Muthappan Temple History In Hindi Kerala

Muthappan Temple History In Hindi Kerala | मुथप्पन मंदिर केरल

Muthappan Temple या फिर परसनीकादवु मुथप्पन मंदिर मुथप्पन यह दोनों वलपत्तनम नदी के किनारे पर मौजूद हिंदू मंदिर है। और यह मंदिर केरल के कन्नूर जिले में तालीपरम्बा से करीबन 10 किलोमीटर की दुरी पर उपस्थित है। 

parassinikadavu temple के देवता श्री मुथप्पन है। और उस मंदिर को दो पात्रो से विभाजित किया गया है  उसमे 1.तिरूवप्पन और 2.वेल्लत्तम के अलग अलग पात्रो से भी जाना जाता है। 

वहा की मान्यता के मुताबिक इस मंदिर के लोक देवता इष्टदेव को मन जाता है। लेकिन इष्टदेव को वेदिक देव नहीं माना जाता है ,क्योकि इन्हे सभी लोग शिव और विष्णु से भी सम्बोधते है। आज हम इस लेख में parassinikadavu temple के बारे में बताएँगे अगर आप इस मंदिर के बारे में जानना चाहते है तो हमारे इस लेख को पूरा पढियेगा। 

मंदिर का नाम  मुथप्पन मंदिर
राज्य केरल 
जिला  कन्नूर
स्थान तालीपरम्बा
धर्म  सभी धर्म से सम्बंधित
मंदिर का प्रसाद चाय मछिल और देशी शराब

Muthappan Temple History In Hindi

sri parassinikadavu मुथप्पन मंदिर एक ऐसा मंदिर हे जो सभी भक्तो का बहुत ही आकर्षित करता है। क्योकि इस मंदिर में सभी धर्म के लोगो के लिए एक समान माना जाता है। यहाँ पर एक सबसे अधिक तथ्य यह है  की इस मंदिर में कुत्तो को सबसे अधिक महत्व दिया जाता है और कुत्तो को पवित्र भी माना जाता है। 

भगवान मुत्तप्पन का वाहन कुत्ता है जिसके लिए कुत्ते को सबसे ज्यादा महत्व दिया जाता है।

मुथप्पन मंदिर के मेन गेट के पास ही कुत्ते की बड़ी प्रतिमा भी बनाई हुई है।

भगवान मुथप्पन के मंदिर मुथप्पन ने जो भी भक्त जहा से भी आया होता है।

उन सभी को बिलकुल निःशुल्क में भोजन मिलता है।

उस कारन से उत्तरी केरल का एक सबसे महान और पवित्र स्थान इस मंदिर को माना जाता है। 

parassini temple मुथप्पन मंदिर में सभी भक्तो के लिये प्रसाद के रूप में यहाँ पर काली बींस और गरमा गरम चाय दिया जाता है। इस प्रसाद को भक्ति का प्रसाद भी कहा जाता है parassinikadavu muthappan मंदिर तलिप्परम्बा करीबन 10 किलोमीटर की दूरी पर है। और उस मंदिर के भगवान  मत्तप्पन हैं और उनको दो भगवान् के एक अवतार भी माना जाता है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Bekal Fort Kerala History In Hindi kerala

मुथप्पन मंदिर केरल –

तिरुवप्पना को भगवान विष्णु के नाम से जाना जाता है और  वेल्लाट्टम को भगवान शिव के नाम से भी जाना जाता है।  उनके बारे में यह भी कहा जाता है  की सबसे ज्यादा उन्होंने ताउम्र दलितों और कमजोरो की रक्षा के लिए संघर्ष किया था भगवान मुत्तप्पन देवता को देशी शराब और मछली का भोग दिया जाता है और इसको सबमे बाटा भी जाता है उस मंदिर को तेय्यम के लिए भी प्रसिद्ध माना जाता है और वह आनुष्ठानिक कला भी है और इसकी रोज परिक्रमा की जाती है।

परसनीकादवु मुथप्पन मंदिर
परसनीकादवु मुथप्पन मंदिर

Muthappan Temple खुलने और बंध होने का समय – 

parassinikadavu muthappan temple timings  रोजाना सुबह खुलता है और शाम को आरती होजाने के 1 या 2 घंटे बाद  बंद हो जाता है और यहाँ पर अनेक देश विदेश से अनेक लोग दर्शन करने के लिए आते है। parassinikadavu muthappan darshan timings सुबह से लेकर शाम तक आप कभी भी दर्शन कर सकते हो 

Muthappan Temple में पूजा करने का समय –

parassinikadavu muthappan temple pooja timings सुबह और शाम को दो बार होती है। 

मुथप्पन मंदिर में प्रवेश शुल्क –

यह मुथप्पन मंदिर में सभी भक्तो को मंदिर में प्रवेश बिलकुल नि शुल्क  रखा गया है और उस मंदिर में भक्तो के लिए भोजन भी फ्री में दिया जाता है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Guruvayur Temple Kerala History In Hindi

मुथप्पन मंदिर के आस-पास के पर्यटन स्थल –

पद्मनाभस्वामी मंदिर :

श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर केरल की राजधानी में तिरुवनंतपुरम में मौजूद एक प्रमुख धार्मिक मंदिर है। और parassini temple के नजदी की मंदिर में से एक मंदिर है श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के ऊपर सोने की परत लगाए गई है। आपको बता दे की पद्मनाभ मंदिर 108 दिव्य स्थानों में से एक माना जाता है। 

पद्मनाभस्वामी मंदिर वैष्णववाद धर्म के पूजा करने का मुख्य स्थान है। पद्मनाभ मंदिर में  के भगवान अवतार पद्मनाभ स्वामी की पूजा की जाती है। parassinikadavu temple भारत के उन मंदिरो में से एक है जहा पर फ़क्त हिन्दू धर्म लोगो को ही प्रवेश कर सकते है। पद्मनाभ मंदिर का रहस्य और मंदिर की भव्यता सब लोगो को अपनी और आकर्षित करता है। 

अगर आप शांति का अनुभव करना चाहते है तो आपको इस पद्मनाभ मंदिर का प्रवास करना चाहिए।

पद्मनाभ मंदिर उसके सख्त नियमो के लिए पहचाना जाता है।

पद्मनाभ मंदिर में आनेवाले पर्यटक और भक्तो के लिए एक विशिस्ट प्रकार का ड्रेस पहनना पड़ता है।

मंदिर के ऐसे नियमो के होते हुवे भी भारी संख्या में भक्तो की संख्या दर्शन करने के लिए आते है।

 ताली मंदिर कोझीकोड :

ताली मंदिर केरल के कोझीकोड जिले में उपस्थित भगवान शिव का मंदिर है और यह मंदिर  मुथप्पन मंदिर के नजदीक मंदिरो में से  मंदिर माना जाता है  

यह ताली मंदिर का निर्माण 14 वी शताब्दी दवारा बनाया गया था।

मंदिर लकड़ी और पीतल की नक्काशी का बना हुवा अद्भुत मंदिर है।

यह मंदिर करामाना नदी के पास पहाड़ की चोटी पर स्थित है।

Muthappan Temple
Muthappan Temple

मन्नारसाला नागराजा मंदिर :

मन्नारसला नागराजा मंदिर केरल का सबसे रहस्यमय मंदिर है।

यह मंदिर भी मुथप्पन मंदिर की बाराबरी का ही मंदिर है।

इस मंदिर की उरुली कमिझथल बहुत ही प्रसिद्ध है।

नाग देवो को समर्पित मन्नारसाला नागराजा मंदिर अनेक लोगो की आस्था की निशानी है।

अनेक स्त्री यहाँ पर संतान प्राप्ति  करने के लिए अनुष्ठान करवाती है।

इस मंदिर में नागों की बहुत सारी तस्वीरों से दीवार सजी हुई है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Padmanabhaswamy Temple History In Hindi Kerala

अनंतपुरा झील मंदिर :

अनंतपुरा झील मंदिर केरल के दक्षिणी भाग में उपस्थित सुन्दर झील मंदिर है।

और यह मंदिर भी मुथप्पन मंदिर से थोडिक दुरी पर है।

पानी के बिच में होने की वजह से बहुत ही सुन्दर लगता है 

मंदिर में भगवान अनंतपद्मनाभ को समर्पित सबसे सुन्दर मंदिर में

ताजे झरने के पानी की पूर्ती की जाती है।

उस पानी के अंदर बाबिया नामक एक शाकाहारी मगरमच्छ है।

muthappan temple History In Hindi
muthappan temple History In Hindi

 थिरुनेली मंदिर वायनाड घाट :

भारत के दक्षिण में केरल में थिरुनेली मंदिर वायनाड घाटी पर बहुत ही प्राचीन विष्णु मंदिर स्थित है।  और यहा पर भगवान विष्णु को थिरुनेली नाम से जाना जाता है। अनेक मान्यता को के जरिये इस प्राचीन मंदिर का निर्माण खुद ब्रह्मा जी ने किया था। मुथप्पन मंदिर के जैसे ही यहाँ पर अनेक देश विदेश से गुमने के लिए कई सारे लोग भी आते है। और जगह को अच्छी तरह से देखते है। 

मुथप्पन मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय

sri muthappan temple kannur timings  आप गर्मी के मौसम में और ठंडी के मौसम में भी जा सकते और क्योकि यह दोनों समय वातावरण वहुत ही सुन्दर होता हे और इसकी वजह से आपको क्यों भी समस्या नहीं होगी। How to go to parassinikkadavu temple in Kerala यह जगह पूरी फेमिली के साथ गुमने की सबसे अच्छी जगह है। आप यहाँ पर सबको एक समान ही माना जाता है  ,और उसकी वजह से ही यहाँ पारा जाना बहुत ही अच्छा है 

Muthappan Temple कैसे पहुंचे –

मुथप्पन मंदिर हवाई मार्ग से कैसे पहुंचे :

भगवान मुत्तप्पन देवता के मंदिर दर्शन करने के लिए आप करीपुर अन्तर्राष्ट्रीय हवाई मार्ग से केरल के कन्नूर जिले से करीबन 110 किलोमीटर दुरी पर है। यहां से आप ऑटो या टेक्सी की मदद के जरिये आप भगवान मुत्तप्पन देवता के मंदिर दर्शन करने के लिए जा सकते हो और इससे आपको आसानी होगी।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Bibi Ka Maqbara History In Hindi Maharashtra

Muthappan Temple रेलवे से कैसे पहुंचे :

आपको मुथप्पन मंदिर में जाने के लिए केरल के रेलवे स्टेशन कन्नूर जिले से करीबन 16 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है उसकी वजह से रेलवे के जरिये बहुत ही आसानी से पहुंच सकते है। 

मुथप्पन मंदिर सड़क मार्ग से कैसे पहुंचे :

मुथप्पन मंदिर तक पहुँचने के लिए आप केरल के बस स्टेशन के बस की मदद से आप कन्नूर जिले तक जा सकते हो और फिर आप वहा से पैदल या फिर ऑटो की मदद से पहुंच सकते है। 

Parassinikadavu Sree Muthappan Madapura Map –

Muthappan Temple Video –

मुथप्पन मंदिर के प्रश्न –

1.  श्री परसनीकादवु मुथप्पन मंदिर कहा पर स्थित है ?

श्री परसनीकादवु मुथप्पन मंदिर कन्नूर जिले में तालीपरम्बा से करीबन 10 किलोमीटर की दुरी पर उपस्थित है। 

2 . मुथप्पन मंदिर में प्रसाद के रूप में क्या मिलता है ?

भगवान मुत्तप्पन देवता के मुथप्पन मंदिर में प्रसाद के रूप में सभी भक्तो को गरमा गरम चाय दी जाती है। 

3 . मुथप्पन मंदिर के  नृत्य की पौराणिक कथा ?

जानकारी के मुताबिक यहा कुत्तो को सबसे अधिक पवित्र माना जाता है।

क्योकि भगवान् मुथप्पन के वाहन हैं।

यह भघवान मुथप्पन मंदिर अपने नियम के लिए भी ज्यादा फेमस है।

थियम ,कथकली के समान ही इस सबसे अच्छा और सुंदर लोक नृत्य भी है। 

उस नृत्य के लिए अनेक कलाकारों के द्वारा अलग अलग पौराणिक पात्रो की भी अनेक सारी कथाये दिखाते है। 

4 . मुथप्पन मंदिर किस धर्म से सम्बंधित है ?

मुथप्पन मंदिर का सभी धर्म से सम्बंधित है मंदिर में सबको एक समान ही माना जाता है।

और सबको यहाँ पर निशुल्क भोजन भी दिया जाता है। 

ऐसा भी कहा जाता है sree muthappan मंदिर सभी धर्मो के लिए बना है।

यहाँ पर सभी धर्म के लोग दर्शन के लिए बहार से भी आते है। 

5 . मुथप्पन मंदिर में प्रसाद में क्या चढ़ाया जाता है ?

muthappan temple kannur में भगवान को प्रसाद में चाय मछिल और देशी शराब चढ़ाए जाती है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Nagaur Fort History In Hindi Rajasthan

Conclusion –

दोस्तों उम्मीद करता हु आपको मेरा ये लेख parassinikadavu temple के बारे में पूरी तरह से समज आ गया होगा। इस लेख के द्वारा हमने muthappan temple या फिर  परसनीकादवु मुथप्पन मंदिर के बारे में जानकारी दी अगर आपको इस तरह के अन्य ऐतिहासिक स्थल और प्राचीन स्मारकों की जानकरी पाना चाहते है तो आप हमें कमेंट करे। आपको हमारा यह आर्टिकल केसा लगा बताइयेगा और अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे। धन्यवाद।

1 thought on “Muthappan Temple History In Hindi Kerala | मुथप्पन मंदिर केरल”

  1. Pingback: Fort William Kolkata History In Hindi Kolkata | फोर्ट विलियम कोलकत्ता

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *