Meenakshi Temple History In Hindi

Meenakshi Temple History In Hindi | मीनाक्षी मंदिर का इतिहास और जानकारी

Meenakshi Temple तमिलनाडु के शहर मदुरई में वैगई नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है, जिसका निर्माण वर्ष 1623 और 1655 के बीच किया गया था और इसकी अद्भुत वास्तुकला विश्व स्तर पर प्रसिद्ध है। मीनाक्षी मंदिर मुख्य रूप से पार्वती को समर्पित है, जिसे मीनाक्षी और उनके पति को सुंदरेश्‍वर (शिव) के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर देश के बाकि मंदिरों से काफी अलग है क्योंकि इस मंदिर में शिव और देवी पार्वती दोनों की एक साथ पूजा की जाती है।

पौराणिक कथाओं की माने तो सुंदरेश्‍वर के रूप में जन्‍मे भगवान शिव ने पार्वती (मीनाक्षी) से शादी करने के लिए मदुरई का दौरा किया था। यह स्थान देवी पार्वती के जन्म स्थान होने की वजह से शरू से ही पवित्र रहा है, इसलिए पार्वती का स्मरण करने और उनकी पूजा करने के लिए इस मिनाक्षी मंदिर का निर्माण किया गया था। मीनक्षी मंदिर दिखने में बेहद खूबसूरत है जिसमें 14 प्रवेश द्वार या ‘गोपुरम’, स्वर्ण टावर, पवित्र गर्भगृह शामिल हैं। इस मंदिर की पवित्रता और आकर्षणों की वजह से रोजाना हजारों भक्त इस मंदिर की यात्रा करते हैं।

 मंदिर का नाम  मीनाक्षी मंदिर
 निर्माणकाल  ई.स 1623 से 1655
 निर्माता  राजा मल्‍लय द्वज और रानी कांचन माला
 राज्य  तमिलनाडु
 मंदिर का क्षेत्र  14 एकड़
 मंदिर की ऊँचाई  450 मीटर
 मंदिर के कुल गोपुरम  12 गोपुरम

 मीनाक्षी मंदिर का इतिहास – History of Meenakshi Temple

मीनाक्षी मंदिर का इतिहास 7 वीं शताब्दी के रूप में पुराने समय में उल्लेख करता है। बताया जाता है कि मीनाक्षी मंदिर की संरचना में पहले परिवर्तन 1560 में मदुरई के राजा विश्वनाथ नायक के द्वारा किए गए थे। तिरुमलाई नायक (1623–55) के शासनकाल के समय मंदिर में कई परिसरों का निर्माण हुआ था, जिसमें वसंत मंडपम और किलिकोकोंडू मंडपम शामिल हैं। मीनाक्षी अम्मन मंदिर के टैंक और मीनाची नायकर मंडपम के गलियारों का निर्माण रानी मंगलम ने किया था।

14 वीं शताब्दी के आसपास पांड्या सिंहासन के उत्तराधिकार को लेकर कई विवाद सामने आए। दिल्ली के अलाउद्दीन ने 1310 में मदुरै पर आक्रमण किया था और अराजकता का शोषण किया। शहर की व्यापक लूट के पीछे उसका जनरल मलिक काफूर था जिसने आम जनता के जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया था। मीनाक्षी मंदिर के चौदह मीनारों में से केवल सुंदरेश्वर और मीनाक्षी को छोड़कर सभी को नष्ट कर दिया गया था।

Meenakshi Temple Images
Meenakshi Temple Images

मीनाक्षी मंदिर की कहानी – Story of Meenakshi Temple

श्री मीनाक्षी अम्मन मंदिर से जुड़ी कई पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई है। इसी तरह एक कहानी है कि इस मंदिर का निर्माण इंद्र देव ने करवाया था, जब वे अपने पापों का प्रायश्चित करने के लिए यहां आये थे।  एक अन्य पौराणिक कथा कहती है कि देवी पार्वती पांड्य राजा मलयाद्वाज पांड्या की बेटी के रूप में प्रकट हुईं, क्योंकि उन्होंने भगवान से बहुत प्रार्थना की थी। बता दें कि उस लड़की के तीन स्तन थे और कहा जाता है कि जब वह अपने पति से मिली थी तो उसका तीसरा स्तन अपने आप गायब हो गया था।

राजा की बेटी का नाम “तदातगाई” था और वह सिंहासन की उत्तराधिकारी थी। वह 64 शास्त्रों में अच्छी तरह से प्रशिक्षित थी और उसे राज्य को बुद्धिमानी से शासन करने के लिए सभी विषयों का ज्ञान था। किवदंती है कि विवाह के उपरांत भगवान शिव और देवी पार्वती ने यहां कई वर्षों तक शासन किया था। आज जहां मीनाक्षी मंदिर स्थित है वहीं से शिव-पार्वती ने स्‍वर्ग की यात्रा आरंभ की थी।

श्री मीनाक्षी मंदिर में अप्रैल और मई के महीने में मदुरई का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार चिथिरई मनाया जाता है। इस त्‍योहार के दौरान हज़ारों की संख्‍या में भक्‍त मंदिर में दर्शन करने के लिए आते हैं। त्‍योहार में कई धार्मिक संस्‍कार किए जाते हें जिसमें मीनाक्षी देवी का राज्‍याभिषेक, रथ उत्‍सव एवं देवताओं का विवाह आदि शामिल है। इस उत्सव की समाप्ति भगवान विष्णु के अवतार भगवान कल्लाज्हगा को मंदिर में वापस लाने से होती हैं।

मीनाक्षी मंदिर फोटो
मीनाक्षी मंदिर फोटो

मीनाक्षी मंदिर किसने बनवाया था – Who built the Meenakshi temple

राजा मल्‍लय द्वज और रानी कांचन माला की बेटी को देवी मीनाक्षी माना जाता है जिसका जन्‍म कई यज्ञों के बाद हुआ था। यह तीन वर्ष की बालिका अंतिम यज्ञ की आग से प्रकट हुई थी। देवी मीनाक्षी को मां पार्वती का रूप माना जाता है जिन्‍होंने पृथ्‍वी पर अपने पिछले जीवन में कांचन माला को दिए गए वचन का सम्‍मान करने के लिए जन्‍म लिया था।  श्री मीनाक्षी से सुंदरेश्‍वर के रूप में जन्‍मे भगवान शिव ने देवी पार्वती से विवाह किया और दोनों मदुरई आए। यहां पर कई वर्षों तक भगवान शिव और देवी पार्वती ने शासन किया।

Meenakshi Temple Photos
Meenakshi Temple Photos

मीनाक्षी मंदिर की वास्तुकला – Architecture of Meenakshi Temple

श्री मीनाक्षी अम्मन मंदिर द्रविड़ वास्तुकला को दर्शाता है। यह मंदिर अपने टावरों या ‘गोपुरम’ के लिए सबसे प्रसिद्ध है, बहुत दूर से भी दिखाई देते हैं। 14 एकड़ में फैला लगभग 12 गोपुरम ने मीनाक्षी मंदिर को सुशोभित किया, जिसमें चार बाहरी 160 फीट से अधिक की ऊँचाई पर थे। मंदिर के परिसर उच्च ईंटवर्क की दीवारों से बने हैं और कई वर्ग परिक्षेत्रों में विभाजित हैं।

मीनाक्षी मंदिर तमिलनाडु के कुछ ऐसे मंदिरों में से एक है जिसमें चार दिशाओं से चार प्रवेश द्वार हैं। इस मंदिर के भवन में लगभग हजार स्तंभ हैं। इस मंदिर के प्रदेश द्वार से लेकर खंभों तक सभी में विभिन्न देवताओं और देवी की छवियों को उकेरा गया है। मंदिर की संरचना 1623 और 1655 के बीच बनाई गई थी। इसमें 14 गेटवे टॉवर हैं, जिनकी ऊँचाई 450 मीटर है। उनमें से सबसे ऊँचा टॉवर दक्षिणी टॉवर है, जो 170 फीट की ऊँचाई पर है।

मंदिर परिसर में एक बड़ा टैंक या पोट्रामारिककुलम भी है, जिसमें पवित्र जल भरा हुआ रहता है। आपको बता दें कि यहां मुख्य मंदिर जो मीनाक्षी और सुंदरेश्वर को समर्पित है, तीन परिसरों से घिरा हुआ है और चार छोटे टॉवरों द्वारा संरक्षित हैं।  मीनाक्षी का तीर्थ सुंदरेश्वर के तीर्थस्थल के दक्षिण पश्चिम में स्थित है, जहाँ देवी स्वयं एक काले पत्थर के रूप मे हैं। सुंदरेश्वर का मंदिर केंद्र में है और दोनों के मंदिरों में सोने के टावर हैं, जो दूर से भी दिखाई देते हैं।

भगवान गणेश की एक मूर्ति जो एक ही पत्थर से तराशी गई है, यहाँ पर विनायक मंदिर में मौजूद है। मंदिर का गर्भगृह इंद्र विष्णुम और भगवान शिव के कई स्वरूपों से सुशोभित है। सुंदरेश्वर मंदिर परिसर के भीतर नटराज का एक मंदिर है जिसमें स्थित भगवान शिव की नटराज मूर्ति तांडव (विनाश का लौकिक नृत्य) को प्रदर्शित करती है।

मीनाक्षी मंदिर
मीनाक्षी मंदिर

मीनाक्षी मंदिर का धार्मिक महत्व – Religious importance of Meenakshi Temple

इस मंदिर में देवी मीनाक्षी अपने दाहिने हाथ में एक तोते के साथ दिखाई देती हैं। ऐसा माना जाता है कि तीर्थ उन पांच स्थानों में से एक है जहां शिव ने तांडव किया था। यहां चांदी से बनी भगवान शिव की नटराज के रूप में एक विशाल प्रतिमा स्थापित है, जिसमें नटराज को दाहिना पैर उठा कर नाचते हुए दिखाया गया है और यह नटराज की बाकी छवि से बिलकुल अलग है क्योंकि बाकी में उनका बायां पैर उठा हुआ होता है।

यहाँ हर साल अप्रैल में “मीनाक्षी थिरुकल्याणम” या मीनाक्षी के दिव्य विवाह का त्यौहार बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। यहाँ उत्सव एक महिला वर्चस्व समारोह का एक उत्कृष्ट उदाहरण है, जिसे मदुरै विवाह भी कहा जाता है। आपको बता दें कि यह उत्सव एक महीने तक चलता है जिसमें रथ महोत्सव और फ्लोट उत्सव जैसे कई कार्यक्रम शामिल होते हैं। नवरात्रि और शिवरात्रि के उत्सव भी यहां मनाये जाते हैं।

मीनाक्षी मंदिर का इतिहास और जानकारी
मीनाक्षी मंदिर का इतिहास और जानकारी

मीनाक्षी मंदिर का खास उत्सव – Special celebration of Meenakshi Temple

हर साल अप्रैल में मनाया जाने वाला तिरूकल्याणम् उत्सव यहां का सबसे खास उत्सव है जो 10 दिनों तक मनाया जाता है जिसमें लाखों की संख्या में श्रद्धालु शामिल होते हैं। वैसे नवरात्रि और शिवरात्रि के दौरान भी यहां काफी धूमधाम देखने को मिलती है।

मंदिर में दर्शन का समय –

मंदिर सुबह 5 बजे से लेकर रात 9 बजे तक खुला रहता है। लेकिन दोपहर 12 बजे से 4 बजे तक मंदिर में दर्शन बंद होता है।

मीनाक्षी मंदिर में दर्शन के लिए टिप्स – Tips for Visiting Meenakshi Temple

मीनाक्षी अम्मन मंदिर में या परिसर में धूम्रपान, शराब और तंबाकू उत्पादों की अनुमति नहीं है।

यह पूजा स्थल है, इसलिए यहां पर उचित कपड़े पहने।

अपने जूते मंदिर के बहार उतारें।

मंदिर के भीड़-भाड़ वाले इलाकों में अपने सामान की सुरक्षा करें।

अगर दान करना चाहें तो इस मंदिर में किया जा सकता है।

मीनाक्षी मंदिर का फोटो
मीनाक्षी मंदिर का फोटो

How to reach Meenakshi Temple मीनाक्षी मंदिर कैसे पहुंचें

मंदिर से निकटतम बस स्टॉप पेरियार है जो 1.3 किलोमीटर की दूरी पर है। पेरियार से मीनाक्षी मंदिर के लिए नियमित रूप से बसें चलती हैं। आप मंदिर जाने के लिए टैक्सी भी किराए पर ले सकते हैं।

मीनाक्षी मंदिर हवाई मार्ग से कैसे पहुंचे

अगर आप मीनाक्षी मंदिर के लिए हवाई यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि हवाई मार्ग से मदुरै पहुंचना बहुत सुविधाजनक है। मदुरई शहर कई नियमित उड़ानों से देश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हवाई अड्डा मुख्य शहर से हवाई अड्डा केवल 10 किमी दूर है। आप हवाई अड्डे से टैक्सी या कैब की मदद से मंदिर तक पहुँच सकते हैं।

मीनाक्षी मंदिर की फोटो गैलरी
मीनाक्षी मंदिर की फोटो गैलरी

मीनाक्षी मंदिर ट्रेन से कैसे पहुंचे –

मदुरई शहर मदुरई-तिरुचिरापल्ली-डिंडीगुल-क्विलोन लाइन दक्षिणी रेलवे का एक महत्वपूर्ण जंक्शन है। पूरे साल भर में मदुरै के लिए ट्रेन आसानी से उपलब्ध हैं। हालांकि, गर्मियों और छुट्टी के मौसम के यात्रा करने से पहले बुकिंग कर लें।

मीनाक्षी मंदिर सड़क मार्ग से कैसे पहुंचे – How to reach Meenakshi Temple by road

मदुरई के लिए दक्षिण भारत के अधिकांश प्रमुख शहरों से बस सेवाएं हैं। नेशनल हाईवे 44 शहर की ओर जाता है। मदुरई दक्षिण भारत के सभी हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। शहर में 5 प्रमुख बस स्टैंड हैं, जहाँ से आप तमिलनाडु के लगभग हर शहर के लिए बस पकड़ सकते हैं।

इसके बारेमे भी पढ़िए – 

उत्तर प्रदेश के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान और पक्षी अभयारण्य

पिरान कलियर शरीफ की दरगाह का इतिहास

उदयगिरि गुफाएँ का इतिहास और यात्रा से जुड़ी जानकारी

चूका बीच पीलीभीत उत्तरप्रदेश घूमने की जानकारी

भारत के 10 सबसे अमीर मंदिर की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *