Gurudongmar Lake Information in Hindi

Gurudongmar Lake Information in Hindi | सिक्किम की गुरुडोंगमार झील

नमस्कार दोस्तों Gurudongmar Lake Information in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम सिक्किम का ताज गुरुडोंगमार झील घूमने की पूरी जानकारी बताने वाले है। सिक्किम में स्थित Gurudongmar lake height समुद्र तल से 17,100 फीट और सिक्किम की दूसरी सबसे ऊंची झील है। सिक्किम में स्थित गुरुडोंगमार झील विस्व की सबसे ऊंची पंद्रह झीलों में से एक है। जगह की शानदार और प्राकृतिक सुंदरता यात्रिओ को लुभावनी लगती है। उसके कारन ही यह झील दुनिया भर के पर्यटकों को आकर्षित करती है। गुरुडोंगमार झील के साथ बहुत बड़ा धार्मिक महत्व जुड़ा हुआ है। 

झील से कंचनजंगा और माउंट सिनिओल्चु  का सुंदर दृश्य देखने को मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि गुरुडोंगमार झील के पानी में उपचार की शक्ति है। कई पर्यटक वापस जाते समय झील का पानी अपने साथ ले जाते हैं। बर्फ से ढके पहाड़ों और क्रिस्टल साफ बर्फीले पानी से घिरे गुरुडोंगमार को एक बहुत ही पवित्र झील माना जाता है। गुरुडोंगमार झील तीस्ता नदी में से एक है। वह सिक्किम, पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश से बहती है। बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। उसके पास सर्व धर्म स्थल है। जो सभी धर्मों के लिए बहुत लोकप्रिय पूजा स्थल है।

Inner Line Permit for Gurudongmar Lake

गुरुडोंगमार झील के लिए इनर लाइन परमिट – चीन और तिब्बत सीमा के नजदीक होने के कारण North sikkim के यह खेत्र में जाने के लिए इनर लाइन परमिट की जरुरत होती है। उसमे विदेशियों को सिर्फ युमथांग और चोपता घाटी तक जाने की परमिशन होती है। भारतीय भव्य गुरुडोंगमार झील की यात्रा कर सकते हैं। झील की यात्रा शुरू करने से एक दिन पहले गंगटोक में परमिट प्राप्त किया जा सकता है। दो फोटो के साथ फोटो आईडी की प्रतियां पर्यटन कार्यालय में जमा करनी होती है। आप अपने ट्रैवल एजेंट से आपके लिए परमिट प्राप्त करने के लिए भी कह सकते हैं।

Gurudongmar Lake Images
Gurudongmar Lake Images

इसके बारेमे भी जानिए – गुजरात के छोटा उदयपुर का कुसुम विलास पैलेस का इतिहास और जानकारी

गुरुडोंगमार झील घूमने का सबसे अच्छा समय

Best Time to Visit Gurudongmar Lake – गुरुडोंगमार झील की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मार्च से जून तक है। क्योंकि मौसम सुहावना होता है और कोई भी सुंदर और दिव्य गुरुडोंगमार झील के साथ-साथ आसपास के हरे-भरे हरियाली के साथ साफ क्रिस्टल नीला आसमान देख सकता है। उस महीनों के दौरान Sikkim Temperature 5 डिग्री के बीच उतार-चढ़ाव होता है। पीक टूरिस्ट सीजन मार्च से जून तक होता है। सर्दियों में नवंबर से जनवरी के बीच यहा अत्यधिक ठण्ड का सामना करना पड़ता है। उस समय में झील पूरी तरह बर्फ से जमी होती है जो एक बर्फ की चादर की तरह प्रतीत होती है।

गुरुडोंगमार झील की यात्रा के लिए टिप्स

  • Tips While Visiting Gurudongmar Lake यात्री आर्मी कैंटीन को पसंद कर सकते हैं।
  • सूरज किरणों और सफेद अंधेपन से बचाने के लिए पोलेरॉइड फिल्म कोटिंग, यूवी लेंस और धूप का चश्मा साथ में रखना चाहिए। 
  • नदी के पास एक छोटी सी झोंपड़ी में बिस्कुट, मैगी, चाय और स्नैक्स बिकते है।
  • ऊंचाई पर सांस लेने से तकलीफ रहती होतो दवाएं ले जाएं।
  • झील में आपको कम ऑक्सीजन के कारण सिर में हल्कापन महसूस होने लगता है।
  • भारतीय पर्यटकों को झील की यात्रा करने की अनुमति है। 
  • मगर विदेशियों को झील की यात्रा करने के लिए दिल्ली में गृह मंत्रालय से विशेष परमिट लेनी है।
  • पर्यटक गर्म कपड़े साथ रखें क्योंकि वहा मौसम काफी ठंडा होता है।

    Gurudongmar Lake Photos
    Gurudongmar Lake Photos

इसके बारेमे भी जानिए – भारत के गोवा राज्य के उत्तरी क्षेत्र में स्थित बागा बीच घूमने की जानकारी

Gurudongmar Lake Itinerary

  • गुरुडोंगमार झील का यात्रा कार्यक्रम
  • परिवहन के किसी भी साधन के माध्यम से लाचेन पहुंचना है।
  • रास्ते में रुचि के स्थान ताशी व्यू पॉइंट, ऐतिहासिक काबी लुंगसोक, फोडोंग मठ हैं।
  • लाचेन में एक होटल में चेक इन करें और जल्दी नाश्ता करे। 
  • यात्री थांगू में एक साधारण गेस्टहाउस में रुक सकते हैं।
  • थंगू की सैर करें और वहां की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद जरूर लें।
  • चोपता घाटी के रास्ते गुरुडोंगमार झील के पास ड्राइव करें।
  • लाचेन में एक त्वरित दोपहर का भोजन करना चाहिए।
  • लाचुंग के लिए ड्राइव करें और उस खूबसूरत शहर का आनंद लें। 
  • वहां से पर्यटक गंगटोक पहुंच सकते हैं।  

Legend of Gurudongmar Lake Gurudongmar

गुरुडोंगमार झील की पौराणिक कथा बताये तो गुरुडोंगमार झील का नाम प्रसिद्ध गुरु पद्मसंभव के नाम से रखा गया है। गुरु रिनपोछे के नाम से भी जानते है। गुरु रिनपोछे ने 8वीं शताब्दी में झील पर आए और तिब्बती बौद्ध धर्म के संस्थापक थे। झील की जमी हुई स्थिति संत से जुड़ी हुई है। उसमे ऐसा कहा जाता है कि तिब्बत से वापस लौटते वक्त संत ने महसूस किया कि स्थल सम्मान के योग्य था।

लोगों की पीने के पानी की जरूरतों को पूरा करने का कोई रास्ता नहीं था। स्थानीय लोगों ने गुरु से अपील की गुरु ने मदद की थी।  संत ने अपना हाथ झील के किनारे पर रखा और बर्फ पिघलने लगी। तब से उस हिस्से का पानी कभी नहीं जमता चाहे कितनी भी ठंड हो।गुरुडोंगमार झील को पवित्र माना जाता है। और गुरुडोंगमार झील का पवित्र पानी रोग व कष्टों को दूर करने के गुण भी देखने है।

गुरुडोंगमार झील का फोटो
गुरुडोंगमार झील का फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – दूधसागर जलप्रपात गोवा घूमने की सम्पूर्ण जानकारी 

Things to Do at Gurudongmar Lake

गुरुडोंगमार झील देखना पर्यटक के लिए आंखों का उपचार कहा जाता है। क्योकि यहाँ आने वाले सभी यहाँ से खुश होकर ही जाते है। ऐसा प्रबंधन देखने को मिलता है। यहाँ पर्यटक झील से ट्रेकिंग करना पसंद करते हैं, क्योंकि यहा कई ट्रेक के लिए बेस स्टेशन है। उसके अलावा सर्व धर्म स्थल जिन्हे शांति चाहिए वह उसका मजा ले सकते है। वह एक प्रसिद्ध आध्यात्मिक आकर्षण है। और लोकप्रिय रूप से सभी धर्मों का मंदिर के रूप में प्रसिद्ध है। वह झील के बहुत नजदीक ही स्थित है।

पर्यटक गुरुडोंगमार झील की यात्रा में क्या क्या कर सकते है – तो यहाँ यात्री ट्रेकिंग, शांत वातावरण, लाचेन और थंगु गांव देखना, त्सो ल्हामू झील और गर्मियों में याक रेस में शामिल होने ले सकते है। यहाँ से त्सो ल्हामू झील 9 किलोमीटर दूर स्थित है। वह यहाँ का मुख्य आकर्षण है। गुरुडोंगमार झील की यात्रा में आप लाचेन गाँव और थंगू गाँव दोनों को देख सकते है। लाचेन और थंगु गांव की प्राकृतिक सुन्दरता पर्यटकों को मंत्र मुग्ध कर सकते है।

गुरुडोंगमार झील के आसपास के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल

  • Gurudongmar Lake
  • Lachung
  • Yumthang Valley
  • Lachen gurudongmar lake
  • Cholamu Lake
  • Thangu Valley
  • Crow’s Lake
  • Chopta Valley
  • Mt Katao
  • Chungthang

    सिक्किम की गुरुडोंगमार झील
    सिक्किम की गुरुडोंगमार झील

इसके बारेमे भी जानिए – आंध्र प्रदेश के अनंतपुर में स्थित लेपाक्षी मंदिर का रहस्य और जानकारी

How to Reach Gurudongmar Lake

ट्रेन से गुरुडोंगमार झील कैसे पहुंचे

How to Reach Gurudongmar Lake By Train – गुरुडोंगमार झील का निकटतम रेलवे स्टेशन दार्जिलिंग रेलवे स्टेशन है। जो सिक्किम के मुख्य सभी शहरों से जुड़ा है। और लाचेन से 171 किलोमीटर की दूरी पर है। सिलीगुड़ी, सुकना, तिंधरिया, महानदी, दिलाराम, सोनाडा, जोरेबंगलो और घूम ऐसे शहर हैं। जिससे बहुत अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। दार्जिलिंग रेलवे स्टेशन से यात्री टेक्सी से अपने पसंदीदा गंतव्य स्थल पहुच सकते है ।

सड़क मार्ग से गुरुडोंगमार झील कैसे पहुंचे

How to Reach Gurudongmar Lake By Road – लाचेन सिक्किम राज्य सड़क परिवहन निगम (SSRTC) और कुछ निजी यात्रा सेवाओं के माध्यम से सिक्किम के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। लाचेन से सभी राज्यों के लिए नियमित बसें चलाई जाती हैं। लाचेन से पर्यटक गुरुडोंगमार झील तक पहुँचने के लिए जीप और टैक्सी की सहायता ले सकते हैं।

फ्लाइट से गुरुडोंगमार झील कैसे पहुंचे

How to Reach Gurudongmar Lake By Flight –  गुरुडोंगमार झील का निकटतम घरेलू हवाई अड्डा बागडोगरा हवाई अड्डा है। जो लाचेन से तक़रीबन साढ़े चार घंटे की ड्राइव पर है। लाचेन पहुंचने के लिए आपको हवाई अड्डे से टैक्सी या कैब को पसंद कर सकते है। क्योकि वह से झील तक जाने के लिए पर्यटक को किसी साधन की सहायता जरुरी हैं।

