Patwon Ki Haveli History In Hindi

Patwon Ki Haveli History In Hindi | पटवों की हवेली का इतिहास और जानकारी

नमस्कार दोस्तों Patwon Ki Haveli In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम पटवों की हवेली का इतिहास और संपूर्ण जानकारी बताने वाले है। पटवों की हवेली राजस्थान के जैसलमेर शहर में एक प्रसिद्ध पर्यटक आकर्षण और ब्रोकेड व्यापारियों की हवेली के रूप में प्रसिद्ध है। उसमे आपको जटिल नक्काशी वाली कई खिड़कियां और बालकनियाँ दिखाई देती हैं। और अंदर देखने पर हवेली की भव्यता को देख सकते हैं। वहाँ जाने के लिए यात्रिओ को संकरी गली का सामना करना होता है। यह 19वीं शताब्दी में एक अमीर व्यापारी ने निर्मित पांच छोटी हवेलियों का समूह है।

स्थानीय लोग हवेली को कोठारी की पटवा हवेली भी कहते हैं। पाँच हवेलियाँ परिवार के लिए बनाई गई थीं। वह हवेली शहर की सबसे बड़ी हवेली थी। उस की कलाकृतियाँ और पत्थर का काम पटवा परिवार की शाही जीवन शैली की झलक दिखता हैं। आज इमारत भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अंतर्गत आती है। हवेली की वास्तुकला की जटिलता, उत्कृष्ट दीवार पेंटिंग, मनोरम दृश्य के लिए खुलने वाली बालकनी, प्रवेश द्वार, मेहराब और सबसे महत्वपूर्ण रूप से दीवार पर काम करने वाले दर्पण में दिखाई देती है।

Patwon Ki Haveli History In Hindi

पटवों की हवेली का निर्माण 1800 के दशक की शुरुआत में गुमान चंद पटवा ने किया गया था। जो जैसलमेर के एक समृद्ध व्यापारी थे। उनका परिवार सोने और चांदी की कढ़ाई के धागों के प्रसिद्ध डीलरों में से एक माना जाता है। उन्हें ब्रोकेड व्यापारियों के रूप में पहचाना जाता था। और हवेली को ब्रोकेड व्यापारियों की हवेली भी कहा जाता था। अफवाह यह है कि परिवार उस समय अवैध रूप से अफीम की तस्करी में भी शामिल था।

गुमान चंद पटवा जैसलमेर में एक हवेली बनाना चाहते थे। और 1805 में इसका निर्माण शुरू किया था। जैसे-जैसे समय बीतता गया और जैसे-जैसे उन्होंने व्यापार में अधिक मुनाफा कमाया उन्होंने उसी परिसर में अपने बेटों के लिए पाँच अलग-अलग हवेलियाँ बनाने का फैसला किया था। पटवों की हवेली को पूरी तरह से बनने में तक़रीबन 60 साल का समय लगा तब वह जैसलमेर की सबसे बड़ी हवेली बन पाई थी।

Patwon Ki Haveli Photos
Patwon Ki Haveli Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – पचमढ़ी हिल स्टेशन यात्रा की संपूर्ण जानकारी

Tips To Visit Patwon Ki Haveli

  • जैसलमेर थार रेगिस्तान के बीच में होने के कारण काफी गर्म शहर है।
  • उसके कारन मौसम के आधार पर जरुरी कपड़े ले जाना आवश्यक है।
  • विशाल हवेली परिसर घूमने के लिए आरामदायक जूते पहनने चाहिए है।
  • हवेलियों देखने के लिए टोपी और धूप का चश्मा रखना चाहिए।
  • पर्यटकों के लिए गाइड और कुछ शुल्क पर फोटोग्राफी की मंजूरी होती है।
  • हवेली में खड़ी सीढ़ियांहोने है, वृद्ध और गठिया या घुटने की समस्या वाले को ध्यान रखना है।

Best Time To Visit Patwon Ki Haveli Jaisalmer

पटवों की हवेली जैसलमेर की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – जैसलमेर में पटवों की हवेली जाने का सबसे अच्छा समय नवंबर और फरवरी के महीनों के बीच है। जैसलमेर की भौगोलिक स्थिति एक गर्म और शुष्क शहर बनाती है। मगर हवेली और उसके आसपास के कई अन्य आकर्षणों को देखने के लिए सर्दियों का मौसम गर्मियों की तुलना में बहुत ठंडा होता है। तापमान अधिकतम 30 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 7.5 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है।

यह हवेली की वास्तुकला चरम दोपहर के दौरान भी काफी ठंडी रखती है। उसके कारन पर्यटक दिन के किसी भी समय आकर्षण का दौरा कर सकते हैं। ग्रीष्मकाल मार्च के महीने में शुरू होता है और जून तक रहता है। साल का यह समय बेहद गर्म होता है। और तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है। जुलाई और सितंबर के बीच यहाँ मानसून के मौसम का अनुभव होता है। यहाँ वर्षा 190 से 210 मिमी है। जो शहर को शायद ही ठंडा करती है।

Patwon Ki Haveli Images
Patwon Ki Haveli Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – पचमढ़ी हिल स्टेशन यात्रा की संपूर्ण जानकारी

Patwon Ki Haveli Entry Fee

पटवों की हवेली में प्रवेश शुल्क की बात करे तो उसमे प्रवेश शुल्क भारतीय पर्यटक के लिए प्रति व्यक्ति 20 रूपये और विदेशी पर्यटक के लिए 100 रुपये कैमरा ले जाने के लिए 100 रूपये देने होते है। यहाँ गाइड लेने के लिए आपको 100 से 200 रुपए शुल्क देना होता है। 

Patwon Ki Haveli Timings

पटवों की हवेली का समय – सुबह 9 से शाम 6 बजे तक खुली रहती है।

पटवों की हवेली का इतिहास
पटवों की हवेली का इतिहास

Things To do In Patwon Ki Haveli करने लायक चीज

  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण का कार्यालय पटवों की हवेली के परिसर में स्थित है।
  • यहाँ पर्यटक प्रमुख कलाकृतियाँ और ऐतिहासिक साक्ष्य देख सकते हैं।
  • अनगिनत झरोखे और बालकनियाँ यात्रिओ के लिए काफी दर्शनीय हैं।
  • वह आंगन का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करते हैं।
  • मेहराबों, द्वारों, झरोखों, अपार्टमेंटों और प्रांगण में दर्पण-कार्य और डिजाइन की लघु नक्काशी मौजूद है।
  • निवासियों की जीवन शैली और उस युग की कलाकृति को दर्शाने वाला संग्रहालय है।
  • पहली हवेली सबसे लोकप्रिय और उत्कृष्ट वास्तुकला है।
  • वह अन्य चार में से सबसे अच्छी तरह से डिजाइन की गई हवेली है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – नालदेहरा के पर्यटन स्थल और जानकारी

पटवों की हवेली की फोटो गैलरी
पटवों की हवेली की फोटो गैलरी

Patwon Ki Haveli Architecture

पटवों की हवेली वास्तुकला – पटवों की हवेली पारंपरिक जैसलमेर वास्तुकला में एक 5 मंजिला राजपुताना हवेली है। यह पीले बलुआ पत्थर से बना है और उसमें जटिल विवरण हैं। प्रत्येक मंजिल एक अलग हवेली बनाती है। यह संरचना की उत्कृष्ट दीवार चित्रों, बालकनियों में है जो एक मनोरम दृश्य द्वार, मेहराब के लिए खुली हुई है। भूतल पर हवेली उन सभी में सबसे बड़ी है। हवेलियों के पूरे परिसर को बलुआ पत्थर में उकेरे गए विभिन्न प्रकार के पैटर्न से खूबसूरती से सजाया गया है। 

हवेली के एक खंड को मुरल वर्क से डिजाइन किया गया है। प्रवेश द्वार और मेहराब, विशेष रूप से, बड़े पैमाने पर और जटिल रूप से सजाए गए हैं। ऊंची छतों, खंभों, चौखटों, शीशे के काम और पेंटिंग्स के साथ आंतरिक सज्जा उतनी ही आकर्षक है। हवेली में 60 पारंपरिक झरोखा और खिड़कियां हैं। और प्रत्येक में नक्काशीदार पत्थर के फ्रेम और जाली का काम है जो प्राकृतिक प्रकाश के साथ जगह को रोशन करता है और क्रॉस वेंटिलेशन में मदद करता है।

