Mallikarjuna Jyotirlinga Images

Srisailam Temple In Hindi | श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर का इतिहास और जानकारी

नमस्कार दोस्तों Srisailam Temple In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर की संपूर्ण जानकारी बताने वाले है। भारत के आन्ध्र प्रदेश के दक्षिणी भाग में श्रीशैलम पर्वत पर कृष्णा नदी के किनारे श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर हैं। उस पवित्र मंदिर को दक्षिण के कैलाश के नाम से जानते है। श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर के मुख्य देवता माता पार्वती और भगवान शिव हैं। उसके अलावा मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर श्रीशैलम  वन्यजीव अभयारण्य और बांध के लिए प्रसिद्ध है।

श्रीशैलम का मल्लिकार्जुन मंदिर भगवान शिव के ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं। उसमे माता पार्वती को मलिका और भगवान शिव को अर्जुन के रूप से पूजा जाता हैं। यह स्थान या मंदिर हिन्दू धर्मं और संस्कृति के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। श्रीशैलम के मल्लिकार्जुन दर्शन के कई पर्यटक आते रहते हैं और मंदिर के आराध्य देव माता पार्वती और शिवजी के दर्शन कर धन्यता का अनुभव करते हैं। अगर आप भी यह  पावन धाम और उसके पर्यटक स्थलों की अधिक जानकारी जानना चाहते हैं। तो हमारे आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े।

Srisailam Temple History

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर का इतिहास – मलिकार्जुन ज्योतिर्लिंग हैदराबाद के श्रीशैलम में स्थित है। हिन्दू धर्म के शिवपुराण में मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिग का उल्लेख देखने को मिलता है। किवदंती के मुताबिक मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग का इतिहास सातवाहन राजवंश के शिलालेख से यह बात का प्रमाण हैं। की यह मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग का मंदिर दूसरी शताब्दी से अस्तित्व में हैं। यह खूबसूरत मंदिर के अधिकांश आधुनिक जोड़ विजयनगर साम्राज्य के राजा हरिहर प्रथम काल से मिलते है।

Mallikarjuna Jyotirlinga Yatra In Hindi
Srisailam Temple In Hindi

इसके बारेमे भी जानिए – मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन और यात्रा की जानकरी

Best Time To Visit Srisailam Temple

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन के दर्शन और यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग घूमने और यहां के दर्शनीय स्थलों की यात्रा करने के लिए आप कोई भी समय जा सकते है। लेकिन अगर यहां जाने का सबसे अच्छा समय नवम्बर से फरवरी के बीच का माना जाता हैं। क्योकि नवम्बर से फरवरी के बीच का मौसम पर्यटन गतिविधियों और तीर्थयात्रा के लिए सर्वोत्तम जलवायु प्रदान करता है। उस समय तापमान 15 डिग्री से 32 डिग्री सेल्सियस रहता है। उस समय यहाँ के दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए अच्छा समय है।

Srisailam Temple Architecture

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर की संरचना की बात करे तो मंदिर 2 हेक्टेयर भूमि में फैला हुआ है। मंदिर द्रविड़ शैली के स्थापत्य चमत्कार और मूर्तिकला के लिए प्रसिद्ध है। उसमें विशाल राजगोपुरम या प्रवेश द्वार बना हैं। मंदिर के मुख्य देवता राजसी मल्लिकार्जुन शिव लिंग है। उसके साथ कई अन्य मंदिर और हॉल शामिल हैं। उसमे मुख मंडप जिसको विजयनगर काल के समय बनाया गया था। शिवजी का मंदिर 7वीं शताब्दी से भी सबसे पुराना है।उसके अलावा सहारा लिंग या 1000 लिंग है। वह के मिरर हॉल में भगवान नटराज की कई छवियां देख सकते हैं। मंदिर के राजसी स्तंभ बहुत विशाल हैं और सुंदर मूर्तियों और पैटर्न के काम से भरे हुए हैं।

मंदिर का गर्भगृह छोटा वहां यात्री सुनहरे हुड से ढका छोटे से लिंग को देख सकते हैं। मंदिर में विभिन्न शाही राजवंशों का संरचनात्मक योगदान है ,उसके कारन आप मंदिर के चारों ओर विभिन्न शैलियों को देख सकते हैं। मंदिर कुशल शिल्प कौशल का परिणाम है जो बीते युग के बिल्डरों के सच्चे कौशल का प्रमाण है। आप विशाल हॉल में  कुछ बेहतरीन छवियों और मूर्तिकला के काम को देख सकते हैं जो जटिल कारीगरी की सुंदर सुंदरता दिखाती हैं। यह राजसी मंदिर की शांत सुंदरता और शांति का आनंद लेंने भक्तो की भीड़ रहती है।

इसके बारेमे भी जानिए – मैकलोडगंज का इतिहास और पर्यटक स्थल की जानकारी

Srisailam Temple Story

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर की कहानी – किंवदंती और पौराणिक कथा के मुताबिक यह मंदिर शिवजी के परिवार से जुड़ा हुआ है। उसके दोनों पुत्र कार्तिक गणेश जी के बीच शादी को लेकर झगड़ा हुआ था। दोनों माता पिता के पास गए और उन्होंने कहा की जो पृथ्वी का भ्रमण करके जो सबसे पहले आएंगा उसकी पहले करवायेंगे। उतना सुनते कार्तिके मोर की सवारी करके यात्रा के लिए निकल गए थे। लेकिन गणेशजी के पास चूहा था। जो बहुत कम चलता था। उसी कारन उन्होंने चतुराई से माता पिता को बैठा कर उनकी सात बार परिक्रमा करदी थी। उसको देख शिवजी और पार्वती बहुत खुश हुए थे।

उन्होंने गणेश जी की शादी करवा दी कुछ समय के बाद कार्तिकेय पृथ्वी की यात्रा करके आए। उन्होंने देखा की गणेश की शादी हो चुकी है। उसके कारन दुखी हुए और वहाँ से निकल गए थे।  कार्तिके रोज़ पहाड़ी पर रहने लगे थे। पार्वती और शंकर जी ने देवर्षि नारद को कार्तिकेय को मनाने भेजा लेकिन कार्तिकेय नहीं माने थे।  उसके बाद माता पार्वती गए लेकिन माता पिता के आने की सूचना मिलते कार्तिकेय वहाँ से चले गए। कार्तिकेय के चले जाने के बाद भगवान शिव उस पहाड़ी पर ज्योतिर्लिंग  के रूप में स्थापित हो गए थे। वह  ज्योतिर्लिग का नाम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिग पड़ा है।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर फोटो
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – आचार्य जगदीश चंद्र बोस इंडियन बोटैनिक गार्डन कोलकाता

Srisailam Jyotirlinga Temple Shakti Peeth

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर शक्ति पीठ – ऐसा कहा जाता है की यह शक्ति पीठ में देवी सती के अवशेष गिरे थे। पौराणिक कथाओं  मुताबिक देवी सती के पिता जी राजा दक्ष ने शिवजी का अपमान किया था। उसको सती सह नहीं पाए और देवी सती ने आत्मदाह कर लिया था। उसके बाद शिव ने देवी सती के जलते हुए शरीर के साथ तांडव किया था। उस समय सती के शरीर के अंग जिस जिस स्थान गिरे वह सभी शक्ति पीठ के रूप में प्रसिद्ध हुए है। ऐसा कहा जाता हैं कि मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में सती के ऊपरी होंठ गिरा था। यानि श्रीशैलम श्री मल्लिकार्जुन स्वामी मंदिर 18 महाशक्ति पीठों में से एक कहा जाता है।

Tourist Places Near Srisailam Temple

  • श्री ब्रह्मराम्बा मल्लिकार्जुन स्वामी मंदिर
  • श्रीशैलम टाइगर रिजर्व
  • हेमरेड्डी मल्लम्मा मंदिर श्रीशैलम
  • श्रीशैलम में शॉपिंग
  • साक्षी गणपति मंदिर
  • अक्क महादेवी गुफ़ाएँ
  • श्रीशैलम पातालगंगा
  • हाटकेश्वर मंदिर श्रीशैलम
  • श्रीशैलम बांध
  • शिखरेश्वर मंदिर श्रीशैलम
  • लिंगाला गट्टू श्रीशैलम
  • चेंचू लक्ष्मी ट्राइबल म्यूजियम श्रीशैलम

Srisailam Tiger Reserve

श्रीशैलम टाइगर रिजर्व का कुल क्षेत्रफल 3568 एकड़ है। वह भारत के सबसे बड़े टाइगर रिजर्व में से एक है। श्रीशैलम बांध और नागार्जुनसागर बांध भी आरक्षित क्षेत्र में स्थित हैं। बाघ के अलावा यहां तेंदुए, सुस्त भालू, ढोल, भारतीय पैंगोलिन, चीतल, सांभर हिरण, शेवरोटेन, ब्लैकबक, चिंकारा और चौसिंघा भी पर्यटक देखे सकते हैं। उसके अलावा मगरमच्छ, भारतीय अजगर, किंड कोबरा और भारतीय मोर सहित अन्य सरीसृप और उभयचर भी देखने को मिलते हैं।

Mallikarjuna Jyotirlinga Photo gallery
Mallikarjuna Jyotirlinga Photo gallery

इसके बारेमे भी जानिए – हिमाचल प्रदेश का कसोल गांव के बारे में पूरी जानकारी

Mallikarjuna Swamy Temple

कृष्णा नदी के दक्षिणी तट पर मल्लिकार्जुन स्वामी मंदिर है। यह स्वामी मंदिर शहर का सबसे प्रसिद्ध मंदिर है और इसकी जड़ें 6 शताब्दियों के इतिहास में पाई जाती हैं, जब इसे विजयनगर के राजा हरिहर राय ने बनवाया था। पौराणिक कथा के अनुसार मंदिर में देवी पार्वती ने ऋषि ब्रिंगी को खड़े होने का श्राप दिया था। क्योंकि उन्होंने सिर्फ शिव की पूजा की थी। शिव जी ने देवी को सांत्वना देने के बाद उन्हें तीसरा पैर दिया था। क्योकि वह अधिक आराम से खड़े रहे। ऋषि ब्रिंगी की मूर्ति के साथ नंदी, सहस्रलिंग और नटराज भी है।

Patala Ganga

पाताल गंगा कृष्णा नदी का घाट है जो कि मन्दिर से 1 कि.मी दूर है । यहां पर पर्यटक बोटिंग कर सकते है । पाताल गंगा जाने के लिए यात्री रोप वे का उपयोग भी कर सकते है । कृष्णा नदी पहाड़ी हवा में एक निश्चित आध्यात्मिकता होती है। पर्यटक आस-पास के परीदृश्यों का आनंद लेंने और पवित्र जल में डुबकी लगा ने के लिए यहाँ आया करते है। उसके पानी से औषधीय गुण हैं।

Sakshi Ganapati Temple

सुंदर परिवेश के बीच स्थित साक्षी गणपति मंदिर भगवान गणेश को समर्पित एक छोटा सा मंदिर है। भक्तों का मानना ​​है कि भगवान गणेश जानते हैं। कि मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग के दर्शन कौन करता है। वह एक रिकॉर्ड रखता है और उसे भगवान शिव को दिखाता है। यात्री श्रीशैलम के कोई भी मंदिर में जाने से पहले सबसे पहले यह मंदिर में जाते हैं। मंदिर के गर्भगृह पहुंचने के लिए 10 सीढि़यों की मामूली चढ़ाई है। मंदिर के बारे में सबसे आकर्षक हिस्सा इसका स्थान है क्योंकि मंदिर घने जंगल के बीच स्थित है।

Mallikarjuna Jyotirlinga Photos
Mallikarjuna Jyotirlinga Photos

इसके बारेमे भी जानिए – एडम ब्रिज या राम सेतु का इतिहास और घुमने लायक पर्यटन स्थल

Shikaresvara Temple

श्रीशैलम के उच्चतम बिंदु को सिखराम कहा जाता है। सिखेश्वर स्वामी को समर्पित एक मंदिर है, जो परिदृश्य और नीचे बहती एक प्राचीन नदी कृष्णा को दिखाता है। सिखेश्वर स्वामी भगवान शिव के रूपों में से एक है। ऐसा कहा जाता है  उस मंदिर में भक्तों को उनके पापों से मुक्त करने की शक्ति है। सिखराम भगवान साथ यहाँ सबसे खूबसूरत दृश्यों और भगवान गणेश को समर्पित मंदिर है।

Shopping in Srisailam

श्रीशैलम में बहुत अधिक विस्तृत शॉपिंग कॉम्प्लेक्स या उपन्यास उपलब्ध नहीं है। लेकिन वहा की जनजातियों द्वारा एकत्र किए गए और राज्य सरकार द्वारा पैक किए गए कुछ शहद को खरीद कर पर्यटक अपने घर ले जा सकते है। वह आपको चेंचू लक्ष्मी जनजातीय संग्रहालय में बिक्री के लिए उपलब्ध है। आप कुदरती शहद को खा कारके आनंद ले सकते है। 

श्रीशैलम में खाने के लिए स्थानीय भोजन

पर्यटक श्रीशैलम में खाने के लिए स्थानीय भोजन में यहां शाकाहारी भोजन ही परोसा जाता है। आपको बतादे की भोजन के लिए यात्रिओ  को श्रीशैलम में अधिक विकल्प नही मिलते है। मगर दक्षिण-भारतीय स्वादिष्ट व्यंजनों को आप जरूर आजमा सकते है। उसके साथ साथ पर्यटक यहां के स्ट्रीट फूड का भी मजा ले सकते हैं। जिससे आप अपनी यात्रा को यादगार बना सकते है।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन और यात्रा
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन और यात्रा

इसके बारेमे भी जानिए – बिरला मंदिर जयपुर हिस्ट्री और घूमने की जानकारी

श्रीशैलम में कहाँ रुके

पर्यटक मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग की यात्रा करके श्रीशैलम में कहाँ रुके की तलाश में है। तो आपको बतादे की श्रीशैलम में पर्यटकों को हाई-बजट से लो-बजट यानि सभी प्रकार की होटल उपलब्ध होती है। आप अपनी जरुरत और सुविधा मुताबिक होटल को पसंद कर सकते है। उसके कुछ नाम बताते है। आप अपनी पसंद से जा सकते है। 

  • श्री लक्ष्मी गणेश होटल
  • सूरज होटल
  • होटल शोभा
  • होटल सूरज ग्रैंड
  • तेजस्वी होटल

Places To Visit In Andhra Pradesh

  • Visakhapatnam 
  • Gandikota 
  • Tirupati 
  • Lepakshi Temple
  • Ahobilam 
  • Rajahmundry 
  • Amaravati 
  • Tirupati Balaji Mandir
  • Lepakshi 
  • Araku Valley
  • Kurnool 
  • Nehru Zoological Park
  • Vijayawada 
  • Nallamala Hills 
  • Golconda Fort
  • Ananthagiri Hills
  • Anantapur 
  • Guntur 
  • Borra Caves
  • Srisailam
  • Chittoor
  • Kakinada
  • Nellore
  • Machilipatnam
  • Konaseema
  • Srikalahasti
  • Mantralayam
  • Annavaram
  • Puttaparthi
  • Vizianagaram
  • Samalkot
  • Nagarjunakonda

    मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग फोटो
    मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग फोटो

How To Reach Srisailam Temple

ट्रेन से श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर कैसे पहुंचे

How To Reach Srisailam Temple By Train – पर्यटक अगर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग जाने के लिए ट्रेन से जाना चाहते है। तो श्रीशैलम का कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। लेकिन श्रीशैलम का निकटतम रेलवे स्टेशन मरकापुर रेलवे स्टेशन है। वह भारत के मुख्य शहरों से जुड़ा है। मरकापुर स्टेशन से यात्री  स्थानीय साधनों की सहायता से मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग तक पहुँच सकते है। 

सड़क मार्ग से श्रीशैलम मंदिर कैसे पहुंचे

How To Reach Srisailam Temple By Road – पर्यटक अगर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग जाने के लिए सडक मार्ग से जाना चाहते है। तो श्रीशैलम शहर के लिए नियमित बस सेवाएं चलती रहती हैं। नेल्लोर और विशाखापत्तनम जैसे शहरो से यहाँ दिन हो या रात नियमित बस संचालित होती हैं। उसके अलावा यात्री टैक्सी या कैब  पसंद कर सकते हैं। जिससे मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग पहुँच सकते है।

फ्लाइट से श्रीशैलम मंदिर कैसे पहुंचे

How To Reach Srisailam Temple By Flight – अगर पर्यटक मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग  के लिए हवाई मार्ग को पसंद करता है। तो श्रीशैलम के लिए उड़ानें सीधे उपलब्ध हैं। मगर उड़ानें नियमित उपलब्ध नहीं हैं। श्रीशैलम में  हवाई अड्डा नहीं है। लेकिन उसका निकटतम हवाई अड्डा बेगमपेट हवाई अड्डा है। वहा से आप स्थानीय साधनों की मदद से मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग पहुँच सकते है।

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर की फोटो गैलरी
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी जानिए – मुरुदेश्वर मंदिर का इतिहास और दर्शन की जानकारी

Srisailam Temple Map श्रीशैलम मंदिर का लोकेशन

Srisailam Temple In Hindi Video

Interesting Facts Of Srisailam Temple

  • यहाँ यात्री सिखराम, साक्षी गणेश मंदिर, पंचमथम और श्रीसिलम बांध को देख सकते हैं।
  • श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर के पीठासीन देवता की पूजा चमेली द्वारा की जाती थी
  • मंदिर के लिंग को मल्लिकार्जुन कहा जाता था क्योंकि चमेली का स्थानीय नाम मल्लिका है।
  • श्रीशैलम मंदिर के स्थान पर स्थापित पांच शिव लिंग पांडवों ने स्थापित किए हैं।
  • यह मंदिर में शिव जी की पूजा वृद्ध मल्लिकार्जुन स्वामी के रूप में की जाती है।
  • मंदिर का इतिहास इक्ष्वाकु, विष्णुकुंडी, पल्लव, सातवाहन, काकतीय, चालुक्य, रेड्डी राजा और विजयनगर सम्राट से मिलता हैं।
  • नल्लामलाई पहाड़ियों पर स्थित यह स्थान से परिवेश का भव्य दृश्य देख सकते हैं।
  • श्रीशैलम ज्योतिर्लिंग मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग के नाम से भी प्रसिद्ध है।

FAQ

Q .श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर कहां पर है?

श्रीशैलम मंदिर भारत के आन्ध्र प्रदेश राज्य में श्रीशैलम पर्वत पर स्थित हैं।

Q .श्रीशैलम मंदिर की स्थापना कैसे हुई?

स्वामी कार्तिकेय माता पिता से रूठ गए और कौंच पर्वत पर चले तब से श्रीशैलम मंदिर की स्थापना हुई।

Q .श्रीशैलम का दूसरा नाम क्या है?

श्रीशैलम का दूसरा नाम श्री शैल है।

Q .श्रीशैलम मंदिर कौन से राज्य में स्थित है?

आंध्र प्रदेश

Q .श्रीशैलम मंदिर कहां पर है?

श्रीशैलम मंदिर भारत के आन्ध्र प्रदेश राज्य में श्रीशैलम पर्वत पर स्थित हैं।

Q .हैदराबाद से श्रीशैलम मंदिर की दूरी कितनी है?

हैदराबाद से श्रीशैलम मंदिर की दूरी लगभग 215 किलोमीटर हैं।

Conclusion

आपको मेरा Srisailam Temple In Hindi आर्टिकल बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Srisailam temple open, Srisailam temple darshan tickets price

और Srisailam temple location से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Srisailam temple website की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Srisailam temple timings today, Srisailam temple open or not today, Srisailam temple news today live, Srisailam temple online booking, Srisailam temple today news, Srisailam temple timings online ticket booking, Srisailam temple timings in lockdown, तिरुपति से मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग की दूरी, श्रीशैलम मंदिर निकटतम रेलवे स्टेशन, श्रीशैलम बांध किस राज्य में है, श्रीशैलम में पर्यटन स्थल, मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग कहां है, हैदराबाद से श्रीशैलम कैसे जाएं, हैदराबाद से श्रीशैलम की दूरी, हैदराबाद से मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग की दूरी, मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – लोधी गार्डन दिल्ली का इतिहास और उसके पर्यटन स्थल

Leave a Comment

Your email address will not be published.