Mahakaleshwar Jyotirlinga Ujjain In Hindi

Mahakaleshwar Jyotirlinga Ujjain In Hindi | महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन का इतिहास

नमस्कार दोस्तों Mahakal Temple Ujjain In Hindi (Mahakaleshwar Jyotirlinga) में आपका स्वागत है। आज हम भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन का इतिहास बताने वाले है। मध्य प्रदेश के रुद्र सागर झील के किनारे बसे उज्जैन शहर में स्थित महाकालेश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदिर में महाकाल लिंगम को स्वयंभू प्रकट माना जाता है। महाकालेश्वर की मूर्ति दक्षिणा मुखी है, जो अन्य सभी ज्योतिर्लिंगों के विपरीत दक्षिण की ओर है। महाकालेश्वर मंदिर में प्रतिदिन सुबह के समय होने वाली भस्म आरती हिन्दू भक्तों के बीच बेहद लोकप्रिय है।

महाकालेश्वर मंदिर में दक्षिण मुखी महाकालेश्वर महादेव भगवान शिव की पूजा की जाती है। हिंदु धर्म के सबसे पवित्र और उत्कृष्ट तीर्थ स्थानों में से एक महाकालेश्वर मंदिर में आरती की खासियत यह है कि उसमें मुर्दे की भस्म से महाकाल का श्रृंगार होता है। भगवान शिव का पवित्र निवास स्थान के लिए प्रसिद्ध मंदिर आधुनिक और व्यस्त जीवन में यहां आने वाले पर्यटकों को पूरी तरह से मन की शांति प्रदान करता है। यह एक अत्यंत पुण्यदायी मंदिर होने के कारन मंदिर के दर्शन मात्र से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

Mahakaleshwar Temple History In Hindi

महाकालेश्वर मंदिर का इतिहास – उज्जैन शहर को भगवान महाकाल की नगरी कहते हैं। शिव पुराण के मुबाबिक उज्जैन में बाबा महाकाल का मंदिर बहुत पुराना है। मंदिर की स्थापना द्वापर युग में श्री कृष्ण भगवान के पालक पिता जी नंद जी की 8 पीढ़ी पूर्व हुई थी। 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महादेव मंदिर में दक्षिण मुखी होकर विराजमान है। 1107 से लेकर 1728 के समय तक उज्जैन शहर में यवनों का शासन था। उस समय हिंदुओं की परम्पराएं नष्ट हो गई थी।

1690 में मालवा क्षेत्र में हमला कर दिया था। उसके बाद 29 नवंबर 1728 में मराठा शासकों ने मालवा पर अपना अधिकार जमाया था। उसके बाद उज्जैन शहर का गौरव फिर से वापस आ गया था। 1731 से 1728 के बाद यह मालवा की राजधानी थी। मराठो के अधिपत्य में महाकालेश्वर मंदिर का फिर से निर्माण हुआ था। एव ज्योतिर्लिंग की ख़ोई प्रतिष्ठा वापस आ गई थी। और यहाँ सिंहस्थ पर्व स्नान की स्थापना हुई थी। उस मंदिर का विस्तार राजा भोज ने किया गया था।

Mahakaleshwar Jyotirlinga Images
Mahakaleshwar Jyotirlinga Images

इसके बारेमे भी जानिए – शिवाजी महाराज का जन्मस्थल शिवनेरी किले की जानकारी

Best Time To Visit Mahakaleshwar Ujjain

महाकालेश्वर उज्जैन घूमने का सबसे अच्छा समय – उज्जैन शहर की यात्रा करने के लिए अक्टूबर से मार्च महीने का समय सबसे अच्छा कहा जाता हैं। क्योंकि उस समय उज्जैन का मौसम सुहावना होता है। और यहाँ का तापमान 20 डिग्री सेल्सियस होने के कारन उसका सुखद तापमान पर्यटक को मंत्रमुग्ध कर देता है। सर्दियों के समय यहाँ सर्द ज्यादा होती है, और रातें ठंडे तापमान का सामना करती हैं। मध्य प्रदेश के अन्य विस्तारो का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस होता है। उज्जैन शहर का दौरा सर्दियों के समय या मार्च महीने में कुंभ मेला हर 12 साल में एक बार होता है।

Architecture Of Mahakaleshwar Temple

महाकालेश्वर मंदिर की वास्तुकला देखे तो मराठा, भूमिजा और चालुक्य शैलियों का संयोजन से बना एक सुंदर और कलात्मक मंदिर है। झील नजदीक स्थित पवित्र मंदिर विशाल दीवारों से घिरे एक विशाल प्रांगण पर स्थित कुल मंजिला रचना हैं। उसमे से जमीनी स्तर में महाकालेश्वर की विशाल मूर्ति दिखाई देते है। और एक दक्षिण-मूर्ति है, जिसका अर्थ दक्षिण दिशा की ओर है। खूबसूरत सुंदर मंदिर में ओंकारेश्वर और नागचंद्रेश्वर के लिंगम मध्य और ऊपर के हिस्सों में स्थापित हैं। नागचंद्रेश्वर की मूर्ति केवल नाग पंचमी के अवसर पर्यटक को दिखाई देती है। 

उसके अलावा कोटि तीर्थ के नाम का एक बड़ा कुंड भी परिसर में है। कुंड के पूर्व में एक विशाल बरामदा है, जिसमें गर्भगृह की ओर जाने वाले मार्ग का प्रवेश द्वार है। उसमे गणेश, कार्तिकेय और पार्वती के छोटी मुर्तिया देख सकते हैं। गर्भगृह की छत को ढकने वाली गूढ़ चांदी की प्लेट मंदिर की भव्यता दिखती है। दीवारों के चारों ओर भगवान शिव जी की स्तुति में शास्त्रीय स्तुति प्रदर्शित की जाती है। बरामदे के उत्तरी हिस्से में कोठरी में श्री राम और देवी अवंतिका की मुर्तियो की पूजा की जाती है।

Mahakaleshwar Jyotirlinga Photos
Mahakaleshwar Jyotirlinga Photos

इसके बारेमे भी जानिए – भैंसरोडगढ़ किले का इतिहास और जानकारी

Mahakaleshwar Temple Timings

महाकालेश्वर मंदिर का समय चैत्र माह से अश्विन तक और कार्तिक माह से फाल्गुन तक अलग अलग होता है।

चैत्र माह से अश्विन माह

सुबह की पूजा – सुबह 7:00 से सुबह 7:30

मध्याह्न पूजा – 10:00 से 10:30

शाम की पूजा – शाम 5:00 से 5:30

श्री महाकालआरती – शाम 7:00 से 7:30

मंदिर बंद होने का समय – रात 11:00 बजे

कार्तिक से फाल्गुन माह

सुबह की पूजा – सुबह 7:30 से सुबह 8:00

मध्याह्न पूजा – 10:30 से 11:00

शाम की पूजा – शाम 5:30 से शाम 6:00

श्री महाकाल आरती – शाम 7:30 से रात 8:00

मंदिर बंद होने का समय – रात 11:00 बजे

भस्म आरती – 4:00 AM

Mahakaleshwar Temple Bhasm Aarti

महाकालेश्वर मंदिर में भस्म आरती बहुत खास है। क्योकि महाकालेश्वर मंदिर में हररोज़ होने वाली भस्म आरती से सुबह होने से पहले प्रत्येक दिन आरती शुरू होती है। यह धार्मिक अनुष्ठान के समय भगवान शिव की मूर्ति की घाटों से लाई गई पवित्र राख से पूजा होती है। उसके पश्यात राख को पवित्र प्रार्थना करने से पहले शिवलिंग से लगते है। भस्म आरती में शामिल होने का आनंद बहुत अलग है। 

उसको शब्दों में बया करना संभव नहीं है। आपको बतादे की महाकालेश्वर का मंदिर एकमात्र ज्योतिर्लिंग है जहां यह आरती की होती है। यह आरती की बुकिंग के लिए टिकट ऑनलाइन उपलब्ध होती हैं। पर्यटक या भक्त एक दिन पहले आवेदन कर सकता है। उसका आवेदन सिर्फ दोपहर 12:30 बजे तक स्वीकार करते हैं। उसके बाद शाम 7:00 बजे लीस्ट जाहिर करते है।

महाकालेश्वर फोटो
महाकालेश्वर फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – मध्य प्रदेश का हनुवंतिया टापू घूमने की संपूर्ण जानकारी

Ujjain Mahakal Bhasm Aarti Online Booking

भस्म आरती के लिए ऑनलाइन बुकिंग कैसे करें ? तो बतादे की अगर भक्त उज्जैन महाकालेश्वर के दर्शन करने और भस्म आरती में शामिल होना हैं। तो भस्म आरती के लिए ऑनलाइन बुकिंग भी कर सकते हैं। भस्म आरती की ऑनलाइन बुकिंग करने आपको आईडी में वोटर आइडी, आधार कार्ड या फिर ड्राईविंग लाईसेंस की फोटो कॉपी ले जाना है। उसके बाद मंदिर की समिति आईडी के आधार पर आरती में शामिल होने की परमिशन देती है। 

Mystery And Story Of Mahakaleshwar Temple

महाकालेश्वर मंदिर का रहस्य और कहानी की बात करे तो हिन्दू पुराण के मुताबिक एक बार ब्रह्मा जी और विष्णु भगवान दोनों के बीच उस बात से बहस हुई कि सृष्टि में बड़ा कौन है। उसको देखने के लिए महादेव ने तीनों लोकों में प्रकाश के अंतहीन स्तंभ को ज्योतिर्लिंग के रूप में छेदा और भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा को प्रकाश के अंत का पता लगाने के लिए कहा था।

उसके लिए दोनों स्तंभ के साथ नीचे और ऊपर की ओर यात्रा करते हैं। उसमे ब्रह्मा जी झूठ बोलते कहते है की उन्हें अंत मिल गया। उसके कारन विष्णु हार मान लेते हैं। मगर शिव जी प्रकाश के स्तंभ के रूप में प्रकट होते हुए ब्रम्हा जी को श्राप देते हैं कि उसकी पूजा कोई स्थान नहीं होगी। महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग वह जगह है जहाँ भगवान शिव प्रकाश के रूप में प्रकट हुए थे।

Ujjain Images
Ujjain Images

इसके बारेमे भी जानिए – कन्याकुमारी का मुख्य पर्यटन स्थल विवेकानन्द रॉक मेमोरियल

Festivals Celebrated In Mahakaleshwar

मंदिर में पूजा, अर्चना, अभिषेक और आरती सहित सभी अनुष्ठान पूरे वर्ष नियमित रूप से किए जाते हैं। मगर यहां महाकालेश्वर मंदिर में समारोह में मनाए जाने वाले कुछ प्रमुख त्योहार हैं, उसमे नित्य यात्रा, सावरी (जुलूस) और महाकाल यात्रा शामिल है।

Sawariin Mahakaleshwar

महादेव की पवित्र बारात उज्जैन मार्ग से हर सोमवार को किसी विशेष समय अवधि के लिए गुजरती है। भाद्रपद के अंधेरे पखवाड़े में होने वाली अंतिम सवारी विशेष रूप से लाखों भक्तो का ध्यान आकर्षित करती है। वह बहुत धूमधाम और शो के साथ मनाया जाता है। विजयदशमी महोत्सव के समय जुलूस भी आकर्षक होता है।

Nitya Yatra In Mahakaleshwar

नित्य यात्रा में शामिल हिस्सा लेने के लिए भक्तो को पवित्र शिप्रा में स्नान करना होता है। उसके पश्यात भक्त नागचंद्रेश्वर, कोटेश्वर, महाकलेश्वर, देवी अवंतिका, देवी हरसिद्धि और अग्रसेनवारा के दर्शन करते हैं।

Mahakal Yatra In Mahakaleshwar

महाकाल यात्रा की शुरुआत रुद्रसागर से हुआ करती है। रुद्रसागर में स्नान के पश्यात पर्यटक भगवान के दर्शन करते हैं।

Best Places To Visit Ujjain Mahakaleshwar Jyotirlinga

Harsiddhi Temple Ujjain (हरसिद्धि मंदिर)

हरसिद्धि मंदिर में महाराजा विक्रमादित्य की इष्टदेवी माता हरसिद्धि को समर्पित है। उसमे हरसिद्धि माता की पूजा में की जाती है। 

Gadkalika Temple Ujjain (गडकालिका मंदिर)

गढ़कालिका मंदिर उज्जैन शहर का एक ऐतिहासिक और लोकप्रिय मंदिर है। यह देवी महाकवि कालिदास की इष्ट-देवी हैं।

Sandipani Ashram Ujjain (सांदीपनि आश्रम)

उज्जैन शहर की हरियाली में स्थित यह लोकप्रिय स्थान सांदीपनी आश्रम है। यह आश्रम भगवान कृष्ण और बलराम का शिक्षा स्थान है।

Mangalnath Temple Ujjain (मंगलनाथ मंदिर)

उज्जैन शहर का मंगलनाथ मंदिर, मंगल ग्रह की जन्मभूमि होने के लिए प्रसिद्ध स्थान है। जिसकी कुंडली में मंगल दोष होता है। उसको यहाँ पुजारियों से मंगल शांति पूजा की जाती है।

Ram Ghat Ujjain (राम घाट)

उज्जैन शहर का राम घाट एक पवित्र घाट है। उसमे स्नान करना एक पवित्र स्नान है। 

Kal Bhairav Temple Ujjain (काल भैरव मंदिर)

काल भैरव मंदिर महाकाल के संरक्षक भगवान काल भैरव को समर्पित है। शिप्रा नदी के किनारे स्थित मंदिर के भैरव देवता के होठों के पास रखते ही शराब गायब हो जाती है। यहाँ प्रसाद में भक्त शराब चढ़ाते है। मंदिर में देवता को पांच तांत्रिक अनुष्ठानों में प्राचीन समय में शराब, मांस, मत्स्य मछली, मैथुना और मुद्रा की आहुतियाँ देवता को दी जाती थीं। आज सिर्फ शराब ही चढ़ाया जाता है।

Shri Ram Janki Mandir Ujjain (श्री राम जानकी मंदिर)

एक आध्यात्मिक वातावरण के लिए पर्यटक श्री राम जानकी मंदिर जा सकते हैं। यह मंदिर की वास्तुकला बहुत ही आकर्षक है। 

Where To Stay Near Mahakaleshwar Jyotirlinga

पर्यटक महाकालेश्वर मंदिर के दर्शन कर यहाँ रुकने का स्थल की जानकारी खोजता है। तो उन्हें बतादे की यहाँ की श्री महाकाल धर्मशाला और पंडित श्री सूर्य नारायण व्यास धर्मशाला में एसी एव नॉन एसी कमरे उपलब्ध हैं। पर्यटक बहुत आसानी से मंदिर की आधिकारिक वेबसाइट की सहायता से ऑनलाइन बुक कर सकते हैं। उसके अलावा दूसरी कई होटल भी उपलब्ध हैं।

Mahakaleshwar Jyotirlinga Wallpaper
Mahakaleshwar Jyotirlinga Wallpaper

इसके बारेमे भी जानिए – नारायणी माता मंदिर और दर्शन की सम्पूर्ण जानकारी

How To Reach Ujjain Mahakaleshwar Jyotirlinga

ट्रेन से महाकालेश्वर उज्जैन कैसे पहुंचे

How To Reach Mahakaleshwar Jyotirlinga Ujjain By Train – ट्रेन से उज्जैन शहर जाने के लिए उज्जैन शहर का अपना रेलवे स्टेशन है। वह एक प्रमुख रेलवे स्टेशन है और भारत देश के सभी प्रमुख स्टेशनों से बहुत अच्छे से जुड़ा हुआ है। यह शहर में उज्जैन सिटी जंक्शन, विक्रम नगर और चिंतामन मुख्य  रेलवे स्टेशन हैं। यहां कई ट्रेन नियमित चलती रहती हैं ।

सड़क मार्ग से उज्जैन महाकालेश्वर कैसे पहुंचे

How To Reach Ujjain By Road – उज्जैन शहर राज्य सड़क परिवहन सार्वजनिक बस सेवाओं से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। राज्य के प्रमुख शहरों से उज्जैन के लिए नियमित रूप से बस सेवा उपलब्ध है। उसमे कई सुपर फास्ट और डीलक्स बसें भी उपलब्ध हैं। उज्जैन में इंट्रासिटी परिवहन का प्रमुख स्रोत साझा ऑटो रिक्शा के माध्यम से है। वह आपको आराम से गंतव्य तक ले जाती है।

फ्लाइट से उज्जैन कैसे पहुंचे

How To Reach Ujjain By Flight – महाकालेश्वर उज्जैन का निकटतम हवाई अड्डा इंदौर हवाई अड्डा है। वह शहर से तक़रीबन 55 किमी दूर है। इंदौर सभी प्रमुख शहरों से हवाई मार्ग से बहुत अच्छे से जुड़ा हुआ है। और इंदौर शहर से उज्जैन पहुंचने में कोई समस्या नहीं होगी। क्योंकि वहाँ टैक्सी, बस या कैब बहुत आसानी से उपलब्ध हैं। इंदौर हवाई अड्डा से महाकालेश्वर की दूरी 55 कि.मि है।

Mahakaleshwar Jyotirlinga Ujjain In Hindi
Mahakaleshwar Jyotirlinga Ujjain In Hindi

इसके बारेमे भी जानिए – भारत के साथ दुनिया के सबसे खतरनाक रेलवे ट्रैक की जानकारी

Mahakaleshwar Jyotirlinga Map उज्जैन का लोकेशन

Mahakaleshwar Jyotirlinga History In Hindi Video

Interesting Facts About Mahakaleshwar Jyotirlinga

  • महाकालेश्वर मंदिर भारत के 12 पवित्र ज्योतिर्लिंगों में से एक है। 
  • पर्यटक को मंत्रमुग्ध करने वाली महाकालेश्वर मंदिर की भस्म-आरती जरूर देखना चाहिए।
  • भस्म-आरती अनुष्ठान में हिस्सा लेने फोटो-आईडी प्रमाण देना जरुरी है। 
  • महाकालेश्वर मंदिर की संरचनात्मक डिजाइन मराठा, भूमिजा और चालुक्य शैली से प्रभावित हैं। 
  • हिंदुओं के सबसे पवित्र तीर्थ स्थान महाकालेश्वर मंदिर में महादेव की पूजा की जाती है।
  • आधुनिक एव व्यस्त जीवन शैली के बाद भी मंदिर पर्यटक को मन की शांति प्रदान करता है।
  • महाकालेश्वर मंदिर को भारत के सबसे बड़े मंदिरों में से एक माना जाता है।

FAQ

Q .महाकालेश्वर मंदिर कहां है?

मध्य प्रदेश राज्य में रुद्र सागर झील के किनारे बसे प्राचीन शहर उज्जैन में स्थित है।

Q .महाकालेश्वर मंदिर की क्या विशेषता है?

महाकालेश्वर की मूर्ति दक्षिणमुखी होने की वजह से दक्षिणामूर्ति मानी जाती है।

Q .महाकाल मंदिर कितने साल पुराना है?

उज्जैन का महाकाल मंदिर करीब 1,000 से ज्यादा साल पुराना मंदिर है।

Q .महाकाल का रहस्य क्या है?

महाकाल मंदिर में भगवान शिव प्रकाश के रूप में प्रकट हुए थे।

Q .उज्जैन में सबसे बड़ा मंदिर कौन सा है?

महाकालेश्वर मंदिर

Q .उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर फेमस क्यों है?

उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर भस्म-आरती के लिए फेमस है।

Q .महाकाल के दर्शन कैसे करे?

महाकालेश्वर के लाइव दर्शन कर सकते है।

Conclusion

आपको मेरा लेख Mahakaleshwar Jyotirlinga History बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Ujjain mahakal darshan booking, Hotel in ujjain

और Mahakaleshwar Jyotirlinga ujjain madhya pradesh से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Ujjain pin code की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Mahakaleshwar Darshan Live

Mahakaleshwar darshan online booking

Ujjain mahakal darshan online booking

Mahakaleshwar darshan timings

Mahakaleshwar live darshan

Ujjain temple

Mahakaal ujjain

Ujjain mahakal darshan booking free

Ujjain mahakal darshan online booking free 

Pin code of ujjain

Ujjain mahakal darshan booking app 

Kedarnath

Mahakaleshwar temple ujjain history

उज्जैन का मंदिर

उज्जैन महाकाल मंदिर के दर्शन

महाकालेश्वर उज्जैन दर्शन का समय 2022

उज्जैन रेलवे स्टेशन से महाकालेश्वर मंदिर की दूरी

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग कथा

इसके बारेमे भी जानिए – भगवान शनि शिंगणापुर मंदिर में दर्शन और यात्रा की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.