Places To Visit In Dharamshala In Hindi

Places To Visit In Dharamshala In Hindi | धर्मशाला में घूमने की 10 खास जगह

नमस्कार दोस्तों Dharamshala Tourist Places in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम धर्मशाला में घूमने के प्रमुख पर्यटन और दर्शनीय स्थल की जानकारी बताने वाले है। धर्मशाला या धर्मशाला शहर कांगड़ा जिले में शहर से 18 किमी दूर स्थित है। यह जगह दलाई लामा के पवित्र निवास के रूप में दुनिया भर में प्रसिद्ध है। धर्मशाला को विभिन्न ऊंचाई वाले ऊपरी और निचले डिवीजनों के रूप में विभाजित किया गया है। निचला मंडल धर्मशाला शहर है। और अपर-डिवीजन 3 किमी दूर स्थित है और लोकप्रिय रूप से मैकलोडगंज के नाम से जाना जाता है। बस कनेक्शन और चहल-पहल वाले बाजार के लिए धर्मशाला का प्रमुखता से दौरा किया जाता है।

धर्मशाला में बौद्ध नेता दलाई लामा का घर है, जो धर्मशाला से निर्वासन में अपनी सरकार चलाते हैं। अब, धौलाधार पर्वतमाला की तलहटी में बसे इस छोटे से शहर से समृद्ध और शाही तिब्बती संस्कृति का अनुभव करने के लिए पृथ्वी पर बेहतर जगह है। वर्ष 1959 में, दलाई लामा अपने अनुयायियों के साथ भारत आए और यही बस गए थे। उन्होंने धर्मशाला शहर को बहुत सुंदर बनाकर, एक छोटे ल्हासा में बदल दिया था । धर्मशाला शहर का यह स्थल वर्षों से ध्यान और शांति का केंद्र बना हुआ है। दुनिया भर से हजारों लोग यहां देखने के लिए आया करते है। तो चलिए Dharamshala In Hindi की शुरुआत करते है।

Dharamshala History In Hindi

धर्मशाला का इतिहास देखे तो धर्मशाला भारत का एक प्रमुख धार्मिक शहर होने के साथ एक प्रसिद्ध तीर्थस्थल भी है। यह हिमाचल प्रदेश का एक शहर जो कांगड़ा में पंजाब का हिस्सा हुआ करता था। प्राचीन समय में यह जिला मुख्यालय था। 1855 में ब्रिटिश हुकूमत ने अपने कार्यालय को धर्मशाला में स्थानांतरित किया। था। आज भी कांगड़ा जिला का मुख्यालय है। धर्मशाला 1849 के समय अस्तित्व में आया था। उसके पहले यहाँ दो शताब्दी तक कटोच राजवंश के शासक का शाशन था।

Dharamshala Photos
Dharamshala Photos

स्थल पर कटोच राजवंश के राजा संसार चंद कटोच और पंजाब के महाराजा रणजीत सिंह के बीच 1810 में ज्वालामुखी की संधि हुई है। आज के समय में भी कटोच राजपरिवार के लोग  धर्मशाला में ही रहते है। अंग्रेजों ने यहाँ धिकार करने के पश्यात गद्दी जनजाति के लोगों को मार दिया था। 1848 में धर्मशाला अंग्रेजों ने अधिकार कर लिया था। 05 मई 1867 में धर्मशाला में नगर परिषद बनाई गई थी।1926 और 1947 के समय में यहाँ महाविद्यालय और इंटर कॉलेज शुरू किया गया था। 1960 में तिब्बत के महामहिम दलाई लामा ने धर्मशाला को अपना मुख्यालय बना लिया था।

धर्मशाला के पर्यटक स्थल

  • Dharamshala Cricket Stadium
  • Namgyal Monastery, Mcleodganj
  • Triund
  • St. John in the Wilderness
  • War Memorial
  • Library of Tibetan Works and Archives
  • Gyuto Monastery
  • Bhagsunag Temple
  • Dal Lake
  • Dalai Lama Temple
  • Tibet Museum
  • Bhagsu Falls
  • Tea Garden
  • Trekking in Dharamsala
  • Kalachakra Temple
  • Jwala Devi Temple
  • Tsuglagkhang, Mcleodganj
  • Masroor Rock Cut Temple
  • Aghanjar Mahadev Temple
  • Dharamshala International Film Festival
  • Kangra art museum
  • Dharamkot Studio
  • Mcleodganj Market
  • Naam Art Gallery
  • Norbulingka Institute
  • Paragliding in Dharamshala
  • Nechung Monastery
  • Namgyalma Stupa
  • Indrahar Pass Trek
  • Pong Dam
  • Nandi View Point
  • Laka Glacier Trek
  • Lahesh Cave Trek
  • View of the Dhauladhar Ranges
  • Guna Devi Temple

धर्मशाला घूमने का सबसे अच्छा समय

वैसे तो पर्यटक वर्ष के किसी भी समय धर्मशाला घूमने के लिए जा सकते है। क्योकि धर्मशाला में बहुत तेज गर्मी नहीं पड़ती है। लेकिन अप्रैल से जून महीने के समय में यहां का तापमान 22° डिग्री से 35° सेल्शियस तक पहुँचता है। जुलाई से सितंबर तक धर्मशाला में मानसून का मौसम छाया रहता है। उस समय भी यहाँ की खूबसूरती देखने लायक होती है। अक्टूबर से मार्च में ठंड का मौसम रहता है।  और उस समय धर्मशाला में पर्यटकों को बर्फबारी भी देखने के लिए मिल सकती है।

Dharamshala Photo Gallery
Dharamshala Photo Gallery

Dharamshala Tourist Place

War Memorial Dharamshala

युद्ध स्मारक धर्मशाला में उन लोगों की याद में बनाया गया था। जिसने हमारे देश को बचाने के लिए लड़ाई लड़ी थी। भारत-चीन युद्ध और संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों के दौरान, कांगड़ा के कई बहादुर सैनिकों ने युद्ध नायकों के रूप में अपनी जान गंवाई थी। उस महान सैनिको के लिए काले पत्थर के तीन विशाल पैनल, प्रत्येक 24 फीट ऊंचे, पत्थर में उनकी स्मृति को संरक्षित करते हैं। युद्ध स्मारक धर्मशाला के काव्यात्मक देवदार के जंगलों से घिरा हुआ है।  स्थल जीपीसी कॉलेज के पास में स्थित है।

Dharamshala Cricket Stadium Dharamshala

राजसी हिमालय पर्वत श्रृंखला की गोद में बसा विचित्र धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम है। यह कांगड़ा घाटी में धौलाधार पर्वत श्रृंखला के बीच 1,457 मास की ऊंचाई पर स्थित है। उसको हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (एचपीसीए) स्टेडियम भी कहा जाता है। दुनिया के सबसे ऊंचे खेल मैदानों में से एक और हिमाचल प्रदेश राज्य स्तरीय क्रिकेट टीम, साथ ही इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) टीम किंग्स इलेवन पंजाब के लिए अभ्यास मैदान के रूप में कार्य करता है। यह क्रिकेट स्टेडियम यात्रा के समय आपको को अजीब महसूस हो सकता है। क्योकि शानदार प्राकृतिक पृष्ठभूमि और ठंडी हवाएं यहाँ चलती हैं।

Dharamshala Images
Dharamshala Images

Masroor Rock Cut Temple Dharamshala

मसरूर रॉक कट मंदिर नगरोटा-सुरियन लिंक रोड पर धर्मशाला में कांगड़ा से 32 किलोमीटर दूर स्थित है। यह एक पुरातात्विक स्थल और आज के समय में एक खंडहर है। यहाँ 15 रॉक कट मंदिरों का एक संयोजन एव वास्तुकला की इंडो-आर्यन शैली में डिजाइन किया गया है। 8 वीं शताब्दी के अवशेषों के अनुसार यह हिंदू देवताओं शिव, विष्णु, देवी और सौरा को समर्पित है। यह परिसर धौलाधार रेंज की ओर उत्तर-पूर्व की ओर है। वर्तमान में अध्ययन के तहत कहाजाता है की योजना का हिस्सा अधूरा छोड़ दिया गया और बाद में भूकंप के कारण परिसर क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

Kangra Art Museum Dharamshala

कांगड़ा संग्रहालय तिब्बती और बौद्ध कलाकृति के शानदार चमत्कारों और उनके समृद्ध इतिहास को समर्पित है। इसके कीमती संग्रह की विशाल विविधता में दुर्लभ सिक्का, गहने, यादगार पेंटिंग, मूर्तियां और मिट्टी के बर्तन देखने को मिलते हैं। आदिवासी संस्कृति का सार उनकी संस्कृति पर कला के उत्कृष्ट टुकड़ों में खूबसूरती की चमक दिखाई देती है। आप धर्मशाला जाते है। तो आप कांगड़ा कला संग्रहालय को जरूर देखना चाहिए।

धर्मशाला
धर्मशाला

Dalai Lama Temple Complex Dharamshala

प्रसिद्ध दलाई लामा मंदिर परिसर एक राजनीतिक-धार्मिक केंद्र है। तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा का मैकलोडगंज में नामग्याल मठ में निवास है। नामग्याल मठ की नींव 16वीं शताब्दी में दूसरे दलाई लामा द्वारा रखी गई थी। यह स्थल का निर्माण मठ में रहने वाले भिक्षु के अभ्यास के लिए किया गया था। शांतिपूर्ण वातावरण दलाई लामा मंदिर परिसर बौद्धों के लिए श्रद्धेय तीर्थ स्थल बन गया है।  जो दुनिया भर के पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। नामग्याल तांत्रिक कॉलेज में वर्तमान में 200 भिक्षु रहते हैं जो मठ की प्रथाओं, कौशल और परंपराओं की रक्षा करने की दिशा में काम करते हैं।

धर्मशाला इमेज
धर्मशाला इमेज

Dal Lake And Nadi Dharamshala

हिमाचल प्रदेश में मैकलोडगंज के कांगड़ा जिले के तोता रानी गांव के पास समुद्र तल से 1,775 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। डल झील एक छोटी लेकिन सुरम्य झील है। उसका नाम श्रीनगर की प्रसिद्ध और खूबसूरत डल झील से लिया गया है। यह झील ऊबड़-खाबड़ पहाड़ों और ऊंचे देवदार के पेड़ों से घिरी हुई है। विचित्र और शांत, झील प्रकृति-प्रेमियों को उनके प्राकृतिक आवास में विभिन्न प्रकार की मछलियों को देखने के लिए आमंत्रित करती है।

Namgyal Monastery, Mcleodganj Dharamshala

प्रसिद्ध नामग्याल मठ, त्सुगलाखंग परिसर के स्थित है। Namgyal Monastery या Mcleodganj धर्मशाला के पास पर्यटकों से सबसे ज्यादा देखी जाने वाली जगहों में से एक कहाजाता है। मंदिर का यह परिसर दलाई लामा के निवास स्थान होने के साथ यहाँ पर मंदिर, किताबों की दुकानों, कई दूसरी दुकानें स्थित हैं। आपको  का दौरा जरूर करना चाहिए।

धर्मशाला की फोटो गैलरी
धर्मशाला की फोटो गैलरी

Triund Dharamshala

त्रिउंड हिमाचल प्रदेश में एक आसान ट्रेक है जो आपको राजसी हिमालय में मार्ग प्रदान करता है। त्रियुंड मैकलोडगंज से 9 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह ट्रेकिंग के लिए एक आदर्श स्थान है, जहां से पूरी कांगड़ा घाटी के खूबसूरत नज़ारे दिखाई देते हैं। यह जगह पिकनिक बनाने के लिए बहुत अच्छी है। त्रिउंड का ट्रेक छोटा और सरल और मैक्लोडगंज या धरमकोट से किया जा सकता है। यह स्थल की स्वछता और प्राचीन वातावरण पर्यटकों के दिल जित लेता है।

धर्मशाला फोटो
धर्मशाला फोटो

Bhagsunag Falls Dharamshala | Bhagsunag Temple

सुंदर ताल और हरी-भरी हरियाली से घिरा भागसुनाग मंदिर मैकलोडगंज से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सबसे पुराने प्राचीन मंदिरों में से एक है। मैक्लोडगंज से 2 किमी दूर भागसू फॉल स्थित है। यह स्थानीय गोरखा और हिंदू समुदाय द्वारा अत्यधिक पूजनीय है। क्योकि मंदिर के चारों ओर दो कुंड पवित्र हैं जिसमे उपचार की चमत्कारी शक्तियां है। भाग्सू फॉल्स का भव्य मंदिर डल झील और कोतवाली बाजार जैसे प्रमुख पर्यटक आकर्षणों से घिरा हुआ है। भागसूनाथ मंदिर प्रसिद्ध भागसू झरने के रास्ते में स्थित है

Jwalamukhi Devi Temple Dharamshala

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्थित ज्वाला देवी मंदिर ज्वाला जी को समर्पित है। एक हिंदू देवी जिसे अनन्त ज्वालाओं के एक सेट द्वारा दर्शाया गया है। भारत में 52 शक्तिपीठों में से यह एक है। जहा देवी सती की जीभ गिरी थी वह स्थल अब ज्वाला देवी मंदिर स्थित है। एक अनोखा मंदिर जिसमें मूर्ति नहीं है। ज्वाला देवी मंदिर में आयोजित पांच आरती मुख्य आकर्षण हैं।

धर्मशाला में घूमने की 10 खास जगह
धर्मशाला में घूमने की 10 खास जगह

Restaurants And Local Food In Dharamshala

प्रसिद्ध पर्यटक स्थल होने की कारन धर्मशाला में खाने के लिए कई रेस्टोरेंट, ढ़ाबे और स्ट्रीट फ़ूड उपलब्ध है। यहां उत्तर भारतीय भोजन, दक्षिण भारतीय भोजन और पंजाबी खाना उपलब्ध है। मगर यहाँ पर थुपका और मोमोज़  फास्ट फूड बहुत ज्यादा स्वादिष्ट है। यहाँ का स्थानीय भोजन तुड़किया भात, थुपका, शप्ता, मोमोज़, मीठा, मैगी और चाय, धम, क्ले ओवन पिज़्ज़ा, भागसू केक और आलू फिंग शा का स्वाद जरूर चखना चाहिए। धर्मशाला में पर्यटकों के ठहरने के लिये बहुत सारी होटल है। जिसमे धर्मशाला यात्रा के समय यात्री ऑनलाइन होटल बुकिंग वेबसाइट से रूम बुक करवा करके धर्मशाला जा सकते है।

How To Reach Dharamshala In Hindi

ट्रेन से धर्मशाला कैसे पहुंचे

धर्मशाला पहुंचने के लिए रात भर की ट्रेन यात्रा एक अच्छा विकल्प है। निकटतम प्रमुख रेलवे स्टेशन 85 किलोमीटर दूर पठानकोट में है। जम्मू-कश्मीर जाने वाली कई ट्रेनें हैं जो पठानकोट में रुकती हैं। धर्मशाला पहुंचने के लिए आप पठानकोट से टैक्सी या बस ले सकते हैं। धर्मशाला से 22 किलोमीटर की दूरी पर एक छोटा रेलवे स्टेशन कांगड़ा मंदिर है। मगर यहां कोई भी महत्वपूर्ण ट्रेन नहीं रुकती है।

सड़क मार्ग से धर्मशाला कैसे पहुंचे

पठानकोट से धर्मशाला पहुँचने में लगभग 3 घंटे लगते हैं। दिल्ली से चंडीगढ़, किरतपुर और बिलासपुर होते हुए ड्राइव में 12-13 घंटे लगने चाहिए। दिल्ली और शिमला से लग्जरी बसें धर्मशाला के लिए चलती हैं। धर्मशाला राज्य संचालित बसों के नेटवर्क के साथ-साथ निजी टूर ऑपरेटरों के माध्यम से दिल्ली और उत्तर भारत के अन्य हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यह यात्रा दिल्ली से लगभग 520 किलोमीटर दूर है।

हवाई जहाज से धर्मशाला कैसे पहुंचे

निकटतम हवाई अड्डा धर्मशाला से लगभग 13 किलोमीटर दूर गग्गल में है। गग्गल हवाई अड्डा धर्मशाला को एयर इंडिया और स्पाइस जेट उड़ानों के माध्यम से दिल्ली से जोड़ता है। भारत के अन्य हिस्सों के पर्यटकों के लिए चंडीगढ़ तक उड़ान भरना और धर्मशाला की अपनी आगे की यात्रा के लिए। टैक्सी बुक करना आसान होगा जो लगभग 275 किलोमीटर दूर है।

Dharamshala Map धर्मशाला की लोकेशन

Dharamshala Tourist Places Video

Interesting Facts

  • धर्मशाला हिमाचल प्रदेश का सबसे प्यारा हिल स्टेशन है। 
  • पहाड़, घाटियाँ, झील, बर्फ और एडवेंचर्स से धर्मशाला बहुत खूबसूरत और सबसे पसंदीदा स्थल है। 
  • धौलाधार पर्वत श्रृंखला धर्मशाला का नैसर्गिक सौंदर्य बढ़ाती हैं।
  • काँगड़ा घाटी के धर्मशाला शहर में 1905 में एक विनाशकारी भूकंप आया था। 
  • धर्मशाला ओक और शंकुधारी पेड़ों के जंगलों के बीच बसा हुआ है। 
  • परमपावन दलाई लामा ने 1960 में यह खूबसूरत जगह को अपना निवास बनाया था।

FAQ

Q : धर्मशाला किस राज्य में है?

भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य के काँगड़ा ज़िले में स्थित एक नगर है।

Q : धर्मशाला स्टेडियम कहां है?

हिमाचल प्रदेश राज्य के काँगड़ा ज़िले में धर्मशाला स्टेडियम स्थित है। 

Q : धर्मशाला का पुराना नाम क्या है?

Dharamsala, Tibetan Refuge (धर्मशाला, तिब्बती शरणागाह)

Q : धर्मशाला शब्द का अर्थ क्या होता है?

यात्रियों को निःशुल्क या कम शुल्क पर ठहरने की व्यवस्था उसे धर्मशाला कहते है। 

Q : धर्मशाला का पर्यायवाची शब्द क्या है?

सदावत

Conclusion

आपको मेरा Tourist Places Of Dharamshala बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Dharamshala weather, Dharamshala stadium

, Delhi to dharamshala से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Dharamshala temperature या Places to visit near me की कोई जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

इसके बारेमे भी जानिए –

पुष्कर के प्रमुख पर्यटन स्थल और जानकारी

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस का इतिहास और जानकारी 

हेमिस राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

नामेरी राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

मानस राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *