Kailash Temple History In Hindi

Kailash Temple History In Hindi | कैलाश मंदिर औरंगाबाद महाराष्ट्र की जानकारी 

नमस्कार दोस्तों Kailash Temple In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम कैलाश मंदिर औरंगाबाद महाराष्ट्र के दर्शन और पर्यटन स्थल की जानकारी बताने वाले है। कैलाश मंदिर या कैलाशनाथ मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एलोरा गुफाओं की गुफा 16 में स्थित दुनिया की सबसे बड़ी अखंड रॉक-कट संरचना है। चरणानंद्री पहाड़ियों से एकल बेसाल्ट चट्टान से उकेरा गया था। अपने विशाल आकार, अद्भुत वास्तुकला और मनमोहक नक्काशी के कारण प्रसिद्ध है। कैलास मंदिर महाराष्ट्र राज्य का एक प्रमुख मंदिर है।

पैनलों, अखंड स्तंभों, जानवरों और देवताओं की मूर्तियों की जटिल डिजाइन के साथ कैलासा मंदिर इतिहास और वास्तुकला प्रेमियों के लिए चमत्कार है। 8 वीं शताब्दी में निर्मित मंदिर हिंदू देवता भगवान शिव जी को समर्पित है। यह कई किंवदंतियों के साथ जुड़ा हुआ है।  मंदिर हर पर्यटक को चकित करता है। क्योंकि केवल एक चट्टान को केवल पारंपरिक तरीकों का उपयोग करके उकेरा गया है। यह उत्तरी कर्नाटक के विरुपाक्ष मंदिर के समान और 18 वर्षों में 2,00,000 टन चट्टान का उपयोग करके बनाया गया था।

Kailash Temple History In Hindi

कैलाश मंदिर औरंगाबाद का इतिहास देखे तो कैलाशनाथ मंदिर हिंदू भगवान भगवान शिव को समर्पित है। हिमालय के कैलाश पर्वत में होने के कारन मंदिर को कैलाश नाम दिया गया है। ऐसा माना जाता है कि इसका निर्माण 8वीं शताब्दी ईस्वी में राष्ट्रकूट साम्राज्य के शासक कृष्ण प्रथम के शासनकाल में हुआ था। कई वास्तुशिल्प डिजाइनों के उपयोग के कारण, यह माना जाता है कि मंदिर के निर्माण में कई राजाओं का हिस्सा यानि शासन रहा है।

मराठी लोगों की किंवदंती के मुताबिक मंदिर एक सप्ताह के भीतर बनाया गया था। एक रानी थी जिसका पति बहुत बीमार था। उसने अपने पति को ठीक करने के लिए शिव से प्रार्थना की और मंदिर बनाने और मंदिर के पूरा होने तक उपवास रखने की कसम खाई थी। जब भगवान ने उसकी इच्छा पूरी की और उपवास शुरू किया था। सभी आर्किटेक्ट चिंतित थे क्योंकि निर्माण में ज्यादा समय लगेगा। मगर  कोकासा नामक वास्तुकारों में से एक ने कहा की वह एक सप्ताह के भीतर इसका निर्माण करेगा।

Kailash Temple Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – रामप्पा मंदिर का इतिहास और जानकारी

Best Time To Visit Kailasa Temple

कैलाश मंदिर औरंगाबाद घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – कैलास मंदिर की यात्रा करने यह गुफाएं पर्यटकों के लिए पूरे साल खुली रहती हैं। मगर अक्टूबर से फरवरी के समय अच्छी जलवायु और ठंडे मौसम होने के कारन यहां आने वाले यात्रिओ की संख्या ज्यादा होती है। यानि पूरे साल से काफी ज्यादा होती है। मार्च से जून तक गर्मी का मौसम होता है। उसमे यहां दिन के समय का तापमान 40 ° C से ज्यादा होता है। जून से अक्टूबर मानसून का मौसम रहता है।

कैलाश मंदिर का फोटो

Kailasa Temple Timing

कैलाश मंदिर औरंगाबाद के खुलने और बंद होने का समय बताए तो मंगलवार को छोड़कर सप्ताह के सभी दिन सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है। 

Kailasa Temple Entry Fees

कैलास मंदिर महाराष्ट्र का प्रवेश शुल्क – कैलास मंदिर यानी एलोरा की गुफाओं में भारतीय पर्यटकों को प्रवेश के लिए शुल्क के रूप में 10 रूपए और विदेशि पर्यटकों के लिए 250 रूपए का भुगतान करना होता है।

कैलाश मंदिर की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – तारापीठ मंदिर का इतिहास और संपूर्ण जानकारी

Kailasa Temple Architecture

कैलाश मंदिर औरंगाबाद वास्तुकला – मंदिर ऊर्ध्वाधर उत्खनन के लिए प्रसिद्ध है। नक्काशीदार मूल चट्टान के शीर्ष पर शुरू हुए और नीचे की ओर खुदाई की गई है। कैलास मंदिर पट्टाडकल में विरुपाक्ष मंदिर और कांची में कैलासा मंदिर पर आधारित है। प्रवेश द्वार में बाईं ओर शैव देवताओं और दाईं ओर वैष्णव देवताओं के साथ एक निचला गोपुरम है। यू-आकार का आंगन विशाल पैनलों और विभिन्न देवताओं की विशाल मूर्तियों वाले अलकोव के साथ नक्काशीदार आर्केड से घिरा हुआ है। उसमे प्रसिद्ध शिव तपस्वी, शिव नर्तक, शिव को पार्वती से राक्षस रावण और नदी देवी के बारे में जानकारी दी गई थी। 

केंद्रीय मंदिर में एक सपाट छत वाला मंडप सोलह स्तंभों और एक द्रविड़ शिखर पर टिका हुआ शिव जी को समर्पित है। उसमें नंदी बैल के साथ एक मंदिर है जो दो मंजिलों पर बनाया है। उसको विस्तृत चित्रात्मक नक्काशी से सजाया है। मंदिर के हॉल के आधार में महाभारत और रामायण के दृश्य हैं। केंद्रीय मंदिर को निचे, प्लास्टर, खिड़कियों के साथ देवताओं और अन्य आकृतियों के चित्रों के साथ उकेरा है। पांच अलग मंदिरों में से तीन गंगा, यमुना और सरस्वती नदी की देवी को समर्पित हैं। एक उल्लेखनीय मूर्ति रावण की है जो कैलाश पर्वत को उठाने का प्रयास कर रही है।

कैलाश मंदिर औरंगाबाद का इतिहास

Kailasa Temple Mystery

कैलाश मंदिर रहस्य ली बात करे तो कैलासा मंदिर के बारे में महाराष्ट्र के लोगों का कहना है। कि मंदिर का निर्माण एक सप्ताह के अंदर किया गया था। मंदिर की कहानी एक रानी से जुड़ी है।उसका पति यानि राजा नरेश कृष्ण प्रथम बेहद बीमार था। रानी से अपने पति के ठीक हो जाने के लिए भगवान शिव से प्रार्थना की थी। उसके बदले में रानी ने शिव को समर्पित एक मंदिर बनवाने की कसम खाई और मंदिर पूरा होने तक उपवास किया था। 

रानी प्रतिज्ञा पूरी करने के लिए रानी के वास्तुविद चिंतित थे। क्योंकि ऐसे भव्य मंदिर को पूरा करने के लिए एक लंबे समय की आवश्यकता होती है। लेकिन एक वास्तुकार कोकासा नाम के वास्तुकार ने रानी को आश्वासन दिया कि वह एक सप्ताह में मंदिर का निर्माण कर सकता है। कोकसा ने अपनी बात रखी और ऊपर से नीचे तक चट्टान से मंदिर बनाना शुरू किया था। इस तरह एक हफ्ते में कैलासा मंदिर बन कर तैयार हो गया था।

Kailash Temple latest pics

इसके बारेमे भी पढ़िए – जिंजी किला का इतिहास और महत्वपूर्ण जानकारी

Sculptures and Carvings at Kailasa Temple

एलोरा गुफाओं की गुफा 16 में स्थित कैलास मंदिर एक उत्कृष्ट कृति है और विदेशी नक्काशी और मूर्तियों के लिए प्रसिद्ध है। दो मंजिला गोपुरम में दीवारों पर बेहतरीन मूर्तियां देखने को मिलती है। पोर्टिको से निकलने पर हाथी की विशाल मूर्तियाँ दिखाई देती है। दुर्गा, महिषासुरमर्दिनी, कमल कुंड में विराजमान गजलक्ष्मी, अर्धनारी और वीरभद्र के रूप में शिव, कैलाश पर्वत को हिलाते हुए रावण, और महाभारत और रामायण पैनल की कई सुंदर नक्काशी हैं। मुख्य मंदिर में एक सभा गृह, वेस्टिब्यूल और एक नंदी मंडप है। जो शिव लिंग के साथ गरबा गृह की ओर जाता है। सभी को जटिल रूप से उकेरा गया है। गर्भगृह की छत पर चार पौराणिक शेरों के साथ एक कमल का ताज पहनाया है।

Kailash Temple Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – गिर नेशनल पार्क घूमने की पूरी जानकारी

कैलाश मंदिर औरंगाबाद के आसपास घूमने लायक पर्यटन स्थल

  • Ravana Ki Khai (रावण की खाई)
  • Vishwakarma Caves (विश्वकर्मा गुफा)
  • Indra Sabha (इंद्र सभा)
  • Ellora Caves Cave No. 33-34 (एलोरा गुफा संख्या 33-34)
  • Dhol Taal Caves (धो ताल गुफा)
  • Teen Taal Caves (तीन ताल गुफा)
  • Dhumar Lena (धुमर लेना)
  • Rameshwaram Gufa (रामेश्वर गुफा)
  • Grishneshwar (घ्रुश्नेश्वर या ग्रीष्णेश्वर)
  • Dasavatara Cave (दशावतार गुफा) 
  • Ellora Caves 1-5 (गुफा संख्या 1 से 5)
  • Ellora Caves 6 To 9 (एलोरा की गुफा संख्या 6 से 9)
  • Khuldabad (खुल्दाबाद)
  • Ellora Caves 17-20 (एलोरा की गुफा संख्या 17 से 20)
  • Ellora Caves Number 22 To 28 (एलोरा गुफा संख्या 22 से 28)
  • Chota Kailash Temple (छोटा कैलास मंदिर 30)
  • Jagah Tomb Of Aurangzeb (औरंगजेब का मकबरा)
  • Shri Bhadra Maruti Temple (श्री भद्र मारुति मंदिर)

How To Reach Kailasa Temple Aurangabad

कैलास मंदिर अत्यंत आकर्षक स्थान औरंगाबाद से लगभग 30 किमी दूर स्थित है। जो गंतव्य के लिए निकटतम शहर है। औरंगाबाद देश के प्रमुख शहरों से रेल, सड़क और हवाई मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। आप औरंगाबाद के लिए एक बस भी ले सकते हैं जहाँ से आप स्थान तक पहुँचने के लिए कैब किराए पर ले सकते हैं। सभी इतिहास प्रेमियों, यात्रियों और खोजकर्ताओं के लिए एलोरा गुफाओं का परिसर स्वर्ग है। कैलाश मंदिर में कई ऐतिहासिक संदर्भ, कहानियां और मिथक हैं जो मंदिर में स्थित हैं।

कैलाश मंदिर औरंगाबाद महाराष्ट्र की जानकारी

इसके बारेमे भी पढ़िए – पूर्णा वन्यजीव अभ्यारण्य की जानकारी

Kailasa Temple Map कैलाश मंदिर औरंगाबाद का लोकेशन

Kailash Temple Information In Hindi Video

Interesting Facts

  • कैलाश मंदिर को बिना पत्थर के ब्लॉकों को जोड़े एक ही चट्टान से उकेरा गया है। 
  • सभी डिजाइन और माप की योजना सटीक रूप से बनाई गई थी। 
  • कैलाश मंदिर दुनिया की एकमात्र संरचना है जिसमें ऊपर से नीचे तक खड़ी नक्काशी है।
  • मंदिर की वास्तुकला भगवान शिव के निवास कैलाश पर्वत से मिलती जुलती है।
  • मुगल राजा औरंगजेब ने 1682 में मंदिर को नष्ट करने के लिए 1000 लोगों को भेजा था। 
  • कारीगरों ने सिर्फ हथौड़े और छेनी का इस्तेमाल किया हो मगर मंदिर को गिराना असंभव है।
  • कैलाशनाथ मंदिर को विशाल संरचना के कारण भारत के उल्लेखनीय गुफा मंदिरों में शामिल है। 
  • कैलाश मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में एलोरा में स्थित है।
  • मंदिर के निर्माण में करीब 40 हजार टन वजनी पत्थरों को काटा गया था।

FAQ

Q .कैलाश मंदिर कहा है?

कैलाश मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में प्रसिद्ध एलोरा की गुफाओं में स्थित है।

Q .कैलाश मंदिर में किसकी मूर्ति है?

कैलाश मंदिर में भगवान शिव की मूर्ति है। वह सबसे बड़ी मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है।

Q .एलोरा के प्रसिद्ध कैलाश मंदिर का निर्माता कौन था?

कैलाश मंदिर राष्ट्रकूट वंश के नरेश कृष्ण (प्रथम) (760-753 ई.) ने निमित्त कराया था।

Q .एलोरा का कैलाश मंदिर कौन सी शैली में बना है?

कैलाश मंदिर की मूर्ति पर्वत को तराश कर  द्रविड़ शैली के मंदिर का रूप दिया गया है। 

Q .एलोरा की गुफा के प्रसिद्ध कैलाश मंदिर की प्रमुख विशेषता क्या है?

कैलाश के नाम से मशहूर एल्लोरा की 16वीं गुफा में सबसे शानदार कलाकृतियां हैं। 

Conclusion

आपको मेरा लेख Kailash Temple History In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Kailash Temple ellora, Kailash Temple at ellora was built by

और Short note on kailash temple से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द। 

Note

आपके पास Kailash Temple is the most famous site of की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

kailash mansarovar temple, Ellora kailash temple, Kailashnath temple kanchi, Kelash parwat, Kailash Temple in himalaya, Which dynasty built the kailash temple at ellora, The famous kailash temple was built during the reign of, Ellora caves, Kailash mandir, Ajanta caves, कैलाश मंदिर किस राज्य में है, कांची का कैलाश मंदिर किसने बनवाया, एलोरा का कैलाश मंदिर किस शैली में बना है, कैलाश मंदिर रहस्य, कैलाश मंदिर कहां है, एलोरा के कैलाश मंदिर का निर्माण, एलोरा की गुफा के प्रसिद्ध कैलाश मंदिर की प्रमुख विशेषता लिखिए, जगप्रसिद्ध कैलास मंदिराची निर्मिती कोणत्या काळात झाली, कांचीपुरम में कितने मंदिर हैं, कैलाश नाथ

इसके बारेमे भी पढ़िए – जीभी के पर्यटन स्थल की संपूर्ण जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.