Kaziranga National Park & Tiger Reserve in Hindi

Kaziranga National Park & Tiger Reserve in Hindi | काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

नमस्कार दोस्तों Kaziranga National Park In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम काजीरंगा नेशनल पार्क के बारे में पूरी जानकारी बताने वाले है। भारत के सबसे खूबसूरत राज्य असम के गोलाघाट और नागांव जिले के नजदीक स्थित काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान असम का एक प्रमुख पर्यटक स्थल है। यह नेशनल पार्क गैंडों की आबादी के लिए प्रसिद्ध है। काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान लोकप्रिय राष्ट्रीय उद्यान यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है। राष्ट्रीय पार्क को 1985 में विश्व विरासत स्थल के रूप में घोषित किया गया है।

एक-सींग वाले गैंडों की कुल विश्व आबादी का दो-तिहाई हिस्सा है। एक सींग वाले गैंडों के अलावा, 430 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैले राष्ट्रीय उद्यान में बाघों का उच्च घनत्व और हाथियों, दलदली हिरणों और जंगली भैंसों के लिए एक बड़ा प्रजनन स्थल है। राष्ट्रीय उद्यान को एक महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (IBA) के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। जो इसे न केवल भारत में एक आदर्श वन्यजीव देखने का स्थान बनाता है, बल्कि एक पक्षी देखने वालों का स्वर्ग भी है। तो चलिए काजीरंगा नेशनल पार्क में घूमने की सम्पूर्ण जानकारी बताते है।

Kaziranga National Park History In Hindi

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान का इतिहास बताये तो यह लुप्तप्राय भारतीय एक-सींग वाले गैंडों के लिए प्रसिद्ध है। लेकिन उसको 2006 में बाघ अभयारण्य के रूप में घोषित किया गया था। यहाँ दुनिया के सबसे ज्यादा बाघ है। उसके अलावा यहाँ हाथियों, जंगली भैंसों और दलदली हिरणों के बड़े प्रजनन निवासियों के लिए एक घर है। 1908 के वर्ष में वन आरक्षित और 1950 के वर्ष में वन्यजीव अभयारण्य के रूप में घोषित किया गया है। 430 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करता काजीरंगा को यूनेस्को ने 1985 में अपने उसकी प्राकृतिक सुंदरता एव वातावरण के लिए विश्व धरोहर स्थल में स्थान दिया है।

आज काजीरंगा नेशनल पार्क को बर्डलाइफ इंटरनेशनल ने एक महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र के रूप में स्थापित किया है। कुदरती आवास में यह प्रवासी और निवासी पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों का घर कहा जाता है। ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित अभयारण्य में चार प्रकार की वनस्पतियां देखने को मिलती है। उसकी कहानी देखे तो ऐसा कहाजाता है। की यहां पहले रंगा नाम की एक लड़की रहती थी। उन्हें काजी नाम के एक लड़के से प्यार हो गया था। दोनों घर से भाग गए और जंगल में चले गए। उस समय से यह विस्तार का नाम काजीरंगा रखा गया है। दूसरी कहानी देखे तो 16 वीं में एक संत श्रीमंत शंकरदेव ने काज़ी और रंगाई को संतान प्राप्ति का आशीर्वाद दिया था।

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान
Kaziranga National Park Photo

इसके बारेमे भी जानिए – हिमाचल प्रदेश के 10 सबसे खास पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

काजीरंगा नेशनल पार्क घूमने का सबसे अच्छा समय

यात्रिओ को काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान घूमने का सबसे अच्छा समय बताये तो नवंबर से अप्रैल के महीने तक का होता है। यह राष्ट्रीय उद्यान में अच्छा अनुभव देने वाला मौसम आमतौर पर उष्णकटिबंधीय होता है। ग्रीष्मकाल बहुत गर्म और आर्द्र (अप्रैल-जून) और सर्दियों में ठंडी रातें (नवंबर-जनवरी) होती हैं। पार्क हर साल मानसून के दौरान ब्रह्मपुत्र नदी के पानी से भर जाता है। बरसात का मौसम जून से शुरू होता है और अगस्त तक जारी रहता है। इन मौसमों में पार्क बंद रहता है। काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा के लिए नवंबर से अप्रैल के महीने सबसे अच्छे हैं। क्योकि उस समय यहाँ का मौसम बहुत ही सुहावना हुआ करता है।

राज्य असम
ज़िला गोलाघाट, नागांव
राष्ट्रीय उद्यान घोषित  1974 
निकटतम शहर  गोलाघाट
क्षेत्रफल  430 km² (166 sq mi)
पता  Kanchanjuri, Assam 784177
प्रशासन  असम राज्य सरकार

Flora In Kaziranga National Park

पार्क के पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्रों के बीच ऊंचाई में अंतर की वजह से यहाँ मुख्य रूप से वनस्पतियाँ चार प्रकार की हुआ करती हैं। जैसे जलोढ़ बाढ़ घास के मैदान, जलोढ़ सवाना वन, उष्णकटिबंधीय नम मिश्रित पर्णपाती वन और उष्णकटिबंधीय अर्ध-सदाबहार वन। कुम्भी, भारतीय आंवला, कपास का पेड़ और हाथी सेब उन प्रसिद्ध पेड़ों में गिने जाते हैं। उसके अलावा, झीलों, तालाबों और नदी के किनारे जलीय वनस्पतियों की एक अच्छी किस्म दिखाई देती है। यहाँ की वनस्पति की समृद्ध पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती है।

1986 में किए गए वनस्पतियों के सर्वेक्षण के अनुसार यहां पर 41% ऊँचे हाथी घास (टाल एलीफैंट ग्रास), 29% खुले जंगल, 11% छोटी घास, 8% नदियाँ और अन्य जल स्त्रोत, 6% रेत और 4% स्वामपलैंड देखने को मिलते हैं। पार्क की वनस्पति की पर्यटकों के मन को एक अलग शांति का अनुभव कराती है। ब्रह्मपुत्र नदी से गिरा यह राष्ट्रीय उद्यान के पेड़ पौधे जानवरों और पक्षियों को अपने घर प्रदान करते है। और उसके कारन ही यहाँ का वातावरण बेहद सुंदर दिखाई देता हैं।

Kaziranga National Park Photo
काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

Animals In Kaziranga National Park

काजीरंगा पार्क का वन क्षेत्र भारतीय गैंडों की दुनिया की सबसे बड़ी आबादी का घर कहा जाता है। उसके साथ साथ यहाँ जानवर में हाथी घास, दलदली भूमि और काजीरंगा के घने उष्णकटिबंधीय नम चौड़े पत्तों वाले जंगलों में देखे जा सकते हैं। हूलॉक गिब्बन, बाघ, तेंदुआ, भारतीय हाथी, सुस्त भालू, जंगली जल भैंस और दलदल हिरण ज्यादा है । हर साल बाघों की आबादी में वृद्धि के साथ , सरकारी अधिकारियों ने वर्ष 2006 में काजीरंगा को टाइगर रिजर्व घोषित किया था।

यहां  मध्य एशिया से प्रवासी पक्षी प्रजातियों भी देखने को मिलते है। ऐसा कहाजाता है की यह पार्क 35 स्तनधारी प्रजातियां देखने को मिलती हैं। काजीरंगा के पक्षिओं के बारे में बात करें तो सफेद-सामने वाले हंस, बेयर पोचर्ड बतख, फेरुगिन डक, काले गर्दन वाले सारस, बेलीथ के किंगफिशर, सफेद बेल वाले बगुले, एशियाई ओपनबिल कॉर्क, स्पॉट-बिल्व्ड और डालमेशियन पेलिकन शामिल हैं। यह नेशनल पार्क में गिद्धों की तीन प्रजातियाँ देखने को मिलती हैं। जिसको दुबले पतले गिद्ध (सिलेंडर बिल्ड वल्चर), इंडियन वाइट वल्चर और भारतीय गिद्ध (इंडियन वल्चर) कहते है।

kaziranga national park gate photo
kaziranga national park gate photo

इसके बारेमे भी जानिए – भारत के सबसे बड़ी और विवादास्पद परियोजना सरदार सरोवर बांध

Tourists Attractions Of Kaziranga National Park

Kaziranga National Park Wildlife Safari

पर्यटकों को बहुत ही नजदीकी से जीवजन्तु और जंगलो को देखने के लिए हाथी सफारी और जीप सफारी की सुविधा मिलती हैं। उससे काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में आने वाले पर्यटक सफारी की मदद से सम्पूर्ण रूप से और अच्छे से राष्ट्रीय उद्यान को देख सकते है। और अपनी यात्रा का मजा ले सकते है। लेकिन उसके लिए कुछ समय और पैसे खर्च करने होते है।

Elephant Safari in Kaziranga National Park

काजीरंगा में हाथी सफारी के जरिये पर्यटकों को हाथी पर बैठकर जंगल की सैर कराई जाती है। उससे आपको यहाँ गैंडों के साथ कई अन्य वन्यजीवों को देखने का मौका मिलता है। वन विभाग के जरिये काजीरंगा में हाथी सफारी दिन में दो वक्त सुबह और शाम को करवाई जाती है। उस सफारी में एक हाथी सफारी में 4 चार यात्री के साथ एक हाथी चालक बैठता है। उसके लिए आपको सफारी शुल्क और प्रवेश शुल्क दोनों के लिए अलग  खर्चा करना पड़ता है। काजीरंगा में हाथी सफारी का समय (Kaziranga Elephant Safari Rides Timing) की बात करे तो सुबह 05:30 बजे से 07:30 बजे और दोपहर में 3:00 बजे से 4:00 बजे तक का होता है।

Kaziranga National Park Photos
Kaziranga National Park Photos

Jeep Safari in Kaziranga National Park

काजीरंगा नेशनल पार्क में जीप सफारी में पर्यटकों को कुछ लुप्तप्राय पशु, पक्षी और स्तनधारी प्रजातियां दिखाई देती है। यह यहाँ आने वाले यात्रियों के लिए मुख्य आकर्षण और बेहद पसंदा गतियिधियो में से एक हैं। जीप सफारी का वातावरण बेहद खूबसूरत है। उसमे यात्रिओ को जीप सफारी या आधुनिक एसयूवी सफारी से यात्रा करवाई जाती है। सफारी में पर्यटक जंगली भैंसा, भारतीय हाथी, भारतीय गैंडा, मैकाक, स्लोट बियर, भारतीय तेंदुआ, काला भालू, सांभर और जंगली सूअर को देख ने का मजा ले सकते है।

जानवरो के साथ साथ पक्षी और प्रकृति की अद्भुत संरचना देखने को मिलती है। जीप सफारी से काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान का भ्रमण करने का समय (Jeep Safari Timing Kaziranga) की बात करे तो सुबह 07:00 बजे से 09:30 और दोपहर 1:30 बजे से 3:30 बजे यहाँ सफारी होती है। आप यहाँ जीप सफारी का आनंद लेना चाहते हैं तो जरूर लेना चाहिए। क्योकि उसका मजा ही कुछ और होता है।

इसके बारेमे भी जानिए – ओडिशा के संबलपुर में महानदी पर निर्मित हीराकुंड बांध का इतिहास और घूमने की पूरी जानकारी

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के नजदीकी पर्यटक स्थल 

  • Shillong
  • Guwahati
  • Dibru-Saikhowa National Park
  • Nameri National Park
  • Manas National Park
  • Orang National Park
  • Hoollongapar Gibbon Sanctuary
  • Addabarie Tea Estate
  • Kakochang fall
  • Deopahar

    Kaziranga National Park Images
    Kaziranga National Park Images

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में रुकने के लिए होटल 

काजीरंगा नेशनल पार्क में लग्जरी रिसॉर्ट से लेकर रेस्ट हाउस से लेकर डॉर्मिटरी तक कई तरह के आवास उपलब्ध हैं। होटल वन विभागों ने बनाए और सुसज्जित किए हैं। यदि पीक सीजन, नवंबर से अप्रैल के दौरान यात्रा कर रहे हैं, तो अग्रिम बुकिंग और अग्रिम भुगतान करने की सिफारिश की जाएगी। अच्छी संख्या में होटल ‘जंगल प्लान’ पैकेज बेचते हैं, जिसमें पूर्ण बोर्ड आवास, पार्क शुल्क, सुबह हाथी सफारी और कई अन्य चीजें शामिल हैं।

Restaurants And Food In Kaziranga National Park

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में रेस्टोरेंट्स और भोजन की बात करे तो यहाँ कई प्रकार की रिसॉर्ट्स, लॉज और होटल उपलब्ध हैं। जो पर्यटकों का कुछ खास ख्याल रखा करते है। उसमें आपको लक्सा, खार, टेंगा, मछली व्यंजनों और चावल का खाना खा सकते है। उसके साथ आपको हर तरह का भारतीय भोजन भी उपलब्ध होता है। आप अपने पसंद का कोई भी भोजन का मजा ले सकते है।

काजीरंगा नेशनल पार्क का फोटो
काजीरंगा नेशनल पार्क का फोटो

How To Reach Kaziranga National Park

रेल मार्ग से काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान तक कैसे पहुंचे

रेल से यात्रा करने के लिए काजीरंगा का नजदीकी रेलवे स्टेशन फुरकिंग जो 80 किमी दूर है। गुवाहाटी और नागांव के बीच कई ट्रेनें चलती हैं। गुवाहाटी से नागांव पहुंचने में करीब 2 से 3 घंटे का समय लगता है। वहा से आप अपनी पसंद से पर्यटक स्थल के लिए स्थानीय वाहनों की सहायता ले सकते है। और बहुत आसानी से national park पहुंच सकते है। 

सड़क मार्ग से काजीरंगा नेशनल पार्क तक कैसे पहुंचे

सड़क मार्ग से यात्रा करने के लिए काजीरंगा दुनिया के प्रमुख शहरों से नेशनल हाईवे 37 की मदद से बहुत अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। NH-37 पर कोहोरा क्षेत्र में काजीरंगा वन्यजीव अभयारण्य का प्रवेश द्वार, मुट्ठी भर कैफे और एक छोटे से क्षेत्रीय बाजार से जुड़ा हुआ है। ASTC और निजी बसें चलती हैं। जिनकी मदद से आप काजीरंगा नेशनल पार्क पहुंच सकते हैं।

हवाई मार्ग से काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान तक कैसे पहुंचे

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान जाने के लिए निकटतम हवाई अड्डा

सलोनीबाड़ी हवाई अड्डा, तेजपुर 80 किमी दूर स्थित है।

गुवाहाटी हवाई अड्डे में लोकप्रिय गोपीनाथ इंटरनेशनल नागांव से 130 किमी की दूरी पर स्थित है।

दूसरा हवाई अड्डा जोरहाट में स्थित है। जो काजीरंगा park से 97 किलोमीटर दूर है।

यह दुनिया के बड़े देशों से भारत के प्रमुख शहरों को जोड़ता है।

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान फोटो
काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – हरियाणा का खुबसूरत पहाड़ी स्टेशन मोरनी हिल्स में घूमने की बेस्ट जगहें और ट्रिप से जुड़ी पूरी जानकारी

Kaziranga National Park Map काजीरंगा नेशनल पार्क का लोकेशन

Kaziranga National Park Information Video

Interesting Facts About Kaziranga National Park

  • यह राष्ट्रीय पार्क को 1985 में विश्व विरासत स्थल के रूप में घोषित किया गया है।
  • काजीरंगा के जल निकाय और जंगल इस पार्क को बेहद खूबसूरत बनाते हैं।
  • यहां पर घूमने का सबसे अच्छा समय नवंबर से अप्रैल के महीने तक का रहता है।
  • काजीरंगा 429.93 कि.मी के वर्ग के क्षेत्र वाला एक बड़ा उद्यान है।
  • यह लुप्तप्राय भारतीय एक सींग वाले गैंडे का घर है।
  • काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान को गैंडे की भूमि भी कहते हैं।
  • काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में राजसी जानवरों पर खुले मैदान में घूमना एक विशेष सौगात है।

FAQ

Q : काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान कहाँ है?

असम के गोलाघाट और नागांव जिले के पास काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान स्थित है

Q : काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान कहाँ स्थित है?

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान असम के गोलाघाट और नागांव जिले के पास स्थित है।

Q : काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान किस राज्य में है?

असम राज्य

Q : काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में कितने पर्यटन द्वार हैं ?

काजीरंगा नेशनल पार्क में चार प्रवेश द्वार हैं।

Q : काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान किस जानवर के लिए प्रसिद्ध है?

काजीरंगा नेशनल पार्क गैंडों की आबादी के लिए प्रसिद्ध है।

इसके बारेमे भी जानिए – महाराष्ट्र राज्य में मुंबई के दक्षिण में  स्थित पंचगनी के टॉप पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

Conclusion

आपको मेरा Kaziranga National Park & Tiger Reserve in Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Kaziranga National Park Tourism, kaziranga national park is famous for और

national parks in india से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास where is kaziranga national park या 

kaziranga national park is famous for की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

इसके बारेमे भी जानिए –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *