Ram Setu (Adam's Bridge) History In Hindi

Ram Setu (Adam’s Bridge) History In Hindi | राम सेतु का इतिहास और जानकारी

नमस्कार दोस्तों Ram Setu In Hindi आपका स्वागत है। आज हम भगवन श्री राम जी ने बनाये राम सेतु या एडम ब्रिज के नाम से प्रसिद्ध राम सेतु का इतिहास और राम सेतु में घुमने लायक पर्यटन स्थल की जानकारी बताने वाले है। राम सेतु एक प्राकृतिक पुल जो भारत देश को पड़ोसी देश श्रीलंका से जोड़ता है। प्रकृति की एक भव्य संरचना किसी को भी अपनी सुंदरता से आकर्षित कर सकता है। 50 किलोमीटर लंबा और 3 किलोमीटर चौड़ा पुल धनुषकोडी (भारत के पंबन ब्रिज की नोक) से शोल की एक श्रृंखला के रूप में शुरू होता है और श्रीलंका के मन्नार द्वीप पर समाप्त होता है।

उस को एडम्स ब्रिज, राम ब्रिज या राम सेतु के नाम से भी जाना जाता है। यह एक पौराणिक पुल मुख्य रूप से प्रवाल भित्तियों और रेत के किनारों की एक श्रृंखला है। उस पौराणिक पुल की उत्पत्ति और संरचना को लेकर कई विवाद भी जुड़े हैं। धनुषकोडी रामेश्वर द्वीप का अंतिम सिरा है, और राम सेतु बिंदु धनुषकोडी से कुछ मीटर की दूरी पर स्थित है। एडम्स ब्रिज एक सदियों पुरानी संरचना है जिसके बारे में माना जाता है कि पुल का सबसे पहला उल्लेख वाल्मीकि से लिखित भारतीय संस्कृत महाकाव्य रामायण में मिलता है।

History of Ram Setu

राम सेतु का इतिहास – कुछ शोधकर्ताओं एव दस्तावेजों के अनुसार 30 मील लंबा पुल मन्नार की खाड़ी को पाक जलडमरूमध्य से अलग करता है। वह 15 वीं शताब्दी के समय तक वह पैदल चलने योग्य था। रामेश्वरम मंदिर के रिकॉर्ड से ऐसा पता चलता है कि राम सेतु प्राचीन समय और 1480 ई. तक में समुद्र तल से ऊपर था। रामायण काल या रामायण के समय में भारत और श्रीलंका के बीच राम सेतु कड़ी के रूप में कार्य करता है। उस पुल से भगवान राम और उनकी सेना सीता को बचाने के लिए लंका पहुंचे थे। उसके कारन उसे राम सेतु के नाम से जाना जाता है।  उसके गठन का इतिहास अत्यधिक विवादित विषय है।

श्रीलंकाई इतिहासकारों ने उस सिद्धांत की कड़ी को घोर विकृति कहते हैं। नासा द्वारा किए गए अध्ययन से पुल को 30 किलोमीटर लंबी प्राकृतिक रूप से उत्पन्न होने वाली रेत के किनारों की श्रृंखला कहते हैं। अदालती मामलों और हलफनामे जारी करने के बाद मद्रास उच्च न्यायालय ने अपना फैसला सुनाया कि राम सेतु एक मानव निर्मित संरचना है। 15 वीं शताब्दी तक पुल कथित तौर पर पैदल चलने योग्य था। उसके बाद तूफान के कारण वह बर्बाद होता गया। 1480 में चक्रवात की चपेट में आने से पहले पुल समुद्र तल से ऊपर था। राम सेतु के इतिहास में सैकड़ों मत है।

Ram Setu Images
Ram Setu Images

इसके बारेमे भी जानिए – बिरला मंदिर जयपुर हिस्ट्री और घूमने की जानकारी

Ram Setu Architecture

राम सेतु की वास्तुकला की बात करे तो पुल चट्टानों, छोटे द्वीपों, भित्तियों और रेत के किनारों से बना प्राकृतिक निर्माण है। उसके किनारे पर समुद्र काफी उथला है। उसका नेविगेशन प्रभावित करता है। उसके ज्यादा स्थानों पर समुद्र 3 फीट और कुछ स्थानों पर 30 फीट गहरा है। पूरे पुल की लंबाई 48 किमी या 30 मील है। पुल की चौड़ाई 3 किमी है। चूना पत्थर की यह श्रृंखला भारत और श्रीलंका के बीच एक पुराना संबंध है। अनिश्चित रूप से रखे चूना पत्थर विस्तार को आकर्षण देते हैं। असली कहानियों के साथ पौराणिक अस्तित्व में राम सेतु का बहुत बड़ा योगदान है।

Best Time To Visit Ram Setu

राम सेतु की यात्रा पर जाने के लिए सबसे अच्छा समय – यह क्षेत्र में मौसम साल भर स्थिर रहता है। उसी कारन पर्यटक कोई भी समय में यहाँ जा सकते है। लेकिन आप अतिरिक्त गर्मी और गर्म हवाओं से बचकर नवंबर और मार्च के बीच बेहतरीन दृश्य का आनंद ले सकते हैं। यानि राम सेतु या एडम ब्रीज जाने का सबसे अच्छा समय नवम्बर से मार्च के महीने का माना जाता हैं।

Ram Setu Ka Nirman Kisne Kiya

राम सेतु का निर्माण किसने किया था – हिन्दुओ के ह्रदय सम्राट अयोध्या के राजा श्री राम एव उनके भाई लक्ष्मण की सहायता से राम सेतु का निर्माण उनकी वानर सेना ने किया था। रामजी की वानर सेना में नल और नील नाम के दो वानर भाई थे। उन्हें एक ऋषि का श्राप था। की दोनों जो चीज को पानी में फेकेंगे वह डूबेगा नही। उस दोनों भाईओ नल और नील ने वानर सेना की सहायता से पुल के पत्थर पर जय श्री राम लिख कर पानी में डालना शुरू किया एव वह सभी पत्थर पानी में तैरने लगे थे। वैसे एडम ब्रिज या राम सेतु का निर्माण हुआ।

Ram Setu real image
Ram Setu real image

इसके बारेमे भी जानिए – मुरुदेश्वर मंदिर का इतिहास और दर्शन की जानकारी

Adam’s Bridge Kitna Purana Hai

रामसेतु की आयु – आपको बतादे की राम सेतु की आयु के मत में कोई भी स्पष्ट मत नही देखने को मिलता हैं। कुछ ज्ञातकर्ता और इतिहासकारो के मुताबिक राम सेतु की आयु 3500 वर्ष हैं तो कुछ उसको 7000 साल पुराना बताते हैं। उसके अलावा वेद पुराणों के मुताबिक राम सेतु की आयु को 17 लाख वर्ष पुराना भी बता चुके हैं। यानि राम सेतु की आयु की का स्पस्ट मत नहीं हुआ है। 

Ram Setu Ka Astitva

रामसेतु के अस्तित्व या रामसेतु का रहस्य – राम सेतु के अस्तित्व के बारे में बात करे तो उसके अस्तित्व के बारे में कई सवाल है। लेकिन उसका कोई भी जवाब नहीं है। वैसे तो राम सेतु एक सदियों पुरानी संरचना है। और राम सेतु का उल्लेख ऋषिवर वाल्मीकि जी ने अपने हाथो से लिखि भारतीय संस्कृत महाकाव्य रामायण में किया था। रामसेतु के अस्तित्व तक़रीबन  1.7 मिलियन वर्ष पुराना कहा जाता है।

Best Tourist Places To Visit Near Ram Setu

प्राचीन कथाओं से जुडा राम सेतु एक आकर्षण संरचना हैं। लेकिन राम सेतु के आसपास घूमने लायक पर्यटन और दर्शनीय स्थल भी बहुत अच्छे है। जिन्हे देख पर्यटक अपनी यात्रा को सफल और यादगार बना सकते है। राम सेतु के नजदीक रामेश्वरम् पर्यटन स्थल हैं। वह पर्यटन के लिए बहुत ज्यादा प्रसिद्ध हैं। तो चलिए हम आपको राम सेतु या एडम ब्रिज के प्रमुख पर्यटन स्थल बतादेते हैं।

राम सेतु की फोटो गैलरी
राम सेतु की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी जानिए – लोधी गार्डन दिल्ली का इतिहास और उसके पर्यटन स्थल

Dhanushkodi Ram Setu

धनुषकोडी तमिलनाडु के तट पर एक छोटा कम आबादी वाला समुद्र तटीय शहर है। 1964 में धनुषकोडी भारत के अब तक के सबसे भीषण तूफानों में से एक की चपेट में आ गया था। तब से तमिलनाडु ने भारत के सबसे अनोखे और असामान्य समुद्र तट शहरों में से एक बनने के लिए शहर का पुनर्निर्माण किया है। यह छोटा शहर पृथक शब्द को फिर से परिभाषित करता है। दुनिया के बाकी हिस्सों से कटा हुआ शहर समय से बिछड़ा लगता है। शहर अपनी भव्यता और सुंदरता को दर्शाते हुए इतिहास में लगता है।

Rameshwaram Temple

रामेश्वरम मंदिर को तमिलनाडु के रामनाथस्वामी मंदिर के नाम भी जानते है। भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर भारत के 12 ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से एक है।  दुनिया के सबसे लंबे गलियारे और खंभों पर बेदाग नक्काशी के साथ खड़ा है। रामेश्वरम मंदिर में शिवलिंग भगवान राम द्वारा स्थापित किया गया था। मगर मंदिर का निर्माण कई शासकों ने किया था। मंदिर के अंदर दो लिंग हैं। उसमे रामलिंगम और शिवलिंगम शामिल है। आज भी भगवान राम के शब्दों को संरक्षित करने के लिए सबसे पहले पूजा की जाती है। 

Agni Theertham Rameshwaram

रामेश्वरम में 64 पवित्र स्नानों में से एक अग्निथीर्थम सबसे महत्वपूर्ण तीर्थमों में से एक है। यहाँ हर दिन बड़ी संख्या में पर्यटक आते रहते है।  श्री रामनाथस्वामी मंदिर के समुद्र तट पर स्थित अग्नितीर्थम मंदिर परिसर के बाहर स्थित एकमात्र तीर्थम है। संस्कृत भाषा में अग्नि शब्द का अर्थ है अग्नि जबकि थीर्थम शब्द का अर्थ पवित्र जल है। प्राचीन ग्रंथों और पौराणिक कथाओं में हिंदुओं के बीच महत्वपूर्ण महत्व के तीर्थ के रूप में अग्नितीर्थम का कई बार उल्लेख किया गया है। तीर्थम में आने वाले भक्त देवता की पूजा करते हैं।

Adam's Bridge Photos
Adam’s Bridge Photos

इसके बारेमे भी जानिए – प्रेम मंदिर वृंदावन का इतिहास और उसकी संपूर्ण जानकारी

Abdul Kalam House Rameswaram

एपीजे अब्दुल कलाम हाउस रामेश्वरम – कलाम हाउस या एपीजे अब्दुल कलाम हाउस हमारे देश के पूर्व राष्ट्रपति का वह निवास स्थान हैं। एपीजे अब्दुल कलाम एक नेता होने के साथ कुशल वैज्ञानिक और प्रेरणादायक व्यक्ति थे। उन्होंने यही पवित्र स्थल पर अपना बचपन व्यतीत किया था। वह महान विभूति ने यहाँ समय बिताया था। आज यह एक संग्रहालय के रूप में तब्दील किया गया हैं।

Panchmukhi Hanuman Temple Rameshwaram

पंचमुखी हनुमान मंदिर – पंचमुखी हनुमान मंदिर रामेश्वरम के मंदिर शहर में रामनाथस्वामी मंदिर से लगभग तीन किमी दूर एक छोटा मंदिर है। ऐसा माना जाता है कि रामायण के दौरान रामसेतु का निर्माण रामेश्वरम से श्रीलंका तक किया गया था। राम के वानरसेना या  वानरों की सेना ने उस पर श्री राम लिखे हुए पत्थर फेंके। ऐसा माना जाता है कि पत्थर समुद्र में डूबने के बजाय तैरते रहे थे।

Villoondi Tirtham

रामेश्वरम में स्थित विलौंडी तीर्थम एक समुद्र तट है। वह एक पवित्र प्राकृतिक जल निकाय के रूप में प्रसिद्ध हैं। उसके अलावा यह खूबसूरत स्थान यात्रिओ को भी बहुत पसंद है। विलौंडी तीर्थम का समुद्र के अंदर एक झरना भी है। वह आकर्षण के उच्च शिखर तक पहुंचाता हैं। यह स्थान रामायण की कथा के साथ जुड़ा है। यहाँ भगवान राम ने सेना को पीने के लिए तीर मार कर पानी निकाला था।

इसके बारेमे भी जानिए – भरहुत बौद्ध स्तूप का इतिहास वास्तुकला और पर्यटन स्थल

Annai Indira Gandhi Road Bridge Rameshwaram

आपको बतादे की अन्नाई इंदिरा गांधी रोड ब्रिज दक्षिणी भारत का सबसे लंबा पुल कहाजाता है। वह रामेश्वरम द्वीप को मुख्य भूमि से मिलता है। रामेश्वरम शहर से 7 कि.मी दूर यह खाड़ी के ऊपर बनाया गया है। अन्नाई इंदिरा गांधी रोड ब्रिज को पम्बन ब्रिज भी कहते है। उस पूल को उस तरह से बनाया है। की उसे देख कई इंजीनियर भी आश्चर्यचकित हो जाते हैं।

Thiruppullani Navagraha Temple

भगवान विष्णु को समर्पित थिरुपुल्लानी एक प्राचीन मंदिर है। मगर यह मंदिर में पीठासीन देवता भगवान दरवाहा सयाना राम हैं। उसकी मूर्ति एक वैराग्य मुद्रा में देखने को मिलती है। यह मंदिर द्रविड़ वास्तुकला से निर्मित किया गया एक अच्छा उदाहरण हैं। उस मंदिर का निर्माण कार्य चोल साम्राज्य के समय में किया गया होने का प्रमाण मिलता है। जो मंदिर परिसर में देखने को मिलता है। 

Lakshmana Tirtham

लक्ष्मण तीर्थ का निर्माण भगवान राम के भाई लक्ष्मण की प्रेममयी स्मृति में किया गया था। भगवान लक्ष्मण को पवित्र प्रार्थना करने के लिए मंदिर का निर्माण रामेश्वरम में ही किया गया है। भगवान लक्ष्मण की कई अद्भुत मूर्तियों को संगमरमर से उकेरा गया है। मंदिर में भगवान राम और देवी सीता की मूर्तियाँ भी हैं जो उनके बीच मौजूद एकता की भावना को दर्शाती हैं। यह सुन्दर प्रतिमाओं को जरूर देखे।

Ariyaman Beach In Rameshwaram

अरियमन बीच राम सेतु और रामेशवरम के मुख्य पर्यटन स्थलों में से एक है। वह अपनी सफेद रंग की सुंदरता से प्रसिद्ध हैं। बीच पर आपको प्राचीन सफेद रेत समुद्र तट का एक लंबा खंड देखने को मिलता है। वह बीच को और सुन्दर बनता हैं। बीच का साफ पानी और कोमल लहरें पर्यटकों को मंत्र मुग्ध करती और मनमोहक हैं। यहाँ पर पर्यटक ढेर सारी मस्ती करने के लिए आते हैं।

इसके बारेमे भी जानिए – पवित्र स्थल “ब्रह्म सरोवर” हरियाणा यात्रा की जानकारी

Gulf Of Mannar Marine National Park

मन्नार की खाड़ी समुद्री राष्ट्रीय उद्यान में 21 छोटे और लुभावने सुंदर द्वीप है। यह पार्क मन्नार बायोस्फीयर रिजर्व की खाड़ी के लिए भी मुख्य क्षेत्र है। उसके समुद्री, अंतर्ज्वारीय और निकट किनारे के असंख्य पौधों और जानवरों का घर है। पार्क में न केवल तीन जलीय पारिस्थितिक तंत्र हैं, जो प्रवाल भित्ति, समुद्री घास और मैंग्रोव हैं, बल्कि यह नमक दलदल और विशिष्ट शैवाल समुदायों का भी घर है।

Local Food Of Ram Setu

राम सेतु का स्थानीय भोजन में पर्यटक रामेश्वरम का स्वादिष्ट भोजन खा सकते हैं। यहाँ के भोजन में पर्यटको को शाकाहारी भोजन मिलता हैं। उसमे सांभर, डोसा, फ़िल्टर कॉफी, इडली, वड़ा, केकड़ा मांस, कटल मछली, केमा वाडस, रसम और बेबी ऑक्टोपस का मजा ले सकते हैं। उसके अलावा कुछ रेस्टोरेंट में  मांसाहारी व्यंजन भी  मिल जाते हैं। जिसको आप खा कर मजा ले सकते है। 

Where To Stay Near Ram Setu

राम सेतु के पास रुकने की जगह – पर्यटक राम सेतु  और उसके नजदीकी स्थलों को देखने के बाद रहने के लिए कोई अच्छी जगह की तलाश में है। बतादे की राम सेतु या रामेश्वरम् में आपको रहने के लिए कई विकल्प उपलब्ध है। पर्यटकों को यहाँ की कुछ होटलों नाम हम बताने वाले है। जिस में आप जा सकते है। लेकिन आपको बतादे की रामेश्वरम् राम सेतु से 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 

  • होटल रॉयल रेजिडेंसी
  • श्रीराम होटल आईलैंड स्टार
  • जीवन रेजीडेंसी
  • श्री पलान्यदावर लॉज
  • ताज होटल

Best Places To Visit In Karnataka

How To Reach Ram Setu Rameshwaram

ट्रेन से राम सेतु कैसे पहुंचे

How To Reach Ram Setu By Train – अगर पर्यटक राम सेतु जाने के लिए रेल मार्ग को पसंद करते हैं। तो आपको बता दें कि रामेश्वरम चेन्नई, कोयम्बटूर, मदुरै, त्रिचि और तंजावुर उसके साथ साथ सभी बड़े शहरों से रेलमार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप यहाँ से स्थानीय साधनों की मदद से बहुत असानी से राम सेतु पहुँच सकते है। उसमे आप टैक्सी या कैब ले सकते हैं।

सड़क मार्ग से राम सेतु कैसे पहुंचे

How To Reach Ram Setu By Road – आपको बतादे की राम सेतु सड़क मार्ग से बहुत अच्छी तरह से सभी शहरो से जुड़ा हुआ हैं। जिसमे रामेश्वरम, मदुरै, चेन्नई, त्रिचि और कन्याकुमारी जैसे स्थलों से सड़क मार्ग के संपर्क में है। पर्यटक बस से भी अपनी यात्रा कर सकते हैं। और बहुत ही असानी से राम सेतु पहुँच सकते है।

फ्लाइट से राम सेतु कैसे पहुंचे

How To Reach Ram Setu By Flight – अगर पर्यटक राम सेतु जाने के लिए हवाई मार्ग को पसंद करते हैं। तो आपको बता दें कि रामेश्वरम का निकटतम हवाई अड्डा मदुरै हवाई अड्डा है। वह रामेश्वरम शहर से 150 किलोमीटर दूर स्थित हैं। वह हवाई अड्डे से राम सेतु के लिए आप टैक्सी या कैब ले सकते हैं। जिसकी सहायता से आप असानी से राम सेतु पहुँच सकते है।

इसके बारेमे भी जानिए – हरियाणा का हार्ट रोहतक का इतिहास और घूमने की जगहें

Ram Setu Map | राम सेतु का लोकेशन

Ram Setu History In Hindi Video

Interesting Facts Of Ram Setu

  • श्रीराम और उनकी सेना ने यही पुल से लंका पहुंचकर रावण पर विजय हसिल की थी।
  • रामसेतु को रामायण काल के दौरान बनाया गया था।
  • रामसेतु की खोज जब तक वैज्ञानिको ने नही की तब तक उसको रामायण में लिखी कल्पना कहते थे।
  • 15 वीं शताब्दी के दौरान यह पुल पैदल चलने योग्य बताया जाता हैं।
  • रामसेतु सात हजार साल पहले पानी के ऊपर था ।
  • नासा द्वारा किए गए अध्यन के मुताबिक यह पुल सैंडबैंक की एक श्रृंखला हैं।
  • राम सेतु की सुन्दरता और उसकी रोचक कथा पर्यटकों आकर्षित करती हैं।

FAQ

Q .रामसेतु कहा है?

राम सेतु भारत के रामेश्वरम द्वीप से श्रीलंका के मन्नार द्वीप के मध्य में चूना पत्थरों से बना है।

Q .रामसेतु की लंबाई कितनी है?

राम सेतु की लम्बाई (ram setu length) 48-50 कि.मी और इसकी चौड़ाई 3 कि.मी हैं।

Q .रामेश्वरम से राम सेतु की दूरी कितनी है? 

Ram setu bridge या एडम ब्रिज से रामेश्वरम् की दूरी 36 किलोमीटर हैं।

Q .क्या रामसेतु अभी भी है?

रामसेतु पुल आज के समय में भारत के मेश्वरम द्वीप तथा श्रीलंका के मन्नार द्वीप के मध्य चूना पत्थर से बनी एक श्रृंखला है। 

Q .रामसेतु की लंबाई कितने किलोमीटर है?

 रामसेतु पुल की लंबाई लगभग 48 किमी एव 3 कि.मी चौड़ा है।

Q .रामसेतु बनाने में कितने दिन लगे थे?

मान्यता के अनुसार रामसेतु के निर्माण में 5 दिनों का वक्त लगा था। 

Q .समुद्र पर सेतु निर्माण का कार्य वानर सेना में से कौन कर सकता था?

समुद्र पर सेतु का निर्माण नल और नील कर सकते थे। 

Conclusion

आपको मेरा Ram Setu / Adam’s Bridge History बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Rameshwaram to ram setu distance, What is ram setu

और Ram Setu bridge length in km से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Why ram setu is called adam’s bridge की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Ram Setu movie, lntecc, lenka, Adam’s bridge truth, palk strait, and india, Rama Setu Rameshwaram, Ram Setu video, Ram Setu stone, who built ram setu, can we walk on ram setu, is ram setu real, Ram Setu distance from india to sri lanka, Ram Setu satellite view, रामसेतु गणित, रामसेतु किसने बनाया, राम सेतु की सच्चाई, रामसेतु से श्रीलंका की दूरी, रामसेतु के बारे में जानकारी, रामसेतु मैप, रामसेतु की खोज, रामसेतु कितने दिन में बना, रामसेतु कितना किलोमीटर है, रामसेतु Movie, राम सेतु का नक्शा 

इसके बारेमे भी जानिए – बैंगलोर पैलेस का इतिहास और जानकारी 

11 thoughts on “Ram Setu (Adam’s Bridge) History In Hindi | राम सेतु का इतिहास और जानकारी”

  1. buy stromectol for dogs Der Patient benötigt, um cialis generika 24 das Gefühl, dass die helpgiver war stark, apotheke cialis lilly und wurde daher anfängliche viagra haltbarkeit Höflichkeit levitra bier des Therapeuten als Schwäche und Mangel an Interesse wahrgenommen

  2. Furthermore, Terry and colleagues did not report on the effect for mutation carriers undergoing pre menopausal rrBSO, although an analysis of women in the upper tertile of breast cancer risk inclusive of mutation carriers and other high risk women, showed no difference in risk based on age at rrBSO priligy tablet Pandey, Mukesh K; Jacobson, Mark S; Groth, Emily K; Tran, Natalie G; Lowe, Val J; DeGrado, Timothy R Nuclear medicine and biology

  3. Women don t get the androgenic side effects nolvadex Actb L L, Actg1 L L, and double Actb L L Actg1 L L MEFs from individual embryos were treated with either Ad5 GFP or Ad5 Cre

  4. We want every casino gamer to know as much as they can about Everygame Casino Red, the new games, our latest promotions, progressive jackpots winners and how to get best play from the games. Our Blog brings you all the casino news, plus an Articles section with tutorials and hot playing tips. We also touch upon interesting topics both gaming and non gaming related. You’ll find links to our Everygame Red Blog and Articles in the footer of this page. Mobile casinos take different approaches to reach mobile audiences. Some use instant play features through HTML5 to optimize sites for mobile browsers, while others create a downloadable app. We’ll judge casinos on what mobile compatibility method they use, what operating systems they are available on, and how user-friendly their mobile online casino is. https://gregorycwla087531.ka-blogs.com/66378210/play-american-roulette-online-free In addition to the possibility to practice poker, online poker no deposit bonuses can also offer you a chance to build and manage your own bankroll from scratch. And it is precisely this specific spirit that should guide you in your game when using no-deposit poker bonuses. The most common mistake is to play limits that are too high and waste the bonus because it is free. However, there was one law surrounding legal online poker which limited the growth limits of the online poker industry in New Jersey. The Law that created a restriction on market expansion was that to get a License for online poker in New Jersey one must be aligned with a land-based casino partner in the Atlantic City. After Governor Christie signing A2578, many of the world’s online poker giants, especially those who withdrew from the US market after UIGEA was forced into action started to come back into the US market. They started creating alliances with land-based casinos in the Atlantic City and paved their way into the online poker industry in New Jersey.

  5. 资深玩家四年bjl经验和你分享 广东贵宾会    有一句谚语说:「未学赢钱ag旗舰厅百家乐游戏,先学输钱。 所以你指望用好运来玩百家乐?那么可能永远赢不了!那不靠运气,靠什么?职业玩家靠的是一种系统的训练,进而有良好的心理素质、正确的资金管理方法、风险意识和长期观念、实战证明有效的赌博技术、自律刻苦训练。马上就来分享一些实战中常遇到的、容易赢钱的套路。但必须先声明,这些套路并不能百分百保证稳赢,它只能有效的提高赢钱机率哦!总之,只要肯下功夫去钻研的人都可以战胜百家乐。 关于百家乐的玩法跟投注方式,网路上有很多百家乐教学、百家乐技巧,但百家乐新手最应该先学习的是所谓的「算牌法」。 https://dantencqe108753.frewwebs.com/17310898/麻將-軟體 2,300万真实玩家,牌咖最多,3秒就凑桌!正宗台湾16张麻将,免注册立刻玩!想上桌,口袋就有麻将桌。 麻将下载_麻将游戏下载免费_麻将游戏哪个好_麻将游戏下载排行榜 台湾麻将16张十三幺下载-台湾麻将16张十三幺手机安卓版下载 臺灣麻將16張十三幺遊戲功能: 1、本地棋牌平台遊戲。熟悉的遊戲模式和規則等著你去體驗和感受。 2 开心打麻将游戏官方版下载 v2.2.2 2,300万真实玩家,牌咖最多,3秒就凑桌!正宗台湾16张麻将,免注册立刻玩!想上桌,口袋就有麻将桌。 新手注册给你不错的游戏福利,打造与众不同的全新游戏服务功能等你来玩,还有大神在这里带你入门,丰厚的游戏金币奖金随时兑换。

Leave a Comment

Your email address will not be published.