Sikkim Tourism (Sikkim Travel Guide) in Hindi

Sikkim Tourism (Sikkim Travel Guide) in Hindi | सिक्किम यात्रा और घुमाने की जानकारी

नमस्कार दोस्तों Sikkim Travel Guide (Sikkim Tourism) in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम सिक्किम यात्रा और घुमाने की जानकारी बताने वाले है। सिक्किम राज्य अपने जानवरों, पौधों, नदियों, पहाड़ों, झरनों और झीलों के लिए प्रसिद्ध है। यह भारत देश का बहुत ही खूबसूरत और एक नन्हा सा राज्य है। सिक्किम राज्य में कई पहाड़ी जगह स्थित है। उस पहाड़ियों की उचाई 280 मीटर से 8,585 मीटर की है। सिक्किम का सबसे उंची चोटी बिंदु माउंट कंचनजंगा जो पृथ्वी की तीसरी सबसे ऊँची चोटी कही जाती है।

सिक्किम का छोटा और सुंदर राज्य तिब्बत के दक्षिण में स्थित है। जो पश्चिम में नेपाल और पूर्व में भूटान के बीच स्थित है। 115 किमी से सिर्फ 65 किमी की दूरी पर, इसका परिदृश्य समुद्र तल से सिर्फ 300 मीटर ऊपर गहरी घाटियों से लेकर कंचनजंगा जैसी ऊंची बर्फीली चोटियों तक है। उसकी ऊबड़-खाबड़ और खूबसूरत हिमालयी जंगल में टेढ़ी-मेढ़ी सड़कों का एक छोटा लेकिन बढ़ता हुआ जाल घुस जाता है। आज हम Information About Sikkim In Hindi में सिक्किम यात्रा करने की सम्पूर्ण जानकारी बताने वाले है।

Sikkim History In Hindi

सिक्किम पर पहले अधिपत्य ज़माने वाली पहली प्रजाति लेप्चा थी। क्योकि उनके सांस्कृतिक लक्षण, पोशाक और परिवार के मानदंड मेघालय की खासियतो के साथ घनिष्ठ संबंध रखते हैं। उसकी भाषाए उत्तरी मणिपुर के तंगकुल नागा के साथ मिलती है। उसके तिहासिक अभिलेखों में बौद्ध संत पद्मसंभव के 8वीं शताब्दी ईस्वी में सिक्किम के माध्यम से पारित होने का उल्लेख है। गुरु पद्मसंभव, जिन्हें गुरु रिम्पोचे के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने बौद्ध धर्म की शुरुआत की और भविष्यवाणी की कि एक सदी बाद राजशाही का युग आएगा ऐसा कहा था।

Sikkim Images
Sikkim Images

1642 से 1975 तक सिक्किम में नामग्याल-चोग्याल वंश के अधीन एक बौद्ध साम्राज्य था। कई समय यह छोटे से राज्य को नेपाल के हमलों को सहना पड़ा है। 1835 में दार्जिलिंग का क्षेत्र उस समय सिक्किम का हिस्सा था। उस पर ब्रिटिश सरकार ने कब्जा कर लिया था। सिक्किम मे पहले ब्रिटिश सरकार और 1947 में भारत की आजादी के बाद अलग देश था। भारत की आजादी के 28 साल बाद 26 अप्रैल 1975 में सिक्किम को भारत का 22 वां राज्य बनाया गया ।

सिक्किम घूमने का सबसे अच्छा समय

पर्यटकों सिक्किम में कोई भी समय जा सकते है। लेकिन सबसे अच्छा समय मई से सितंबर होता है। क्योकि उस समय में यहाँ का तापमान 28-30 डिग्री के बीच होता है। और उसकी वजह से सिक्किम का मौसम ठंडा रहता है। और कंचनजंगा के दृश्य और आसमान साफ होता है। मानसून के मौसम में यानि जून से सितंबर तक सड़क की स्थिति खराब हो जाती है। और भूस्खलन होना आम बात है। सर्दियों के मौसम में यहां का तापमान शून्य तक गिर जाता है। इसीलिए उस समय यात्रा बहुत कठिन होती है।

Sikkim Tourism Images
Sikkim Tourism Images

सिक्किम की वेशभूषा Sikkim Tourism

भारत का सिक्किम एक अलग राज्य होने के कारण उसके पारंपरिक पोशाक उपन्यास भारत के सभी राज्यों से बहुत ही अलग है। सिक्किम राज्य में लेप्चा, भूटिया और नेपाली तीन का पहनावा अलग-अलग हैं। लेप्चा समुदाय की महिलाओं के लिए पारंपरिक पोशाक में डुमवम, टैगो(एक ढीला ब्लाउज), न्याम्रेक या बेल्ट और तारो है। लेप्चा प्रजाति की महिलाएं लयक, ग्यार, नामचोक, जैसे आभूषण पहनती हैं। वैसे भूटिया प्रजाति की महिलाएं खो या बाखू, रेशमी कपड़े, हंजु, कुशन, शबचू एक पूरी आस्तीन का ब्लाउज और शंबो पहनती हैं। यह समुदाय के आभूषण ज्यादातर शुद्ध सोने से बने होते हैं।

नेपाली महिलाएं फरिया ज्यादा पहनती और साथ में चौबंदी चोलो (ढीले ब्लाउज )के साथ साड़ी पहनती हैं। लेप्चा समुदाय में पुरुषों की वेशभूषा को थोको-दम कहते हैं। उसमे एक सफेद पजामा, येंथेट और शंबो होता हैं। भूटिया की पारंपरिक पोशाक एक खो या बाखू है। भूटिया प्रजाति के पुरुष जया जया, केरा, शंबो और येन्हत्से पहनते हैं। सिक्किम के नेपाली पुरुष संस्कृति और परंपरा का पालन करते हैं। और दउरा, आसकोट, पटुक और शौरवल पहनते हैं।

Sikkim Tourism Photos
Sikkim Tourism Photos

Geography Of Sikkim

सिक्किम पूर्वी हिमालय में पश्चिम में नेपाल, उत्तर में तिब्बत, पूर्व में भूटान और दक्षिण में पश्चिम बंगाल की सीमाओं को कवर करती है। तीस्ता और रंगीत सिक्किम की नदिया और विश्व की तीसरी सबसे उंचीचोटी कंचनजंगा  भी सिक्किम में ही स्थित है। यह स्थल पूर्व, पश्चिमी और उत्तरी सीमाएं हिमालय पर्वत से घिरी है। सर्दियों के मौसम में पर्यटकों को बर्फ से ढके पहाड़ों देखने को मिलते है। उसके साथ अगर आप गर्मियों के मौसम विजिट करते है। तो आपको हरियाली और प्राकृति के नयनरम्य दृश्य देख सकते है।

Adventures In Sikkim Tourism

पर्यटन स्थल ट्रेक प्रेमियों के लिए स्वर्ग के समान सिक्किम एक ऐसा राज्य है। जिस स्थल पर प्राकृतिक सुन्दरता और अनोखी संस्कृति के दृश्यों के साथ कई प्रकार के रोमांचकारी एडवेंचर भी मौजूद है। यहां का गोइचला ट्रेक सबसे अच्छा है। उसमे आपको घने जंगलों और सुरम्य घास के मैदानों के माध्यम से होकर चलना होता। सिक्किम की तीस्ता नदी में रिवर राफ्टिंग एक बेहतरीन गतिविधि है। जो आपको एक यादगार यात्रा का अनुभव दे सकती है।

राज्य सिक्किम की त्सोंगमो झील के नजदीक याक की सवारी भी पर्यटकों के लिए एक अच्छा विकल्प है। उसमे आपको याक ऊनी कपड़ों से ढंके मिलते हैं। और उनके गले में घंटियाँ और तार लटकाए होते हैं। उसके अलावा आप गंगटोक से रंगपो तक का बाइकिंग मार्ग भी ले सकते है। जिसमे हरियाली के साथ सुंदर परिदृश्य को ऊंचे पहाड़ों से देख कर आप आनंद ले सकते है।

सिक्किम यात्रा की फोटो
सिक्किम यात्रा की फोटो

सिक्किम के प्रमुख त्यौहार

Losar Festival लोसार महोत्सव

तिब्बती नव वर्ष के रूप में लोसार का त्यौहार मनाया जाता है। यह लोसर महोत्सव फरवरी में भव्य मठ नृत्यों के साथ मनाया जाता है। उस समय उत्सव में याक नृत्य बहुत लोकप्रिय है उसके साथ जुलूस भी निकते है।

Losung Festival लॉसंग फेस्टिवल

लॉसंग फेस्टिवल या Losoong Festival सिक्किम का एक प्रमुख त्यौहार है। जो दिसंबर के महीने में मनाया जाता है। फसल के अंत में एव साल के दसवें महीने के अंत में तिब्बती कैलेंडर के मुताबिक मनाया जाता है। उसमे यहाँ के लोग अच्छी फसल एव नए साल में अच्छी संभावनाओं के लिए भगवान को प्रार्थना करते हैं। लोसुंग का त्यौहार मौसम के अंत का प्रतीक और उसमे नकाबपोश नृत्य, या चाम, विभिन्न मठों में आयोजित होते है।

सिक्किम यात्रा और घुमाने की जानकारी
सिक्किम यात्रा और घुमाने की जानकारी

Pang Lhabsol पंग ल्हबसोल

भारत के स्वतंत्रता दिवस के रूप में पंग ल्हबसोल को मनाया जाता है। यह बहुत ही लोकप्रिय त्यौहार है। और यह महोत्सव में लोग भगवान से भारत देश और सिक्किम के अच्छे के लिए प्रार्थना करते है।

Bumchu Festival बुमचू महोत्सव 

रवरी/मार्च महीने में लोग लामा ताशीदिंग में इकट्ठा होते हैं। और पवित्र जल से भरा एक बर्तन खोला जाता है। उससे जांच की जाती है।  जल स्तर राज्य के भविष्य को इंगित करता है।

Lhabab Dheuchen Festival ल्हाब ढेचेन फेस्टिवल 

भगवान बुद्ध की स्वर्गवासी माता की शिक्षा के बारे उनके वंश का प्रतिनिधित्व करती है। ल्हाब ढेचेन फेस्टिवल को बौद्ध धर्म के लोग सिक्किम में यह उत्सव को बहुत ही हर्ष और उल्लास के साथ मनाते हैं।

Sikkim Tourism Stock Photos
Sikkim Tourism Stock Photos

सिक्किम का खाना Food and drink in Sikkim

सिक्किमी भोजन नेपाली, तिब्बती और भारतीय भोजनो का मेल है। यहाँ चावल मुख्य है, जिसे दाल, वन सब्जियों और अचार के साथ खाया जाता है। जिसमें बेहद गर्म, दमकल-लाल मिर्च का अचार भी शामिल है। चुरपी, एक ताजा गाय के दूध का पनीर, आमतौर पर निंग्रो नामक फर्न के साथ बनाया जाता है। ग्याखो एक पारंपरिक चिमनी स्टू है जिसे विशेष अवसरों पर परोसा जाता है। चिकन, सूअर का मांस और बीफ व्यंजन के साथ, ग्लास नूडल्स, बिछुआ सूप, गुंड्रुक, ग्याथुक और स्थानीय जड़ी बूटियों के साथ सूप विशेषताएं हैं। गंगटोक में रेस्तरां शराब परोसते हैं। हिट एंड डांसबर्ग स्थानीय सिक्किमी बियर ब्रांड हैं।

Permits for travelling in Sikkim Tourism

यात्री को सिक्किम में यात्रा के लिए परमिट जरुरी है। विदेशियों को सिक्किम जाने के लिए एक प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट आरएपी; जिसे पहले इनर लाइन परमिट या आईएलपी प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। परमिट अब sikk.imilp.in पर ऑनलाइन प्राप्त किए जा सकते हैं। या आपके भारतीय वीज़ा के साथ अग्रिम रूप से प्राप्त किए जा सकते हैं, लेकिन विदेशों में एजेंसियां ​​अत्यधिक शुल्क लेती हैं, इसलिए इससे बचा जाना चाहिए। यदि भारत के भीतर प्राप्त किया जाता है, तो सिक्किम परमिट निःशुल्क हैं।

सिक्किम की फोटो गैलरी
सिक्किम की फोटो गैलरी

सिक्किम के प्रमुख पर्यटक स्थल Sikkim Tourism

  • Gangtok – गंगटोक
  • Yuksom – युक्सोम
  • Tsomo Lake – त्सोमो झील
  • Nathu La Pass – नाथुला पास
  • Yumthang Valley, North Sikkim – युमथांग घाटी उत्तरी सिक्किम
  • Zuluk – जूलुक
  • Pelling, West Sikkim – पेलिंग, वेस्ट सिक्किम
  • Rumtek Monastery – रुमटेक मठ
  • Lachen, North Sikkim – लाचेन, उत्तर सिक्किम
  • Gurudongmar Lake – गुरुडोंगमार झील
  • Lachung, North Sikkim – लाचुंग, उत्तर सिक्किम
  • Ravangala – रवांगला
  • Kanchenjunga National Park – कंचनजंगा राष्ट्रीय उद्यान
  • Goecha La, West Sikkim – गोइचा ला, पश्चिम सिक्किम
  • Aritar East sikkim – अरितार पूर्वी सिक्किम
  • Cholamu Lake, North Sikkim – चोलमू झील, उत्तर सिक्किम
  • Thangu Valley, North Sikkim – थांगू घाटी, उत्तरी सिक्किम
  • Namchi, South Sikkim – नामची, दक्षिण सिक्किम
  • Geyzing, West Sikkim – गीज़िंग, वेस्ट सिक्किम
  • Dzongri-Goecha La Trek Dzongri – गोएचा ला ट्रेक

    सिक्किम की फोटो
    सिक्किम की फोटो

सिक्किम कैसे पहुँचे Sikkim Tourism

ट्रेन से सिक्किम कैसे पहुँचे

ट्रेनों से सिक्किम की यात्रा करने वाले लोग न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन तक अपना टिकट बुक कर सकते हैं। जो राजधानी गंगटोक से लगभग 120 किमी दूर है। गंतव्य को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने वाले मार्ग पर कई ट्रेनें चलती हैं। कोलकाता, दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, बेंगलुरु और कोच्चि जैसे प्रमुख भारतीय शहरों से नियमित ट्रेनें उपलब्ध हैं। गंगटोक के लिए कैब और बसें रेलवे स्टेशन के बाहर से आसानी से उपलब्ध हैं।

सड़क मार्ग से सिक्किम कैसे पहुँचे

सिक्किम की राजधानी गंगटोक, दार्जिलिंग (96 किमी), सिलीगुड़ी (118 किमी) और कलिम्पोंग (75 किमी) सहित पड़ोसी और आस-पास के शहरों के साथ अद्भुत सड़क संपर्क है। गंगटोक के लिए सिलीगुड़ी, दार्जिलिंग, कलिम्पोंग और कुर्सेओंग से लक्जरी और रोडवेज और राज्य द्वारा संचालित बसें आसानी से प्राप्त की जा सकती हैं। हालाँकि बसों में थोड़ा अधिक समय लगता है। लेकिन आपको यात्रा पर पछतावा नहीं होगा क्योंकि सड़कें बिल्कुल सुंदर और सुंदर हैं। इसके अलावा, बसें किफायती भी हैं।

हवाई जहाज से सिक्किम कैसे पहुंचे

गंगटोक से लगभग 125 किमी दूर बागडोगरा हवाई अड्डा है। जो सिक्किम की राजधानी के सबसे नजदीक है। इंडिगो, एयर इंडिया, जेट एयरवेज, एयरएशिया इंडिया, गोएयर और स्पाइसजेट जैसी कई एयरलाइंस गंगटोक के लिए दिल्ली, चेन्नई, बैंगलोर, गुवाहाटी और कोलकाता सहित प्रमुख भारतीय शहरों से नियमित उड़ानें संचालित करती हैं। एक बार जब आप हवाई अड्डे के बाहर पहुँच जाते हैं, तो आप गंगटोक पहुँचने के लिए टैक्सी या कैब किराए पर ले सकते हैं।

Sikkim Location सिक्किम का मैप

Sikkim Travel Guide in Hindi Video

Interesting Facts of Sikkim Tourism

  • भारत का दूसरा सबसे छोटा राज्य सिक्किम सबसे खूबसूरत राज्यों में से एक है।
  • सिक्किम के पर्यटक स्थल देश विदश के पर्यटको के लिए आकर्षण का केंद्र है।
  • हिमालय के पूर्वी में स्थित सिक्किम एक खुबसूरत पिकनिक पोइट है।
  • सिक्किम राज्य के कई नाम हैं। लेप्चाओं के द्वारा उसे न्ये-माए-एल कहा जाता है।
  • गंगटोक शहर सिक्किम राज्य का सबसे बड़ा और खूबसूरत शहर है।
  • सिक्किम में छुट्टियाँ बिताना एक अद्भुत और रोमांचकारी अनुभव हो सकता है।
  • 26 अप्रैल 1975 में सिक्किम को भारत का 22 वां राज्य बना दिया गया था।
  • सिक्किम को सुन्दर स्थल, बर्फ से ढके पहाड़, रंग बिरंगे मैदान के कारन जन्नत कहते है।
  • सिक्किम पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण सिक्किम नाम के चार विभागों में बंटा है।
  • आपको सिक्किम की प्राक्रतिक और रहस्यवादी सुंदरता जरूर देखनी चाहिए है।

Sikkim Tourism FAQ

Q : सिक्किम में क्या मशहूर है?

वॉटर फॉल्स, जंगल, बुद्धिस्ट गोम्पा, ऊंचे पहाड़ों पर स्थित घास के मैदान फूलों की वरायटी के लिए मशहूर है।

Q : सिक्किम में क्या चीज फेमस है?

मंगन, गुरूडोंगमर झील, लाचुंग गांव, युमथांग घाटी, लाचेन गांव, थांगू घाटी, चोपता घाटी और चुंगथांग फेमस है। 

Q : सिक्किम में कैसे कपड़े पहने जाते हैं?

सिक्किम राज्य में लेप्चा, भूटिया और नेपाली तीनो प्रजाति का पहनावा अलग-अलग हैं।

Q : सिक्किम में कौन कौन से खेल खेले जाते हैं?

बैडमिंटन, बिलियर्ड्स और स्नूकर, मुक्केबाज़ी, कैरम, शतरंज, टेबल टेनिस और कुश्ती के खेल होते है। 

Q : सिक्किम की राजभाषा क्या है?

नेपाली सिक्किम का प्रमुख भाषा है।

Q : सिक्किम में कौन कौन सी भाषाएं बोली जाती हैं?

सिक्किम में गारो, गुरुंग, खासी, कोक बोरोक, लेप्चा, लिंबू, मंगर और मिज़ो भाषाएं बोली जाती हैं

Conclusion

आपको मेरा Sikkim Tourism (Sikkim Travel Guide) बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Tourism in sikkim और सूर्य मंदिर राजस्थान

Sikkim tourism places से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

Note

आपके पास Sikkim tour packages या सिक्किम पर्यटन की कोई जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

इसके बारेमे भी जानिए –

चेरापूंजी के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

कोणार्क सूर्य मंदिर का इतिहास और उसके नजदीकी पर्यटक स्थल

गणेश चतुर्थी की पूजा और उत्सव का इतिहास

लेह लद्दाख घूमने के बेस्ट पर्यटन स्थल

हरिश्चंद्रगढ़ किले का इतिहास और जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *