Madhubani Tourism In Hindi

Madhubani Tourism In Hindi | मधुबनी बिहार के पर्यटन स्थल की जानकारी

नमस्कार दोस्तों Madhubani In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम मधुबनी भारत के बिहार राज्य के दरभंगा प्रमंडल अंतर्गत एक प्राचीन शहर की जानकारी बताएँगे । वह मधुबनी कला और संस्कृति की समृद्धि के लिए प्रसिद्ध है। उसका प्रमाण रामायण में उल्लेखित है। यह शहर विश्व प्रसिद्ध मधुबनी चित्रों के लिए जाना जाता है। विश्वप्रसिद्ध मिथिला पेंटिंग एवं मखाना के पैदावार की वजह से मधुबनी को विश्वभर में जाना जाता है। सीतामढ़ी और सुपौल मधुबनी के प्रमुख व्यापारिक क्षेत्र के रूप में प्रसिद्ध हैं। यहाँ देश के साथ विदेशी पर्यटक भी घूमने के लिए भारी संख्या में आते हैं। 

बिहार का आकर्षित शहर में कई मंदिर हैं, जो स्थानीय लोगों के लिए मुख्य आकर्षण हैं। मगर यह शहर पर्यटकों के लिए ज्यादा अनुकूल नहीं है। 1972 में प्रादेशिक सीमाओं में फेरबदल के समय बिहार के दरभंगा जिले से निकली मधुबनी पेंटिंग के लिए यहां आने वाले कला प्रेमियों के बीच यह छोटा सा जिला धीरे-धीरे एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित हो रहा है। उसके उत्तर में नेपाल, दक्षिण में दरभंगा, सीतामढ़ी और सुपौल स्थित है। मधुबनी शहर अपनी शानदार चित्रकारी के लिए जाना जाता है।

History of Madhubani

पहले मधुबनी दरभंगा जिला में शामिल था, लेकिन 1972 में इसे स्वतंत्र जिले का दर्जा प्राप्त है। यह खूबसूरत शहर में साहित्य से जुड़ी कई हस्तियां पैदा हुई हैं। ऐसा समझा जाता है कि मधुबनी लोकतंत्र को अपनाने वाला दूसरा शहर था। मधुबनी शब्द की उत्पत्ति मधु और वाणी से हुई है। मधु का अर्थ मीठा या मधुर और वाणी का अर्थ स्वर या बोली होता है। यहां पूरे साल बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। 

ऐसा कहा जाता यहां के लोगों की बोली बहुत मधुर और मीठी होती है। मधुबनी में मैथिली भाषा ज्यादा बोली जाती है। उसके साथ हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू भी यहां के लोगों बोल और समझ सकते है। समुद्र तल से 56 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यहाँ मंदिर और तीर्थस्थल के साथ पुरातात्त्विक और धार्मिक स्थल हैं। मधुबनी के पुरातत्व में आप मध्ययुगीन काल की कई निशानियां देख सकते हैं।

Madhubani Photos
Madhubani Photos

इसके बारेमे भी जानिए – राजगीर में घूमने लायक पर्यटन स्थल की जानकारी

Best Time To Visit Madhubani

मधुबनी घूमने का सबसे अच्छा समय – मधुबनी में ज्यादा गर्मी का अनुभव होने के कारन गर्मियों के मौसम में अच्छा नहीं होता है। लेकिन मानसून के बाद यहां पर्यटन आना शुरू करते है। कई पर्यटक मानसून के समय में मधुबनी की यात्रा करना पसंद करते हैं। लेकिन कुछ सर्दियों के समय में देखना पसंद करते हैं। बिहार राज्य दुर्गा पूजा के त्यौहार को बहुत धूमधाम और शो के साथ मनाता है। इसके कारनही  यहाँ के उस समय जाना सबसे अच्छा माना जाता हैं।

मधुबनी की यात्रा का कार्यक्रम

  • पर्यटक को सबसे पहले मधुबनी शहर में पहुंचना है।
  • वहा जाकर नौलखा पैलेस के नाम से मशहूर प्रसिद्ध नगर किले से अपनी यात्रा शुरू करनी चाहिए। 
  • उसके बाद कपिलेश्वर स्थान और सौरथ का लोकप्रिय मंदिर देखना हैं।
  • बाद में शाम को पर्यटक सड़क किनारे के बाजारों और हस्तशिल्प की दुकानों में टहल सकते हैं।
  • पर्यटकों को यहाँ  पेंटिंग को जरूर देखना चाहिए क्योकि मुख्य आकर्षण वही है।

    मधुबनी पर्यटन स्थल
    मधुबनी पर्यटन स्थल

Places To Visit In Madhubani

  • Kapileshwar sthan
  • Saurath
  • Nagar Fort
  • Bhawanipur
  • Uchaitha

मधुबनी और आसपास के पर्यटन स्थल

Kapileshwar sthan

मधुबनी से 9 किमी दूर कपिलेश्वर स्थान नामक एक छोटा सा गाँव स्थित है। यह गाँव भगवान शिव को समर्पित कपिलेश्वर मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ सोमवार को विशेष रूप से श्रावण के महीने में मंदिर में असाधारण भीड़ होती है। महाशिवरात्रि के अवसर पर मंदिर में एक विशाल मेले का आयोजन होता है। उसमे पूरा गांव मेजबान की भूमिका निभाता है। यह उत्सव को बहुत धूमधाम और शो के साथ मनाता है। आपको यहाँ श्रावण के महीने में दर्शन के लिए जाना चाहिए।

मधुबनी बिहार के फोटो
मधुबनी बिहार के फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – बोधगया दर्शनीय स्थल का इतिहास और यात्रा की जानकारी

Saurath Madhubani

मधुबनी से जयनगर की सड़क पर स्थित सौरथ एक छोटा सा गाँव है। वह लोकप्रिय और प्रसिद्ध सोमनाथ महादेव मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। हर साल यहाँ के आसपास के गांवों के सभी मैथिली ब्राह्मण वार्षिक सभा के समय यहां मिलते हैं। और प्रस्तावों पर अपनी बातचीत करते हैं। उस समय शादियों में समाप्त हो जाते हैं। यह एक कारण है कि यह मंदिर बहुत प्रसिद्ध है।

Nagar Fort Madhubani

नगर किला को महाराजा श्री रामेश्वर सिंह ने निर्मित करवाया था। नगर किला लोकप्रिय रूप से नौलखा पैलेस के रूप में प्रसिद्ध है। वर्ष 1934 में आए भीषण भूकंप के कारण किले को जबरदस्त नुकसान सहना पड़ा था। यह खूबसूरत और शानदार संरचना प्राचीन समय में शाही परिवार का निवास स्थान हुआ करती थी। लेकिन आज सिर्फ एक खंडहार की तरह खड़ी दिखाई देती है। इतिहासकारों और पुरातत्वविदों के लिए बहुत रुचि का विषय है।

मधुबनी बिहार के पर्यटन स्थल की जानकारी
मधुबनी बिहार के पर्यटन स्थल की जानकारी

Bhawanipur Madhubani 

बिहार राज्य में मधुबनी जिले में पंडौल ब्लॉक मुख्यालय से 5 किमी दूर भवानीपुर गांव स्थित है। वह अपने उग्रनाथ मंदिर और कवि विद्यापेट के साथ जुड़ाव के लिए लोकप्रिय है। भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार, विद्यापेट को भगवान शिव का एक प्रबल भक्त था। जिसके कारण शिव ने युगाना के दास के रूप में उनकी सेवा करना शुरू कर दिया था। युगाना महादेव मंदिर वह जगह है जहां भगवान शिव ने विद्यापेट को अपनी असली पहचान बताई थी।

Uchaitha

थुम्ने नदी के पश्चिमी तट पर भगवती मंदिर है। ऐतिहासिक कथाओं के मुताबिक देवी भगवती ने यही पर प्रसिद्ध लेखक और कवि कालिदास को आशीर्वाद दिया था। कहा जाता है कि देवी कालिदास की प्रतिभा, कौशल और समर्पण से अत्यधिक प्रभावित थीं। मंदिर के दक्षिण पूर्व में कालिदास की पाठशाला है। मंदिर एक प्राचीन स्थल है और वास्तुकला के इंडो आर्यन के साथ बनाया गया है।

माना जाता है कि वर्षों पहले महाराजाधिराज श्री रामेश्वर सिंह ने देवता की छवि के सिर को फिर से स्थापित करने पर जोर दिया। और नए डिजाइन किए गए सिर की स्थापना से ठीक एक रात पहले देवी ने राजा के सपने में प्रकट होकर पूछा कि यह सही है। उसके लिए निर्माता बनाने के लिए। उस कारन सिर को स्थापित नहीं किया गया था। और अभी भी देव की मूर्ति के ठीक बगल में है।

Madhubani photo gallery
Madhubani photo gallery

इसके बारेमे भी जानिए – मेघालय के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

Madhubani Paintings

शहर पेंटिंग और कला से संस्कृति और परंपराओं को दर्शाता हैं। यह उस समय की एक कहानी बताते हैं जब शहर की उत्पत्ति हुई थी। मधुबनी पेंटिंग की उत्पत्ति 2500 साल पहले बिहार के मिथिला जिले में हुई थी। यह प्राचीन लोक कला रामायण के समय की बताई जाती है। महाराजा राजा जनक ने एक कलाकार से भगवान राम और माता सीता के विवाह की घटना को कैनवास पर चित्रित करने को कहा था।

उसके बाद में स्थानिक महिलाओं ने त्योहारों और समारोहों में घरों की दीवारों और फर्श पर उस जैसी पेंटिंग बनाना शुरू कर दिया था। वह चित्रों की खोज 1934 में एक बड़े भूकंप के बाद एक ब्रिटिश औपनिवेशिक ने की गई थी। उन्होंने नुकसान को देखने के समय घरों की आंतरिक दीवारों पर कला के अवशेष देखे थे। वह चित्रों को प्रसिद्धि मिल रही है, और मधुबनी जिले या रांटी गांव की कला फल-फूल रही है। वह पेंटिंग उंगलियों, टहनियों, पेन निब या माचिस की तीली का प्रयोग करके की जाती है।

उसमें नुकीली नाक और उभरी हुई आंखें होती हैं। उसमे खाली जगह नहीं बचती है। उसकी रूपरेखा चावल के पेस्ट से बनाई गई है, और अंदरूनी को भरने के लिए जीवंत चमकीले रंगों का उपयोग किया जाता है। रंग भी प्राकृतिक रंगों से बनाए जाते हैं। उस चित्रों को शादियों या त्योहारों  को चित्रित करने के लिए जाना जाता है। और उसमे प्राकृतिक तत्व शामिल होते हैं। वह प्रेम, वीरता, भक्ति और प्रजनन क्षमता की भावनाओं का प्रतीक होते हैं।

मधुबनी का फोटो
मधुबनी का फोटो

Restaurants and Local Food in Madhubani

बिहार के मधुबनी में स्थानीय लोगों के आहार में ज्यादातर शाकाहारी भोजन देखने को मिलता हैं। बिहार में पर्यटक लिट्टी चोखा, सत्तू के पराठे, दाल बाटी और झाल मूडी जैसे स्थानीय या व्यंजन का मजा ले सकते हैं। एक अच्छे रेस्तरां या सड़क के किनारे भी आपको यहाँ का स्थानीय भोजन को ज़रूर खाना चाहिए। यात्री गर्मियों के दौरान जा रहे हैं। उसे सीधे खेत के आम और लीची जरूर खानी चाहिए ।

Madhubani History
Madhubani History

Where To Stay In Madhubani

मधुबनी में कहाँ ठहरें – अगर आप मधुबनी और उसके नजदीकी पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के पश्यात यहाँ की होटल और गेस्ट हाउस में अच्छे निवास स्थान की खोज में हैं। तो हम आपको यहाँ आपको हाई-बजट से लो-बजट यानि सभी प्रकार की होटल उपलब्ध है। आप अपनी सुविधा और बजट के मुताबिक होटल पसंद कर सकते हैं। कुछ अच्छी होटल के नाम हम आपको बताएँगे आप वहा जा सकते है।

  • Natraj Hotel
  • G.V HERITAGE
  • Hotel Naveen Residency
  • SPOT ON 38587 Hotel Midtown
  • OYO 30754 Hotel A P Palace
  • OYO 35895 Hotel Ira Palace
  • Shobha Hotel

Tourist places in Bihar

  • BodhGaya
  • Patna
  • Nalanda
  • Vaishali
  • Madhubani
  • Muzaffarpur
  • Bhagalpur
  • Rajgir
  • Pawapuri
  • Hajipur
  • Sitamarhi
  • Lauriya Nandangarh
  • Valmiki National Park
  • Chhat Puja
  • Tomb of Sher Shah Suri
  • Navlakha Palace
  • Jal Mandir
  • Mundeshwari Temple

    Madhubani images hd
    Madhubani images hd

इसके बारेमे भी जानिए – चेरापूंजी में नोहकलिकाई वॉटरफॉल्स घूमने की जानकारी

How To Reach Madhubani Bihar

ट्रेन से मधुबनी कैसे पहुंचे

How to reach Madhubani by train – मधुबनी शहर देश केसभी हिस्सों से रेल से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। शहर में तीन रेलवे स्टेशन हैं। उसके नाम मधुबनी, ललित लक्ष्मीपुर और राजानगर हैं। रेल से कोलकाता की दूरी 572 किमी है। और गंगासागर एक्सप्रेस और कोआ जिग एक्सप्रेस जैसी तीन सीधी ट्रेनें हैं। दिल्ली और मधुबनी के बीच की रेल दूरी 1210 किमी है और दो सीधी ट्रेनें हैं जो सरयू यमुना एक्सप्रेस और जिग अन्वत जी रथ हैं। तेज गति वाली ट्रेन दूरी तय करने में लगभग 20 घंटे का समय लेती है।

सड़क मार्ग से मधुबनी कैसे पहुंचे

How to reach Madhubani by road – मधुबनी शहर की सड़कें मोटर योग्य हैं। मधुबनी और कोलकाता के बीच 645 किमी की सड़क की दूरी में 14 घंटे का समय लगता है। मधुबनी से पटना 167 किमी की दूरी 4hr20min का समय लगता है। उसके अलावा 1174 किमी की दूरी दिल्ली की है। पर्यटक बहुत असानी से अपनी यात्रा शुरू कर सकते है।

फ्लाइट से मधुबनी कैसे पहुंचे

How to reach Madhubani by flight – मधुबनी में हवाई अड्डा नहीं है। मगर पटना से मधुबनी 167 किमी दूर है। आप भारत के किसी भी शहर से मधुबनी के लिए यात्रा करना चाहते हैं। तो आप पटना के लिए एक उड़ान पकड़ सकते हैं। और वहा से टैक्सी से मधुबनी की यात्रा कर सकते हैं। पटना देश के बाकी हिस्सों से हवाई मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

Tourist Spots in Madhubani
Tourist Spots in Madhubani

Madhubani Map मधुबनी का लोकेशन

Madhubani Tourism In Hindi Video

Interesting Facts About Madhubani

  • मधुबनी पेंटिंग भारत और विदेशों में सबसे प्रसिद्ध कलाओं में से एक है। 
  • मधुबनी पेंटिंग भगवान कृष्ण, रामायण के दृश्यों जैसे भगवान की छवियों और धार्मिक विषयों पर आधारित हैं।
  • बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली महिलाएं मधुबनी कला किया करती थी।  
  • मधुबनी पेंटिंग को प्राकृतिक रंगों के साथ चित्रित किया जाता है। 
  • जापान के लोग भारत की मधुबनी कला से बहुत परिचित हैं। 
  • भारत और विदेशों में मधुबनी चित्रों का संग्रह युक्त कई अनन्य गैलरी हैं। 
  • मधुबनी पेंटिंग को प्राकृतिक रंगों के साथ चित्रित किया जाता है। 
  • उसमे गाय का गोबर और कीचड़ का उपयोग किया जाता है। 

FAQ

Q .मधुबनी कहा है?

बिहार का आकर्षित शहर मधुबनी एक प्राचीन शहर हैं।

Q .मधुबनी क्यों प्रसिद्ध है?

 मधुबनी बिहार का आकर्षित शहर मधुबनी कला और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध हैं।

Q .मधुबनी कला किस राज्य में प्रसिद्ध है?

मधुबनी कला बिहार राज्य में प्रसिद्ध है। 

Q .मधुबनी पेंटिंग क्यों प्रसिद्ध है?

बिहार की लोक कला मधुबनी भूमि की प्राचीनता और इसके धार्मिक इतिहास के लिए प्रसिद्ध है। 

Q .मधुबनी कला कितनी पुरानी है?

मधुबनी कला 2500 साल पुरानी लोक कला, मधुबनी पेंटिंग का इतिहास रामायण के समय की है। 

Conclusion

आपको मेरा Madhubani Tourism In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Madhubani painting , Madhubani district

और Madhubani district is in which state से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Madhubani news या Madhubani painting designs की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Madhubani art, Madhubani, Madhubani drawing, Madhubani district map, Madhubani district village list, www.madhubani.nic.in 2021, Madhubani district population, Madhubani district panchayat job, Madhubani wikipedia, dm madhubani, Madhubani.nic.in teacher niyojan, Madhubani nic.in recruitment

बच्चों के लिए मधुबनी कला, मधुबनी कला मोर, बिहार, मधुबनी जिला का नक्शा, मधुबनी पेंटिंग, डीएम मधुबनी, मधुबनी का आज का ताजा खबर, मधुबनी जिला के गांव, मधुबनी ब्लॉक लिस्ट, मधुबनी SP का नंबर, दैनिक भास्कर मधुबनी, खुटौना , मधुबनी बिहार न्यूज़

इसके बारेमे भी जानिए – मंत्रमुग्ध करने वाला मौसिनराम के पर्यटन स्थल की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.