Gurudongmar Lake Map गुरुडोंगमार झील का लोकेशन

Gurudongmar Lake Information in Hindi Video

Interesting Facts About Gurudongmar Lake

  • झीलों के पानी की जादुई शक्ति के बारे में स्थानीय लोगों का विश्वास है। 
  • झील की अत्यधिक ऊंचाई से सांस लेने और अन्य समस्याएं होती हैं। 
  • अप्रैल-मई के मौसम के समय यह स्थानों को एक वास्तविक दृश्य मिलता है। 
  • सर्दियों में अधिकांश समय झील तक नहीं पहुंचा जा सकता है। 
  • अक्टूबर, नवंबर और अप्रैल, मई में गुरुडोंगमार झील की यात्रा अच्छी रहती है। 
  • सिक्किम की खूबसूरतियों के बीच यहां का सबसे प्रमुख पर्यटक स्थल है। 
  • गुरुडोंगमार झील एक स्वर्ग कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी।
  • दुनिया की पंद्रह सबसे ऊँची झीलों में से एक है।
  • गुरुडोंगमार झील भारत की सबसे ऊंची झील में शामिल है। 
  • सिक्किम की ताज गुरुडोंगमार झील बहुत ही खूबसूरत पर्यटक स्थल है। 

FAQ

Q .गुरुडोंगमार झील कहा है?

सिक्किम की खूबसूरती वादियों लाचेन के नजदीक हिमालय पर्वत पर ओर कंचनजंगा पर्वतमला के उत्तर पूर्व में स्थित है।

Q .गुरुडोंगमार झील घूमने का सबसे अच्छा समय क्या है?

अक्टूबर, नवंबर और अप्रैल, मई

Q .क्या गुरुडोंगमार झील यात्रा करने के लिए सुरक्षित है?

हा 

Q .क्या गुरुडोंगमार झील पर्यटकों के लिए खुली है?

हा गुरुडोंगमार झील पर्यटकों के लिए खुली है। 

Q .सिक्किम का कौन सा हिस्सा सबसे खूबसूरत है?

युमथांग में फूलों की घाटी जहां कोई पेड़ नहीं उगते है।

Q .क्या मैं दिसम्बर में गुरुडोंगमार झील जा सकता हूँ?

हा मगर आपको गर्म कपडे साथ में रखने चाहिए। 

Q .क्या गुरुडोंगमार में बर्फबारी हो रही है?

हा गुरुडोंगमार में कई समय बर्फबारी होती रहती है। 

Q .अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव सिक्किम में कब मनाया जाता है?

अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल का आगाज 20 नवंबर से 28 नवंबर के बीच किया जाएगा।

Q .गुरु रिम्पोछे कौन थे?

गुरु रिम्पोछे भारत के एक साधुपुरुष जिन्होंने बौद्ध धर्म का प्रसार किया था। 

Conclusion

आपको मेरा Gurudongmar Lake Information बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Gurudongmar Lake Temperature, Gurudongmar lake altitude 

Gurudongmar lake from gangtok से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Gurudongmar Lake in Hindi, Gurudongmar lake weather, Sikkim Tourism या 

Highest lake in the world की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

gurudongmar lake in sikkim, gurudongmar lake sikkim, lachen to gurudongmar lake, sikkim gurudongmar lake, gurudongmar lake gangtok, gurudongmar lake in october, gurudongmar lake temperature in october, gurudongmar lake in november, gurudongmar lake to lachung, gurudongmar lake in december, journey to gurudongmar lake, gurudongmar lake opening time, gurudongmar lake oxygen level

भारत की सबसे ऊंची झील, अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव सिक्किम में कब मनाया जाता है ?, चोलामू झील सिक्किम, रिनपोचे, रूमटेक .. …….. हैं ।, गुरु रिम्पोछे कौन थे, सिक्किम राज्य के राज्यपाल का नाम लिखो, पद्मसंभव

इसके बारेमे भी जानिए – आंध्र प्रदेश में स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर की यात्रा और इतिहास

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *