Salar Jung Museum Hyderabad In Hindi

Salar Jung Museum Hyderabad In Hindi | सालारजंग संग्रहालय हैदराबाद

नमस्कार दोस्तों Salar Jung Museum In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम हैदराबाद में देखने की जगह सालारजंग म्यूजियम का इतिहास और जानकारी बताने वाले है। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में सालारजंग म्यूजियम एक कला संग्रहालय है। मुसी नदी के तट पर एक अवशेष, सालार जंग संग्रहालय दारुशिफा में स्थित देश के तीन राष्ट्रीय संग्रहालयों में से एक है। एव 10 एकड़ और 2 मंजिलों में सबसे बड़े संग्रहालयों में से एक है। सालार जंग संग्रहालय के अंदर संग्रह का स्वामित्व मीर यूसुफ अली खान के पास है। 

सालार जंग दस लाख से अधिक चित्रों, मूर्तियों, नक्काशी, पांडुलिपियों और कलाकृतियों के साथ, संग्रहालय कला संग्रहों का भंडार है। संग्रहालय में कुछ मूल्यवान और दुर्लभ टुकड़े देखने को मिलते हैं। यहाँ राजा राम मोहन राय की एक पेंटिंग, औरंगजेब की तलवार, खंजर जो शाहजहाँ, जहाँगीर और टीपू सुल्तान की पूरी अलमारी से संबंधित थे। संग्रहालय में कई बेशकीमती मूर्तियां हैं। उसमे वील्ड रेबेका, डबल स्टैच्यू ऑफ मेफिस्टोफेल्स और मार्गरेटा एव संग्रहालय का सबसे बड़ा आकर्षण संगीत की घड़ी है। उसमे 19वीं शताब्दी और 350 से अधिक भाग हैं।

History of Salar Jung Museum

सालार जंग संग्रहालय का इतिहास देखे तो वह संग्रह नवाब मीर यूसुफ अली खान सालार जंग III से संग्रहित किए गए थे। जो हैदराबाद के सातवें निजाम के पूर्व प्रधान मंत्री हुआ करते थे। उन्होंने पैंतीस वर्षों में अपने आय का सारा पैसा विभिन्न सभ्यताओं से संबंधित चीजों का अमूल्य संग्रह करने के लिए खर्च किया गया था। यूसुफ अली खान ने दुर्लभ और कीमती कला वस्तुओं को इकट्ठा करने के प्रतिष्ठित पद को भी त्याग दिया था। उसके पुश्तैनी महल में छोड़े गए संग्रह को 1951 में जवाहर लाल नेहरू ने उद्घाटन किया था। 

नवाब मीर यूसुफ अली खान के निधन के दिन उसके सम्मान के रूप में घोषित किया था। ऐसा कहा जाता है कि आज का संग्रह सालार जंग III के मूल संग्रह का सिर्फ आधा हिस्सा है। 1968 में संग्रहालय अफजलगंज में अपने आज के स्थान पर स्थानांतरित किया गया था। बीसवीं सताब्दी के समय पर संग्रहालय परिसर में दो और संरचनाओं को बनाया गया था। सालार जंग संग्रहालय आज ऐतिहासिक और संग्रहालय संबंधी संगठनों जैसे आईसीओएम-आईएनसी और म्यूजियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया का सदस्य है।

Salar Jung Museum images
Salar Jung Museum images

इसके बारेमे भी जानिए – अलाई दरवाजे का इतिहास, वास्तुकला और जानकारी

Best Time To Visit Salar Jung Museum

सालार जंग संग्रहालय जाने का सबसे अच्छा समय बताए तो आप कोई भी मौसम में घूम सकते है। मगर आपको बतादे की अच्छे से देखने के लिए पर्यटकों को दोपहर तक ही वहां जाना चाहिए। क्योकि सालारजंग संग्रहालय शाम 5 बजे तक बंद हो जाता है। एव सुबह 10 बजे खुलता है। लेकिन पूरे संग्रहालय को ढंकने में आसानी से चार घंटे लगेंगे। अगर आप ऑडियो यूनिट किराए पर लेते है। तो यह संग्रहालय को नेविगेट करने में मदद मिलती है और वह इतिहास के बारे में बताता है।

Tips For Visiting Salar Jung Museum

  • सालार जंग संग्रहालय में घूमने के लिए कुछ टिप्स फॉलो करना जरुरी है। 
  • यहाँ की प्रदर्शित वस्तुओं को छूने से बचना चाहिए।
  • संग्रहालय परिसर के भीतर फोटोग्राफी की अनुमति नहीं है।
  • गैलरी में सेल फोन का उपयोग नहीं करना चाहिए। 
  • संग्रहालय परिसर के अंदर धूम्रपान नही करना चाहिए। 
  • चाकू, छुरा, लाइटर, माचिस एव कैंची जैसी वस्तुओं को अंदर नहीं ले जाना है।
  • यहाँ सभी स्थान पर कूड़ेदान हैं, आपको कचरा उसमे ही फेकना है। 
  • संग्रहालय देखने से पहले सुझाव पुस्तिका का उपयोग करना चाहिए। 

Salar Jung Museum Location

हैदराबाद शहर के मुसी नदी के दक्षिणी तट पर सालार जंग संग्रहालय दार-उल-शिफा में सालार जंग रोड पर स्थित है। यह मीनार समारोह हॉल के पास स्थित है। जो एक मील का पत्थर के रूप में कार्य करता है। आपको बतादे की लोकप्रिय स्मारक को शायद ही कभी किसी अतिरिक्त जानकारी की जरुरत होती है। क्योकि यह प्रसिद्ध एव प्राचीन संरचना है। जिन्हे सभी जानते है।

सालारजंग संग्रहालय हैदराबाद की फोटो गैलरी
सालारजंग संग्रहालय हैदराबाद की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी जानिए – कुल्लू मनाली के बारे में पूरी जानकारी

Salar Jung Museum Timings

सालार जंग संग्रहालय का समय बताए तो शुक्रवार को छोड़कर सभी दिनों में खुला रहता है। उसको हर सुबह 10 बजे से पर्यटकों को देखने के लिए खोल दिया जाता है। और शाम 5 बजे तक उसको खुला रखा जाता है।

Salar Jung Museum Entry Fee

सालार जंग संग्रहालय के प्रवेश शुल्क करे तो उसमे प्रवेश के लिए 20 रुपये प्रति व्यक्ति है। उसमे छात्रों एव 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए निःशुल्क है। छात्रों को मुफ्त प्रवेश के लिए एक पहचान पत्र दिखाना जरुरी है। उसमे प्रवेश के लिए आर्मी कर्मियों के लिए 50% की छूट है। संग्रहालय सप्ताह के समय आम जनता को प्रवेश टिकट पर छूट दी जाती है। वह हर साल 8 तारीख से शुरू एव 14 जनवरी को समाप्त होता है।

यहाँ विदेशी पर्यटकों के प्रवेश के लिए 500 रुपये प्रति व्यक्ति कीमत है। सालारजंग संग्रहालय में कुछ कैमरा शुल्क के साथ तस्वीरें भी क्लिक कर सकते हैं। उसके लिए आपको मोबाइल और स्टिल कैमरा की फीस 50 रुपए देना है। उसमे आपको ऑडियो टूर की सुविधा उपलब्ध है। उस 90 मिनट के ऑडियो टूर का शुल्क 60 रुपये प्रति व्यक्ति रखा गया है।

सालारजंग संग्रहालय फोटो
सालारजंग संग्रहालय फोटो

Architecture of Salar Jung Museum

सालार जंग संग्रहालय में संरचना और गैलरी देखे तो सालार जंग संग्रहालय एक भव्य सफेद संरचना के साथ अर्धवृत्ताकार आकार का है। जो दशकों के शासन और समृद्धि को प्रदर्शित करता है। यह शानदार इमारत 38 दीर्घाओं में विभाजित है। जो दो मंजिलों में फैली हुई है। उसमें तीन भवन शामिल हैं। उसमे पूर्वी ब्लॉक (मीर लाइक अली खान भवन), पश्चिमी ब्लॉक (मीर तुराब अली खान भवन) और भारतीय ब्लॉक। ज्यादातर दीर्घाएं, 27 संग्रहालय के केंद्रीय ब्लॉक में हैं। 

संग्रहालय के पश्चिमी ब्लॉक में 7 दीर्घाएं हैं। जबकि पूर्वी ब्लॉक में 4 दीर्घाएं हैं। स्मारक के अंदर कई अन्य खंड भी हैं जैसे फोटो सेक्शन, एजुकेशन विंग, केमिकल कंजर्वेशन लेबोरेटरी और एक डिस्प्ले सेक्शन। यह एक स्वागत केंद्र और एक बिक्री काउंटर के अतिरिक्त है।

Salar Jung Museum Photos
Salar Jung Museum Photos

इसके बारेमे भी जानिए – चालुक्य वंश के बादामी गुफा घूमने की जानकारी

Salar Jung Museum Collections

संग्रहालय में संग्रह ग्रीक से लेकर बौद्ध संस्कृति तक विभिन्न संस्कृतियों के संग्रह हैं। उस संग्रहों को भारतीय कला, मध्य-पूर्व कला और सुदूर-पूर्वी कला जैसे अलग वर्गों में बॉटा गया है। सालार जंग परिवार को देखने योग्य एक समर्पित गैलरी है। यह चीनी वस्तुओं के साथ देश के दुर्लभ संग्रहालयों में से एक है। संग्रहालय में अलग अलग फोंट एव डिजाइनों में दुनिया भर से प्रसिद्ध कुरान संग्रह है। 

सोने और चांदी में कुरान लिखा है। एक खंड बच्चों को समर्पित है जो बच्चों को अनौपचारिक शिक्षा प्रदान करने के साथ मंत्रमुग्ध कर देता है। उसमे आप ताड़ के पत्तों, चर्मपत्र, कांच, लकड़ी और वस्त्रों पर दुर्लभ पांडुलिपियां अरबी, संस्कृत, फारसी, उर्दू एव तुर्की जैसी भाषाओं में संग्रह देख सकते हैं। एक हजार से ज्यादा सुलेख पैनल, लघु चित्र एव पांडुलिपियों में दवा, कविता से लेकर जादू तक हैं।

सालारजंग संग्रहालय इमेज
सालारजंग संग्रहालय इमेज

Salar Jung Museum Clock and Veiled Rebecca

संग्रहालय के अंदर पर्यटक एक सुंदर विंटेज घड़ी को देख सकते है जो हर घंटे स्ट्रोक के दौरान बहुत भीड़ खींचती है। कुक एंड केल्वे कंपनी क्लॉक से प्राप्त ब्रिटिश घड़ी में तीन सौ से अधिक हिस्से हैं। एक बजे दाढ़ी वाला आदमी एक बाड़े से बाहर आता है। एव घंटी बजाता है। हिट की संख्या घंटे के समय को दर्शाती है। जबकि एक लोहार लगातार हर सेकंड एक निहाई मारता है। 

एक और आकर्षक चीज़ वील्ड रेबेका की दृष्टि है। जो एक प्रसिद्ध इतालवी मूर्तिकार जियोवानी मारिया बेंजोनी ने बनाई गई मूर्ति है। हिब्रू बाइबिल रेबेका को इस्साक की पत्नी के रूप में है। आदमकद मूर्ति को अच्छे से एक पारदर्शी पर्दे में लपेटा गया है। वह संगमरमर की उत्कृष्ट कृति का हिस्सा एव पूरी दुनिया में वील्ड रेबेका की सिर्फ चार प्रतियां में शामिल हैं।

SalarJung Museum Photos
SalarJung Museum Photos

इसके बारेमे भी जानिए – सिद्दिविनायक मंदिर का इतिहास और दर्शन की जानकारी

Galleries at Salar Jung Museum

  • Founders Gallery
  • South Indian Bronzes
  • Indian Textiles
  • Minor Arts of South India
  • Indian Sculptures
  • Ivory Objects
  • Jade Gallery
  • Modern Paintings
  • Bidri Gallery
  • Middle Eastern Carpets
  • Arabic Persian Manuscripts
  • Egyptian And Syrian Art
  • Fat Eastern Art
  • Japanese Art
  • Far Eastern Statuary
  • Euopean Art
  • European Paintings
  • Indian Miniature Paintings
  • European Porcelain
  • European Glass
  • Chinese Collection
  • European Bronze
  • European Marble Statue
  • Arms and Armors
  • European Clocks
  • European Furniture

सालार जंग संग्रहालय में गतिविधियाँ

जीवंत संग्रह के साथ यह संग्रहालय अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालयों और संगठनों के सहयोग से कार्यशालाओं और प्रदर्शनियों के आयोजन में सक्रिय भूमिका निभाता है। संग्रहालय सप्ताह, सालार जंग I की जयंती और बाल सप्ताह जैसे अवसरों पर संगोष्ठियों और कार्यशालाओं का आयोजन होते है। यह अंग्रेजी, उर्दू और हिंदी भाषाओं में पुस्तकों के साथ शोध पत्रिकाओं, ब्रोशर और गाइड पुस्तकों प्रकाशित करता है। जो संग्रहालय और उसके पीछे के इतिहास की समज की पूरी जानकारी देता है।

SalarJung Museum Images
SalarJung Museum Images

इसके बारेमे भी जानिए – माँ वैष्णो देवी का मंदिर और यात्रा की जानकारी

Salar Jung Museum Library

सालार जंग संग्रहालय पुस्तकालय अपने दूसरे प्रदर्शनों के साथ उसका सबसे बड़ा आकर्षण पुस्तकालय है। सालार जंग पुस्तकालय कुछ दुर्लभ से अति दुर्लभ संग्रह समेटे हुए है। उसमे 8,000 पांडुलिपियों और 60,000 मुद्रित पुस्तकों के साथ पुस्तकालय निस्संदेह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पुस्तकालयों में से एक है। संग्रह की गुणवत्ता दूसरे पुस्तकालयों से अलग करती है। 40,000 पुस्तकों का मुख्य भाग मीर यूसुफ अली खान, सालार जंग III और उनके पूर्वजों से एकत्र किया गया था। संग्रहालय पुस्तकालय पुस्तक बांधने वाले, कलाकारों और सुलेखकों द्वारा सुलेख और अलंकरण का अद्भुत प्रदर्शन प्रस्तुत करता है।

उस कार्यों में लैपिस लाजुली, मोती, सोना और खनिज रंगों का उत्कृष्ट उपयोग है। पांडुलिपियां में अरबी, संस्कृत, तेलुगू, हिंदी, फारसी, उर्दू, दखनी, तुर्की, पुश्तु और उड़िया जैसी भाषाओं में आठ-चार विविध विषयों पर पांडुलिपियां हैं। वह पांडुलिपियां कपड़ा, ताड़ के पत्ते, कागज, चर्मपत्र, पत्थर, लकड़ी और कांच जैसे माध्यमों पर हैं। उसमे विज्ञान, चिकित्सा, खेल, संगीत, जादू और नैतिकता से भिन्न विषयों को शामिल किया गया है।

यहाँ इस्लाम, हिंदू धर्म, पारसी धर्म और ईसाई धर्मों की पांडुलिपियां रखी गई हैं। पुस्तकालय में 2.4 सेमी के आकार के साथ पवित्र कुरान है। अरबी भाषा में 2,500 पांडुलिपियां, फारसी भाषा में 4,700 और उर्दू भाषा 1,200 हैं। उसके अंग्रेजी खंड में 40,000 पुस्तकें शामिल हैं। ओरिएंटल सेक्शन में 19,000 किताबें हैं। उसमे से 13,000 मुद्रित किताबें उर्दू में 3,500 फारसी में 2,500 अरबी में और 160 तुर्की में हैं।

सालार जंग संग्रहालय में सुविधाएं

  • पर्यटकों के लिए सालार जंग संग्रहालय सुविधाओं की श्रृंखला प्रस्तुत करता है।
  • पुस्तकालय परमिट से विद्वान पुस्तकालय का उपयोग कर सकते हैं। 
  • यात्री अपना सामान क्लॉक रूम में सुरक्षित रख सकते हैं।
  • चलने-फिरने में कठिनाई होती तो संग्रहालय में व्हीलचेयर उपलब्ध हैं।
  • कैफेटेरिया और कॉफी शॉप में मुख्य भवन में कार्यात्मक कैफेटेरिया चलाता है।
  • संग्रहालय में एक स्मारिका की दुकान से हस्तशिल्प और हथकरघा ले सकते है। 
  • मुख्य भवन की दूसरी मंजिल में वाचनालय है।
  • वह तेलुगु, उर्दू और अंग्रेजी में स्थानीय पत्रों की श्रृंखला प्रदान करता है।
  • आगंतुक मुख्य भवन से ऑडियो गाइड प्राप्त कर सकते हैं।
  • ऑडियो गाइड अंग्रेजी, हिंदी और तेलुगु तीन भाषाओं में उपलब्ध है।
  • सालार जंग संग्रहालय में 200 सीटों की बैठने की क्षमता वाला  सभागार और एक व्याख्यान कक्ष है।
  • पर्यटकों की आसानी के लिए अंतराल पर पीने के पानी और शौचालय के संकेत हैं।
  • संग्रहालय में 17 वाटर कूलर हैं वह शुद्ध पानी की आपूर्ति करते हैं।
  • संग्रहालय के सभी स्थानों पर साफ-सुथरे टॉयलेट उपलब्ध है।

इसके बारेमे भी जानिए – शिरडी का इतिहास और पर्यटक स्थल घूमने की जानकारी

सालार जंग म्यूजियम
सालार जंग म्यूजियम

How To Reach SalarJung Museum

ट्रेन से सालार जंग संग्रहालय कैसे पहुंचे

How To Reach Salarjung Museum By Train – रेलवे से सालार जंग संग्रहालय जाने के लिए उसका नजदीकी मुख्य रेलवे स्टेशन काचीगुडा और नामपल्ली है। वह यहाँ से सिर्फ 3 किमी दूर है। यात्री शहर में चलने वाली लोकल ट्रेनों (एमएमटीएस) से सफर करते हुए बहुत आसानी से यहां पहुंच सकते हैं। उसके अलावा यात्री टैक्सी या ऑटो रिक्शा भी ले सकते है।

रोड से सालार जंग संग्रहालय कैसे पहुंचे

How To Reach Salar Jung Museum By Raod – सड़क मार्ग से जाने के लिए अफजलगंज बस स्टॉप और सालार जंग संग्रहालय बस स्टैंड निकटतम बस स्टॉप हैं। सालारजंग संग्रहालय तक पहुंचने के लिए पर्यटक कैब सेवा या ऑटो रिक्शा की सहायता ले सकते हैं। अगर आप आसपास के सभी पर्यटक आकर्षणों को कवर करना चाहते है। तो पैदल भी जा सकते है। 

फ्लाइट से सालार जंग संग्रहालय कैसे पहुंचे

How To Reach Salar Jung Museum By Flight – आप अगर हवाई जहाज से यहाँ पहुंच न चाहते है। तो राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय टर्मिनल, हैदराबाद का अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा दुनिया भर के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा है। हवाई अड्डे से कई निजी और प्रीपेड टैक्सियाँ को पसंद कर सकते हैं। जिसकी सहायता से आप सालार जंग संग्रहालय हैदराबाद पहुंच सकते है।

सालारजंग संग्रहालय हैदराबाद
सालारजंग संग्रहालय हैदराबाद

इसके बारेमे भी जानिए – कालाहस्ती मंदिर का इतिहास और उसकी संपूर्ण जानकारी

Salar Jung Museum Map सालारजंग संग्रहालय हैदराबाद का लोकेशन

Salar Jung Museum In Hindi Video

Interesting Facts About Salar Jung Museum

  • सालारजंग म्यूजियम हैदराबाद में स्थित एक कला संग्रहालय है।
  • सालार जंग संग्रहालय में 10 लाख से भी ज्यादा वस्तुए संगृहीत है।
  • यह संग्रहालय 10 एकड़ के क्षेत्र में फैला एव 2 मंजिल बना हैं।
  • सालारजंग संग्रहालय दुनिया के सबसे बड़े संग्रहालयों में से एक है।
  • सालारजंग संग्रहालय देश विदेश की बेहतरीन मूर्तियां, पेंटिंग्स नक्काशीदार वस्तुए पांडुलिपियां और वस्त्र का संग्रह है।
  • यह पहले हैदराबाद के निजाम सालारजंग का निवास स्थल हुआ करता था।
  • सालार जंग भारत में तीसरा सबसे बड़ा राष्ट्रीय संग्रहालय है।
  • यह राष्ट्रीय संग्रहालय हैदराबाद के समृद्ध और गौरवशाली इतिहास की विशेषता है।
  • सालारजंग संग्रहालय में कुल 78 कमरे देख सकते है।  

FAQ

Q .सालारजंग म्यूजियम कहाँ स्थित है?

सालार जंग म्यूजियम तेलंगाना राज्य की राजधानी हैदराबाद शहर की मूसा नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है।

Q .सालार जंग संग्रहालय किसके लिए प्रसिद्ध है?

सालार जंग संग्रहालय परिवार दुनिया भर से दुर्लभ कला वस्तुओं के संग्रह के लिए प्रसिद्ध है।

Q .सालार जंग संग्रहालय का प्रवेश शुल्क क्या है?

सालार जंग संग्रहालय का प्रवेश शुल्क आम जनता के 10 एव विदेशी नागरिकों के लिए 500 रूपए है।

Q .सालार जंग संग्रहालय में हम क्या देख सकते हैं?

आप यहाँ दुनिया भर से दुर्लभ कला वस्तुओं के संग्रह को देख सकते है।

Q .सालार जंग संग्रहालय में कितने कमरे हैं?

सालारजंग संग्रहालय में कुल 78 कमरे है।

Q .क्या सालार जंग संग्रहालय में मोबाइल की अनुमति है?

नहीं सालार जंग संग्रहालय में मोबाइल की अनुमति नहीं है।

Q .सालारजंग म्यूजियम कहाँ स्थित है?

सालार जंग म्यूजियम तेलंगाना राज्य की राजधानी हैदराबाद शहर की मूसा नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है।

Conclusion

आपको मेरा लेख Salar Jung Museum Hyderabad In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Which is the largest museum in india, Salarjung Museum clock

और Where is Salarjung museum located से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Salar jung museum ticket booking की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

About salar jung museum, Who built salar jung museum, Museum near me, Importance of salar jung museum, Salar jung museum wikipedia, Salar jung museum is situated in which state, Salar jung museum case study, How much is the ticket for salar jung museum, Salar jung museum is open today, Salar jung museum is located in, Salar jung museum hyderabad timings and entry fee, salar jung museum hyderabad ticket price

Timings of salar jung museum, salar jung museum of hyderabad, salar jung museum in hyderabad, Salar jung museum contact number, Salar jung museum in telugu, Museum in hyderabad, सबसे बड़ा संग्रहालय, संग्रहालय क्या है, संग्रहालय पर निबंध, कोलकाता म्यूजियम, गणित संग्रहालय, राष्ट्रीय संग्रहालय कहां स्थित है, संग्रहालय का संगठन, संग्रहालय तकनीक, निजाम संग्रहालय, भारतीय संग्रहालय, भारत का प्रथम संग्रहालय, संग्रहालय की विशेषता pdf

इसके बारेमे भी जानिए – कालाहस्ती मंदिर का इतिहास और उसकी संपूर्ण जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.