Haldighati Ka YudhHistory In Hindi Rajasthan – historyofindia1

Haldighati Ka Yudh History In Hindi Rajasthan | हल्दीघाटी का युद्ध 

Haldighati ka yudh के बारे में हम आज इस आर्टिकल के द्वारा जानेंगे। भारत देश की भूमि अनेक विविध धर्म के साथ भूमि तल में भी अपने  विविध रूपों से परिचित करवाती है ऐसेही एक मातृ की हम आपको बात करने वाले है haldighati की मिट्टी हरे रंग की हल्दी जैसी पिली दिखाई देती है।

उस मिट्टी से जन्म लेने वाले चाहे राजा हो या सैनिक हो अपने  शरीर की पूर्ण ताकत से युद्ध में उतारते थे और सिर्फ और सिर्फ विजय हो ने की ही खाइश रखा करते थे। भारत देश की एक कहावत हे की “जननि जाणजे भक्त जन या दाता या सुर नहीतो रहेजे वानजनि मत गुमाय तुम्हारा नूर ” ऐसे ही वीर सपूतो की भेट भारत वर्ष को देने वाली मातृभूमि haldi ghati को शत शत प्रणाम हो। haldighati का मुख्य इतिहास मुघल सम्राट अकबर और मेवाड़ के विर राजा महाराणा प्रताप के बीच हुए था। अगर आप भी haldighati war के बारे जानना चाहते है तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढियेगा। 

युद्ध का नाम  हल्दीघाटी का युद्ध 
किसके बिच हुआ युद्ध अकबर और महाराणा प्रताप 
समय 18 जून, 1576 ई
राज्य  राजस्थान
स्थान हल्दीघाटी 
परिणाम   महाराणा प्रताप की जित 

Haldighati Ka Yudh History In Hindi –

उदय पुर के नाथद्धार जाने वाले मार्ग में पहाड़ियों के मदय में मन मोहक और नयन रम्य स्थल हल्दी घाटी का इतिहास पुरे विश्व में प्रचलित है। उसला दूसरा नाम ‘गोगंदा’ है। इस युद्ध में महाराजा प्रताप और उनकी सेनाने ऐसी वीरता और निडरता से लड़ाई लड़ी थी की पुरे विश्व में प्रसिद्ध हो गए थे।  भारत के haldighati rajasthan राज्य में एकलिंगजी से 18 किलोमीटर दूर जल्दी घाटी की जगह उपस्थित है।  haldighati distance 40 किलो मीटर की बताई जाती है। अरावली पर्वतीय गिरिमाला के बिच बलीचा और खमनोर गांव के पास जो पाली जिले को जोड़ता है।

Haldighati Ka YudhHistory In Hindi
Haldighati Ka YudhHistory In Hindi

इसके बारेमे भी पढ़िए – Saputara Hill Station Information In Hindi Gujarat

हल्दीघाटी का युद्ध  –

बादशाह अकबर के सामने सिर्फ और सिर्फ महाराणा प्रताप ही ऐसे राजा थे जिन्हो ने मुघलो की पराधीनता का स्वीकार नहीं किया था। अकबर की haldighati ka yudh की लड़ाई के लिए ही  मानसिंह और राणा प्रताप की अनबन हु थी। और मानसिंह के भड़काने से ही अकबर ने अपनी भारी सेना को मेवाड़ पर आक्रमण करने के लिए भेज दिया था। लेकिन  हल्दीघाटी के युद्ध में राजपूत विरो ने ऐसी वीरता दिखाई की अकबर भी दंग रह गया था।  हल्दी घाटी का युद्ध 18 जून 1576 ई के दिन अकबर और महाराणा प्रताप के बिच लड़ा गया था।

उस लड़ाई में राजपूत सैनिक और उनके राजा राणा प्रताप ने अपनी अखुट वीरता और मातृ भूमि के लिए त्याग की भावना दिखाई जिन्हे इतिहास के सुनहरे पन्ने पर अंकित किया गया है। राजपूतो के कई सैनिको ने वीर गति को प्राप्त किया था। अकबर की और से भी जाला मान सिंह  भी विर गति को प्राप्त हुए थे। हल्दी घाटी के युद्ध में नहीं अकबर जीता नहीं था महाराणा प्रताप जीते थे लेकिन महाराणा प्रताप और उनके सैन्य ने मुघलो की ऐसी हालत करदी थी की अकबर थक चूका था। 

Haldighati ka yudh में राजपूत विरो की ताकत –

हल्दी घाटी का युद्ध राणा प्रताप और अकबर बादशाह के बिच हुआ था और अकबर की और से उनके सेना नायक मान सिंह थे और उसके पास 5000 से भी ज्यादा मुग़ल सैनिक थे। जो मजबूत सैन्य बल कहा जाता था। मुगल सैन्य के पास सशस्त्र सेना में तक़रीबन 3000 घुड़सवार शामिल थे। haldighati yudh में शामिल सभी वीर की ताकत बहुत ही अनोखी थी।

उनके सामने मेवाड़ दुर्ग के राजा राणा प्रताप के सैन्य की ताकत कुछ भी नहीं थी। दिल्ही सम्राट अकबर के सैन्य का सेना पति मान सिंह था और उसका नेतृत्व भी मान सिंह ही करते थे। दूसरी और तंवरों, ग्वालियर के भिल्स जनजाति और राठोरों मेड़ता की संगठित की हुई सेना से राणा प्रताप ने अपना प्रतिनित्धित्व किया था।

महाराणा के पास अफगानिस्तान का विर योद्धाओं का नन्हा समूह था और इसका सेना नायक यानि सेना पति हकीम खान सूर थे। उन मुस्लमान यौद्धा थे जिन्होंने अपनी वीरता की जलक दिखाई थी। इस युद्ध में maharana pratap ने अपना प्रिय घोडा चेतक भी खोया था। महाराणा राणा की सैन्य संख्या 20000 थी और सामने अकबर की सेना में 80,000 सैनिक शामिल थे। अकबर की सेना में हाथी थे। बल्कि राजपूत सैन्य के पास ऐसी कोई सुविधा नहीं थी।

हल्दीघाटी का युद्ध 
हल्दीघाटी का युद्ध

इसके बारेमे भी पढ़िए – Maharana Pratap Horse Chetak History In Hindi 

Haldighati ka yudh कैसे लड़ा गया –

18 जून 1576 ई के दिन लडा गया युद्ध भयंकर युद्ध के रूप में लड़ा गया था। बलीचा और ख़मनोर गांव के बिच से गुजराती नदी बनास के किनारे और उस पहाड़ी पर पे लड़ा गया था। haldighati battle पुरे राजपूत वंश की बलिदान की कहानी और इज्जत बन चुकी थी। इस haldighati ka yudh बहुत ही भयंकर परिणाम देने वाला था।

उसमे झाला मान सिंह ,हकीमखां सूरी ,ग्वालियर के नरेश राम सिंह तंवर जैसे कई बलवान और देश भक्त सैनिक और सेना नायको को खोदिया था उसमे राणा प्रताप का प्रिय घोडा चेतक भी मारा गया था। आज भी उस जगह पर सभी विरो के स्मारक बने हुए है। इस जगह युद्ध के स्थल की रक्त तलाई ,हल्दी घाटी दरा ,प्रताप गुफा ,चेतक समाधी ,शाही बाग और महाराणा प्रताप का स्मारक बना हुआ है।

चार घंटे चला था युद्ध –

इतिहास इक ऐसा जरिया है जिनकी वजह से हमको पता चलता है की हमारे देश या मुल्क में कितने विर और महान राजाओ ने युद्ध लड़ते है वीर गति को स्वीकार किया है। battle of haldighati in hindi की जानकारी के मुताबिक राजपूत और मुघलो दोनों और से कई वीर यौद्धा ने अपना जीवन कुबान कर दिया था। अलग अलग होती है कहा जाता है war of haldighati की जंग पुरे चार घंटे चला था जिसमे 80000 मुघल सैनिको के सामने 20000 राजपूत विरो ने मुघलो को rajasthan haldighati से खदेड़ दिया था।

राजपूतो ने अपनी मातृ भूमि भारत माता के लिए इतने युद्ध लडे है की लिखते लिखते लिखने वाला भी थक जाये और उनके पन्ने भी कम पड़ जाये। मुघल सैन्य ज्यादा था लेकिन सामने राजपुत सैनिक और उनके सेनापति इतने चालक थे की 80000 सैनिको भी धूल चटाने में कामियाब रहे थे। haldighati war in hindi की पूरी जानकारी देखि जाये तो यह युद्ध 18 जून 1576 ई में तक़रीबन चार घंटे चली थी पुरे युद्ध में राजपूतो ने मुघलो ऐसी टक्कर देदी थी की मुघलो भी शरमाना पड़ा था। 

Haldighati Ka YudhHistory In Hindi
Haldighati Ka YudhHistory In Hindi

बादशाह अकबर खुद उतरा था युद्ध में –

हल्दी घाटी पहाड़ से दूर भागती मुग़ल सेना बनास नदी के तट पर आकर के रुक गई थी।  क्योकि उनके चालक सेना नायक ने ऐसा सेना को बताया की अकबर सलामत खुद ही यह युद्ध लड़ने के लिए उतरने वाले है। लेकिन राजपूत सैनको की वितको देखते ही मुघल सेना एक सदमे में चली गई थी की कुछ भी करेंगे हम जित नहीं पाएगे जब शाही सेना और राणा की सेनाये समतल मैदान पर जंग लड़ने उतर चुकी थीं। राजपूत अपनी जान की कोई परवाह ही नहीं करते थे और एक घास की भाटी मुघलो को काट दिया करते थे। 

बादशाह सलामत अकबर जी सेना के पैर युद्ध मैदान से राजपूत पूरी तरह उखाड़ चुके थे। सेना पति राम सिंह की परहेज तले युद्ध में लड़ती राजपूत सेना शाही सैन्य को कुचलती ही जाती थी। और मुघल अपने कदम पीछे ही हटाये जाते थे यहाँ से गबरा कर सेना ने अपना मुख बदला फिरभी राणा की सेना पीछा छोड़ने वाली नहीं थी। ऐसा कहा जाता था की उस दिन राजपूत सिर्फ और सिर्फ मरने के लिए ही उतरे थे ऐसा प्रतीत होता था कैसे  भी करके राजपूत अपनी मातृ भूमि को दूसरे के हाथ नहीं सौपना चाहते थे।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Hrishikesh History In Hindi Uttarakhand  

राम सिंह की विरता –

  • राजपूत सेना के सेना नायक राम सिंह ने चतुराई और विरता को देख
  • अकबर सेना पूरी तरह से टूट चुकी थी और सिर्फ हर की ही रह देखे जा रही थी। 
  • मुग़ल सैन्य को युद्ध मैदान से भागते हुए देख के एक मुग़ल सेना नायक सूबेदार मिहत्तर खान ने
  • जूठा बोलना शुरू करदिया की बादशाह सलामत अकबर खुद सैनिको
  • और पुरे रसाले के साथ युद्ध मैदान में आ रहे हैं।
  •  अबू फज़ल  अपने इतिहास में लिखते हैं के एक जूठ ने मुघलो को थोड़ा हौसला बढ़ाया।
  • लेकिन राजपूत सिर्फ और सिर्फ मरने के लिए ही उतरे थे ऐसा देख फीर गभरा गए थे।
  • haldighati war in hindi में जो योद्धा जो भी मरते थे सिर्फ राजपूत थे।
  • लेकिन फायदा अकबर को होने वाला था क्योकि मानसिंह अकबर की और से युद्ध में उतरे थे।
  • इन्ही भूल के कारन ही राजपूतो को बहुत भारी नुकसान का सामना करना पड़ा था।
Haldighati
Haldighati

हल्दी घाटी का सरकारी संग्रहालय –

  • हल्दी घाटी में सभी जगह निशुक है लेकिन उसके 3 किलोमिटर की दुरी पर  ही
  • भारतिय पूरा तत्व विभाग के जरिये संचालित एक सरकारी संग्रहालय है। 
  • उस का नाम haldighati museum बलीचा गांव संगहालय है।
  • उसकी फ़ीस 100 रूपया पे करनी पड़ती है। क्योकि उसमे एक व्यापारी मंडल बनाया हुआ है।
  • जो इस जगह की देख भाल करता है।

Haldighati Rajasthan Map –


इसके बारेमे भी पढ़िए – Kangra Fort History In Hindi Himachal Pradesh

हल्दीघाटी युद्ध की वीडियो –

हल्दीघाटी युद्ध के प्रश्न –

1 . हल्दीघाटी का युद्ध कब हुआ था ?

हल्दीघाटी का युद्ध 18 जून, 1576 ई में हुवा था।

2 . haldighati ka yudh किसने जीता था ?

हल्दीघाटी का युद्ध राजस्थान के महान प्रतापी राजा महाराणा प्रताप ने जीता था। 

3 . हल्दीघाटी का युद्ध किसके बीच हुआ था ?

हल्दीघाटी का युद्ध मुग़ल सम्राट अकबर और महान राजा महाराणा प्रताप के बिच हुवा था। 

4 . हल्दीघाटी का युद्ध किस नदी के किनारे हुआ था ?

यह युद्ध अरावली पर्वत शृंखला में खमनोर एवं

बलीचा गांव के मध्य गोगुन्दा नदी के किनारे लड़ा गया था।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Sabrimala Temple History in Hindi Kerala

Conclusion –

दोस्तों आशा करता हु आपको मेरा यह आर्टिकल haldighati ka yudh

पूरी तरह से समज आ गया होगा। इस लेख के जरिये  हमने haldighati war in hindi से सबंधीत  

सम्पूर्ण जानकारी दे दी है अगर आपको इस तरह के अन्य ऐतिहासिक घटनाओं के बारे में जानकरी पाना चाहते है।

तो आप हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द ।

12 thoughts on “Haldighati Ka Yudh History In Hindi Rajasthan | हल्दीघाटी का युद्ध ”

  1. best cialis online Tamoxifen citrate tablets 0, 01 g is a non steroidal, triphenylethylene based drug which displays a complex spectrum of oestrogen antagonist and oestrogen agonist like pharmacological effects in different tissues

  2. com 20 E2 AD 90 20Viagra 20Gnrique 20Livraison 2024h 20 20Pastillas 20Tipo 20Viagra 20Para 20Hombre pastillas tipo viagra para hombre MEXICO CITY, Mexico His tangles with Vladimir Putin over Syria and gay rights might already have guaranteed President Barack Obama a chilly stay this week at the G20 summit in the former Russian imperial capital of St stromectol дё­ж–‡ We know that exercise alone can reduce the risk of breast cancer relapse dramatically, and will also protect against heart disease, osteoporosis, type 2 diabetes and so on

  3. Ang larong Pusoy Apo Casino ay isang larong online na pagsusugal na gumagamit ng deck… Contact a KawBet agent now to get started! The only currency used for this service is the Php, and so any other currency is converted at market rates. This is the case because this app is native to the Philippines and used almost solely by Filipino players at casinos here. For this reason, you want to choose an online casino accepting GCash if you live in the Philippines. While this form of payment is widely used by gamblers in the Philippines, it is important to choose casino sites that have other deposit options supported. In some cases, you can’t use your GCash account. If the casino does not support this method, you must make use of an alternative means of payment. You can’t use this payment option if you are not a resident of the Philippines. Be sure to check out the other trusted methods of banking that can be used to engage in online gambling. https://gigsecret.com/a/community/profile/columbush28463/ Globe Telecom’s GCash is a virtual wallet that you may use to transfer and receive money, pay bills, buy goods, and more. When your friend completes registration and receives their reward on the app, you can earn GCash. You could earn Php50.00 to Php70.00 for each person you refer, totaling up to Php1,250.00 every month. Goama Games is part of GCash’s initiative to become a lifestyle super app through GLife, a new feature on the GCash app that allows users to access and to transact seamlessly with partners  cutting across different industries such as food delivery, retail and gaming—minus the hassle of downloading multiple apps for each. Anyway, let’s start. “Since the start of quarantine, mobile gaming has been the top pastime of Filipinos. At the same time, GCash has recorded its highest number of users to date. Thus, we decided to bring more fun to GCash. Now, it’s not simply a pastime, but GCash users can earn money from gaming as well,” said GCash President Martha Sazon in a press statement.

  4. Jeśli mówimy o grach hazardowych oraz o kasynach, to warto wspomnieć o bonusach dostępnych na stronach tego typu, a tego właśnie oczekuje większość graczy, dobrych bonusów. Warto wiedzieć, że kasyno gry hazardowe za darmo maszyny nie sprawią, że zostaniesz objęty bonusem, ale możesz na nich potrenować. Kiedy jednak już będziesz wiedział, jak grać w gry oraz wiesz, do jakiego kasyna chcesz się zarejestrować, wybierz to z ciekawymi bonusami. Poniżej przedstawimy Ci najbardziej popularne bonusy, jakie będziesz miał okazję spotkać w kasynach. Do bardziej Darmowy gry kasyno gier należą Barbary Coast i Enchanted. Ten drugi był zdecydowanie bardziej agresywny, to jaką markę ma twój ojciec na rynku sprzedaży aut. Nie ma nieomylnych inwestorów, zajmujemy się również serwisem produktów. https://travisztjy097542.ja-blog.com/14019047/panstwoe-kasyno-internetowe © 2022 YourPokerDream Zapraszam do kolejnego wywiadu z serii rozmowy z cyfrowymi nomadami. Karol Piekarz jest zawodowym pokerzystą. Gdy mieszkaliśmy w Tajlandii często słyszałem, że na Phuket mieszka dużo osób, które utrzymują się z gry on-line. Nie wiem, ile w tym prawdy, ale w końcu udało mi się dotrzeć do Polaka, który zawodowo zajmuje się właśnie profesjonalną grą w pokera. Jak widać, cyfrowi nomadzi to nie tylko osoby związane z branżą IT. Na szczęście ? Awansowałeś do dużego turnieju z satelity; grasz Sit & Go z Jackpotem i obawiasz się, czy dasz sobie radę w grze o dużą kasę? Te porady Dominika Pańki i psychologów mogą ci się przydać. Chętnie bym grał codziennie, ale ostatnio trochę stopuję. Można powiedzieć, że mam 4, 5 dni roboczych. Dużo czasu spędzam na odskoczniach od pokera. Pójdę na pół dnia do parku, do kina. Grywam w golfa. Jak gdzieś jadę na turniej, jak chociażby ostatnio do Barcelony, to przy okazji zwiedzam miasto. Nie jest więc tak, jak niektórzy myślą, że nie mam życia poza komputerem i pokerem.

Leave a Comment

Your email address will not be published.