Tarapith Mandir Tarapith In Hindi

Tarapith Mandir Tarapith In Hindi | तारापीठ मंदिर का इतिहास और संपूर्ण जानकारी

नमस्कार दोस्तों Tarapith Mandir | Tarapith Temple In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम तारापीठ मंदिर का इतिहास, तारापीठ का श्मशान, वामाखेपा की पूरी कहानी के साथ तारापीठ मंदिर के दर्शन और घूमने की जानकारी बताने वाले है। तारापीठ मंदिर पश्चिम बंगाल राज्य का एक धार्मिक मंदिर है। वह कोलकाता से 264 किमी दूर बीरभूम में बहने वाली द्वारका नदी के किनारे स्थित है। भारत के 51 शक्ति पीठों में से एक तारापीठ मंदिर सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है जहां आज भी तांत्रिक अनुष्ठान किए जाते हैं।

हिन्दू धर्म के अनुसार सती का एक नेत्रगोलक यहां तारापीठ में गिरा था। जब भगवान शिव उनका शोक मनाते हुए ब्रह्मांड में घूमते थे। उस मानी जाने वाली घटना को देखते हुए, गाँव का नाम चांदीपुर से तारापीठ कर दिया था। क्योंकि नेत्रगोलक के लिए बंगाली शब्द तारा है। यह मंदिर माँ तारा को समर्पित है। तारापीठ मंदिर काली के रूप में शिव जी के विनाशकारी पहलू का प्रतिनिधित्व करता है। हिंदू परंपराओं के अनुसार, माँ तारा को ज्ञान की दस देवियों में से दूसरा माना जाता है। और उन्हें कालिका, भद्र-काली और महाकाली के नाम से जाना जाता है। 

Tarapith Temple History In Hindi

तारापीठ मंदिर का इतिहास देखे तो वशिष्ठ तांत्रिक कला में महारत हासिल करना चाहते थे। मगर लगातार प्रयासों के बावजूद वे असफल रहे थे। उन्हें भगवान बुद्ध के पास जाने के लिए प्रेरित किया, उन्होंने तारापीठ में अभ्यास करने के लिए कहा जो मां तारा की पूजा करने के लिए एक आदर्श स्थान था। वशिष्ठ तब तारापीठ आए और बाएं हाथ के तांत्रिक अनुष्ठान के साथ पंचमकार, यानी पांच निषिद्ध चीजों का उपयोग करके मां तारा की पूजा करने लगे थे। उससे से प्रसन्न होकर माँ तारा एक स्वर्गीय माँ के रूप में उनके सामने प्रकट हुईं थी। 

उसके पश्यात मातारानी फिर पत्थर में बदल गईं थी। उस दिन से तारापीठ में देवता की इस माँ की छवि की पूजा की जाती है। तारापीठ मंदिर को पागल संत बामा खेपा के लिए भी जाना जाता है, जिनकी पूजा भी मंदिर में की जाती है। वह श्मशान घाट में रहते थे और कैलाशपति बाबा के मार्गदर्शन में तांत्रिक कला के साथ-साथ सिद्ध योग भी करते थे जो एक और बहुत प्रसिद्ध संत थे। बामा खेपा ने अपना जीवन माँ तारा की पूजा के लिए समर्पित कर दिया था। आज उनका आश्रम मंदिर के नजदीक ही स्थित है।

Tarapith Mandir Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – जिंजी किला का इतिहास और महत्वपूर्ण जानकारी

Best Time To Visit Tarapith Temple

तारापीठ मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – मंदिर में दर्शन करने का आदर्श समय सितंबर से मार्च के महीनों के दौरान होता है। क्योंकि गर्मी दूर होने के कारण यहाँ का मौसम सुहावना होता है। नवंबर से दिसंबर का समय ज्यादातर पर्यटकों द्वारा पसंद किया जाता है। क्योंकि उस समय मौसम ठंडा होता है। और उस समय तारापीठ मंदिर बहुत प्यारा होता है। दुर्गा पूजा एक और शुभ अवसर है जब पर्यटक शहर में उत्सव का अनुभव करने के लिए मंदिर जाते हैं।

तारापीठ मंदिर का फोटो

Tips For Visiting Tarapith Mandir

तारापीठ मंदिर के दर्शन के लिए कुछ टिप्स फॉलो करना जरुरी है।

यात्रिओ को मंदिर में पालतू जानवरों को ले जाने की अनुमति नहीं है।

पर्यटक मंदिर के अंदर फोटो नहीं ले सकते क्योकि उसके लिए अनुमति नहीं है।

मंदिर में प्रवेश करने के लिए सफाई रखना बहुत जरुरी है।

यात्रिओ को तारापीठ मंदिर में पवित्रता को बनाए रखना जरुरी है। 

Tarapith Mandir Timings

तारापीठ मंदिर खुलने और बंद होने का समय सुबह 6 बजे से शाम 9 बजे तक का है।

उस समय में भक्त दर्शन के लिए जा सकते है।

तारापीठ मंदिर की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – गिर नेशनल पार्क घूमने की पूरी जानकारी

Tarapith Temple Entry Fee

तारापीठ मंदिर टोरन का प्रवेश – शुल्क कोई प्रवेश शुल्क नहीं यानि यहाँ प्रवेश नि:शुल्क है।

Poojas At Tarapith Mandir

सप्ताह के सभी दिनों में मंदिर में सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक पूजा होती है। देवी तारा सुबह 4 बजे शाहनई और अन्य संगीत वाद्ययंत्रों की धुन से उठती हैं। उसके बाद पूजा होती है। उसमे में गर्भगृह का द्वार भक्तों खोला जाता है। वह भक्त माता के पैर धोते हैं, उसके कमरे को साफ करते हैं। उसके बाद बिस्तर को फिर से बनाते हैं। जीवितकुंड के शुद्ध जल से मूर्ति को धोने से पहले उसमें शहद और घी लगाया जाता है। फिर मूर्ति को एक साड़ी, खोपड़ियों की एक माला और एक मुखौटा से सजाया जाता है। उसके बाद मंगलार्ती शुरू होती है। पूजा दोपहर को होती है। तांत्रिक साधना के नियमों के अनुसार मूर्ति को चावल चढ़ाते है। 

उस अन्न भोग में अटाप चावल, बलि बकरे का मांस, चावल का हलवा, तली हुई मछलियां और पांच तरह के व्यंजन होते हैं। देवता के विश्राम के लिए अन्नभोग के बाद कुछ समय के लिए मंदिर बंद रहता है। शाम को, संध्या आरती होती है जिसके बाद देवता का बिस्तर बनाया जाता है। बकरियों की बलि देने से पहले उन्हें मंदिर के पवित्र तालाब में स्नान कराया जाता है। फिर एक विशेष तलवार का उपयोग करके बकरी की गर्दन को एक ही झटके में काट दिया जाता है। बकरी के खून को एक छोटे बर्तन में इकट्ठा कर देवी को चढ़ाया जाता है।

Tarapith Mandir Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – पूर्णा वन्यजीव अभ्यारण्य की जानकारी

Tarapith Temple Architecture

तारापीठ मंदिर की वास्तुकला में मुख्य मंदिर एक संगमरमर की ब्लॉक संरचना है। जिसमें चार तरफ घुमावदार छत से ढका हुआ है। उसको दोचला कहा जाता है। इस संरचना के नीचे से चार भुजाओं वाली एक छोटी मीनार है, जिसका अपना दोचला है। तारापीठ मंदिर का एक मोटा आधार है जिसमें लाल ईंटों से बनी मोटी दीवारें हैं। कक्ष में अटारी में देवता की छवि रखी गई है। शिव को दूध पिलाने वाली मां के रूप में मां तारा की एक पत्थर की मूर्ति है। माँ तारा की एक और तीन फीट की धातु की छवि उनके उग्र रूप में प्रस्तुत की गई है। 

जिसमें चार भुजाएँ उनके गले में एक माला के रूप में खोपड़ी पहने हुए हैं और उनकी जीभ बाहर निकली हुई है। छवि के सिर पर बहते बालों के साथ एक चांदी का मुकुट है। छवि को एक साड़ी में लपेटा जाता है और उसके सिर पर चांदी की छतरी वाली माला से सजाया जाता है। देवी के मस्तक को लाल कुमकुम से सजाया गया है। यह कुमकुम पुजारियों द्वारा मां तारा के आशीर्वाद के प्रतीक के रूप में भक्तों के माथे पर लगाया जाता है। भक्त देवता को केले, रेशम की साड़ियाँ और नारियल चढ़ाते हैं।

Festivals At Tarapith Temple

तारापीठ मंदिर टोरन में मनाये जाने वाले उत्सव और पूजा – तारापीठ मंदिर में मनाए जाने वाले त्योहारों में संक्रांति मेला शामिल है जो हिंदू महीने के प्रत्येक संक्रांति के दिन होता है, डोला पूर्णिमा जो फरवरी / मार्च के दौरान आयोजित की जाती है। बसंतिका पर्व जो चैत्र (मार्च / अप्रैल) महीने के दौरान मनाया जाता है, गामा पूर्णिमा जो लेता है। जुलाई/अगस्त के दौरान चैत्र पर्व जो चैत्र महीने के प्रत्येक मंगलवार को आयोजित किया जाता है। मंदिर में आयोजित एक और बहुत महत्वपूर्ण और सबसे प्रसिद्ध त्योहार तारापीठ अमावस्या वार्षिक उत्सव है जो हर साल अगस्त में आयोजित किया जाता है।

How To Reach Tarapith Temple West Bengal

भारत के वेस्ट बंगाल के एक छोटे से गाँव में तारापीठ मंदिर स्थित है। मंदिर पहुंचने के लिए बीरभूम से स्टेट हाइवे 13 से जा सकते है। कोलकाता हवाई अड्डा तारापीठ का सबसे नजदीक हवाई अड्डा है। वह 200 किमी दुर स्थित है। तारापीठ सड़कों के एक सुव्यवस्थित नेटवर्क से बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है। राज्य और निजी बसें शहरों के तारापीठ को जोड़ती हैं। रामपुर हाट रेलवे स्टेशन तारापीठ मंदिर का सबसे नजदीक है। वह शहर से तक़रीबन 6 किमी दूर स्थित है।

तारापीठ मंदिर का इतिहास और संपूर्ण जानकारी

इसके बारेमे भी पढ़िए – जीभी के पर्यटन स्थल की संपूर्ण जानकारी

Tarapith Temple Map तारापीठ मंदिर का लोकेशन

Tarapith Mandir Tarapith In Hindi Video

Interesting Facts

  • हिन्दुओं के 51 शक्तिपीठों में से पांच शक्तिपीठ वीरभूमि जिले में ही है।
  • वीरभूमि जिले में बकुरेश्वर, नालहाटी, बन्दीकेश्वरी, फुलोरा देवी और तारापीठ शक्तिपीठ है।
  • यह सिद्ध पुरूष वामाखेपा का जन्म स्थल यानि उसका जन्म यहाँ हुआ था। 
  • मंदिर में माँ काली की मूर्ति की पूजा माँ तारा के रूप मे की जाती है।
  • तारापीठ मुख्य मंदिर के सामने महाश्मशान स्थित है।
  • तारापीठ राजा दशरथ के कुलपुरोहित वशिष्ठ मुनि का सिद्धासन है।
  • हिंदू धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थल में आज भी तांत्रिक अनुष्ठानों का पालन किया जाता है।

FAQ

Q .तारापीठ मंदिर कहाँ है?

तारापीठ मंदिर वेस्ट बंगाल राज्य के कोलकाता शहर के बीरभूम में द्वारका नदी के किनारे स्थित है।

Q .तारापीठ में कौन सा मंदिर है?

तारापीठ में तारापीठ मंदिर माँ कालिका, भद्र-काली और महाकाली को समर्पित मंदिर है। 

Q .तारापीठ क्यों प्रसिद्ध है?

तारापीठ का प्राचीन मंदिर भारत के 51 शक्तिपीठ में से एक है और हिंदू धर्म का प्रमुख तीर्थ स्थल है। 

Q .तारापीठ किस लिए प्रसिद्ध है?

तारापीठ सिद्ध पुरूष वामाखेपा का जन्म स्थल और तारापीठ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। 

Q .क्या तारापीठ एक शक्ति पीठ है?

हा 51 शक्तिपीठ में से एक है, एक शक्ति पीठ है। 

Conclusion

आपको मेरा लेख Tarapith Mandir Tarapith In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Tarapith Mandir in hindi, Tarapith Mandir video

और Tarapith Mandir open today से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Tarapith Mandir contact number की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Tarapith Mandir open or not 2022, Tarapith Mandir open now, Tarapith Mandir pin code, Dakshineswar mandir, Tarkeshwar mandir, Kalighat mandir, तारापीठ मंदिर का रहस्य, तारापीठ कहां है, तारापीठ की दूरी, तारापीठ मंदिर खुला है कि नहीं, तारापीठ कैसे जाये, तारापीठ का पुत्र कौन था, तारापीठ का श्मशान घाट का सीन, तारापीठ का महत्व, देवघर से तारापीठ की दूरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – प्राग महल का इतिहास और जानकारी

30 thoughts on “Tarapith Mandir Tarapith In Hindi | तारापीठ मंदिर का इतिहास और संपूर्ण जानकारी”

  1. 1, Eastern Cooperative Oncology Group ECOG performance status 3, any recent or concomitant neoplastic diseases in the previous 5 years, and no previous endocrine therapy for cancer stromectol canada buy 8 This is the time window in which expression and phosphorylation of Stat3 by endothelial cells reach their highest levels compared with those of other cell types

  2. Greetings, I do think your site may be having web browser compatibility issues.
    Whenever I look at your site in Safari, it looks fine however, if opening
    in Internet Explorer, it’s got some overlapping issues.
    I simply wanted to give you a quick heads up!
    Apart from that, excellent blog!

  3. prochlorperazine ciprofloxacin dose for std Energy policy has long been on hold ahead of the polls while the rapid growth of subsidized green power has undermined prices of conventional power and triggered plant closures, leaving the sector in urgent need of consolidation where to buy nolvadex

  4. Recent findings using synthetic QS 21 demonstrate unequivocally that the adjuvant activity of QS 21 resides in these two principal isomeric forms, and not in trace contaminants within the natural extracts what is priligy 8 standard deviation, 6

  5. Does your website have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to shoot you an email.
    I’ve got some recommendations for your blog you might be interested in hearing.
    Either way, great website and I look forward to seeing it
    expand over time. https://cutt.ly/TMkyQmz

  6. I’m usually to blogging and i really admire your content. The article has actually peaks my interest. I am going to bookmark your site and preserve checking for brand spanking new information.

  7. I have been exploring for a bit for any high-quality articles or blog posts on this
    kind of house . Exploring in Yahoo I eventually stumbled upon this web site.
    Reading this information So i am satisfied to exhibit that I have an incredibly just right uncanny feeling I came upon just what
    I needed. I so much for sure will make sure to do not
    overlook this web site and give it a glance
    regularly.

    Also visit my web-site … tracfone special

  8.   老板夫妻在各自信用卡刷爆的情况下,开始被逼到处借高利贷,甚至向企业内部员工集资。最后在去年下半年,终于顶不住压力,丢下一帮拖欠大半年工资的员工跑路了。回头想想,当年该老板要是用2000多万,在当地买房置业,商铺之类的。或许现在的生活真是无忧无虑。有时候,前十几年太顺,后面懂得不折腾要适当守城的人,实在太少。因为他们总把运气当成自己的实力! BCR澳洲百汇ASIC监管 外汇术语   01.我一个朋友开娱乐城的,最开始主要是经营KTV、看球赛、做生日PARTY、按摩什么的,后来看到他人搞三陪服务很挣钱,于是就学别人这样做,结果就出事儿了,2014年的一天,被100多个公安封了场地,还把他自己关进了,最后还是找朋友帮忙才捞回来,娱乐城经此事之后,生意一下子没有了,最后他1000万投资的娱乐城,被他用500万给卖了,这事儿给他的教训是千万别做违法的事儿和挣快钱,很多人之所以破产或者巨亏就是他想挣快钱。 https://wayloncthv864219.shoutmyblog.com/15579533/德州-撲克-遊戲-下載 明星三缺一2013 在移动平台上的这款麻将3缺1在游戏画面上与PC版无异,都是使用一个类三维的视角来进行游戏,如果你临时有事不能玩儿,没关系游戏为玩家们提供了电脑代打这个选项,不过小编我想要说的是,电脑的AI,实在是不太好用。 ֐΄û£º©Œ¢÷Ї3ȱ1 3、匹配对战,你可以直接匹配其他的玩家,你也可以邀请好友一起匹配。 Android下载 APK下载 最新消息 活动讯息 系统公告 more 明星3缺1,反侵权公告01 18 1 4 微信支付维护公告01 04 商城商品话费兑换功能…07 10 商城部分商 本来就比较喜欢麻将游戏,刚进入游戏还没有开始玩就被里面各种明星的表情弄得捧腹大笑。尤其是吴宗宪哦,打牌的时候讲话更逗,赵本上,范伟等很多明星里面都很全的,不过游戏的玩法上还是比较多的哦。非常值得体验哦!

  9. Hey this is somewhat of off topic but I was wanting to know if blogs use WYSIWYG
    editors or if you have to manually code with HTML.
    I’m starting a blog soon but have no coding expertise so I wanted to get guidance from someone with experience.
    Any help would be greatly appreciated!

    My web site – special

Leave a Comment

Your email address will not be published.