Simhachalam Temple History In HIndi

Simhachalam Temple History In HIndi | सिंहचलम मंदिर का इतिहास

नमस्कार दोस्तों Simhachalam Temple In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम विशाखापत्तनम शहर में स्थित सिंहचलम मंदिर का इतिहास और जानकारी बताने वाले है। यहाँ के सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक यह एक अलंकृत मंदिर भगवान नरसिंह को समर्पित है, जो स्वयं विष्णु के अवतार हैं।मंदिर समुद्र तल से 800 मीटर ऊपर एक पहाड़ी के ऊपर स्थित और पत्थर की नक्काशी और डिजाइन से अलंकृत है। उसको पर्यटक दूर से ही देख सकते है। यह देश का एकमात्र मंदिर है जहां श्री वराह लक्ष्मी नरसिम्हा स्वामी जो भगवान विष्णु के तीसरे और चौथे अवतार के संयोजन में प्रकट होते हैं। यहां भगवान नरसिंह त्रिभंग मुद्रा में प्रकट मानव धड़ पर शेर के सिर के साथ हैं।

सिंहचलम मंदिर में सख्त अनुशासन का पालन होता है। श्री सिंहाचलम मंदिर में हररोज विस्तृत प्रार्थना दिनचर्या है। वह तीर्थयात्रियों की आमद पर निर्भर नहीं है। यह स्थान पारंपरिक वैष्णव संस्कृति का खजाना है। यात्री मंदिर की दिनचर्या उसके शिलालेखों में अध्ययन कर सकते हैं। मंदिर में अक्षय तृतीया के दिन देवता की मूर्ति प्रति वर्ष सिर्फ 12 घंटे ही वास्तविक रूप में प्रकट होती है। सामान्य अवसर पर मूर्ति को चंदन के लेप से ढक दिया जाता है। सिंहाचलम मंदिर समृद्ध इतिहास और मजबूत पारंपरिक मूल्यों के कारण कुचिमांची तिम्मा कवि और आदिदम सुरा कवि जैसे कवियों के लिए भी प्रेरणा का स्रोत रहा है।

Best Time To Visit Visakhapatnam

विशाखापट्टनम शहर में घूमने जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च महीने के बीच होता है। सर्दियां होने के कारण उस मौसम में यहां का तापमान 15 से 27 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। उसके कारण पर्यटकों को घूमने में बहुत आसानी रहती है। मॉनसून यानि जुलाई से सितंबर महीने के बीच यहां बहुत बारिश होती है। उसके कारन उस मौसम में यहाँ घूमने लायक नहीं होता है। गर्मियों यानि अप्रैल से जुलाई के महीनों में यहाँ का तापमान 22 से 41 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। गर्म मौसम होने के कारण उस समय कम पर्यटक आते हैं।

Simhachalam Temple Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – जामा मस्जिद दिल्ही का इतिहास और जानकारी

Simhachalam Temple History In HIndi

सिंहचलम मंदिर का इतिहास देखे तो सिंहचलम मंदिर कब निर्मित हुआ उसकी परफेक्ट जानकारी नहीं है। मगर चोल राजा कुल्लोटुंग- I के राज्य के संबंधित 1098-1099 ईस्वी के ग्रंथ शामिल हैं। दूसरे प्राचीन पाठ में कलिंग की पूर्वी गंगा की एक रानी को छवि को कवर करते हुए दिखाया है। और दूसरे एक शिलालेख से पता चलता है। कि उड़ीसा के पूर्वी गंगा राजा नरसिंह देव ने 1267 ईस्वी के आसपास मुख्य गर्भगृह का निर्माण किया था। उड़िया और तेलुगु में 252 ग्रंथों में सिंहचलम मंदिर के पूर्ववर्तियों का वर्णन किया गया है।

उसके शक्तिशाली अग्रभाग के निर्माण को स्पष्ट रूप से एक इकाई के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। ऐसा माना जाता है कि उड़ीसा के गजपति शासक गजपति प्रतापरुद्र देव को दो अलग-अलग खातों में हराने के बाद श्री कृष्णदेव राय ने 1516 ईस्वी और 1519 ईस्वी के आसपास दो बार मंदिर का दौरा किया था। सिंहाचलम मंदिर में अभी भी विजयनगर साम्राज्य के श्री कृष्ण देवराय द्वारा छोड़े गए शिलालेख मौजूद हैं।

सिंहचलम मंदिर का इतिहास

Architecture of Simhachalam Temple

सिंहचलम मंदिर में एक वर्गाकार गर्भगृह जो एक मीनार से घिरा हुआ है। उसके सामने एक बरामदा है उसके ऊपर एक छोटा मीनार है। एक सोलह स्तंभों वाला मंडपम है। यह बरामदा है, जो सभी काले ग्रेनाइट से बना है, जो फूलों के अलंकरण और वैष्णव पुराणों के दृश्यों के पारंपरिक डिजाइनों से बनाया गया है। बरामदे में घोड़े से चलने वाले रथ की मूर्ति दिखाई देती है। भीतरी घेरे के बाहर अद्भुत नाट्यमंडपम है। वहाँ भगवान के विवाह संस्कार किए जाते हैं। यह सोलह पंक्तियों में व्यवस्थित 96 काले पत्थर के स्तंभों से समर्थित है। उस प्रत्येक में अद्वितीय और आश्चर्यजनक पत्थर की नक्काशी दिखती है। प्राचीन चमत्कार वाला मंदिर स्थापत्य शैली के लिए देखने योग्य है।

Simhachalam Temple Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – इंदरगढ़ के बिजासन माता मंदिर की जानकारी

Legend of Simhachalam Temple

सिंहचलम मंदिर की कथा और कहानी की बात करे तो वह हिरणकश्यप और प्रहलाद की कहानी पर आधारित है। राक्षस राजा हिरण्यकश्यप और हिरण्याक्ष राक्षस भगवान विष्णु का विरोधी था। हिरण्याक्ष ने पृथ्वी को जब्त कर लिया और निचले विस्तार में ले गया वहाँ विष्णु ने हिरण्याक्ष को मार के वराह रूप में पृथ्वी को बचाया था। अपने भाई को मरदेने से हिरणकश्यप को क्रोधित हो गया और भगवान विष्णु को मारने की कसम खाई थी। उसके बाद हिरण्यकश्यप ने भगवान ब्रह्मा की प्रार्थना की और वरदान प्राप्त किया था।

उसमे उसने दिन या रात, या तो सुबह या रात, और या तो मानव या जानवर से मृत्यु सुरक्षित मांग ली थी। हिरणकश्यप का पुत्र प्रहलाद विष्णु भगवान का भक्त था। उस कारन राक्षस राजा ने विष्णु को मारने के लिए प्रहलाद को सिम्हाद्री पहाड़ी से धकेल दिया था। तब यहाँ भगवान नरसिंह प्रकट हुए और प्रहलाद को बचाते हुए हिरणकश्यप को मार डाला और उसका अत्याचार समाप्त किया था। उसके बाद भक्त प्रहलाद ने भगवान नरसिंह को समर्पित सिंहचलम मंदिर का निर्माण किया था।

Akshaya Tritiya at Simhachalam Temple

सिंहाचलम मंदिर में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक अक्षय तृतीया यानी चंदनोत्सव है। उसको चंदन यात्रा भी कहते है। उस दिन भगवान नरसिंह की मूर्ति को ढकने वाले चंदन के पेस्ट को हटा दिया जाता है। और देवता अपने भक्तों को अपने मूल रूप में 12 घंटे के समय तक प्रकट होते हैं। उस त्योहार की तैयारी में वैशाख, ज्येष्ठ और आषाढ़ महीने की पूर्णिमा के दिन मूर्ति पर चंदन का लेप लगाते है। अक्षय तृतीया के दिन सुबह 4 बजे नरसिंह की मूर्ति को ढंकने वाला चंदन हटाते है।

उसके बाद प्रार्थना और अभिषेक सुबह 6 बजे होता है। उस समय भक्तों को गर्भगृह में प्रवेश करने और भगवान के दर्शन की अनुमति दी जाती है। उसके बाद शाम के समय चंदनाभिषेक यानि चंदन के पाउडर के साथ मिश्रित पानी से अभिषेक करते है। और सहस्रकलासभिषेक यानि हजार धातु के बर्तनों के पानी से अभिषेक से स्नान करवाया जाता हैं। भगवान नरसिंह को तीन प्रकार के प्रसाद चढ़ाए जाते हैं।

सिंहचलम मंदिर फोटो

इसके बारेमे भी पढ़िए – ज्वालादेवी मंदिर का इतिहास और जानकारी

How To Reach Simhachalam Temple

सिंहचलम मंदिर से नियमित रूप से बसें चलती हैं। यह गंतव्य तक पहुंचने के लिए सड़कमार्ग बहुत अच्छे से देखने मिलती हैं। यदि आप वाल्टेयर रेलवे स्टेशन पर हैं, तो आप बस संख्या 6ए से सिंहचलम जा सकते हैं। आप मंदिर तक पहुंचने के लिए आप कैब भी किराए पर ले सकते हैं। राजधानी क्षेत्र होने के कारण विशाखापट्टनम काफी विकसित है। और यहां देश के हर स्थल से आने के लिए विभिन्न तरह के विकल्प एवं साधन मौजूद हैं। विशाखापत्तनम हवाई अड्डा शहर के केंद्र से 8 किमी दूर है। विशाखापत्तनम का रेलवे स्टेशन 12 किमी दूर है।

Tourist Places Of Visakhapatnam

  • कैलाशगिरी (Kailasagiri)
  • बोर्रा गुफा (Borra Caves)
  • कटिकी झरना (Katiki Waterfalls)
  • यारदा बीच (Yarada Beach)
  • सबमैरिन म्यूजियम (Submarine Museum)
  • मत्यादर्शिनी एक्वेरियम (Matsyadarshini Aquarium)
  • इंदिरा गांधी प्राणी उद्यान (Indira Gandhi Zoological Park)
  • वुडा पार्क (VUDA Park)
  • डॉल्फिन नोज (Dolphin’s Nose)
  • श्री वेंकटेश्वर स्वामी कोंडा (Sri Venkateswara Swamy Konda)
  • काली मंदिर (Kali Temple)
  • रॉस हिल (Ross Hill)
  • अनंतगिरी घाटी (Ananthagiri Ghati)
  • थोट्लाकोंडा (Thotlakonda)
सिंहचलम मंदिर की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – मसूरी की यात्रा और पर्यटन स्थल की जानकारी

Simhachalam Temple Map सिंहचलम मंदिर का लोकेशन

Simhachalam Temple Information In Hindi Video

Interesting Facts

  • सिंहचलम मंदिर दक्षिण भारत के आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम शहर के पास सिंहाचलम पहाड़ी पर स्थित है।
  • यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित 32 मंदिरों में से एक प्रमुख मंदिर है।
  • सिंहाचलम मंदिर भगवान विष्णु के नवें अवतार भगवान नरसिंह को समर्पित है।
  • श्री वराह लक्ष्मी नरसिम्हा स्वामी मंदिर भगवान विष्णु के भक्तों के बीच लोकप्रिय है। 
  • मंदिर की वास्तुकला कलिंग वास्तुकला, चालुक्य, काकतीय और चोलों की शैलियों का मिश्रण है।
  • सिंहचलम मंदिर की कथा हिरणकश्यप और प्रहलाद की कहानी पर आधारित है।
  • भक्त प्रहलाद ने भगवान नरसिंह को समर्पित सिंहचलम मंदिर का निर्माण किया था। 

FAQ

Q .सिंहाचलम मंदिर क्यों प्रसिद्ध है?

सिंहाचलम मंदिर में विष्णु के रूप में वराह नरसिंह विराजमान है। 

Q .मैं सिंहाचलम मंदिर में शादी कैसे कर सकता हूं?

सिंहाचलम मंदिर में विवाह करने वालों को विवाह प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है। 

Q .क्या सिंहाचलम मंदिर में जींस की अनुमति है?

सिंहाचलम मंदिर जाने के लिए कोई ड्रेस कोड नहीं है।

Q .सिंहचलम दर्शन टिकट कैसे बुक कर सकता हूं?

पर्यटक UPI आईडी: [email protected] या खाता 050810011009376 (IFSC कोड: ANDB0000508) पर प्रवेश शुल्क का भुगतान कर टिकट बुक कर सकते हैं। 

Q .भगवान लक्ष्मी नरसिम्हा कौन हैं?

भगवान लक्ष्मी नरसिम्हा हिंदू भगवान विष्णु का एक अवतार है। 

Conclusion

आपको मेरा लेख Simhachalam Temple History In HIndi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Simhachalam temple steps, Simhachalam temple distance

और Simhachalam devasthanam official website से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Simhachalam temple online booking की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Simhachalam temple timings today, Annavaram temple, Tirupati temple, Simhachalam temple timings covid-19, Sri Varahalakshmi Narasimha Swamy Vari Devasthanam, varaha lakshmi narasimha temple, simhachalam, simhachalam temple darshan timings, सिंहाचलम मंदिर in hindi, simhachalam temple history in telugu language, simhachalam temple history in telugu, वराह लक्ष्मी नरसिम्हा मंदिर, सिंहचलम

इसके बारेमे भी पढ़िए – आभानेरी चांद बावड़ी का इतिहास और जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.