Tarapith Mandir Tarapith In Hindi

Tarapith Mandir Tarapith In Hindi | तारापीठ मंदिर का इतिहास और संपूर्ण जानकारी

नमस्कार दोस्तों Tarapith Mandir | Tarapith Temple In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम तारापीठ मंदिर का इतिहास, तारापीठ का श्मशान, वामाखेपा की पूरी कहानी के साथ तारापीठ मंदिर के दर्शन और घूमने की जानकारी बताने वाले है। तारापीठ मंदिर पश्चिम बंगाल राज्य का एक धार्मिक मंदिर है। वह कोलकाता से 264 किमी दूर बीरभूम में बहने वाली द्वारका नदी के किनारे स्थित है। भारत के 51 शक्ति पीठों में से एक तारापीठ मंदिर सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है जहां आज भी तांत्रिक अनुष्ठान किए जाते हैं।

हिन्दू धर्म के अनुसार सती का एक नेत्रगोलक यहां तारापीठ में गिरा था। जब भगवान शिव उनका शोक मनाते हुए ब्रह्मांड में घूमते थे। उस मानी जाने वाली घटना को देखते हुए, गाँव का नाम चांदीपुर से तारापीठ कर दिया था। क्योंकि नेत्रगोलक के लिए बंगाली शब्द तारा है। यह मंदिर माँ तारा को समर्पित है। तारापीठ मंदिर काली के रूप में शिव जी के विनाशकारी पहलू का प्रतिनिधित्व करता है। हिंदू परंपराओं के अनुसार, माँ तारा को ज्ञान की दस देवियों में से दूसरा माना जाता है। और उन्हें कालिका, भद्र-काली और महाकाली के नाम से जाना जाता है। 

Tarapith Temple History In Hindi

तारापीठ मंदिर का इतिहास देखे तो वशिष्ठ तांत्रिक कला में महारत हासिल करना चाहते थे। मगर लगातार प्रयासों के बावजूद वे असफल रहे थे। उन्हें भगवान बुद्ध के पास जाने के लिए प्रेरित किया, उन्होंने तारापीठ में अभ्यास करने के लिए कहा जो मां तारा की पूजा करने के लिए एक आदर्श स्थान था। वशिष्ठ तब तारापीठ आए और बाएं हाथ के तांत्रिक अनुष्ठान के साथ पंचमकार, यानी पांच निषिद्ध चीजों का उपयोग करके मां तारा की पूजा करने लगे थे। उससे से प्रसन्न होकर माँ तारा एक स्वर्गीय माँ के रूप में उनके सामने प्रकट हुईं थी। 

उसके पश्यात मातारानी फिर पत्थर में बदल गईं थी। उस दिन से तारापीठ में देवता की इस माँ की छवि की पूजा की जाती है। तारापीठ मंदिर को पागल संत बामा खेपा के लिए भी जाना जाता है, जिनकी पूजा भी मंदिर में की जाती है। वह श्मशान घाट में रहते थे और कैलाशपति बाबा के मार्गदर्शन में तांत्रिक कला के साथ-साथ सिद्ध योग भी करते थे जो एक और बहुत प्रसिद्ध संत थे। बामा खेपा ने अपना जीवन माँ तारा की पूजा के लिए समर्पित कर दिया था। आज उनका आश्रम मंदिर के नजदीक ही स्थित है।

Tarapith Mandir Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – जिंजी किला का इतिहास और महत्वपूर्ण जानकारी

Best Time To Visit Tarapith Temple

तारापीठ मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – मंदिर में दर्शन करने का आदर्श समय सितंबर से मार्च के महीनों के दौरान होता है। क्योंकि गर्मी दूर होने के कारण यहाँ का मौसम सुहावना होता है। नवंबर से दिसंबर का समय ज्यादातर पर्यटकों द्वारा पसंद किया जाता है। क्योंकि उस समय मौसम ठंडा होता है। और उस समय तारापीठ मंदिर बहुत प्यारा होता है। दुर्गा पूजा एक और शुभ अवसर है जब पर्यटक शहर में उत्सव का अनुभव करने के लिए मंदिर जाते हैं।

तारापीठ मंदिर का फोटो

Tips For Visiting Tarapith Mandir

तारापीठ मंदिर के दर्शन के लिए कुछ टिप्स फॉलो करना जरुरी है।

यात्रिओ को मंदिर में पालतू जानवरों को ले जाने की अनुमति नहीं है।

पर्यटक मंदिर के अंदर फोटो नहीं ले सकते क्योकि उसके लिए अनुमति नहीं है।

मंदिर में प्रवेश करने के लिए सफाई रखना बहुत जरुरी है।

यात्रिओ को तारापीठ मंदिर में पवित्रता को बनाए रखना जरुरी है। 

Tarapith Mandir Timings

तारापीठ मंदिर खुलने और बंद होने का समय सुबह 6 बजे से शाम 9 बजे तक का है।

उस समय में भक्त दर्शन के लिए जा सकते है।

तारापीठ मंदिर की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – गिर नेशनल पार्क घूमने की पूरी जानकारी

Tarapith Temple Entry Fee

तारापीठ मंदिर टोरन का प्रवेश – शुल्क कोई प्रवेश शुल्क नहीं यानि यहाँ प्रवेश नि:शुल्क है।

Poojas At Tarapith Mandir

सप्ताह के सभी दिनों में मंदिर में सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक पूजा होती है। देवी तारा सुबह 4 बजे शाहनई और अन्य संगीत वाद्ययंत्रों की धुन से उठती हैं। उसके बाद पूजा होती है। उसमे में गर्भगृह का द्वार भक्तों खोला जाता है। वह भक्त माता के पैर धोते हैं, उसके कमरे को साफ करते हैं। उसके बाद बिस्तर को फिर से बनाते हैं। जीवितकुंड के शुद्ध जल से मूर्ति को धोने से पहले उसमें शहद और घी लगाया जाता है। फिर मूर्ति को एक साड़ी, खोपड़ियों की एक माला और एक मुखौटा से सजाया जाता है। उसके बाद मंगलार्ती शुरू होती है। पूजा दोपहर को होती है। तांत्रिक साधना के नियमों के अनुसार मूर्ति को चावल चढ़ाते है। 

उस अन्न भोग में अटाप चावल, बलि बकरे का मांस, चावल का हलवा, तली हुई मछलियां और पांच तरह के व्यंजन होते हैं। देवता के विश्राम के लिए अन्नभोग के बाद कुछ समय के लिए मंदिर बंद रहता है। शाम को, संध्या आरती होती है जिसके बाद देवता का बिस्तर बनाया जाता है। बकरियों की बलि देने से पहले उन्हें मंदिर के पवित्र तालाब में स्नान कराया जाता है। फिर एक विशेष तलवार का उपयोग करके बकरी की गर्दन को एक ही झटके में काट दिया जाता है। बकरी के खून को एक छोटे बर्तन में इकट्ठा कर देवी को चढ़ाया जाता है।

Tarapith Mandir Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – पूर्णा वन्यजीव अभ्यारण्य की जानकारी

Tarapith Temple Architecture

तारापीठ मंदिर की वास्तुकला में मुख्य मंदिर एक संगमरमर की ब्लॉक संरचना है। जिसमें चार तरफ घुमावदार छत से ढका हुआ है। उसको दोचला कहा जाता है। इस संरचना के नीचे से चार भुजाओं वाली एक छोटी मीनार है, जिसका अपना दोचला है। तारापीठ मंदिर का एक मोटा आधार है जिसमें लाल ईंटों से बनी मोटी दीवारें हैं। कक्ष में अटारी में देवता की छवि रखी गई है। शिव को दूध पिलाने वाली मां के रूप में मां तारा की एक पत्थर की मूर्ति है। माँ तारा की एक और तीन फीट की धातु की छवि उनके उग्र रूप में प्रस्तुत की गई है। 

जिसमें चार भुजाएँ उनके गले में एक माला के रूप में खोपड़ी पहने हुए हैं और उनकी जीभ बाहर निकली हुई है। छवि के सिर पर बहते बालों के साथ एक चांदी का मुकुट है। छवि को एक साड़ी में लपेटा जाता है और उसके सिर पर चांदी की छतरी वाली माला से सजाया जाता है। देवी के मस्तक को लाल कुमकुम से सजाया गया है। यह कुमकुम पुजारियों द्वारा मां तारा के आशीर्वाद के प्रतीक के रूप में भक्तों के माथे पर लगाया जाता है। भक्त देवता को केले, रेशम की साड़ियाँ और नारियल चढ़ाते हैं।

Festivals At Tarapith Temple

तारापीठ मंदिर टोरन में मनाये जाने वाले उत्सव और पूजा – तारापीठ मंदिर में मनाए जाने वाले त्योहारों में संक्रांति मेला शामिल है जो हिंदू महीने के प्रत्येक संक्रांति के दिन होता है, डोला पूर्णिमा जो फरवरी / मार्च के दौरान आयोजित की जाती है। बसंतिका पर्व जो चैत्र (मार्च / अप्रैल) महीने के दौरान मनाया जाता है, गामा पूर्णिमा जो लेता है। जुलाई/अगस्त के दौरान चैत्र पर्व जो चैत्र महीने के प्रत्येक मंगलवार को आयोजित किया जाता है। मंदिर में आयोजित एक और बहुत महत्वपूर्ण और सबसे प्रसिद्ध त्योहार तारापीठ अमावस्या वार्षिक उत्सव है जो हर साल अगस्त में आयोजित किया जाता है।

How To Reach Tarapith Temple West Bengal

भारत के वेस्ट बंगाल के एक छोटे से गाँव में तारापीठ मंदिर स्थित है। मंदिर पहुंचने के लिए बीरभूम से स्टेट हाइवे 13 से जा सकते है। कोलकाता हवाई अड्डा तारापीठ का सबसे नजदीक हवाई अड्डा है। वह 200 किमी दुर स्थित है। तारापीठ सड़कों के एक सुव्यवस्थित नेटवर्क से बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है। राज्य और निजी बसें शहरों के तारापीठ को जोड़ती हैं। रामपुर हाट रेलवे स्टेशन तारापीठ मंदिर का सबसे नजदीक है। वह शहर से तक़रीबन 6 किमी दूर स्थित है।

तारापीठ मंदिर का इतिहास और संपूर्ण जानकारी

इसके बारेमे भी पढ़िए – जीभी के पर्यटन स्थल की संपूर्ण जानकारी

Tarapith Temple Map तारापीठ मंदिर का लोकेशन

Tarapith Mandir Tarapith In Hindi Video

Interesting Facts

  • हिन्दुओं के 51 शक्तिपीठों में से पांच शक्तिपीठ वीरभूमि जिले में ही है।
  • वीरभूमि जिले में बकुरेश्वर, नालहाटी, बन्दीकेश्वरी, फुलोरा देवी और तारापीठ शक्तिपीठ है।
  • यह सिद्ध पुरूष वामाखेपा का जन्म स्थल यानि उसका जन्म यहाँ हुआ था। 
  • मंदिर में माँ काली की मूर्ति की पूजा माँ तारा के रूप मे की जाती है।
  • तारापीठ मुख्य मंदिर के सामने महाश्मशान स्थित है।
  • तारापीठ राजा दशरथ के कुलपुरोहित वशिष्ठ मुनि का सिद्धासन है।
  • हिंदू धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थल में आज भी तांत्रिक अनुष्ठानों का पालन किया जाता है।

FAQ

Q .तारापीठ मंदिर कहाँ है?

तारापीठ मंदिर वेस्ट बंगाल राज्य के कोलकाता शहर के बीरभूम में द्वारका नदी के किनारे स्थित है।

Q .तारापीठ में कौन सा मंदिर है?

तारापीठ में तारापीठ मंदिर माँ कालिका, भद्र-काली और महाकाली को समर्पित मंदिर है। 

Q .तारापीठ क्यों प्रसिद्ध है?

तारापीठ का प्राचीन मंदिर भारत के 51 शक्तिपीठ में से एक है और हिंदू धर्म का प्रमुख तीर्थ स्थल है। 

Q .तारापीठ किस लिए प्रसिद्ध है?

तारापीठ सिद्ध पुरूष वामाखेपा का जन्म स्थल और तारापीठ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। 

Q .क्या तारापीठ एक शक्ति पीठ है?

हा 51 शक्तिपीठ में से एक है, एक शक्ति पीठ है। 

Conclusion

आपको मेरा लेख Tarapith Mandir Tarapith In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Tarapith Mandir in hindi, Tarapith Mandir video

और Tarapith Mandir open today से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Tarapith Mandir contact number की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Tarapith Mandir open or not 2022, Tarapith Mandir open now, Tarapith Mandir pin code, Dakshineswar mandir, Tarkeshwar mandir, Kalighat mandir, तारापीठ मंदिर का रहस्य, तारापीठ कहां है, तारापीठ की दूरी, तारापीठ मंदिर खुला है कि नहीं, तारापीठ कैसे जाये, तारापीठ का पुत्र कौन था, तारापीठ का श्मशान घाट का सीन, तारापीठ का महत्व, देवघर से तारापीठ की दूरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – प्राग महल का इतिहास और जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.