Junagarh Fort History In Hindi

Junagarh Fort History In Hindi | जूनागढ़ किले का इतिहास, निर्माण और संरचना

नमस्कार दोस्तों Junagarh Fort Bikaner History In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम राजस्थान के बीकानेर में स्थित जूनागढ़ किले का इतिहास, निर्माण और संरचना की जानकारी बताने वाले है। बीकानेर का जूनागढ़ किला खूबसूरत और शानदार संरचना है। उस किले के चारों ओर बीकानेर शहर फैला हुआ है। जूनागढ़ किले को शुरू में चिंतामणि दुर्ग कहते थे। मगर 20 वीं शताब्दी में पुराना किल या जूनागढ़ का नाम बदल दिया गया था। जूनागढ़ फोर्ट की नींव 1478 में राव बीका ने रखवाई थी।

उस समय किला एक पत्थर के किले के रूप में था। वर्तमान की यह भव्य संरचना का उद्घाटन 17 फरवरी 1589 को हुआ था। आप किले के अंदर के महल, उद्यान, बालकनियाँ, खोखे, विभिन्न शासकों के सांस्कृतिक मतभेदों और विदेशी प्रेरणाओं से प्रभावित एक समग्र स्थापत्य शैली को देख सकते हैं। किले में प्रदर्शित अदभुत स्मारक 16वीं शताब्दी के बीकानेर शासकों की 16 पीढ़ियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। किले का निर्माण बीकानेर के शासक राजा राय सिंह के प्रधान मंत्री करण चंद की देखभाल में किया था। 

Junagarh Fort History In Hindi

जूनागढ़ किले की नींव राव बीका ने 1478 में रखी थी। पहले किला सिर्फ एक पत्थर का था। जूनागढ़ किला का पत्थर के किले की रक्षा के लिए बनाया गया था। बीकानेर शहर की स्थापना 1472 में हुई थी। और यह शक्तिशाली किले के आसपास विकसित हुआ था। विदेशी शत्रुओं से उस पर कब्जा करने के कई प्रयास किए गए थे। मगर सभी विफल रहे थे। मगर बाबर के पुत्र कामरान मिर्जा ने राव जैत सिंह के शासन के समय 1534 में किले पर कब्जा कर लिया था। बीकानेर शहर राजा राय सिंह के शासन में ज्यादा फला-फूला था। 

राजा राय सिंह ने 1571-1611 तक शासन किया था। राजा राय सिंह ने मुगल शासन को स्वीकार कर लिया और अकबर और जहांगीर के शासन में उच्च स्थान प्राप्त किया था। युद्धों में उनकी जीत ने कई सम्मान और जागीरें दिलाईं थी। मुगल शासन के तहत स्थिति हासिल करने के बाद राजा राय सिंह ने जूनागढ़ फोर्ट का निर्माण किया था। किले का शिलान्यास 17 फरवरी 1589 को हुआ था। और 17 जनवरी 1594 को पूर्ण हुआ था। राजा राय सिंह एक कलात्मक व्यक्ति थे, उसके कारन वास्तुकला का खास ध्यान रखते किले को भव्य संरचना के रूप में डिजाइन किया था।

Junagadh Fort Photos
Junagadh Fort Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – खाटू श्याम जी मंदिर राजस्थान का इतिहास और जानकारी

Best Time To Visit Junagarh Fort Bikaner

जूनागढ़ किला जाने का सबसे अच्छा समय – राजस्थान के आकर्षक और सुंदर किलों में से एक जूनागढ़ किले को देखने का प्लान बना रहे हैं तो राजस्थान की रेगिस्तानी भूमि की गर्मी को मात देने के लिए पर्यटकों को नवंबर और फरवरी के बीच एक सुखद मौसम का आनंद लेने के लिए किले की यात्रा करने की सलाह दी जाती है। क्योकि उस मौसम में पर्यटक बहुत अच्छे से घूम सकते है।

junagarh fort images
junagarh fort images

Tips For Visiting Junagarh Fort

  • जूनागढ़ किले की यात्रा में आरामदायक जूते पहनना जरुरी है।
  • क्योकि आरामदायक जूते से आप ज्यादा चल सकते है।
  • जरुरी पानी ले जाना न भूलें क्योंकि परिसर में मिनरल वाटर नहीं है।
  • पानी मिलता है, उसको दोगुनी कीमत पर खरीदना होता है।
  • कैमरा टिकट के बिना स्टिल कैमरा या वीडियो कैमरा का उपयोग नहीं करना है।
  • कैमरा टिकट को आप काउंटर से ही खरीद सकते हैं।
  • किले के भीतर फ्लैश फोटोग्राफी या यहां तक ​​कि गैर-फ्लैश फोटोग्राफी प्रतिबंधित है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – त्रयंबकेश्वर मंदिर का इतिहास और घूमने की जानकारी

Junagadh Fort latest pics
Junagadh Fort latest pics

Junagarh Fort Bikaner Timings

जूनागढ़ किला घूमने और देखने के लिए जाना चाहते है। तो जूनागढ़ किला का सुबह 10 बजे से शाम 4:30 बजे तक खुला रहता है। उस समय में पर्यटक बहुत आसानी से किले को देख सकते है। जूनागढ़ किला का पूर्ण रूप से देखने के लिए तक़रीबन 2 से 3 घंटे का समय लगता है। पर्यटक को जूनागढ़ किले की कोईभी चिज को नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए। 

Junagarh Fort Entry Fees

भारतीय यात्रिओ के लिए – 50 प्रति व्यक्ति

विदेशि पर्यटक के लिए – 300 प्रति व्यक्ति

भारतीय छात्रों के लिए – 30 प्रति व्यक्ति

विदेशी छात्रों के लिए – 150 प्रति व्यक्ति

जूनागढ़ किले का इतिहास, निर्माण और संरचना
जूनागढ़ किले का इतिहास, निर्माण और संरचना

इसके बारेमे भी पढ़िए – जयसमंद झील का इतिहास और घूमने की जानकारी

Junagarh Fort Architecture

जूनागढ़ किला स्थापत्य उत्कृष्टता का प्रतीक और वास्तुकला अनेक संस्कृतियों का मिश्रण है। उसका पहला भाग पारंपरिक राजपूत शैली का है। उसके बाद वास्तुकला ने अर्ध-पश्चिमी प्रभाव को दर्शाया और अंत में महाराजा गंगा सिंह के शासन के समय निर्मित पुनरुत्थानवादी राजपूत संरचनाएं है। जूनागढ़ किले में 1078 गज की लंबाई के साथ एक आयताकार लेआउट है। वह 63119 वर्ग गज के विस्तार को घेरता है। किला शुरू में राव बीका ने पुराने पत्थर के किले की सुरक्षा के लिए बनाया गया था।

किले में कई महल उत्कृष्ट डिजाइनों के साथ बनाए हैं। बालकनियाँ, द्वार, खोखे और दूसरी संरचनाएँ उस शासक की विरासत और संस्कृति से प्रभावित हुई हैं जिसने उन्हें बनाया था। जूनागढ़ किले की मुख्य विशेषताओं  लाल और सोने के बलुआ पत्थर में की गई पत्थर की नक्काशी है। सभी संरचनाएं लाल बलुआ पत्थर से बनी हैं। अंदरूनी भाग को प्राचीन राजस्थानी शैली के अनुसार सजाया गया है। महलनुमा किले में सात द्वार हैंउसमे कई महलों के साथ हिंदू और जैन मंदिर भी हैं।

उसके दो मुख्य द्वार सुनहरे बलुआ पत्थरों से बने हैं। पहले करण पोल का उपयोग प्रवेश के लिए और सूरज पोल का उपयोग करण पोल पूर्व की ओर है। किले की भव्य संरचनाएं और प्रत्येक संरचना की उत्कृष्ट सुंदरता सदियों पहले यहां की शाही जीवन शैली का गवाह है। जूनागढ़ किले के अंदर कई मुख्य महल है, उसको अनुप महल, करण महल, गंगा महल, बादल महल और फूल महल कहते है।

Structures Inside Junagarh Fort

Junagarh Fort Gates

यह किले में सात द्वार बने हुए हैं। उसमे से दो मुख्य को करण पोल, प्रवेश का पूर्व मुख्य द्वार और सूरज पोल वर्तमान मिन गेट है। सूरज पोल पीले बलुआ पत्थर से बना है। सूरज पोल का मुख पूर्व की ओर होता है। यहा सूर्य की पहली किरण प्राप्त होती है। उससे सुनहरा दृश्य देखने को मिलती है। उस द्वार के मुहाने पर महावतों के साथ हाथियों की लाल पत्थर की दो मूर्तियाँ हैं। किले के दूसरे द्वार दौलत पोल, चांद पोल और फतेह पोल हैं। दौलत पोल पर महिलाओं के हाथों के कई निशान हैं। वह युद्ध के मैदान में मारे गए अपने पतियों की चिता पर सती हुई थी।

Junagadh Fort Images
Junagadh Fort Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – आनंद भवन इलाहाबाद का इतिहास और जानकारी 

जूनागढ़ के किले मंदिर और महल

यह किले का शाही मंदिर में हर नारायण मंदिर है। वह भगवान लक्ष्मी नारायण और उनकी पत्नी लक्ष्मी को समर्पित है। रतन बिहारी मंदिर भी जूनागढ़ किले के नजदीक ही स्थित है। वह हिंदू भगवान कृष्ण को समर्पित है। 

Karan Mahal (करण महल) – उसका निर्माण करण सिंह ने 1680 में औरंगजेब पर जीत हासिल करके करवाया था।

Phool Mahal (फूल महल) यह किला सबसे पुराना महल और उसको राजा राय सिंह ने बनाया था।

Anup Mahal (अनूप महल) उसका प्रशासनिक मुख्यालय के रूप में प्रयोग होता था। यह डिजाइनों वाली बहुमंजिला इमारत है।

Chandra Mahal (चंद्र महल) यह किले में सबसे आलीशान और सौंदर्य की दृष्टि से मनभावन महल है।

Ganga Mahal (गंगा महल) उसका निर्माण 20वीं सदी में राजा गंगा सिंह ने करवाया था। आज वह एक संग्रहालय है।

Badal Mahal (बादल महल) यह अनूप महल का विस्तार और उसमें कई पेंटिंग हैं।

Bikaneri havelis (बीकानेरी हवेलियां) किले के अंदर और बाहर स्थित हैं।

Museum (संग्रहालय) किले में संग्रहालय 1961 में महाराजा डॉ कर्णी सिंहजी ने बनाया था। संग्रहालय में पेंटिंग, गहने और अनेक स्मारक शामिल हैं, वह किले के शाही जीवन को उजागर करते हैं।

Things to Do There Junagarh Fort 

  • संग्रहालय में प्रदर्शित ऐतिहासिक कलाकृतियों और चित्रों को अच्छे से देखना चाहिए।
  • यहाँ आप शस्त्रागार अनुभाग में मध्यकालीन युग के हथियारों का संग्रह देख सकते है।
  • राजस्थान के राजघरानों ने उपयोग की चांदी की गाड़ियों को जरूर देखना चाहिए।
  • चांदी की गाड़ियों से राज परिवार एक स्थान से दूसरे स्थान की यात्रा करते थे।
  • शाही कपड़ों पर ज़री के अविश्वसनीय काम को देख सकते है।
  • आप कुछ शुल्क पर भव्य राजस्थानी कपड़ों में पोज़ देते तस्वीरें क्लिक कर सकते है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – पोलो फॉरेस्ट का इतिहास और घूमने की जानकारी

जूनागढ़ किला की फोटो गैलरी
जूनागढ़ किला की फोटो गैलरी

Local Food And Restaurants In Bikaner

  • भुजिया
  • नमकीन
  • पापड़
  • राजस्थानी स्नैक्स
  • समोसा
  • कचौरी
  • बाटी चोर्मा
  • गट्टे की सब्जी
  • खता
  • फिनाई
  • राबड़ी

Nearby Restaurants

  • Chhappan Bhog
  • Laxmi Niwas Palace
  • Heeralal Sweet Shop
  • Garden Café and Restaurant
  • Rendezvous
  • Grill Inn
  • King’s Pavilion Restaurant
  • Evergreen

इसके बारेमे भी पढ़िए – पटवों की हवेली का इतिहास और जानकारी

जूनागढ़ किला का फोटो
जूनागढ़ किला का फोटो

How To Reach Junagadh Fort

ट्रेन से जूनागढ़ किला कैसे पहुंचे

How To Reach Junagadh Fort By By Train – बीकानेर कई बड़े शहरों से रेल मार्ग से जुड़ा हुआ है। क्योंकि कई लंबी और छोटी दूरी की ट्रेनें बीकानेर से शुरू होती हैं या बीकानेर होते हुए दूसरे शहरों में जाती हैं। शहर से कोई राजधानी, शताब्दी या गरीब रथ ट्रेनें नहीं चलती हैं। मगर सुपरफास्ट ट्रेनें और फास्ट मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें बीकानेर को शहरों से जोड़ती हैं। बीकानेर रेल परिवहन से दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, जयपुर, जोधपुर और जैसलमेर से जुड़ा हुआ है।

सड़क मार्ग से जूनागढ़ किला कैसे पहुंचे

How To Reach Junagadh Fort By Road – बीकानेर सड़क परिवहन के माध्यम से सभी बड़े शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। पर्यटक टैक्सी, सरकारी या निजी बस से जूनागढ़ किला जा सकते हैं। पर्यटक दिल्ली, जयपुर, आगरा, अहमदाबाद, पुणे, जोधपुर, मुंबई और जैसलमेर जैसे शहरों के लिए सीधी बसें प्राप्त कर सकते हैं। बीकानेर में घूमने के लिए पर्यटक टैक्सी या ऑटो-रिक्शा ले सकते हैं।

हवाई जहाज से जूनागढ़ किला कैसे पहुंचे

How To Reach Junagadh Fort By Airplane – जूनागढ़ किला का नजदीकि हवाई अड्डा बीकानेर शहर में 13 किमी दूर है। उसके अलावा बीकानेर का निकटतम हवाई अड्डा जोधपुर है। लोग हवाई मार्ग से जोधपुर पहुंच सकते हैं और वहां से ट्रेन या टैक्सी से बीकानेर पहुंच सकते हैं। बीकानेर शहर से जूनागढ़ किला सिर्फ 2 किलोमीटर की दूरी पर है। जहा पर्यटक असानी से पहुंच सकते है।

जूनागढ़ किला इमेज
जूनागढ़ किला इमेज

इसके बारेमे भी पढ़िए – पचमढ़ी हिल स्टेशन यात्रा की संपूर्ण जानकारी

Junagarh Fort Map जूनागढ़ किले का लोकेशन

Junagarh Fort Bikaner In Hindi Video

Interesting Facts

  • बीकानेर में स्थित जूनागढ़ किला भारत के सबसे प्रभावशाली किले में से एक है।
  • जूनागढ़ किला बीकानेर के छठे शासक राजा राय सिंह के शासन में बना था।
  • जूनागढ़ की यात्रा के लिए सर्दियों का मौसम समय अच्छा समय है।
  • 20 वीं शताब्दी में किले का नाम बदलकर जूनागढ़ रख दिया गया था।
  • जूनागढ़ किले की संरचना दिखने में बेहद आकर्षक है।
  • जूनागढ़ किला 63119 वर्ग यार्ड के क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • राव बीका ने 1488 ई में बीकानेर शहर की नींव रखी थी।
  • यह दुनिया के इतिहास में सबसे चर्चित किलों में से एक है।
  • किले पर लगातार हमले के बाद किले को कभी भी जीता नहीं सका था।
  • यह किला मैदानी भूमि पर बनाया गया है।
  • किले में मध्य युग से संबंधित शस्त्रागार का सबसे अच्छा संग्रह है।

FAQ

Q .जूनागढ़ किस राज्य में है?

राजस्थान

Q .जूनागढ़ का पुराना नाम क्या है?

किले को मूल रूप से चिंतामणि कहा जाता था।

Q .जूनागढ़ किले का पुराना नाम क्या है?

बीकानेर किला

Q .जूनागढ़ किले का राजा कौन था?

राजा राय सिंह

Q .जूनागढ़ का निर्माण कब और किसने करवाया?

किले का निर्माण बीकानेर के राजा राय सिंह ने 1589 से 1594 में करवाया था।

Q .जूनागढ़ का निर्माण कब हुआ था?

1589

Q .जूनागढ़ किले का निर्माण किसने करवाया था?

राजा राय सिंह

Q .जूनागढ़ का किला क्यों प्रसिद्ध है?

जूनागढ़ किला बीकानेर में सबसे प्रसिद्ध किलों में से एक है, किले में मंदिरों, संग्रहालयों और महलों की श्रृंखला है।

Q .बीकानेर में जूनागढ़ किला किसने बनवाया था?

यह किला राजा राय सिंह के भरोसेमंद दरबारी करण चंद की निगरानी में बनाया था।

Q .जूनागढ़ किले का मालिक कौन है?

राजा राय सिंह

Conclusion

आपको मेरा लेख Junagarh Fort In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Junagarh Fort timings, Junagarh Fort built by

और Junagarh Fort contact number से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Junagarh fort haunted स्टोरी की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

जूनागढ़ का किला कहां है, बीकानेर किला का इतिहास, बीकानेर का किला, जूनागढ़ किला कहां है, जूनागढ़ किले का इतिहास, जूनागढ़ किले का रहस्य, जूनागढ़ का राजा कौन था, जूनागढ़ का किला किसने बनवाया, Bikaner fort, junagadh fort gujarat, Junagarh Fort information in marathi, Junagarh Fort Rajasthan timings, Junagarh Fort gujarat timings

इसके बारेमे भी पढ़िए – नालदेहरा के पर्यटन स्थल और जानकारी

15 thoughts on “Junagarh Fort History In Hindi | जूनागढ़ किले का इतिहास, निर्माण और संरचना”

  1. Looking at this article, I miss the time when I didn’t wear a mask. baccaratcommunity Hopefully this corona will end soon. My blog is a blog that mainly posts pictures of daily life before Corona and landscapes at that time. If you want to remember that time again, please visit us.

  2. Interaction between the chemokine receptor CXCR4 and its chief ligand CXCL12 plays a critical role in the retention and migration of hematopoietic stem and progenitor cells HSPCs in the bone marrow BM microenvironment nolvadex vs arimidex Comorbid psychiatric and sleep disorders are treated by a combination of medication and or psychotherapy Krahn, 2005; Benca, 2005a

  3. An area based measures of deprivation category was used as a marker for socio economic status, which is a potentially important confounding factor priligy buy He knows that fighting the vicious beast that is cancer is way more than a physical battle, and he spends the time necessary to check on the non physical battlefield

  4. This era of newer targeted agents brings the promise of enhanced therapeutic efficacy, increasing our ability both to cure breast cancer and to prolong survival for patients with advanced disease dog on lasix still coughing diacetoxyiodobenzene or dipivaloyloxyiodobenzene, in a suitable solvent, such as acetoniltrile, to obtain aryl sulfinimide 13 2

  5. 51, 69 72 High risk patients reliance upon physician recommendation in guiding their health care decision making is particularly noteworthy given recent trends away from an authoritarian relationship between physician and patient, toward a partnership model of health care buy clomid online south africa D Hemodynamic data show systolic values ESPVR and dP dt Max significantly improved end systolic elastance and myocardial contractility and global contractility

Leave a Comment

Your email address will not be published.