Meghalaya Tourism In Hindi

Meghalaya Tourism In Hindi | मेघालय के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

नमस्कार दोस्तों Meghalaya Tourism In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम मेघालय के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी बताने वाले है। भारत के सबसे खूबसूरत राज्यों में से एक मेघालय भारत का पूर्वी राज्य है। मेघालय की राजधानी शिलांग और वह 111 कि.मी की दुरी पर स्थित है। मेघालय पर्यटन स्थल अपनी सुंदर पर्वत मालाओं, धूप, भारी वर्षा, भोजन, उच्च पठारों, लुभावने झरनों, नदियों और घास के मैदानों के लिए प्रसिद्ध है। संस्कृत भाषा में मेघालय का अर्थ मेग या बादलों का निवास स्थान होता है।

मेघालय पर्यटन में यात्रि को उष्णकटिबंधीय वन, वनों में पक्षि, स्तनधारियों, कीड़ो और सरीसृपों को देखने का मजा मिलता है। पर्यटन के लिहाज से मेघालय टूरिस्ट प्लेस का भारत का बहुत अधिक महत्व है। देश के साथ यहाँ विदेशी सैलानियो की भी भीड़ होती है। क्योकि मेघालय पर्यटकों को पहाड़ियों, घाटियों, झीलों, गुफाओं और झरनों से मंत्रमुग्ध करते हुए। सुंदर बादलों के साथ मिलकर बहुत ही शांत, सुंदर रूप देखने को देता हैं। तो चलिए हमारे देश के स्वर्ग और सबका पसंदीदा राज्य Meghalaya In Hindi की जानकारी देखते है।

History of Meghalaya

मेघालय का इतिहास – मेघालय का शानदार इतिहास नवपाषाण युग से पहले का प्रमाण मिलता है। खासी पहाड़ियों, गारो पहाड़ियों और पड़ोसी राज्यों में पाए जाने वाले कुछ नवपाषाणकालीन कृषि पद्धतियां आज भी प्रचलित हैं। अंग्रेज भारत आए और औपनिवेशिक शासन लागू किया, तो उन्होंने खासी, गारो और जयंतिया लोगों के सभी राज्यों को समाप्त कर दिया था। अंग्रेजों ने 1835 में मेघालय को असम में शामिल कर लिया था। मेघालय का इतिहास अक्सर बादलों की तरह ही मनमौजी था।

बंगाल के विभाजन के बाद मेघालय असम और पूर्वी बंगाल का हिस्सा बन गया था। बंगाल विभाजन को उलटने के बाद मेघालय पूरी तरह से असम का हिस्सा बन गया था। भारत को स्वतंत्रता मिलने के पश्यात मेघालय को असम राज्य से एक अलग राज्य का आंदोलन 1960 में शुरू हुआ, और 1969 में स्वायत्त राज्य मेघालय के साथ समाप्त हुआ। 1972 में, मेघालय को पूर्ण राज्य का दर्जा और स्वायत्तता प्रदान की गई।

Meghalaya Images
Meghalaya Images

इसके बारेमे भी जानिए – चेरापूंजी में नोहकलिकाई वॉटरफॉल्स घूमने की जानकारी

Meghalaya Tourism Place

  • Shillong
  • Cherrapunji
  • Balpakram National Park
  • Don Bosco Museum
  • Elephant Falls
  • Khasi Hills
  • Lady Hydari Park
  • Double Decker Living Root Bridge
  • Mawlynnong Village
  • Kyllang Rock
  • Umiam Lake
  • Baghmara
  • Nohkalikai Falls / Nohkalikai Waterfalls
  • Mawsmai Cave
  • Nongpoh
  • Tura City
  • Jowai City
  • State Museum Meghalaya 
  • Laitlum Canyon
  • Dawki
  • Williamnagar
  • Mawphlang Sacred Forest
  • Mawsynram
  • Nohsngithiang Falls
  • Jaintia Hills

Best Time to Visit Meghalaya

मेघालय घूमने का सबसे अच्छा समय – मेघालय यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च महीने का माना जाता है। क्योकि सर्दियों के महीनों के मौसम में यहाँ का वातावरण बहुत खुशनुमा और भी मौसम सुहावना होता है। वैसे तो किसी भी मौसम में मेघालय घूमने जा सकते है। मगर बेस्ट टाइम अक्टूबर से मार्च का ही हैं। क्योकि सर्दियों के दौरान मेघालय में फैमिली वेकेशनर, सोलो बैकपैकर, हनीमूनर या बैचलर ग्रुप का हिस्सा हों आप बहुत अच्छे से मजा ले सकते है। भारत देश में मेघालय को सबसे गीला क्षेत्र माना जाता है, इसीलिए राज्य में औसतन 250 सेमी वर्षा होती है। यहाँ का भूभाग मंत्रमुग्ध कर देने वाला होता है।

Meghalaya photo gallery
Meghalaya photo gallery

Meghalaya Tourist Attraction

Cherrapunji Meghalaya Tourism

साल भर वर्षा होने वाला भारत का एक मात्रा शहर चेरापूंजी मेघालय का एक दर्शनीय शहर है। चेरापूंजी Meghalaya राज्य की राजधानी शिलांग से 50 किमी दक्षिण पश्चिम में पूर्वी खासी पहाड़ियों में स्थित है। यह शहर को सोहरा या चुर्रा के नाम से भी जाना जाता है। उसका अर्थ संतरे की भूमि होता है। चेरापूंजी की चट्टानें बांग्लादेश के मैदानी विस्तारो के नयनरम्य दृश्य प्रस्तुत करती हैं। यह भारत का एक ऐसा स्थल है जो अपनी अदभुत जलवायु, घाटियों और झरनों के लिए बहुत प्रसिद्ध है।

चेरापूंजी में ही वर्ष में 11,777 मिमी वर्षा होती रहती है। पर्यटकों को बारिश का मौसम पसंद है या प्राकृतिक दृश्यों को देखने की चाह है। तो आपको एक बार चेरापूंजी की यात्रा जरूर करनी चाहिए। लगातार बारिश से मिट्टी का कटाव और चेरापूंजी के आसपास की घाटियों की भूमि नष्ट हो गई है। यह स्थल नोहकलिकाई जलप्रपात, डबल डेकर लिविंग रूट ब्रिज, और मवसमाई गुफा के लिए प्रसिद्ध है।

Tura City Meghalaya Tourism

मेघालय के पश्चिमी विस्तार में गारो हिल्स जिले के प्रशासनिक मुख्यालय के रूप में तुरा शहर राज्य का पर्यावरण-पर्यटक केंद्र है। शिलांग से 311 कि,मी और असम, गुवाहाटी से 219 कि.मी दूर शिलांग के विपरीत बहु-सांस्कृतिक रूप से विकसित हो रहा है। तुरा में पर्यटक जैव विविधता, झरने, गुफाओं और नालों जैसे प्राकृतिक आकर्षण देख सकते हैं। वहा गारो और अंग्रेजी भाषाएँ बोली जाती हैं।

शहर का मुख्य आकर्षण शहर से 12 किमी दूर स्थित नोकरेक राष्ट्रीय उद्यान है। जहाँ आप जानवर में तेंदुआ, सुनहरी बिल्ली, जंगली भैंस, तीतर और कई दूसरे जानवर देख सकते हैं। रोंगबांग डार फॉल्स, सिजू गुफाओं, तुरा पीक ट्रेक और दर्शनीय स्थलों से तुरा एक उत्कृष्ट गंतव्य बना हुआ है। क्योंकि यह घाटी के साथ वेधशाला के मनोरम दृश्यों और खूबसूरती को दिखता है।मेघालय के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

मेघालय के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी
मेघालय के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

इसके बारेमे भी जानिए – मंत्रमुग्ध करने वाला मौसिनराम के पर्यटन स्थल की जानकारी

Shillong Meghalaya Tourism

यह शहर का नाम शिलांग पीक पर स्थित मूर्ति लेई शिलांग (U-Shyllong) से पड़ा है। 1496 मीटर की ऊंचाई पर खड़ा शिलांग एक फेमस हिल्स स्टेशन स्टेशन है। जहां चारों तरफ से पर्यटक जा सकते हैं। शिलांग हिल स्टेशन अपने सुरम्य स्थलों और परंपराओं के लिए प्रसिद्ध है। सुखदायक जलवायु शिलांग को सभी मौसमों में घूमने के लिए उपयुक्त बनाती है। हल्की बूंदा बांदी और ठंडी ठंडी हवा के कारन उसे पूर्व का स्कॉटलैंड भी कहते है। 

शिलांग शहर में खिरिम, माइलीम, महरम, मल्लईसोहमत, भोवाल और लैंग्रीम जनजातियों के वंशज देखने को मिलते हैं। यहाँ पर्यटकों को रोमांचक पर्वत चोटियाँ, झरने, क्रिस्टल स्पष्ट झीलें, लुभावने सुंदर गोल्फ कोर्स, संग्रहालय और चिड़ियाघर देखने का मौका मिलता हैं। उसके साथ साथ शिलांग भारत की संगीत राजधानी के रूप में भी प्रसिद्ध है। प्राकृतिक सुंदरता के साथ शिलांग मेघालय का प्रवेश द्वार और भारी वर्षा, गुफाओं, सबसे ऊंचे झरनों, सुंदर परिदृश्य और अद्भुत लोगों एव संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है।

Double Decker Living Root Bridge 

नाम से पता चलता है कि जीवित जड़ पुल मानव नवाचार और प्राकृतिक आश्चर्य का एक सरल मिश्रण हैं। दशकों से जीवित पेड़ों को बांधकर स्थानीय लोगों द्वारा पुलों का निर्माण किया गया है। लों में सबसे अच्छा उमशियांग डबल डेकर रूट ब्रिज है। यह चेरापूंजी के बाकी पर्यटन स्थलों में से अब तक का सबसे अच्छा स्थान है जहाँ पर्यटक घूमना पसंद करते हैं।

बेहद शानदार पुल का रास्ता 4000 कदम है। पर्यटक पुल के ऊपर से गुजरते और नीचे की ओर बहते हुए बहते पानी को देखते हैं। डबल डेकर लिविंग रूट प्रकृति और इंजीनियरिंग एक अदभुद उदहारण है। जो भारी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करता है। ब्रिज 200 साल पुराना है। उसपर एक बार में 50 लोग इस्तेमाल कर सकते हैं।

Meghalaya photo
Meghalaya photo

Mawsynram Meghalaya Tourism

पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देने वाला गाँव और दुनिया में सबसे नम स्थान मौसिनराम शिलांग से 61 कि.मी दक्षिण में स्थित है। प्रकृति प्रेमीयो के लिए सप्ताहांत की यात्रा का आदर्श स्थान और स्वर्ग है। मौसिनराम ने चेरापूंजी को थोड़े अंतर से हराकर भारत का सबसे गीला स्थान बना लिया है। मौसिनराम दुनिया के सबसे शानदार पर्यटन स्थलों में से एक हैं। मौसिनराम में ‘माव’ एक खासी शब्द है जिसका अर्थ पत्थर होता है। यह खासी पहाड़ी विस्तार में खोजे गए अदभुत महापाषाण का प्रतीक है।

मौसिनराम गाँव अपने विशाल आकार के स्टैलेग्माइट के लिए प्रसिद्ध है। जो एक शिवलिंग का आकार लेता है। मौसिनराम में बारिश जबरदस्त तेज होती है। कि स्थानीय लोगो को भारी बारिश से अपने घरों को ध्वनिरोधी बनाने के लिए मोटी घास का प्रयोग करना पड़ता है। मेघालय के पूर्वी खासी पहाड़ी जिले में स्थित मौसिनराम समुद्र तल से 1400 मीटर ऊपर स्थित है।

Mawsmai Cave Meghalaya Tourism

मावसई गुफा चेरापूंजी के पास स्थित बेहद अद्भुत और रहस्यमयी गुफाओ का घर है। आप गुफा के सूक्ष्म विवरण, चट्टानों के निर्माण के विवरण और उनके पैटर्न का आनंद ले सकते हैं। गुफा की लंबाई 150 मीटर और दूसरी गुफाओं जैसी बहुत ज्यादा लंबी नहीं है।यह स्थल का प्रमुख आकर्षण उसमें देखने को मिलते जीव और वनस्पति हैं। आप को यह स्थल देखकर बेहद अच्छा अनुभव मिल सकता है।

Meghalaya Photos
Meghalaya Photos

इसके बारेमे भी जानिए – खूबसूरत शहर और मेघालय की राजधानी शिलांग यात्रा की जानकारी

Nohkalikai Falls Meghalaya Tourism

दुनिया का चौथा सबसे ऊंचा जलप्रपात नोहकलिकाई फॉल्स विशाल चट्टान से 335 मीटर नीचे जमीन पर गिरता है। विशाल और प्राकृतिक भव्यता को दर्शाता जलप्रपात देश के सबसे खूबसूरत और भव्य झरनों में से एक और मेघालय राज्य का गौरव है। खासी पहाड़ी के सदाबहार वर्षावन के बीच स्थित यह झरना बहते हुए एक लैगून में गिर जाता है। वह दोपहर के आकाश की तरह नीला दिखाई देता है। नोहकलिकाई जलप्रपात देखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण और लोकप्रिय और स्थान है।

नोहकलिकाई फॉल्स का नाम लिकाई नाम की महिला की एक दुखद कहानी से जुड़ा हुआ है। उसमे लिकाई ने एक ऐसे पुरुष से दोबारा शादी की वह ऐसा मानता था। कि वह अपनी बेटी को उससे ज्यादा प्यार करती है। एक दिन जब लिकाई बाहर काम कर रही थी।  उस आदमी ने बेटी को मार डाला और उसका मांस पकाया और का लिकाई को खिलाया था। बाद लिकाई बेटी की तलाश में निकली और उसने बेटी की उंगलियों को चुकंदर की टोकरी में देखा था। यह देखकर वह झरने से गिरगई तब से नोह का लिकाई नाम दिया है।

मेघालय की फोटो गैलरी
मेघालय की फोटो गैलरी

Umiam Lake 

शिलांग के उत्तर में 15 कि.मी दूर उमियम झील एक मानव निर्मित जलाशय है। जलविद्युत उत्पन्न करने के लिए एक बांध के निर्माण के पश्यात यह झील का निर्माण किया गया था। सुंदर उमियम झील हरी-भरी पूर्वी खासी पहाड़ियों से घिरी हुई है। यह प्रकृति प्रेमि मनोरम द्रश्यो के साथ सूर्योदय देखने के लिए आते है। उसके अलावा उमियम झील के पास पिकनिक के लिए एक पार्क है। यह शांत जलाशय घने शंकुधारी जंगलों से घिरा 222 वर्ग किलोमीटर के विस्तार में फैला है।

प्रकृति-प्रेमी उमियम झील में वनस्पति, जीवों को देखते हुए पार्क में कुछ समय बिता सकते हैं। उसके साथ झील में लंबी नाव की सवारी कर सकते हैं। नौका विहार और जल-क्रीड़ाओं की मजा लेते हुए उमियम झील के मूल निवासियों के दैनिक जीवन का निरीक्षण भी कर सकता है। यह झील के तट पर सुंदर गुलमोहर के पेड़ों नयनरम्य दिखाई देते हैं। जलाशय सर्दियों में नीला हो जाता है।

Dawki 

क्रिस्टल साफ पानी के साथ दावकी मेघालय की एक खूबसूरत नदी है। यह सबसे चित्र-परिपूर्ण स्थानों में से एक और यात्रियों को यहां एक दिन जरूर बिताना चाहिए। क्योकि यहाँ सुंदर परिवेश में नौका विहार करने का मजा ही कुछ अलग है। दावकी जयंतिया पहाड़ियों में एक छोटा सा शहर है। यह छोटा शहर व्यापार केंद्र होने के साथ अपने पर्यटन स्थल के लिए भी प्रसिद्ध है। यहाँ पर्यटक शहर में प्रसिद्ध उमंगोट नदी में नाव की सवारी करने के साथ आसपास के स्थलों और ध्वनियों का आनंद लेने के लिए आते हैं। 

Baghmara Meghalaya Tourism

बाघमारा शहर से सिर्फ 4 किमी दूर बाघमारा रिजर्व फॉरेस्ट की प्रत्येक प्राकृर्तिक प्रेमियों को यह स्थान की सैर करनी चाहिए। क्योकि यहाँ आप हाथियों, पंख वाले जीवों और लंगूरों को देखने का मजा ले सकते है। भूलभुलैया प्रेमियों के लिए यहाँ सिजू गुफाएं हैं। गुफाओं के अंदर अद्भुत चूना पत्थर की व्यवस्था उसको राजकुमारी दी का चैंबर के नाम से पहचाना जाता है। विशेष रूप से सिजू पक्षी अभयारण्य में आप सर्दियों के दौरान दुर्लभतम प्रजातियों को देख सकते है।

Meghalaya Tourism photo gallery
Meghalaya Tourism photo gallery

इसके बारेमे भी जानिए – जम्मू कश्मीर के रहस्यमयी स्थल मैग्नेटिक हिल घूमने की जानकारी

Meghalaya Craft And Culture 

मेघालय राज्य के लोगों को खासी, गारो और जयंतिया जनजातियों में विभाजित किया जाता है। तीनों जनजातियां संगीत और नृत्य को जीवन के एक महत्वपूर्ण समानता से मानती हैं। बुनाई और नक्काशी ऐसे कौशल हैं, यहाँ उसकी क़ीमत और सम्मानित किया जाता है। गारो और खासी समुदायों में कुशल बुनकरों का दावा है। जो तिलेंग एक बेंत की चटाई बना सकते हैं। उसकी बुनाई की गुणवत्ता के कारण 20-30 साल तक चलती है। खासी जनजाति लौह अयस्क निकालने और उनसे घरेलू उपकरण बनाने में भी माहिर है। यहाँ गांव में प्रसिद्ध नोंगक्रेम महोत्सव होता है। उसमे पुरुषों और महिलाओं द्वारा बकरे की बलि और पारंपरिक नृत्य होते हैं।

Places Of Worship

मेघालय में एक प्रमुख ईसाई आबादी निवास करती है। मगर यहाँ सभी धर्मों के लोग कंधे से कंधा मिलाकर भगवान की पूजा करते हैं। मेघालय के कैथेड्रल समुदाय में धार्मिक महत्व के साथ उनकी अद्भुत वास्तुकला के लिए भी प्रसिद्ध हैं। ईसाईयों की मैरी हेल्प कैथेड्रल के ऊंचे मेहराबों और सना हुआ ग्लास खिड़किया आश्चर्य है। हजरत शाह कमल बाबा की 700 वर्षीय दरगाह भी बहुत लाजवाब है। यदि आप मंदिरों की तलाश कर रहे हैं तो 500 साल पुराने नर्तियांग दुर्गा मंदिर का भी बहुत महत्व है।

Meghalaya Tourism
Meghalaya Tourism

Famous Local Food In Meghalaya

मेघालय का खाना और मशहूर स्थानीय भोजन – मेघालय में व्यंजन उदार, आश्चर्यजनक और विस्तार में जनजातीय संस्कृतियों और शैलियों से प्रभावीत है। यहाँ का भोजन सरल और हल्का है। मगर मसाले और अनूठी सामग्री का उपयोग मेघालय की थाली को सभी भोजनो से अलग बनाता है। मसालेदार मांस और मछली से बने चावल मेघालय का मुख्य भोजन है। किण्वन चावल बियर, दोशाईं, तुंगताब, लाल चावल, जोदोह, दोहनेईहोंग, मखम-बिची और कप्पा ऐसे व्यंजन हैं जो मेघालय के पारंपरिक और प्रामाणिक व्यंजनों में देखने को मिलते हैं। उसके साथ झूर साइड, डाइनेइओंग और मुली खलेह शाकाहारी विकल्प भी खाने को मिलते है।

Where To Stay In Meghalaya कहां रुके

अगर आप मेघालय और उसके नजदीकी पर्यटक स्थलों की यात्रा करते हुए मेघालय में रुकने के लिए होटल और गेस्टहाउस की तलाशा करते है। तो आपको बतादे की मेघालय में पर्यटकों के लिए हाई-बजट से लो-बजट तक यानि सभी प्रकार की होटल उपलब्ध हैं। आप अपनी जरुरत और सुविधानुसार बुक कर सकते हैं। बुकिंग आप ऑनलाइन और ऑफ़ लाइन दिनों तरीके से कर सकते है।

  • होटल मानसून
  • होटल पोलो टावर्स
  • पोलो ऑर्किड रिज़ॉर्ट
  • होटल पॉइनिसुक
  • होटल गेटवे शिलांग

मेघालय के पर्यटक स्थल 

  • तुरा शहर
  • नोंगपोहजवाई शहर
  • बाघमारा
  • विलियमनगर
  • मावसई गुफा
  • दावकी झील
  • हाथी झरना
  • जयंतिया हिल्स
  • उमियम झील
  • मावलिननांग गांव
  • कैलांग रॉक
  • नोहसिंगिथियांग फॉल्स
  • बालपक्रम राष्ट्रीय उद्यान
  • खासी हिल्स
  • लेडी हैदरी पार्क
  • डबल डेकर लिविंग रूट ब्रिज
  • डॉन बॉस्को संग्रहालय
  • राज्य संग्रहालय

    Places to visit in Meghalaya
    Places to visit in Meghalaya

इसके बारेमे भी जानिए – जम्मू कश्मीर के लदाख की नुब्रा घाटी और नजदीकी पर्यटक स्थल की जानकारी

How To Reach Meghalaya

मेघालय अत्यधिक मानसून, देवदार के पेड़ों की लंबी कतार, वनस्पतियों और जीवों की

कुछ दुर्लभ प्रजातियों से, राज्य में खोज की प्रतीक्षा में आश्चर्य का एक पूरा गुच्छा है।

प्रकृति की शांति, स्थानीय लोगों की गर्मजोशी और कुछ रोमांचक चीजों का आनंद लेते हैं।

जो आपको जरूर मेघालय को देखना चाहिए।

मेघालय जाने के लिए पर्यटक फ्लाइट, रोड और ट्रेन से यात्रा कर सकते है।

ट्रेन से मेघालय कैसे पहुंचे

How To Reach Meghalaya By Train –

अगर पर्यटक ट्रेन से मेघालय की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं। तो मेघालय से निकटतम रेलवे स्टेशन गुवाहाटी (असम) में स्थित है। यह मेघालय से 180 किमी की दूर स्थित है। गुवाहाटी जंक्शन नई दिल्ली, अमृतसर, जम्मू और कश्मीर और बैंगलोर से अच्छे से जुड़ा हुआ है। गुवाहाटी से मेघालय पहुंचने के लिए आप बसों का विकल्प चुन सकते हैं या कैब किराए पर ले करके उसकी सहायता से पहुंच सकते हैं।

सड़क मार्ग से मेघालय कैसे पहुंचे

How To Reach Meghalaya By road – 

मेघालय राज्य सड़कों के माध्यम से भारत के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। उसकी सड़कें ज्यादातर चिकनी और यातायात के साथ अच्छी तरह से आवृत हैं। कई यात्रियों को लगता है कि असीमित बारिश के लिए प्यार के लिए मेघालय की यात्रा के लिए मानसून सबसे अच्छा महीना है। मगर यहाँ भारी मानसून के मौसम में वाहन चलाते समय सावधानी रखनी बहुत आवश्यक है। क्योकि भारी बारिश के कारण कुछ सड़कों की रफ्तार धीमी होती है।

फ्लाइट से मेघालय कैसे जाये

How To Reach Meghalaya By Flight –

मेघालय का नजदीकी प्रमुख हवाई अड्डा गुवाहाटी (असम) में है। वह गोपीनाथ बोरदोलोई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा 159 किमी दूर स्थित है। वह हवाई अड्डा मुंबई, दिल्ली, चेन्नई और कलकत्ता जैसे भारतीय शहरों के साथ-साथ तुरा और बैंकॉक के अंतरराष्ट्रीय शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। गुवाहाटी हवाई अड्डे से मेघालय के लिए कोई सीधा बस कनेक्शन नहीं है। मगर आप गंतव्य तक पहुंचने के लिए कैब किराए पर लेकरके मेघालय तक पहुंच सकते हैं।

Meghalaya Map मेघालय का लोकेशन

Top 10 Places To Visit In Meghalaya Tourism Video

Interesting Facts About Meghalaya Tourism

  • भारत के मेघालय राज्य की राजधानी शिलांग हैं।
  • मेघालय पर्वत, वर्षा, धूप, पठारों, झरनों, नदियों और मैदानों के लिए फेमस है।
  • संस्कृत भाषा में मेघालय का शाब्दिक अर्थ मेग या बादलों का निवास स्थान होता है। 
  • मेघालय का पठार राज्य के आकर्षण का केंद्र बना हुआ हैं।
  • मेघालय में पर्यटक उष्णकटिबंधीय वन के साथ पक्षि, स्तनधारियों, कीड़ो और सरीसृपों को देख सकते है।
  • पूर्वोत्तर भारत के सबसे खूबसूरत राज्यों में से मेघालय एक है। 
  • मेघालय का गठन असम राज्य के तीन जिलों को मिलाकर किया गया था। 
  • मेघालय को भारत के पूर्व का स्कॉटलैंड भी कहते है। 

FAQ

Q .मेघालय का मुख्य भोजन क्या है?

मसालेदार मांस और मछली के साथ चावल मेघालय का मुख्य भोजन है। 

Q .मेघालय में क्या प्रसिद्ध है?

शिलांग, चेरापूंजी, डॉकी, तुरा, जोवाई, एलिफेंट फॉल और बलफकरम राष्ट्रीय उद्यान मेघालय में प्रसिद्ध है। 

Q .मेघालय में कुल कितने जिले हैं?

मेघालय में कुल 11 जिले हैं।

Q .मेघालय का पुराना नाम क्या था?

भारत में ब्रिटिश राज के समय ब्रिटिश अधिकारि मेघालय को पूर्व का स्काटलैण्ड कहते थे।

Q .मेघालय की प्रसिद्ध चीज क्या है?

मेघालय पहाड़ियों, हरी-भरी हरियाली और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। 

Q .क्या मेघालय एक समृद्ध राज्य है?

हा मेघालय एक समृद्ध राज्य है। 

Q .क्या मेघालय पर्यटकों के लिए सुरक्षित है?

का सुरक्षा नियमो का पालन करते हुए यात्रा सुरक्षित और आरामदायक है।

Conclusion

आपको मेरा Meghalaya Tourism In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Meghalaya capital, Meghalaya religion

और Meghalaya language से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Meghalaya district, Meghalaya news या 

Meghalaya assembly की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

मेघालय का नक्शा, मेघालय शब्द, मेघालय के कवि, मेघालय के जिले, मेघालय का रहन सहन, मेघालय की कृषि, मेघालय की राजधानी, मेघालय की वेशभूषा, मेघालय किस प्रकार का राज्य है, मेघालय के प्रसिद्ध मंदिर, शिलांग से चेरापूंजी की दूरी, मेघालय की प्रकृति, मेघालय CM, मेघालय का साहित्य, Capital of Meghalaya, Meghalaya portal, Tourist places in Meghalaya, Edistrict , E district , E pass, Service plus, Mpsc, Mpsc Meghalaya

इसके बारेमे भी जानिए – लेह लद्दाख की सबसे लोकप्रिय पैंगोंग झील घूमने की पूरी जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.