Kuldhara Village History In Hindi

Kuldhara Village History In Hindi | कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी और इतिहास

नमस्कार दोस्तों Kuldhara Village In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम कुलधरा का इतिहास और कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी बताने वाले है। राजस्थान की गोल्डन सिटी जैसलमेर से 20 किलोमीटर दूर स्थित कुलधरा गाँव सबसे दिलचस्प और आकर्षण स्थलों में से एक है। किंवदंतियों और मिथकों के साथ यह समृद्ध गांव एक डरावना और प्रेतवाधित गांव कहा जाता है। राजस्थान के रेगिस्तान बिच यह सुंदर और खूबसूरत जगह बेहद प्रसिद्ध है। गाँव की कई डरावना और भूतिया कहानिया मौजूद है। 

किंवदंती के मुताबिक अत्याचारी मंत्री के हाथों से अपने सम्मान और जीवन को बचाने के लिए पूरे विस्तार के निवासियों ने रात भर में यह जगह छोड़ दी थी। उसके पश्यात पूरा क्षेत्र शांत हो चूका है। मगर बहुत भयानक रूप से खामोश है। यहाँ गाँव में और उसके नजदीक भूतिया और अपसामान्य गतिविधियों की कहानियाँ रही हैं। मगर उसका कोई भी पुख्ता सबूत नहीं मिलता है। यहाँ कई निजी निर्माण कंपनियों की सहायता से सरकार रात में ठहरने के लिए कैफे, रेस्तरां और होटल स्थापित हो रही है। 

History Of Kuldhara Village

कुलधरा का इतिहास देखे तो कुलधरा गाँव मूल रूप से ब्राह्मणों से बसा हुआ था। वह शहर खली करने के बाद पाली से जैसलमेर चले गए थे। यह गाँव की पुस्तकों और साहित्यिक वृत्तांतों में ऐसा कहा गया है कि पाली के एक ब्राह्मण कधान ने सबसे पहले यह स्थान पर अपना घर बनाया था। और एक तालाब भी खोदा और उसका नाम उधनसर रखा था। पाली ब्राह्मणों को पालीवाल कहा जाता था और वहीं से कबीले का नाम भी बताया जाता है। शिलालेख और नक्काशी में पाए गए और अध्ययन किए गए कुलधरा का उल्लेख गांव के ब्राह्मण निवासियों की जाति के रूप में किया गया था।

Kuldhara Village Images
Kuldhara Village Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क घूमने की जानकारी

Best Time To Visit Kuldhara Village

कुलधरा गाँव जाने का सबसे अच्छा समय बताए तो हमारे भारत का राजस्थान राज्य साल भर बेहद गर्म रहता है। उसके कारन कुलधरा जाने का आदर्श समय अक्टूबर से मार्च का माना जाता है। उस मौसम में यहाँ गर्मी थोड़ी कम होती है। और उसके कारन पर्यटक धूप से परेशान हुए बिना रेगिस्तान में घूमने का आनंद ले सकते हैं। क्योकि सूरज की तेज गर्मी से बचकर घूमने का मजा ले सकते है।

Location – En route Sam Sand Dunes and Thar Desert, Jaisalmer, Rajasthan-345001

Kuldhara Village Photos
Kuldhara Village Photos

Kuldhara Village Timing And Entry Fees

कुलधरा गांव घुमने का समय और प्रवेश शुल्क – कुलधरा गाँव की यात्रा करना चाहते हैं। तो आप को बतादे की यह गाँव हफ्ते में सभी दिन सुबह 8:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक खुला रहता हैं। आपको बतादे की यह गाँव को प्रेतवाधित या भूतिया कहा जाता है। उसके कारन स्थानीय लोग यह स्थल पर सूर्यास्त के बाद घूमने नहीं निकलते है। और अपने घर के दरवाजे भी बंद कर देते हैं। कुलधरा गाँव में प्रवेश करने के लिए प्रवेश शुल्क में प्रति व्यक्ति 10 रूपये और निजी कार के साथ जाने के लिए 50 रूपये शुल्क देना होता है।

कुलधरा गाँव
कुलधरा गाँव

इसके बारेमे भी पढ़िए – दुनिया के न्यूड बीच जहां बिना कपड़ों के नहाते हैं लोग

Kuldhara Village Ka Rahasya Aur Kahani

कुलधरा का रहस्य और कुलधरा परित्यक्त गांव की कथा बताए तो लोकप्रिय मिथक के मुताबिक 1800 के दशक में गांव के मंत्री सलीम सिंह के अधीन एक राज्य था। वह कर संग्रह के अपने तरीकों में बहुत विश्वासघाती था। ग्रामीणों पर लगाए जाने वाले कर पहले से ही बहुत अधिक थे। उसके साथ सलीम सिंह ने ग्राम प्रधान की सुंदर बेटी को पसंद किया था। और ग्रामीणों को धमकी दी कि यदि वे विरोध करने की कोशिश करते हैं। और उसके रास्ते में खड़े होते हैं या बिना किसी विरोध के युवती को उसके पास नहीं लौटाते हैं। 

तो उसपर कर वसूल करेगा वह अधिक कर की वसुलात करेंगा। गांव वाले अपनी जान बचाने के साथ बेटीयो की इज्जत बचाने के लिए मुखिया समेत पूरा गांव रातों-रात फरार हो गया था। गांव को वीरान छोड़कर दूर जगह पर चला गया था। लोककथा के मुताबिक गांव वालों ने जाते समय गांव को श्राप दे दिया था। कि आने अब यहाँ यहां कोई नहीं रह पाएगा। कुलधरा गाँव की कथा या कहानी पर्यटक के लिए एक आकर्षण के रूप में खास संपत्ति है। इतिहासकारों के मुताबिक यहाँ पर भूकंप या अकाल एक प्राकृतिक आपदा थी।

Kuldhara Village
Kuldhara Village

इसके बारेमे भी पढ़िए – चंदोली नेशनल पार्क घूमने की सम्पूर्ण जानकारी

Things To Do At Kuldhara Village

कुलधरा गाँव मे क्या क्या कर सकते है। तो आपको बतादे की वर्तमान समय में कुलधरा गाँव भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने एक ऐतिहासिक स्थल बनाया है। उसके कारन पर्यटक यहाँ का दौरा कर सकते हैं। आप यहाँ चारों ओर देख सकते हैं कि प्राचीन गाँव अपने समय में कैसा हुआ करता था। संपूर्ण कुलधरा गाँव एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है। 

उसमे तक़रीबन 85 छोटे बस्तियां हैं। यह गांवों की सारी झोपड़ियां टूट कर खंडहर हो चुकी हैं। यहाँ कुछ देवी के पुराने मंदिर का एक खंडहर भी देखने को मिलता है। उस मंदिर में शिलालेख मौजूद हैं। उस लेख से पुरातत्वविदों को गांव और उसके निवासियों के बारे में जानकारी मिली है। कुलधरा गाँव इतिहास जानने वाले लोगों के लिए एक खजाना है।

कुलधरा गाँव की फोटो गैलरी
कुलधरा गाँव की फोटो गैलरी

Food Near Kuldhara Village Jaisalme

अगर आप जैसलमेर राजस्थान की यात्रा करना चाहते है। तो बतादे की यह शहर के नजदीक ही जैसलमेर एक प्रमुख शहर है। वहाँ पर आप सभी राजस्थानी व्यंजन और समृद्ध मांसाहारी भोजन को खाने का मजा ले सकते हैं। यहां के रेस्तरां और होटल के मेनू में स्वादिष्ट भोजन की लिस्ट देखकर पर्यटक के मुंह में पानी आ सकता है। क्योकि की राजस्थानी व्यंजनो को खाने का मजा ही कुछ अलग है।

कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी और इतिहास
कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी और इतिहास

इसके बारेमे भी पढ़िए – हिमाचल प्रदेश के प्रमुख नेशनल पार्क की जानकारी

Places To Visit In Jaisalmer

  • जैसलमेर का किला 
  • गडीसर झील 
  • जैन मंदिर जैसलमेर 
  • सैम सैंड ड्यून्स 
  • पटवों की हवेली 
  • नाथमल की हवेली 
  • अमर सागर झील
  • डेजर्ट नेशनल पार्क 
  • बड़ा बाग जैसलमेर 
  • डेजर्ट कल्चर सेंटर एंड म्यूजियम 
  • ताज़िया टॉवर और बादल महल 
  • व्यास छत्री जैसलमेर 
  • सलीम सिंह की हवेली
  • खाबा किला
  • भारत-पाक सीमा 
  • शांतिनाथ मंदिर 
  • चंद्रप्रभु मंदिर
  • लोद्रवा जैसलमेर

इसके बारेमे भी पढ़िए – उत्तर प्रदेश के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान और पक्षी अभयारण्य

कुलधरा गाँव फोटो
कुलधरा गाँव फोटो

How To Reach Kuldhara Village Rajasthan

ट्रेन से कुलधरा गांव कैसे पहुंचे

How To Reach Kuldhara Village By Train – कुलधरा गांव से जाने के लिए आपने रेलवे मार्ग की पसंदगी की है। तो कुलधरा से 2 कोलोमीटर दूर जैसलमेर का रेलवे स्टेशन स्थित है। जैसलमेर का यह रेलवे स्टेशन दिल्ली, मुंबई और बैंगलोर जैसे भारत देश के बड़े और प्रमुख शहरों से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। वहाँ रेलवे स्टेशन से पर्यटक बहुत आसानी से कुलधरा गांव पहुँच सकते है। 

सड़क मार्ग से कुलधरा गांव कैसे पहुंचे

How To Reach Kuldhara Village By Road – पर्यटक अगर कुलधरा गांव जाने के लिए सड़क मार्ग को पसंद करता हैं। तो आपको बतादे की राजस्थान राज्य सड़क परिवहन निगम से संचालित बसे नियमित रूप से चलती रहती है। पर्यटक बस के माध्यम से बहुत आसानी से कुलधरा गांव पहुँच सकते है। कुलधरा गाँव राजस्थान के जैसलमेर के मुख्य शहर से 18-20 कि.मी दूर स्थित है। 

फ्लाइट से कुलधरा गांव कैसे पहुंचे

How To Reach Kuldhara Village By Flight – जैसलमेर के कुलधरा गांव जाने के लिए हवाई मार्ग को पसंद करते हैं। तो कुलधरा का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा जैसलमेर में स्थित हैं। वह हवाई अड्डा कुलधरा गांव से 22  कि.मी दूर हैं। जैसलमेर हवाई अड्डा मुंबई, दिल्ली और बैंगलोर जैसे भारत के बड़े शहरो से जुड़ा हुआ है। उसके अलावा जोधपुर हवाई अड्डा 285 कि.मी दूर स्थित है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – पिरान कलियर शरीफ की दरगाह का इतिहास

Kuldhara Village Map कुलधरा गाँव का लोकेशन

Story Of Kuldhara Village In Rajasthan In Hindi Video

Interesting Facts

  • कुलधरा गांव को सन 1291 में पालीवाल ब्राह्मणों ने 600 घरों के गांव को बसाया था।
  • कुलधरा गांव के पालीवाल ब्राह्मण खेती और मवेशी पालन पर निर्भर थे।
  • पालीवाल ब्राह्मणो ने गांव को खाली कर श्राप दिया कि यहाँ कोई नहीं बस पाएगा।
  • पर्यटको को यहां कुछ अजीबोगरीब अहसास होने लगते हैं।
  • इतिहासकारों के अनुसार यहाँ पालीवाल ब्राह्मण बेहद अमीर थे।
  • कुलधरा गांव करीब दो सौ सालों से उजड़ा हुआ है।
  • गांव के घरों के अंदर के हिस्सों में तहखाने बने हुए हैं।
  • कुलधरा गांव वीरान होने के पीछे एक रहस्यमई कहानी है।
  • कुलधरा गांव में भूत प्रेत और आत्माये भटकती रहती है।
  • यहां आने का सही समय अक्टूबर से लेकर मार्च तक अच्छा है।
  • सूर्यास्त के बाद कुलधरा गांव के गेट बंद कर दिए जाते हैं।
  • कुलधरा गांव  पहले काफी सुंदर हुआ करता था।

FAQ

Q .कुलधरा गांव कहा है?

कुलधरा गाँव, राजस्थान के जैसलमेर से 20 कि.मी दूर स्थित है।

Q .कुलधरा गांव में क्या हुआ था?

गाँव का मुखिया पूरे गांव सहित एक दिन रात में गांव छोड़कर भाग गए थे।

Q .राजस्थान में भूतों का गांव कौन सा है?

कुलधरा गांव

Q .कुलधरा गांव क्यों प्रसिद्ध है?

कुलधरा गाँव भूतिया कहानी, सुंदर जगह के कारण प्रसिद्ध है।

Q .कुलधरा गांव की स्थपना कब हुई थी?

कुलधरा गांव को पालीवाल ब्राह्मणों ने सन 1291 में बसाया था।

Conclusion

आपको मेरा लेख Kuldhara Village story in hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Salim singh kuldhara, Kuldhara Village at night

और Kuldhara Village haunted story in hindi से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Kuldhara Village population की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Kuldhara ghost photos, Diwan bed, Kuldhara Village history in bengali, Bhangarh fort story, Kuldhara gatekeeper, Ghost village in india, Mukesh mills, कुलधरा का खजाना, कुलधरा गांव का रहस्य राजस्थान, जैसलमेर का भूतिया गांव, कुलधरा गांव की फिल्म, कुलभाटा गांव कहां है, कुलधरा गांव का वीडियो, जैसलमेर के गांव के नाम, वीरान गांव, श्रापित भूतिया गांव, काला खंडहर गांव

इसके बारेमे भी पढ़िए – उदयगिरि गुफाएँ का इतिहास और यात्रा से जुड़ी जानकारी

12 thoughts on “Kuldhara Village History In Hindi | कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी और इतिहास”

  1. Videoyu izlemek için tıklayın. İnek Bebeğim sakso Ve sikiş Eğilir.
    7 338.525 Video. KATEGORİLER ARA PORNO. İnek Bebeğim sakso
    Ve sikiş Eğilir İnek bebeğim çok seks seviyor!
    O ilk sikişten sonra düzenli olarak babam haftada 1 kere götümden sikti beni.

    gùzel bir apartmana girdi, bekle sen dedim ve odama çıktım.

  2. I can deal with some of the physical side effects, obviously I went through chemo, but the out of control feeling in my mind is what I can t tolerate, and I d love to not feel sick to my stomach daily lasix drip

  3. wi꣥j Chodzi o fanów gier karcianych, ponieważ Noblebet dodał do swojej bogatej propozycji online całodobowe rynki na żywo obejmujące popularne karcianki. Wśród symulowanych gier znajdują się poker, wojna, blackjack, wojna plus, wojna andar bahar oraz indyjski poker, które znaczny sposób zwiększają możliwości zawierania dochodowych kuponów u tego buka. Teraz dzięki wiedzy o rodzajach pokera żadne rozgrywki nie będą Wam straszne. W tym momencie każdy gracz ma już pogląd na swoje karty i wie, jaki najmocniejszy układ może z nich stworzyć. Na tym etapie zaczynają się największe licytacje i gra nerwów. Najważniejsze, aby nie zdradzić tego, czy ma się bardzo silne karty w ręku, czy też nie. Tutaj można zastosować strategie blefowania, ale wiąże się ona z dużym ryzykiem. Jeśli przy stole jest osoba, która ma pewny układ pokera królewskiego, z pewnością nie da się zwieść i będzie sprawdzać. Dzięki takiemu rozwojowi sytuacji Texas Hold’em jest nieprzewidywalny i emocjonujący, co przekłada się na jeszcze większe zainteresowanie tą grą. https://pettomodachi.com/community/profile/hildegardelomba/ Minchbergowie przed wiekami przywędrowali do Polski z Bawarii. Jeszcze przed drugą wojną używali pisowni Münchberg, w PRL ich nazwisko spolszczono. Ojcu Marka podczas okupacji kilkakrotnie proponowano podpisanie volkslisty, ale konsekwentnie odmawiał, bo z Rzeszą nie łączyło go już nic, a z Polską wszystko. Rodzinie to przywiązanie do polskości nie wyszło na dobre, trzech jego braci straciło życie w niemieckich obozach koncentracyjnych.  Fizys, gr., nieod., pog. twarz, oblicze, fizjognomja, rysy twarzy. Fjakr, Fjakier, fr., dorożka, powóz uliczny do wynajęcia; dorożkarz. Fjasko, wł., zawód, nieudanie się czego, zupełne niepowodzenie; bankructwo, upadek (zrobić f. = doznać zupełnego niepowodzenia). Fjeld, duńs. płaskowzgórze w Danji, Szwecji, Norwegji. Fjesta, hiszp., sztuka teatralna okolicznościowa, dawana na zakończenie widowiska.

Leave a Comment

Your email address will not be published.