Hoysaleswara Temple History in Hindi Hassan

Hoysaleswara Temple History in Hindi Hassan | होयसलेश्वर मंदिर का इतिहास

नमस्कार Halebid Hoysaleswara Temple History in Hindi Hassan में आपका स्वागत है ,आज हम भारतीय स्थापत्य कला का बेजोड़ नमूना हासन का होयसलेश्वर मंदिर का इतिहास और घूमने की जानकारी बताने वाले है। होयसलेश्वर मंदिर भारत के कर्नाटक राज्य के हासन (Hassan) जिला के हलेबिड स्थान पर स्थित है। प्राचीन समय में Halebidu का नाम द्वारसमुद्र हुआ करता था। महाराजा विष्णुवर्धन के राज्यकाल में होयसल स्थान उनके साम्राज्य की राजधानी हुआ करता था। यह स्थान अपने आकर्षक वास्तुशैली के लिए प्रसिद्ध है।

कई सदियों से पुराना मंदिर आज भी देखको मिलता है। उसके निर्माण कार्य में ऐसा कहा जाता है कि होयसलेश्वर मंदिर की बनावट में राजा ने मशीनों का उपयोग किया गया था। यह सिर्फ ख्याल नहीं है। लेकिन वहा पर दिखाई देते नक्काशी और कलाकारी कहती है। की वह मनुष्य के हाथों से संभव नहीं हो सकता है। यह मंदिर के निर्माण के समय होयसल वंश बहुत ही ताकतवर हुआ करता था। तो चलए हजारो साल पहले निर्मित लैथ मशीन जैसा काम कैसे हुआ देखते है।

नाम होयसलेश्वर मंदिर
प्रकार मन्दिर
स्थल हासन जिला, कर्नाटक, भारत
नियंत्रक कर्नाटक राज्य सरकार
स्थल की दशा  देखने योग्य 
निर्माण समय 1121
निर्माणकर्ता होयसल राजा विष्णुवर्धन

Hoysaleswara Temple History in Hindi Hassan –

होयसल वंश के राजाओं ने अपने साम्राज्य के समय में अपने साम्राज्य के अलग अलग स्थान पर तक़रीबन 1,500 से भी ज्यादा मंदिरों का निर्माण करवाया था। उस सभी मंदिरो में से ज्यादातर मंदिर भगवन शिव को समर्पित हुआ करते थे। उसी टेम्पल के साथ होयसल राजा ने होयसलेश्वर मंदिर को भी बनाया था। उसका निर्माण होयसल राजा विष्णुवर्धन ने तक़रीबन 1121 में शुरू किया था। उस मंदिर का निर्माण का योगदान विष्णुवर्धन के एक अधिकारी केटामल्ला को जाता है। मगर यह मंदिर का निर्माण एव संसाधनों की व्यवस्था का मुख्य श्रेय राजा विष्णुवर्धन को ही जाता है।

halebidu temple photos
halebidu temple photos

होयसलेश्वर मंदिर की अद्भुत संरचना एव निर्माण में केटामल्ला का भी बहुत बड़ा योगदान रहा था। यह जानकारी मंदिर से मिलते कई शिलालेखों से मिलती है। आपको बतादे की यह मंदिर ने कई आक्रमण सहन किये है। समय समय पर उसका जीर्णोद्धार भी होता रहा है। यह मंदिर के शिखर की उपस्थिति से देखने को मिलता है। मुहम्मद बिन तुगलक और दिल्ली सल्तनत के अलाउद्दीन खिलजी ने 14 वीं शताब्दी में द्वारसमुद्र (हैलेबिड) में आक्रमण किया था। उस आक्रमण ने यह मंदिर के साथ साथ शहर को भी ध्वस्त कर दिया। उसके बाद यहा महान साम्राज्य विजयनगर साम्राज्य स्थापित हुआ था ।

Belur Photos
Belur Photos

Hoysaleswara Temple Architecture

पूरा होयसल वास्तुशिल्प का बेहतरीन और अदभुत उदाहरण है। उसमे होयसलेश्वर मंदिर एक ऊँचे मंच पर बना हुआ है। उसके मंच पर 12 नक्काशीदार परतें बनाई गई हैं। मंदिर की यह परतों को एक दूसरे से जोड़ने के लिए किसी भी सीमेंट, मिटटी या चूना का उपयोग नहीं हुआ है। नहीं ही किसी भी पदार्थ का उपयोग हुआ है। सिर्फ इंटरलॉकिंग तकनीक का उपयोग करके एक दूसरे के साथ जोड़ा गया है। यह मंदिर के बहार की दीवारों पर बहुत ही खूबसूरत नक्काशी का निर्माण देखने को मिलता है। शानदार नक्शी से बनी दीवारों पर कई प्रतिमाओं का निर्माण देखें को मिलता है।  मंदिर की बाहरी दीवार पर बेहद खूबसूरत नक्काशी की गई है। और प्रतिमाओं का निर्माण किया गया है।

hoysaleswara temple images
hoysaleswara temple images

होयसलेश्वर मंदिर की वास्तुकला की बात करे तो बेसर शैली से प्रभावित है। जिसमे यह मंदिर द्रविड़ शैली और नागर शैली दोनों से ही अलग निर्माण हुआ है।  बेसर शैली का उपयोग होयसल वंशी राजा ही करते थे। मंदिर में पत्थर के स्तंभ और उसपर गोलाकार डिजाइन बनाई गई है। मंदिर में भगवान शिव की एक मूर्ति विराजमान है। यह भगवान भोलेनाथ की मूर्ति के मुकुट पर 1 इंच चौड़ी मानव खोपड़ियाँ बनाई गई हैं। उस मानव खोपड़ियाँ को उस तरह बनाया है। की उससे गुजरती रोशनी आँखों के सुराख से गुजरते मुँह में जाकर कानों से बाहर लौट आती हैं।

Hoysaleswara Temple Inside

होयसलेश्वर मंदिर
होयसलेश्वर मंदिर

मंदिर की बाहरी दीवार पर बेहद खूबसूरत नक्काशी की गई है। तो अंदर भी बहुत अच्छी बनावट देखने को मिलती है। मंदिर की दीवारों पर मूर्तियों को उकेरा गया है और स्तंभों की गोलाई को जिस सूक्ष्मता से बनाया गया है। यह मंदिर के परिसर में दो एक ही दिखने वाले दो जुड़वा मंदिर देखने को मिलते हैं। उस दोनों मंदिरो के गर्भगृह में शिवलिंग स्थापित हैं। दोनों टेम्पल के गर्भगृह पूर्वाभिमुख हैं। गर्भगृह के बाहर नंदी हॉल देखा जाता है। उसमे भगवान की और मुख किए हुए नंदी जी बैठे हुए हैं। यहाँ का प्रमुख मंदिर होयसलेश्वर मंदिर कहा जाता है। और यह मंदिर के नजदीक ही परिसर में कई छोटे मंदिर राजा ने बनाये थे। लेकिन आज छोटे मंदिर नहीं रहे है। ऐसा इतिहासकारों का कहना है।

Machine use

होयसलेश्वर मंदिर का इतिहास
होयसलेश्वर मंदिर का इतिहास

Hoysaleshwara Temple, Halebidu भगवान शिव को समर्पित है। बहुत ही अदभुत मंदिर की नक्काशियों और उत्कृष्ठ कलाकृतियों को देखते हुए ऐसा लगता है। की यह मंदिर के निर्माण का संबंध अक्सर मशीनों से रहा होगा। क्योकि मंदिर की दीवारों पर मूर्तियों को जिस तरह उकेरा गया है। यह मनुष्य के हाथों से बनाया जाना थोड़ा मुश्किल लगता है। उसका यह कारण है की स्तंभों की गोलाई को उतनी सूक्ष्मता से बनाया गया है। की देखने वाले को मंदिर की दीवार मानव से ज्यादा मशीन से बनी ज्यादा लगती है। मंदिर के निर्माण में कोई मशीन के उपयोग का प्रमाण नहीं मिलता है। लेकिन होयसलेश्वर मंदिर में स्थापित मूर्तियों को बनाने में सॉफ्ट स्टोन का उपयोग किया गया है। जो आज के समय में मशीन तकनीक में भी कठोर है।

Hassan District Nearest Tourist Places

Vesara
Vesara

Shravanabelgola

श्रवणबेलगोला कर्नाटक की राजधानी बैंगलोर से तक़रीबन 150 किमी उत्तर पश्चिम में स्थित है। यह प्राचीन समय से शहर एक प्रमुख केंद्र रहा है। शहर दो सदियों से भी ज्यादा समय तक जैन कला, वास्तुकला, धर्म और संस्कृति का केंद्र रहा है। तक़रीबन दो हजार साल पूर्व भगवान भद्रबाहु, महान जैन आचार्यों में सबसे पहले, अपने शिष्यों के साथ मध्य प्रदेश के उज्जैन से श्रवणबेलगोला में आए थे। महान सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य ने यहाँ अपना शासन किया था।

Chennakeshava Temple, Belur

हसन जिल्ले से तक़रीबन 38 किमी दूर यागाची नदी के किनारे पर स्थित बेलूर विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यह बेलूर होयसाल की पूर्व राजधानी हुआ करती थी। इतिहास में विभिन्न बिंदुओं पर वेलापुर, वेलूर और बेलहूर के रूप में जाना जाता था । यह शहर अपने चेन्नाकेशव मंदिर के लिए देश भर में प्रसिद्ध है। जो होयसल कारीगरी के अच्छे और बेहतरीन उदाहरणों में से एक है। मंदिर को प्रसिद्ध होयसल राजा विष्णुवर्धन ने 1116 ईस्वी में चोलों के खिलाफ अपनी जीत को यादगिरि के लिए बनाया था और विजय नारायण कहा जाता था।

hoysaleswara temple photos
hoysaleswara temple photos

Manjrabad Fort

कर्णाटक का हासन जिल्ला अपने आप में कई शानदार पर्यटन स्थलों को दबाये बैठा है। मंजीराबाद किला भी उसमे से एक है। यह दक्षिण-पश्चिम की ओर सकलेशपुर से लगभग पांच किमी दूर स्थित है। यह दुर्ग का निर्माण पहाड़ी के ऊपर हुआ है। उसकी ऊंचाई तक़रीबन 988 मीटर है। किले पर राष्ट्रीय राजमार्ग 48 पर से बाएं मोड़ से जा सकते है।  1792 में किले का निर्माण टीपू सुल्तान ने  किया था। टीपू सुल्तान किले से देखने के बाद मजीराबाद की प्राकृतिक सुंदरता से बावरा हुआ था। मंजीराबाद किले की दीवार पर खड़े होकर आसपास का नजारा देखकर ही प्रकृति की मनमोहक सुंदरता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

Hasanamba Temple

श्री हसनम्बा में मुख्य मीनार को द्रविड़ शैली में बनाया गया है। हसनम्बा, गणपति और सिद्धेश्वर को समर्पित मंदिर के परिसर में तीन प्रमुख मंदिर बनाये हैं। यहां मुख्य आकर्षण कलप्पा को समर्पित मंदिर है। यहां बनी तीन मूर्तियां तीन चोरों की कहते हैं। यह वो चोर है। जो श्री हसनम्बा की मूर्ति को चुराने आए थे। प्राचीन समय में हसन को सिहमासनपुरी के नाम से जाना जाता था। लेकिन उसके बाद हसन का नाम मिला है । हसनम्बा मंदिर दीपावली के समय में केवल बारह दिनों के लिए ही खोला जाता है। यह मंदिर की में यह साल जलाया गया दीपक अगले साल मंदिर के दोबारा खुलने तक जिंदा रहेता है ।

Images for hoysaleswara temple
Images for hoysaleswara temple

Gorur Dam

कावेरी की हेमावती नदी पर यह बांध का निर्माण किया गया है। कर्नाटक में हसन के पास गोरूर में यह बांध स्थित है। उसका निर्माण 1979 में हुआ था। जलाशय हसन जिले के लोगों के लिए पीने और सिंचाई के लिए पानी देता है। हेमावती बांध बहुत विशाल है और 2,810 वर्ग किमी के जलग्रहण क्षेत्र को कवर करता है। यह बांध 4,692 मीटर लंबा और 58.5 मीटर ऊंचा है। इस बांध की कुल भंडारण क्षमता 1,050.63 एमसीएम है। जलाशय में छह बड़े रेडियल स्पिलवे गेट हैं।

Bisle Ghat

बिसले घाट के आसपास के गांवों में रहने वाले स्थानीय लोग यहां के समृद्ध जंगलों की रक्षा करते हैं। गर्मीयो के मौसम में जब जंगल में आग लगती है। तो यहाँ के ग्रामीण लोग उसे जल्दी ही बुझा देते हैं। क्योकि उससे जंगल को कोई नुकसान न हो जाये । नजदीकी गांवों के लोग उसका ख्याल रखते हैं। की ठग और चोर जंगल में जंगल की चोरी करने और जानवरों के शिकार के लिए प्रवेश न करें।

Images for kalinjar fort
Images for kalinjar fort

Hoysaleswara Temple कैसे पहुंचें

रेलवे से होयसलेश्वर मंदिर तक कैसे पहुँचे

अगर आप होयसलेश्वर मंदिर जाने के लिए (Train) ट्रेन यानि रेलवे मार्ग को पसंद करते है। तो आपको बतादे की उसका नजदीकी रेलवे स्टेशन हासन रेलवे स्टेशन है। यह जंक्शन कर्नाटक के साथ दक्षिण भारत के सभी बड़े शहरों से रेलमार्ग के माध्यम से जुड़ा हुआ है। होयसलेश्वर मंदिर से हासन जंक्शन सिर्फ 30 किमी दूर है। 

सड़क मार्ग से Hoysaleswara Temple कैसे पहुँचे

अगर आप होयसलेश्वर मंदिर जाने के लिए (Raod) सड़क मार्ग को पसंद करते है। तो आपको बतादे की होयसलेश्वर मंदिर कर्नाटक के हासन जिले में स्थित है। और हसन जिल्ला राष्ट्रीय राजमार्ग 75 पर स्थित है। यह भारत के सभी शहरो और कर्नाटक से जुड़ा है। पर्यटक को जाने के लिए कर्नाटक की राज्य परिवहन की बस से हासन पहुँचना बहुत ही सरल है।

Photos of Hoysaleswara temple Halebidu
Photos of Hoysaleswara temple Halebidu

फ्लाइट से होयसलेश्वर मंदिर कैसे पहुँचे

अगर आप होयसलेश्वर मंदिर जाने के लिए (Flight) फ्लाइट को पसंद करते है।

तो यहाँ का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा मैसूर में स्थित है।

मैसूर हवाईअड्डे से होयसलेश्वर मंदिर 150 किमी स्थित है। और बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा 229 किमी दूर है। 

Hoysaleshwara Temple Location होयसलेश्वर मंदिर मैप

Hoysaleswara Temple History in Hindi Video

Interesting Facts

  • होयसलेश्वर 300 साल तक होयसल वंश के राजाओं की राजधानी था। 
  • होयसालेश्वर मंदिर एक सितारे के आकार का स्मारक है। 
  • मंदिर की दीवारें नाचती हुई लड़कियों, पक्षियों और जानवरों, देवी देवताओं की नक्काशी से सजाया गई हैं।
  • 14 वीं सदी में दिल्ली के सुल्तानों की फौज ने इस शहर को उजाड़ दिया था।
  • मंदिर निर्माण में विशेषज्ञों की माने तो ये काम लेथ मशीन के बिना संभव नहीं है।
  • मुहम्मद तुग़लक़ ने होयसल के राजा वीर बल्लाल से द्वारसमुद्र को छीन लिया था ।
  • होयसलेश्वर मंदिर को होयलेशेश्वर या होयलेश्वर मंदिर के रूप में भी जाना जाता है।

FAQ

Q : होयसलेश्वर मंदिर कहा है?

कर्नाटक के हासन (Hassan) जिले के हलेबिड (Halebidu) नाम के स्थान पर होयसलेश्वर मंदिर स्थित है। 

Q : होयसलेश्वर मंदिर क्यों बनाया गया था?

यह चेन्नाकेशव मंदिर के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए बनाया गया था। 

Q : होयसल की राजधानी का नाम क्या है?

होयसलों की राजधानी द्वारसमुद्र का आधुनिक नाम हलेबिड है। 

Q : द्वार समुद्र कहा है?

कर्नाटक के द्वारसमुद्र में स्थित द्वारसमुद्र का वर्तमान नाम हलेबिड है। हसन जिले के दक्कन के पठार पर खूबसूरत जगह है।

Q : द्वारसमुद्र किस राज्य में है?

द्वारसमुद्र का वर्तमान नाम हलेबिड और वह कर्नाटक राज्य में स्थित है। 

Conclusion

आपको मेरा Hoysaleswara Temple History in Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Hoysaleswara temple halebidu karnataka और

Hoysaleswara temple mystery और Hoysaleswara temple timings से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

Note

आपके पास Hoysaleswara temple built by या Hoysaleswara temple plan की कोई जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

इसके बारेमे भी जानिए –

कलिंजर किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

अंकोरवाट विश्व का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर

हरिहर किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

वारंगल किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

पीसा की मीनार का इतिहास और रहस्य

11 thoughts on “Hoysaleswara Temple History in Hindi Hassan | होयसलेश्वर मंदिर का इतिहास”

  1. 100% match up bonus up to $600 (Use bonus code: NETENTwelbonus500) Casumo is one of the most popular Net Entertainment casinos worldwide, and they are also one of the best at offering freespins and promotions to their players at regular intervals. NetEnt is one of the first software providers in the gambling industry. In fact, the company was established in 1996. Still, it all started when the name Cherry was established in 1972. After a few years Bill Lindwall’s son, Pontus Lindwall founded the NetEnt we all know now. After this NetEnt quickly became a key figure on the online gaming scene and now it continues improving and developing its services in order to meet the demands of its customers. * T&Cs apply to each of the offers above – click ‘Read More’ for details Great casino alternative, and we are pleased to see that their bonus now is available to more players. https://holymaryseeds.com/community/profile/paulinaleppert/ Recita un antico proverbio della marineria inglese: “A calm sea has never made a good sailor”.. Un mare calmo non ha mai fatto un buon New customers only. 18+. Promo code CASINO100. ВЈ10 min transfer and stake on Slots at Betfred Casino within 7 days of registration. Minimum 5 game rounds. Game restrictions apply. Max 100 Free Spins. 50 Free Spins on selected titles credited instantly after qualification. Second 50 Free Spins on selected games within 48 hours. ВЈ0.10 per spin. Free Spins must be accepted within 3 days. 7-day expiry. Not all titles may be available in iOS app. Payment restrictions apply. SMS verification and or Proof of I.D and address may be required. Full T&Cs apply. T&Cs apply. New players, ВЈ10+ deposit, no e-wallets prepaid cards, up to 500 Free Spins, 40x Plt on Free Spins winnings. T&Cs applyNew players, ВЈ10+ deposit, no e-wallets prepaid cards, up to 500 Free Spins, 40x Plt on Free Spins winnings. T&Cs apply. 18+ begambleaware.

  2.   中国暗棋一开始需先将所有棋子盖上,布置在4×8的空格上。由其中一人先翻开棋盘中一子,该棋子的颜色(红或黑),就是该名玩家在本局使用的棋,而另一人则是操纵另一个颜色的棋子,双方各拥有16个棋子。中国暗棋游戏的目的就是要把对方的棋子全部吃掉。在这里随时进行不一样的军旗对战玩法,快来一起挑战。 分类:动作冒险更新:2022-09-05 17:47:36 神來也暗棋2 : 正宗暗棋 在iTunes上“ 鬥地主 神來也斗地主 对,也是,他爱女心切嘛,推给“这就是爱”就行。 类型:休闲 Mahjong Master: competition   “棋盘”用普通象棋棋盘的上一半,共三十二个格,棋子就摆在这些格子中,中国暗棋游戏是经典,方便和乐趣。中国暗棋,或半象棋,是一个两个球员的棋盘游戏,一个4X8的网格上播放。大多数游戏去年十至二十分钟。这是一个社会的游戏,通常为乐趣,而不是严肃的竞争发挥。 https://pettomodachi.com/community/profile/quyenbuddicom51/ 四国军棋 在线 相关推荐: 《暗黑破坏神不朽》九头蛇在哪 九头蛇刷新位置攻略 好玩的最新版本的象棋游戏就在象棋暗棋等你来玩,这是一款苹果版的游戏,相信很多苹果玩家已经按捺不住了吧,精彩的象棋对决就在象棋暗棋等你来玩,很多版本的象棋游戏都是安卓手机版本 咨询记录 · 回答于2021-10-04lol下棋怎么玩的下载云顶之弈,然后就可以玩了 MuMu模拟器性能稳定,可在电脑上大屏体验市面99%主流游戏与应用,兼容性超越同类手游安卓模拟器。 无敌的电脑,电脑能让我的司令自己去撞地雷。垃圾游戏   类型:棋牌游戏 暗翻军棋 王者变声器   原有投资者不离不弃,新的产业资本不断进场,赋予了瓴盛科技不断发展的潜能。据了解,瓴盛科技并没有放弃手机芯片市场。其首颗4G 11nm FinFET智能手机芯片已在2021年一次流片成功,2022年有望推出。全球来看,4G手机芯片依然大有用武之地。潜伏5年后,瓴盛科技将再度向手机芯片市场发起挑战。

Leave a Comment

Your email address will not be published.