History oF Maherangarh Fort in Hindi – महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में

Maherangarh Fort जिसको मेहरान किले के रूप में भी जाना जाता है। इस किले को 1459 में राव जोधा द्वारा जोधपुर में में बनवाया था । यह किला देश के सबसे बड़े किलों में से एक है और 410 फीट ऊंची पहाड़ी की चोटी पर स्थित है।

मेहरानगढ़ किला विशाल दीवारों द्वारा संरक्षित है जहां पर कई तरह की हॉलीवुड और बॉलीवुड की शूटिंग हुई है जिनमे द लायन किंग, द डार्क नाइट राइज और ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के नाम शामिल हैं।

महेरानगढ किले का इतिहास – History of Maherangarh Fort

इस किले का प्रवेश द्वारा एक पहाड़ी के ऊपर है जो बेहद शाही है। किले में सात द्वार हैं जिनमें विक्ट्री गेट, फतेह गेट, भैरों गेट, डेढ़ कामग्रा गेट, फतेह गेट, मार्टी गेट और लोहा गेट के नाम शामिल है।

इस सभी गेटों का निर्माण अलग-अलग समय में किया गया था और इन्हें एक विशिष्ट उद्देश्य के चलते बनाया गया था। यहां पर जयपुर और बीकानेर सेनाओं पर महाराजा मान सिंह की जीत के उपलक्ष्य में विजय द्वार का निर्माण भी किया गया था।

इसके अलावा किले में शीश महल (ग्लास पैलेस) और फूल महल (रोज पैलेस) जैसे आकर्षक महल भी हैं। अगर आप मेहरानगढ़ किले को देखने के लिए जाना चाहते हैं

तो इस लेख को जरुर पढ़ें, इसमें हम आपको किले के बारे खास बातें जैसे मेहरानगढ़ किले का इतिहास, वास्तुकला, आसपास के पर्यटन स्थल और घूमने के बारे में जानकारी दे रहे हैं। 

 किले का नाम  मेहरानगढ़ किला
 राज्य  राजस्थान
 शहर  जोधपुर
 निर्माणकाल  ई.स 1459
 निर्माणकर्ता   राव जोधा
 किले की ऊंचाई   410 फीट
 महेरानगढ किले के द्वार कितने है  7 द्वार

मेहरानगढ़ किले का इतिहास काफी दिलचस्प है जो हमें उस समय में वापस ले जाता है जब 15 वीं शताब्दी का दौरान राठौर शासक राव जोधा ने 1459 में जोधपुर की स्थापना की थी।

राजा राम मल के पुत्र राव जोधा ने शहर को मंडोर से शासित किया लेकिन फिर उसने अपनी राजधानी को जोधपुर स्थानांतरित कर दिया था।

History oF Maherangarh Fort in Hindi - महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में
History oF Maherangarh Fort in Hindi – महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में

इसके बाद उन्होंने भाऊचेरिया पहाड़ी पर किले की नीव रखी जिसकी दूरी मंडोर से सिर्फ 9 किमी थी। ‘मेहरान’ का अर्थ सूर्य है इसलिए राठोरों ने अपने मुख्य देवता सूर्य के नाम से इस किले को मेहरानगढ़ किले के रूप में नामित किया।

इस किले के मुख्य निर्माण के बाद जोधपुर के अन्य शासकों मालदेव महाराजा, अजीत सिंह महाराजा, तखत सिंह और महाराजा हनवंत सिंह द्वारा इस किले में अन्य निर्माण किए।

महेरानगढ किले की वास्तु कला – Architecture of Maherangarh Fort

Maherangarh Fort और महलों को 500 साल की अवधि में बनाया गया था। किले की वास्तुकला में आप 20 वीं शताब्दी की वास्तुकला की विशेषताओं के साथ 5 वीं शताब्दी की बुनियादी वास्तुकला शैली को भी देख सकते हैं।

किले में 68 फीट चौड़ी और 117 फीट लंबी दीवारें है। मेहरानगढ़ किले में सात द्वार हैं जिनमें से जयपोली सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। किले की वास्तुकला 500 वर्षों की अवधि के विकास से गुजरी है।

महाराजा अजीत सिंह के शासन के समय इस किले की कई इमारतों का निर्माण मुगल डिजाइन में किया गया है। इस किले में पर्यटकों को आकर्षित कर देने वाले सात द्वारों के अलावा मोती महल (पर्ल पैलेस), फूल महल (फूल महल), दौलत खाना, शीश महल (दर्पण पैलेस) और सुरेश खान जैसे कई शानदार शैली में बने कमरें हैं।

मोती महल का निर्माण राजा सूर सिंह द्वारा बनवाया गया था। शीश महल, या हॉल ऑफ मिरर्स बेहद आकर्षक है जो अपनी दर्पण के टुकड़ों पर जटिल डिजाइन की वजह से पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है। फूल महल का निर्माण महाराजा अभय सिंह ने करवाया था।

मेहरानगढ़ किले का नाम कैसे पड़ा – How was the name of Mehrangarh Fort

मेहरानगढ़ किला- सूर्य देवता का गढ़ मेहर-गढ़ से इसका नाम है। मेहर का अर्थ है सूर्य और गढ़ का अर्थ है किला। सूर्य राठौड़ वंश के प्रमुख देवता रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि राठौड़ सूर्य के वंशज हैं। स्थानीय भाषा में उच्चारण के अनुसार, मेहर-गढ़ को मेहरानगढ़ के रूप में जाना जाता है।

मेहरानगढ़ किले का रहस्य – Mystery of Mehrangarh Fort

राव जोधा द्वारा किले के निर्माण की कहानी काफी पेचीदा है। किले की नींव 1459 में राव जोधा द्वारा राठौरों की तत्कालीन राजधानी मंडोर के दक्षिण में लगभग 9 किमी की दूरी पर स्थित बखुर्चेरिया नाम की एक चट्टानी पहाड़ी पर रखी गई थी।

एक किंवदंती के अनुसार, किले का निर्माण करने के लिए, राव जोधा को पहाड़ी के एकमात्र मानव रहने वाले, चेरामिया नाथजी, पक्षियों के स्वामी नामक एक उपदेशक को विस्थापित करना पड़ा।

स्थानांतरित होने के लिए मजबूर होने के कारण, चीरिया नाथजी ने राव जोधा को शाप दिया कि यह किला पानी की कमी से पीड़ित होगा।

राव जोधा ने उस गुफा के पास एक घर और किले में एक मंदिर बनाकर साधु को प्रसन्न करने में कामयाबी हासिल की, जिसका ध्यान साधना के लिए इस्तेमाल किया गया था, हालाँकि आज भी यह क्षेत्र हर 3 से 4 साल में सूखे से त्रस्त है।

History oF Maherangarh Fort in Hindi - महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में
History oF Maherangarh Fort in Hindi – महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में

चेरिया नाथजी के श्राप के परिणामों को टालने के लिए, राव जोधा ने रजिया बांबी नामक एक युवक को जिंदा दफन किया था ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि नया किला भविष्यनिष्ठ साबित हुआ है।

बदले में, रजिया बांबी को वादा किया गया था कि उनके परिवार और वंशजों की देखभाल राठोरों द्वारा की जाएगी। वादे के सम्मान में, आज भी राजिया के वंशज महाराजा परिवार के साथ एक विशेष संबंध का आनंद लेते हैं।

महेरानगढ किले के द्वार कितने है  – How many gates are there for Maherangarh Fort

इस किले में कुल सात दरवाजे हैं जिनमें से सबसे प्रसिद्ध द्वारों का उल्लेख नीचे किया गया हैः

1.जय पोल (विजय का द्वार), इसका निर्माण महाराजा मान सिंह ने 1806 में जयपुर और बीकानेर पर युद्ध में मिली जीत की ख़ुशी में किया था।

2.फ़तेह पोल, इसका निर्माण 1707 में मुगलों पर मिली जीत की ख़ुशी में किया गया।

3. डेढ़ कंग्र पोल, जिसे आज भी तोपों से की जाने वाली बमबारी का डर लगा रहता है।

4.लोह पोल, यह किले का अंतिम द्वार है जो किले के परिसर के मुख्य भाग में बना हुआ है। इसके बायीं तरफ ही रानियों के हाथों के निशान हैं, जिन्होंने 1843 में अपने पति, महाराजा मान सिंह के अंतिम संस्कार में खुद को कुर्बान कर दिया था।

महेरानगढ किले में कितने महल है – How many palaces are there in Maherangarh Fort

1. मोती महल :

मोती महल जिसे पर्ल पैलेस के रूप में भी जाना जाता है, किले का सबसे बड़ा कमरा है। यह महल राजा सूर सिंह द्वारा बनवाया गया था, जहां वे अपनी प्रजा से मिलते थे।

यहाँ, पर्यटक ‘श्रीनगर चौकी’, जोधपुर के शाही सिंहासन को भी देख सकते हैं। यहाँ पाँच छिपी बाल्कनी हैं जहां से राजा की पाँच रानियाँ अदालत की कार्यवाही सुनती थी।

2. फूल महल :

फूल महल, मेहरानगढ़ किले के विशालतम अवधि कमरों में से एक है। यह महल राजा का निजी कक्ष था। इसे फूलों के पैलेस के रूप में भी जाना जाता है, इसमें एक छत है जिसमें सोने की महीन कारीगरी है।

महाराजा अभय सिंह ने 18 वीं सदी में इस महल का निर्माण करवाया। माना जाता है कि मुगल योद्धा, सरबुलन्द खान पर राजा की जीत के बाद अहमदाबाद से यह सोना लूटा गया था। शाही चित्र और रागमाला चित्रकला महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय के शासनकाल के दौरान महल में लाये गये थे

3. शीशा महल :

शीशा महल, सुंदर शीशे के काम से सजा है। आगंतुक शीशा महल में चित्रित धार्मिक आकृतियों के काम को देख सकते हैं। इसे ‘शीशे के हॉल’ के रूप में भी जाना जाता है।

एक तखत विला, जिसे तखत सिंह द्वारा बनवाया गया था, भी देखा जा सकता है। ये जोधपुर के अंतिम शासक और मेहरानगढ़ किले का निवासी थे। विला का वास्तुशिल्प पारंपरिक और औपनिवेशिक दोनों शैलियों को प्रदर्शित करता है।

4. झाँकी महल :

झाँकी महल, जहाँ से शाही महिलायें आंगन में हो रहे सरकारी कार्यवाही को देखती थीं, एक सुंदर महल है। वर्तमान में, यह महल शाही पालनों का एक विशाल संग्रह है। ये पालने, गिल्ट दर्पण और पक्षियों, हाथियों, और परियों की आकृतियों से सजे हैं।

5. म्यूजियम :

Maherangarh Fort का म्यूजियम राजस्थान के बेहतरीन और सबसे प्रसिद्ध म्यूजियम में से एक है। किले के म्यूजियम के एक विभाग में पुराने शाही पालकियो को रखा गया है,

जिनमे विस्तृत गुंबददार महाडोल पालकी का भी समावेश है, जिन्हें 1730 में गुजरात के गवर्नर से युद्ध में जीता गया था। यह म्यूजियम हमें राठौर की सेना, पोशाक, चित्र और डेकोरेटेड कमरों की विरासत को भी दर्शाता है।

महेरानगढ किले का क्षेत्र कितना है – What is the area of ​​Maherangarh Fort

Maherangarh Fort  के दीवारों की परिधि 10 किलोमीटर तक फैली है। इनकी ऊंचाई 20 फुट से 120 फुट तथा चौड़ाई 12 फुट से 70 फुट तक है। इसके परकोटे में दुर्गम रास्तों वाले सात आरक्षित दुर्ग बने हुए थे। किले के अंदर कई भव्य महल, अद्भुत नक्काशीदार दरवाजे, जालीदार खिड़कियां हैं।

History oF Maherangarh Fort in Hindi - महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में
History oF Maherangarh Fort in Hindi – महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में

इस किले के भीतर बहुत से बेहतरीन चित्रित और सजे हुए महल हैं जिनमें मोती महल, फूल महल, शीश महल, सिलेह खाना और दौलत खाने का समावेश है।

साथ ही किले के म्यूजियम में पालकियों, पोशाकों, संगीत वाद्य, शाही पालनों और फर्नीचर को जमा किया हुआ है। किले की दीवारों पर तोपें भी रखी गयी हैं, जिससे इसकी सुन्दरता को चार चाँद भी लग जाते हैं।

जोधपुर शासक राव जोधा ने 12 मई 1459 को इस किले की नींव डाली और महाराज जसवंत सिंह (1638-78) ने इसे पूरा किया। यानि इस किले का इतिहास 500 साल पुराना है।

  • इस किले में कुल सात दरवाजे हैं जिनमें से सबसे प्रसिद्ध द्वारों का उल्लेख नीचे किया गया हैः

जय पोल (विजय का द्वार), इसका निर्माण महाराजा मान सिंह ने 1806 में जयपुर और बीकानेर पर युद्ध में मिली जीत की ख़ुशी में किया था।

फ़तेह पोल, इसका निर्माण 1707 में मुगलों पर मिली जीत की ख़ुशी में किया गया।

डेढ़ कंग्र पोल, जिसे आज भी तोपों से की जाने वाली बमबारी का डर लगा रहता है।

लोह पोल, यह किले का अंतिम द्वार है जो किले के परिसर के मुख्य भाग में बना हुआ है। इसके बायीं तरफ ही रानियों के हाथों के निशान हैं, जिन्होंने 1843 में अपने पति, महाराजा मान सिंह के अंतिम संस्कार में खुद को कुर्बान कर दिया था।

महेरानगढ किले का संग्रहालय – Maherangarh Fort Museum

भारतीय इतिहास के मुग़ल शासन काल के सबसे महत्वपूर्ण और अच्छे संरक्षित कलेक्शन्स में से एक है, राठौर शासकों के दौरान जोधपुर ने मुग़ल शासकों के साथ घनिष्ठ संबंध बनाए रखे थे। इनमें कुछ अवशेष मुग़ल सम्राट अकबर के भी हैं।

संग्रहालय में शस्त्रागार :

इस संग्रहालय में जोधपुर के सभी वर्षों के कवचों के दुर्लभ कलेक्शन को दर्शाया गया है। प्रदर्शनी में तलवार की जेड, चांदी, राइनो सींग, हाथी दांत, रत्न जड़ित कवच, पन्ना और मोती और बंदूकें जिनकी नलियों पर गोल्ड व सिल्वर से काम किया गया है शामिल है।

इस प्रदर्शनी में सम्राटों की व्यक्तिगत तलवारों को भी दर्शाया गया है, जैसे राव जोधा की खांडा के कुछ ऐतिहासिक अवशेष, जिसका वजन लगभग 3 kg है, महान अकबर की तलवार और तैमूर की तलवार।

संग्रहालय में पेंटिंग्स:

इस संग्रहालय में मारवाड़ और जोधपुर के रंगों को दर्शाया गया है, जो मारवाड़ के चित्रों का बेहतरीन उदाहरण है।

संग्रहालय में पगड़ीया :

मेहरानगढ़ की पगड़ी संग्रहालय में रक्षा, दस्तावेज और राजस्थान में प्रचलित पगड़ियों के कई अलग अलग प्रकार को दर्शाया गया है; क्योंकि हर समुदाय, क्षेत्र और त्योहारों की अपनी अलग पहचान होती है।

महेरानगढ किले के अन्य स्मारक – Other monuments of Maherangarh Fort

अगर आप मेहरानगढ़ किले की सैर करने जा रहे हैं तो आपको बता दें कि इस किले के अंदर कुछ मंदिर और पार्क भी बने हुए है जहां आपको किले की यात्रा के दौरान जरुर जाना चाहिए।

चामुंडा माताजी का मंदिर :

जब राव जोधा अपनी अपनी राजधानी को मंडोर से जोधपुर स्थानांतरित किया था तब वह अपने साथ दुर्गा माता की मूर्ति को भी ले गए थे। इस मूर्ति को मेहरानगढ़ किले में स्थापित किया गया था और आज कई भक्त माता की मूर्ति के दर्शन करने के लिए इस किले में आते हैं।

नागणेचजी मंदिर :

नागणेचजी मंदिर किले के बिलकुल दाईं ओर स्थित है जिसका निर्माण 14 वीं शताब्दी में किया गया था, जब राव धुहड़ ने मूर्ति को मारवाड़ में लाया था जिसको बाद में किले में स्थापित कर दिया गया था।

राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क :

राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क किले के पास स्थित है जो प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग के सामान है। यह पार्क 72 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला हुआ है जहां रेगिस्तान और शुष्क वनस्पति पाई जाती है। इस पार्क में पर्यटक गाइड के साथ 880 से 1100 मीटर लंबे रोमांचक रास्ते जा सकते हैं जहां पर कुछ अनोखे पौधों को देखा जा सकता है।

चोकेलो गार्डन :

चोकेलो गार्डन मेहरानगढ़ किले के ठीक नीचे स्थित है जिसे आपको अपनी किले की यात्रा में जरुर शामिल करना चाहिए। यह गार्डन 18 वीं शताब्दी का है जिसके बाद इसका जीर्णोद्धार किया गया है। इस गार्डन में एक रेस्टोरेंट भी है जहां से आप मनोरम दृश्य का आनंद लिया जा सकता है।

मेहरानगढ़ किले की विशेषता – Specialty of Mehrangarh Fort

Maherangarh Fort  राजस्थान के सबसे बड़े, संरक्षित और सबसे प्रभावशाली स्मारकों में से एक है।

यह किला एक लंबवत चट्टान पर बना हुआ है और यह लगभग चार सौ फीट की ऊंचाई पर स्थित है।

किले के निर्माण के लिए राव जोधा को एक ऋषि चीरिया नाथजी को जबरदस्ती इस जगह से हटाया था जिसके बाद उस ऋषि ने राजा को शाप दिया था 

इस किले को पानी की कमी का सामना करना पड़ेगा। लेकिन बाद में राव जोधा ने उनके लिए एक मंदिर और एक घर बनवाकर उन्हें प्रसन्न किया।

जब आप इस किले को देखने के लिए जायेंगे तो इसके मुख्य द्वार के सामने आपको कुछ लोग लोक नृत्य करते नजर आयेंगे।

मेहरानगढ़ किले की यात्रा करने का अच्छा समय – Good time to visit Mehrangarh Fort

अगर आप मेहरानगढ़ किले की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो आपको बता दें कि यहां जाने का सबसे अच्छा समय सर्दियों के मौसम का है।

अक्टूबर से मार्च के के महीनों के बीच यहां का मौसम काफी ठंडा और सुखद रहता है। इस मौसम में आप पूरे किले को एक्सप्लोर कर सकते हैं।

History oF Maherangarh Fort in Hindi - महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में
History oF Maherangarh Fort in Hindi – महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में

किला घूमने के लिए आप सर्दियों के मौसम में सुबह के समय जाएँ। यह किला सुबह 9:00 बजे पर्यटकों के लिए खोला जाता। आप दो या तीन घंटे एक किले में बिताने के बाद यहां के पास के पर्यटन स्थलों पर जा सकते हैं।

मेहरानगढ़ किले कैसे पहुंचे – How to reach Mehrangarh Fort

जोधपुर शहर भारत के सभी प्रमुख शहरों के साथ रेल, सड़क और हवाई नेटवर्क से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

मेहरानगढ़ किले हवाई जहाज से कैसे पहुँचे :

राजस्थान के प्रमुख हवाई अड्डों में से एक, जोधपुर अब एक अंतरराष्ट्रीय में तब्दील हो रहा है। यहां के लिए आपको देश के विभिन्न शहरों से दैनिक उड़ानें मिल जायेंगी। जोधपुर हवाई अड्डे से मेहरानगढ़ किले की दूरी करीब 8 किलोमीटर है।

मेहरानगढ़ किले ट्रेन से कैसे पहुँचे :

अगर आप मेहरानगढ़ किले या जोधपुर की यात्रा रेल द्वारा करना चाहते हैं तो बता दें कि जोधपुर रेलवे स्टेशन सभी प्रमुख भारतीय शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और यहां रोज कई ट्रेनें उपलब्ध हैं।

इसके अलावा यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन ‘राय का बाग’ रेलवे स्टेशन है। जोधपुर रेलवे स्टेशन से मेहरानगढ़ किले की दूरी लगभग 6 किलोमीटर है, जहां आप टैक्सी या कैब की मदद से पहुंच सकते हैं।

मेहरानगढ़ किले सड़क मार्ग से कैसे पहुँचे :

जोधपुर शहर राजस्थान के सभी महत्वपूर्ण शहरों के साथ ही अपने पड़ोसी राज्यों के लिए सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। यहां पर कई डीलक्स और एक्सप्रेस बस सेवाएं उपलब्ध हैं। अगर आप शहर की यात्रा करना चाहते हैं तो ऑटो रिक्शा, बस, साइकिल रिक्शा या कैब की मदद ले सकते हैं।

*

Also -: Biography Hindi

5 thoughts on “History oF Maherangarh Fort in Hindi – महेरानगढ किले का इतिहास हिंदी में”

  1. Cx of this syndrome are mediated by hyper viscosity, tumor aggregates causing slow blood flow, and invasion of the primitive leukemic cells, which causes hemorrhage ivermectin tablets online For example, primary breast tumors upper red lesion initiate signaling pathways that yield osteolytic bone metastases, whereas primary prostate tumors lower red lesion spawn osteoblastic bone metastases that are driven by unrelated molecular programs

Leave a Comment

Your email address will not be published.