Jama Masjid Delhi History In Hindi

Jama Masjid Delhi History In Hindi | जामा मस्जिद का इतिहास और जानकारी

नमस्कार दोस्तों Jama Masjid History In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम दिल्ली की जामा मस्जिद की पूरी जानकारी और जामा मस्जिद का इतिहास बताने वाले है। दिल्ली शहर में मस्जिद-ए जहां-नुमा यानि जामा मस्जिद मुगल सम्राट शाहजहां से निर्मित भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है। मस्जिद हर साल ईद के पवित्र अवसर पर सुबह विशेष नमाज अदा करने के लिए हजारों तीर्थयात्रि आते है। प्रांगण में पच्चीस हजार लोगों की क्षमता के साथ जामा मस्जिद 1200 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैली हुई है। उसमे में तीन प्रवेश द्वार, चार मीनारें और दो मीनारें हैं जो चालीस मीटर ऊंची हैं। जामा मस्जिद दिल्ली के चांदनी चौक नाम के हिस्से में स्थित है। और यह खूबसूरत मुगल संरचनाओं से घिरा हुआ है।

भारत की मस्जिद उस समय एक लाख रुपये की भारी निर्माण लागत, पांच हजार श्रमिकों और छह साल (1650-1656) को पूरा करने में लगा था। प्रवेश द्वार तक पहुँचने 121 सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं। जो शाम को भोजन और किताबों की दुकानों से भरी होती हैं। विशाल केंद्रीय गुंबद इस्लामी वास्तुकला का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। जे सदाउल्लाह खान जो शाहजहाँ के शासन के दौरान वज़ीर थे। वह मस्जिद के निर्माण की देखरेख करते थे। उसका शाब्दिक अर्थ विश्व परावर्तक मस्जिद, ताजमहल और लाल किले के बाद मस्जिद शाहजहाँ के स्थापत्य उपक्रमों के प्रभावशाली संग्रह में शामिल थी।

Jama Masjid Delhi History In Hindi

जामा मस्जिद के निर्माण कार्य को ओस्ताद खलील ने डिजाइन और उसकी योजना बनाई गई थी। मस्जिद का उद्घाटन उज्बेकिस्तान के एक इमाम सैयद अब्दुल गफूर शाह बुखारील ने किया गया था। जब मुगल सम्राट शाहजहाँ ने अपनी पत्नी की मृत्यु के बाद अपने राज्य की राजधानी आगरा से दिल्ली स्थानांतरित की थी। 1857 के विद्रोह के समय मस्जिद के दक्षिणी छोर के पास एक मदरसा को नष्ट कर दिया था। और मस्जिद को विध्वंस के करने के इरादे से कब्ज़ा कर लिया था। मगर ब्रिटिश सरकार के विरोध के कारण पीछे हटना पड़ा था। वह मस्जिद दिखने में आगरा में स्थित मोती मस्जिद के सामान दिखाई देती है।

Jama Masjid Delhi Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – इंदरगढ़ के बिजासन माता मंदिर की जानकारी

Best Time To Visit Jama Masjid Delhi

दिल्ली की जामा मस्जिद घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – ईद के त्योहार के समय जामा मस्जिद में बहुत ज्यादा भीड़ होती है। रमजान के महीने में जामा मस्जिद और चांदनी चौक की सड़कों पर चहल-पहल सबसे ज्यादा बढ़ जाती है। मस्जिद में सभी के लिए इफ्तार भोजन परोसा जाता है। और सड़कों पर स्वादिष्ट स्ट्रीट फूड परोसने वाले कई स्टॉल हैं। सड़कों पर बेहतरीन कबाब जरूर खाना चाहिए। मस्जिद जाने का सबसे अच्छा समय दोपहर 12 बजे से पहले और दोपहर 2:00 बजे से शाम 4:00 बजे के बीच का है। शाम 4:30 से शाम 5:30 बजे के बीच की नमाज़ अदायगी में हिस्सा लेने की योजना बना रहे हैं तो आपके लिए अच्छा हैं।

Jama Masjid Images

Tips For Visiting Jama Masjid Delhi

  • जामा मस्जिद के अंदर प्रवेश करने आपको अपने जूते मस्जिद के बाहर छोड़ने चाहिए। 
  • यह पवित्र मस्जिद में प्रवेश करने के लिए कोई पैसा देने की जरुरत नहीं है। 
  • रूढ़िवादी तरीके से तैयार हों और शॉर्ट्स और स्कर्ट नहीं पहनने चाहिए। 
  • नमाज के समय पर्यटकों को मस्जिद के अंदर जाने की अनुमति नहीं है।
  • यात्री उत्तरी द्वार के बाहर से वस्त्र किराए पर ले सकते हैं। 
Jama Masjid Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – ज्वालादेवी मंदिर का इतिहास और जानकारी

Jama Masjid Delhi Architecture

जामा मस्जिद का निर्माण बलुआ पत्थर और सफेद संगमरमर से निर्मित है। वह स्थापत्य इस्लामी अवशेषों के साथ भव्य संरचना है। जैसे पैगंबर मुहम्मद के लाल दाढ़ी वाले बाल, उनके जूते और पैरों के निशान के साथ अंदर संरक्षित एक हिरण पर एक पुरानी कुरान प्रतिलेख है। उसके पश्चिम की ओर मुख करके पवित्र शहर मक्का की ओर भव्य और प्रभावशाली मस्जिद पांच किलोमीटर तक की दूरी से दिखाई देती है। मेहराब के नीचे, दीवार, गुंबदों के नीचे, स्तंभों और फर्शों पर मेहराब के भव्य उपयोग के साथ संरचनाओं को पुष्प डिजाइनों से सजाया है। तीस फीट ऊंचे लाल बलुआ पत्थर के बरामदे पर खड़ा, जामा मस्जिद के केंद्र में एक विशाल तोरणद्वार है।

छत में तीन काले और सफेद संगमरमर के गुंबद हैं। वह चालीस मीटर ऊंची मीनारों के जोड़े से घिरे हैं। हर मीनार एक सौ तीस सीढि़यों की चढ़ाई है। जामा मस्जिद के पूर्वी गेट में पैंतीस सीढ़ियाँ और मुगल सम्राटों के लिए प्रवेश द्वार के रूप में था। तैंतीस सीढ़ियों वाला दक्षिणी द्वार आम जनता के लिए था। उत्तरी और दक्षिणी द्वार आकार में छोटे हैं। जामा मस्जिद के आंगन में एक स्नान तालाब है। उसके बीच में एक फव्वारा है। मुख्य मंदिर को दो हॉलों में विभाजित किया गया है। मस्जिद के फर्श को काले पत्थरों से खूबसूरती से सजाया है।

Jama Masjid Delhi Entry Fee

आपको बतादे की नई दिल्ली की जामा मस्जिद का प्रवेश शुल्क नहीं है। मगर मस्जिद में फोटोग्राफी करने के लिए पर्यटक को 200-300 रूपये चार्ज देना होता है। और उसके अलावा अगर पर्यटक दक्षिणी मीनार पर चढ़ना चाहते है। तो उसको 100 रूपये का शुल्क लिया जाता है।

जामा मस्जिद फोटो

इसके बारेमे भी पढ़िए – मसूरी की यात्रा और पर्यटन स्थल की जानकारी

Jama Masjid Delhi Timings

अगर पर्यटक जामा मस्जिद की यात्रा करना चाहते है। तो जामा मस्जिद के खुलने और बंद होने का समय बताए तो मस्जिद को हररोज सुबह 7 से 12 बज तक और 1:30 से शाम 6:30 तक खुला रखा जाता हैं।

जामा मस्जिद का इतिहास और जानकारी

Restaurants Near Jama Masjid Delhi 

जामा मस्जिद दिल्ली के पास सिर्फ सौ मीटर की दूरी पर स्थित करीम (Karim’s) रेस्टोरेंट दिल्ली में खाने की सबसे फेमस और अच्छी जगहों में से एक है। यह स्थान स्थल पर आपको स्ट्रीट फूड का स्वर्ग देखने को मिलता है। मस्जिद के सामने वाली गली में बीफ बिरयानी, कबाब, कीमा समोसा और रूह अफ़ज़ा शरबत जैसी चीजें उपलब्ध होती हैं। जिसका मजा आपको मिल सकता है। उसको पर्यटक बहुत अच्छे से खा सकते है।

जामा मस्जिद दिल्ली की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – आभानेरी चांद बावड़ी का इतिहास और जानकारी

Attractions Near Jama Masjid

  • फतेहपुरी मस्जिद 
  • चांदनी चौक मार्केट 
  • लाल किला
  • श्री दिगंबर जैन लाल मंदिर 
  • गुरुद्वारा सीस गंज साहिब 
  • स्टीफंस चर्च 
  • गौरी शंकर मंदिर 
  • राज घाट 
  • इंडिया गेट 
  • खारी बावली मसाला बाजार 
  • हुमायूं का मकबरा 

How To Reach Jama Masjid Delhi

पर्यटक जामा मस्जिद जाना चाहते हैं। तो वायलेट लाइन पर जामा मस्जिद स्टेशन तीन सौ मीटर दूर निकटतम मेट्रो स्टेशन है। येलो लाइन पर चावड़ी बाजार मेट्रो स्टेशन मस्जिद से पांच सौ मीटर की दूरी पर है। जामा मस्जिद में एक समर्पित डीटीसी बस स्टॉप है। जामा मस्जिद में डीटीसी बस स्टॉप है, जहां से शहर के सभी हिस्सों के लिए एसी और नॉन-एसी बसें उपलब्ध हैं। अगर आप अपने वाहन से आने की योजना बनाते हैं, तो शांतिवन मार्ग पर लाल किला पार्किंग सबसे अच्छा विकल्प होता है।

जामा मस्जिद का फोटो

इसके बारेमे भी पढ़िए – नाडाबेट मंदिर का इतिहास और जानकारी

Jama Masjid Delhi Map जामा मस्जिद दिल्ली का लोकेशन

Jama Masjid Delhi History In Hindi Video

Interesting Facts

  • 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में जीत हासिल करने के बाद अंग्रेजों ने जामा मस्जिद पर कब्जा कर लिया था। 
  • दिल्ली की जामा मस्जिद का निर्माण मुगल सम्राट शाहजहां ने 1656 में बनाया था।
  • संगमरमर और लाल-बलुआ पत्थर की संरचना को शुक्रवार मस्जिद के रूप में भी जाना जाता है। 
  • दिल्ली की जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है।
  • जामा मस्जिद की वास्‍तुकला में हिन्दू और मुस्लिम तत्‍वों का समावेश है।
  • बादशाह शाहजहां ने जामा मस्जिद का निर्माण 10 लाख रु. की लागत से कराया था। 
  • मस्जिद को बनने 12 साल और 5000 लोगो ने मिलकर उसे बनवाया था। 
  • मुगल शासक शाहजहाँ का जामा मस्जिद अंतिम आर्किटेक्चरल काम था। 
  • मस्जिद में एकसाथ 25000 लोग एक ही समय और साथ प्रार्थना कर सकते है। 

FAQ

Q .जामा मस्जिद कहां है?

Jama Masjid Rd, Jama Masjid, Chandni Chowk, New Delhi, Delhi 110006

Q .जामा मस्जिद का निर्माण किसने कराया था?

जामा मस्जिद का निर्माण 1650 में शाहजहां ने करवाया था।

Q .जामा मस्जिद कौन बनवाया?

शाहजहां

Q .जामा मस्जिद का वास्तविक नाम क्या है?

जामा मस्जिद का असली नाम ‘मस्जिद-ए-जहां नुमा’ है। 

Q .भारत की सबसे बड़ी मस्जिद कौन सी है?

जामा मस्जिद, दिल्ली, भारत 

Q .जामा मस्जिद कब बनी थी?

जामा मस्जिद का निर्माण वर्ष 1650 में शुरू हुआ था।

Q .दुनिया की सबसे बड़ी मस्जिद कहाँ है?

मस्जिद अल-हराम या मस्जिद अल-हरम (अरबी: المسجد الحرام‎, अंग्रेज़ी: Masjid Al-Haram) 

Conclusion

आपको मेरा लेख Jama Masjid Delhi History In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Who built jama masjid, Jama Masjid friday prayer time

और Who made jama masjid से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Architect of jama masjid की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

जामा मस्जिद भोपाल, जामा मस्जिद दिल्ली, आगरा की जामा मस्जिद, जामा मस्जिद, आगरा का निर्माण, जामा मस्जिद किस राज्य में स्थित है, Jama Masjid, delhi, Delhi Jama Masjid, Jama Masjid delhi history in english, Jama Masjid food, Jama Masjid mumbai, Jama Masjid built by, Jama Masjid built by akbar, Jama Masjid wikipedia, How many jama masjid in india

इसके बारेमे भी पढ़िए – लक्ष्मी नरसिम्हा मंदिर का इतिहास और जानकारी

3 thoughts on “Jama Masjid Delhi History In Hindi | जामा मस्जिद का इतिहास और जानकारी”

Leave a Comment

Your email address will not be published.