पटवों की हवेली इमेज
पटवों की हवेली इमेज

Kothari’s Patwa Haveli Museum 

जैसलमेर वास्तुकला के अलावा पर्यटक भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने बनाए हाउस संग्रहालय को देख सकते हैं। संग्रह में हवेली से 19वीं शताब्दी से संबंधित कई कलाकृतियां हैं। संग्रहालय में अन्य कलाकृतियाँ हैं। वह जैसलमेर की संस्कृति और रीति-रिवाजों में एक खिड़की प्रदान करती हैं। कई प्रवेशद्वारों, मेहराबों, बालकनियों आदि में बीते युग के कुछ समृद्ध दर्पण कार्य हैं। जिन्हें पर्यटक देख सकते हैं।

साइट की खोज करते समय अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए कोई भी व्यक्ति 200/- रुपये के एक छोटे से शुल्क पर एक गाइड किराए पर लेना पसंद कर सकते है। पटवों की हवेली के अंदर फोटोग्राफी की अनुमति है लेकिन पर्यटकों को अपने वीडियो या स्टिल कैमरों को अंदर ले जाने के लिए एक छोटा सा शुल्क देना होता है। उसके बाद की फोटो ले सकते है।

Patwon Ki Haveli latest pics
Patwon Ki Haveli latest pics

इसके बारेमे भी पढ़िए – कुलधरा का इतिहास और कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी

Best Places To Visit Near Patwon Ki Haveli Jaisalmer

  • जैन मंदिर जैसलमेर
  • जैसलमेर का किला
  • गडीसर झील जैसलमेर
  • डेजर्ट नेशनल पार्क जैसलमेर
  • सैम सैंड ड्यून्स
  • नथमल की हवेली
  • डेजर्ट कल्चर सेंटर एंड म्यूजियम
  • ताज़िया टॉवर और बादल महल
  • अमर सागर झील
  • कुलधरा गाँव जैसलमेर
  • खाबा किला
  • बड़ा बाग जैसलमेर
  • शांतिनाथ मंदिर जैसलमेर
  • चंद्रप्रभु मंदिर जैसलमेर
  • सलीम सिंह की हवेली
  • लोद्रवा जैसलमेर
  • भारत-पाक सीमा जैसलमेर
  • व्यास छतरी
  • तनोट माता मंदिर
  • रामदेवरा मंदिर जैसलमेर
  • डेजर्ट सफारी जैसलमेर

Best Local Food Items Of Jaisalmer

  • दाल बाटी चूरमा
  • मुर्ग-ए- सब्ज
  • पंचधारी लड्डू
  • मसाला रायता
  • पोहा
  • जलेबी
  • घोटुआ
  • कड़ी पकौडा
  • स्नैक्स

इसके बारेमे भी पढ़िए – ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क घूमने की जानकारी

Patwon Ki Haveli
Patwon Ki Haveli

How To Reach Patwon Ki Haveli

ट्रेन से पटवों की हवेली कैसे पहुंचे

How To Reach Patwon Ki Haveli By Train – पर्यटक रेल से पटवों की हवेली की यात्रा करना चाहते है। तो आपको जैसलमेर रेलवे स्टेशन के लिए ट्रेन लेनी होती है। क्योंकि यह पटवों की हवेली के लिए सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन है। वहाँ से यात्री आसानी से पटवों की हवेली तक पहुंच सकते है। 

सड़क मार्ग से पटवों की हवेली कैसे पहुंचे

How To Reach Patwon Ki Haveli By Road – पटवों की हवेली जैसलमेर के मध्य क्षेत्र में अमर सिंह पोल में स्थित है। अधिकांश प्रमुख शहर की सड़कें क्षेत्र की ओर जाती हैं, लेकिन एक निश्चित बिंदु से पर्यटकों को संकरी गलियों से हवेली तक पहुंचने के लिए पैदल जाना पड़ता है। शहर के भीतर आकर्षण तक पहुँचने के लिए सार्वजनिक परिवहन का उपयोग कर सकते है। यहाँ रेलवे स्टेशन के सामने मुख्य बस स्टैंड बीकानेर एंड जयपुर के पास गोल्डन बस टर्मिनल जैसलमेर के दो मुख्य बस स्टैंड हैं।

हवाई जहाज से पटवों की हवेली कैसे पहुंचे

How To Reach Patwon Ki Haveli By Airplane – हवाई जहाज से जैसलमेर या पटवों की हवेली की यात्रा करना चाहते हैं। तो शहर में कोई हवाई अड्डा नहीं है। लेकिन उसका निकटतम हवाई अड्डा जोधपुर हवाई अड्डा जो 300 कि.मी दूर स्थित है। जोधपुर से हवेली जाने के लिए आप टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।

पटवों की हवेली का फोटो
पटवों की हवेली का फोटो

इसके बारेमे भी पढ़िए – दुनिया के न्यूड बीच जहां बिना कपड़ों के नहाते हैं लोग

Patwon Ki Haveli Map पटवों की हवेली का लोकेशन

Patwon Ki Haveli Information In Hindi Video

Interesting Facts

  • हवेलियों के प्रवेश द्वार और मेहराब को विशेषताओं के कारण एक दूसरे से अलग किया गया है।
  • वह प्रत्येक दर्पण के काम और पेंटिंग की एक निश्चित शैली को दर्शाता है।
  • सभी पांच हवेलियां पांच पटवा भाइयों को समर्पित हैं।
  • पटवों की हवेली राजस्थान में बनने वाली दूसरी और जैसलमेर में बनने वाली पहली हवेली थी।
  • हवेली के निर्माण में सबसे अधिक समय लगा 60 वर्षों की अवधि हुई थी।
  • पटवों की हवेली में पूरे परिसर में 60 से अधिक बालकनी हैं।
  • उससे परिसर का प्रांगण देखा जा सकता है।
  • बालकनियाँ और खिड़कियाँ भी हवेलियों को बहुत हवादार बनाती हैं।
  • रॉयल्टी के प्रतीक के रूप में आज हवेलियों हक़ सरकार के पास है।
  • यहाँ भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और राज्य के कला और शिल्प विभाग के कार्यालय हैं।
  • हवेली का पूरा परिसर पीले बलुआ पत्थर से बना है।

FAQ

Q .पटवों की हवेली कहां पर है?

पटवों की हवेली राजस्थान के जैसलमेर में स्थित है।

Q .पटवों की हवेली में कितनी मंजिल है?

पटवों की हवेली में कुल मिलाकर पाँच मंजिल है।

Q .पटवों की हवेली किस जिले में स्थित है?

जैसलमेर

Q .पटवों की हवेली का निर्माण किसने करवाया था?

पटवों की हवेली का निर्माण गुमन चंद पटवा ने 1805 ई0 में अपने पांच बेटों के लिए कराया था।

Q .क्या पटवों की हवेली के अंदर कैमरे की अनुमति है?

हां, पटवों की हवेली के अंदर कैमरे की अनुमति है मगर कैमरे को परिसर के अंदर ले जाने के लिए 50 रुपये का भुगतान करना होता है।

Q .क्या पटवों की हवेली के अंदर खाना ले जाने की इजाज़त है?

नही पटवों की हवेली के अंदर खाना नहीं ले जा सकते है।

Conclusion

आपको मेरा लेख Patwon Ki Haveli History In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Patwon Ki Haveli owner, Places to visit in jaisalmer

और Patwon Ki Haveli kahan sthit hai से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Jaisalmer fort to patwon ki haveli distance की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

पटवों की हवेली है, पटवों की हवेली wikipedia, जैसलमेर की सबसे बड़ी हवेली, जैसलमेर तस्वीरें, जैसलमेर की हवेलियां, Patwon Ki Haveli wiki, Patwon Ki Haveli ppt, Patwon Ki Haveli plan, Sam sand dunes

इसके बारेमे भी पढ़िए – चंदोली नेशनल पार्क घूमने की सम्पूर्ण जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.