आप कितना किलोमीटर है देख सकते है।

Q .तिरुपति बालाजी मंदिर में किसकी मूर्ति है? 

तिरुपति बालाजी मंदिर में वेंकटेश्वर स्वामी (भगवान विष्णु) की प्रतिमा स्थापित है।

Conclusion

आपको मेरा Tirupati balaji History बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Tirupati balaji ka mandir , Tirupati balaji mandir kahan hai और

Tirupati balaji mandir andhra pradesh से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास तिरुपति बालाजी मंदिर कब खुलेगा, तिरुपति बालाजी मंदिर की कुल संपत्ति या 

Venkateswara Temple, Tirumala की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

इसके बारेमे भी जानिए – असम के खूबसूरत पार्क काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान घूमने की सम्पूर्ण जानकारी 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *