Gomateshwar Temple History In Hindi Karnatak - historyofindia1

Gomateshwar Temple History In Hindi Karnatak – historyofindia1

Gomateshwar Temple History भारत के कर्णाटक राज्य के श्रवणबेलगोला नाम के तीर्थ स्थलों में से स्थित है जिस में बाहुबली मंदिर के नाम से पहचाना जाता है। यह मंदिर में श्रवणबेलगोला में 3347 फीट की ऊंचाई पर विंध्यगिरि पहाड़ पर निर्माणित किया गया है। इस मंदिर की भगवान बाहुबली की प्रतिमा के लिए प्रसिद्ध माना जाता है और इस मंदिर की प्रतिमा को गोमतेश्वर के नाम से भी जाना है। मंदिर के इस पहाड़ के शिखर पर श्रवणबेलगोला गांव, मंदिर तालाब और चंद्रगिरी हिल का सुंदर और आकर्षक का नजारा दिखाई देता है।

इस स्थान पर हर 12 साल में एक बार महामस्तकाभिषेक नाम का एक बड़े मेले का आयोजन किया जाता है। इस मंदिर के मेले में भगवान बाहुबली की प्रतिमा को दूध , केसर , घी और दही से स्थान कराया जाता है। आप अगर इस मंदिर के बारे में और गोमतेश्वर मंदिर के बारे में जानना चाहते है तो हमारा यह आर्टिकल पूरा पढ़िए ताकि आपको इस स्थल के बारे में पूरी gomateshwara information पा सके। 

Table of Contents

Gomateshwar Temple History In Hindi karnatak –

मंदिर का नाम गोमतेश्वर मंदिर 
मंदिर का अन्य नाम बाहुबली मंदिर
राज्य कर्णाटक
शहर श्रवणबेलगोला
निर्माणकाल ई.स 982 और 983 के बिच
मंदिर का मुख्य उत्सव महामस्तकाभिषेक
बाहुबली की प्रतिमा की ऊंचाई  17 मीटर 
मंदिर की कुल प्रतिमाये 43 प्रतिमाये

Gomateshwara Temple History In Hindi –

गोमतेश्वर मंदिर के इतिहास की बात करें तो मंदिर में मिले हुवे प्राचीन शिलालेख और पुरातत्वविदों के मतानुसार माना जाता है की गोमतेश्वर मंदिर का निर्माण ई.स 982 और 983 ईस्वी के बीच किया गया था। गोमतेश्वर मंदिर का इतहास और उनकी जानकरी देंगे इसके अलावा मंदिर की प्रतिमा और इसकी वास्तुकला और मंदिर की वास्तुकला और मंदिर के अन्य मंदिर के आकर्षक संरचना के बारे में जानेंगे। 

गोमतेश्वर मंदिर के कई प्रसिद्ध महोत्सव किस तरह से मनाये जाते है और इस मंदिर के दर्शन के लिए कितनी भरी संख्या में श्रद्धालु और देश – विदेश के पर्यटक इस प्राचीन मंदिर को देखने का  मानते है। गोमतेश्वर मंदिर की जानकरी और इतिहास हम क्रम के अनुसार देखेंगे ताकि आपको समझने में कोई दिक्कत न हो।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Hidimba Devi Temple Histori In Hindi

गोमतेश्वर प्रतिमा – Gomateshwar Temple History

Gomateshwar Temple History In Hindi
Gomateshwar Temple History In Hindi

गोमतेश्वर प्रतिमा श्रवणबेलगोला का प्रमुख आकर्षण का केंद्र बना हुवा है जिस प्रतिमा को देखने के लिए बड़ी भारी संख्या में पर्यटक आते रहते है। bahubali gomateshwara की प्रतिमा दुनिया की बड़ी प्रतिमाओ में इसका स्थान मिला है। इस मंदिर की प्रतिमा की ऊंचाई 17 मीटर है। 

और इस गोमतेश्वर मंदिर की प्रतिमा को 30 कि.मी की दुरी से देखा जा सकता है। गोमतेश्वर मंदिर की यह भगवान बाहुबली की प्रतिमा का निर्माण ई.स 982 और 983 के बिच में गंगा राजा राजमल्ला के एक मंत्री चामुण्डराय की अवधि के समय में इसका निर्माण करवाया गया है। इसका सबूत और प्रतिमा के निचे के शिलालेख के अनुसार इसका इतिहास का ठोस सबूत पा सकते है। 

गोमतेश्वर प्रतिमा की सरंचना – Gomateshwar Temple History

gomateshwara height की बात करे तो भगवान बाहुबली की प्रतिमा करीबन करीबन 17 मीटर है। आपको बता दे की इस मंदिर की आंखे खुली हुई है जैसे की यह भगवान बाहुबली की प्रतिमा को जैसे की दुनिया को देख रहा हो।  यह मंदिर की आकृति इस तरह से निर्माणित किया गया है की यह प्रतिमा खुले कमल पर खड़ी है इस प्रतिमा को स्थापित करने में हांसिल की गई समग्रता को दिखाई देता है।

इस गोमतेश्वर मंदिर में स्थित भगवान बाहुबली की प्रतिमा के दोनों और राजसी भालू खड़े है इस सेवको में एक तरफ यक्ष और दूसरी और यक्षिणी की प्रतिमा स्थापित है। यह gomateshwara temple की प्रतिमा को सुन्दर और आकर्षित रूप से नक्काशी की गये आंकड़े प्रमुख आकृति से पूरक रूप से बनाया गया है।

एंथिल के पीछे की तरफ खुदी हुई प्रतिमा को पवित्र स्थान के लिए इस्तेमाल किये जाने वाला जल और अन्य दूसरे अनुस्थानो को एकठ्ठा करने के लिए एक कुंड भी शामिल है। इस मंदिर के चारो तरफ एक बड़ा सा स्तंभित मंडप है जिस मंडप में जैन तीर्थकरो की 43 नक्काशीदार प्रतिमाये स्थित है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Badoli Temple History In Hindi 

बाहुबली का जीवन परिचय और कहानी –

gomateshwara story की बात की जाये तो प्राचीन ग्रंथो केअनुसार बाहुबली यानि की गोमतेश्वर जैन प्रथम तीर्थकर ऋषभदेव यानि की आदिनाथ के दूसरे पुत्र थे। भगवान बाहुबली का जन्म इक्षवाकू साम्राज्य के समय में अयोध्या में हुआ था। प्राचीन कथा ओके अनुसार माना जाता है। 

की आदिनाथ के करीबन 100 पुत्र थे। जिस समय ऋषभदेव ने अपना साम्राज्य छोड़ दिया तब उनके दो पुत्रो भरत और बाहुबली के बिच में युद्ध हुवा और इस युद्ध में बाहुबली की जित हुई थी। इस युद्ध जितने के बाद उनकी और खटाश देखते हुवे बाहुबली ने उनका राज्य उनके भाई भरत को दे दिया। इस तरह बाहुबली ने राज्य भरत देने के बाद केवला ज्ञान यानि की पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने के लिए चले गए। 

महामस्तकाभिषेक उत्सव गोमतेश्वर मंदिर –

Gomateshwar Temple History Hindi karnatak
Gomateshwar Temple History Hindi karnatak

gomateshwara jain temple का मुख्य महोत्सव महामस्तकाभिषेक है। इस महोत्सव को प्रत्येक 12 सालो में एक बार मनाया जाता है। इस महोत्सव को गोमतेश्वर मंदिर में बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है। जिस उत्सव को देखने के लिए देश और विदेश के पर्यटक इस उत्सव में बड़ी भारी संख्या में आते है। इस मेले में ज्यादातर जैन श्रदालु आते है। इस महोत्सव में गोमतेश्वर यानि की भगवान बाहुबली की प्रतिमा को दूध , केसर , घी , और दही से स्नान करवाया गया है। इसके बाद 12 साल के बाद होने वाला महामस्तकाभिषेक उत्सव साल 2030 में आयोजित किया जा सकता है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Brahma Temple Pushkar History In Hindi 

गोमतेश्वर मंदिर खुलने का समय –

भगवान गोमतेश्वर मंदिर के दर्शन और मंदिर में प्रवेश gomateshwara timings करे तो सुबह 6.30 बजे से 11.30 बजे तक खुला रहता है और दोपहर के 3.30 बजे से 6.30 बजे तक श्रदालु ओ के लिए खुला रहता है। 

गोमतेश्वर मंदिर का प्रवेश शुल्क –

भगवान गोमतेश्वर मंदिर के प्रवेश शुल्क की बात की जाये तो गोमतेश्वर मंदिर में

देश और विदेश के पर्यटकों के लिए बिलकुल प्रवेश फ्री है। 

गोमतेश्वर मंदिर के नजदीकी पर्यटन स्थल –

shravanabelagola gomateshwara भारत के कर्नाटक राज्य में स्थित एक मुख्य जैन तीर्थस्थल है यह स्थान गोमतेश्वर मंदिर के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। इस गोमतेश्वर मंदिर के यात्रा के समय में आप इन तीर्थ स्थलों की यात्रा कर सकते है। 

  • भंडारीबसादि
  • जैन मठ
  • अक्कानबासदी मंदिर
  • चंद्रगिरी मंदिर
  • कलाम्मा मंदिर
Gomateshwar Temple History In Hindi karnatak – historyofindia1
Gomateshwar Temple History In Hindi karnatak – historyofindia1

गोमतेश्वर मंदिर गुमने जाने का सबसे अच्छा समय –

आप Gomateshwara temple की यात्रा करना चाहते है तो आपको बता दे की इस स्थान पर यात्रा करने का सबसे अच्छा समय कोनसा है। आप गोमतेश्वर मंदिर यानि की श्रवणबेलगोला शहर की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय सर्दियों के समय के अक्टूबर से अप्रैल में अच्छा मौसम रहता है और गर्मियों के समय में इस स्थान पर बहोत गर्म पड़ती है और बारिशो के समय में इस स्थान पर काफी सारि वनस्पतिया और कई सारे पौधे उगने पर यह स्थान बहोत सुंदर और रमणीय दिखता है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Karni Mata Temple History In Hindi Rajasthan 

गोमतेश्वर मंदिर यानि श्रवणबेलगोला शहर का प्रसिद्ध भोजन –

अगर आप गोमतेश्वर मंदिर की यात्रा करने के लिए जा रहे है तो इस स्थान पर दक्षिण कर्नाटक समृद्ध और पारंपरिक भोजन का आनंद भी ले सकते है। श्रवणबेलगोला शहर के स्थानीय भोजन में डोसा, जोलदा रोटी, इडली, वड़ा, सांभर, अक्की रोटी, शीरा, सरू, केसरी बाथ, रागी मड्डे, उप्पितु, वंगी बाथ इन भोजन में शामिल है। अगर आपको कुछ मीठा खाने की इच्छा है तो मैसूर पाक, ओबबट्टू, पेयासा के भोजन का स्वाद भी ले सकते है। 

गोमतेश्वर मंदिर कैसे पहुचें – Gomateshwar Temple History

अगर आप गोमतेश्वर मंदिर की यात्रा करना चाहते है तो आपके सामने तीन विकल्प सामने है इसमें से किसी भी विकल्प को चुन सकते है। गोमटेश्वर मंदिर की यात्रा आप हवाई मार्ग , ट्रेन मार्ग , और सड़क मार्ग के माध्यम से आप सफर कर सकते है। 

गोमतेश्वर मंदिर हवाई मार्ग से कैसे पहुचें :

  • अगर आपने Gomateshwara temple की यात्रा करने के लिए अपने हवाई मार्ग का चुनाव किया है।
  • तो आपको बता दे की श्रवणबेलगोला का सबसे नजदीकी हवाई मथक मैसूर में स्थित है।
  • और यह हवाई मथक गोमतेश्वर मंदिर से करीबन 97 कि.मी की दूरी पर स्थित है।
  • यह हवाई अड्डा देश के कई अन्य और बड़े शहरो से जुड़ा हुवा है।
  • आप किसी भी देश के हवाई अड्डे से जा सकते है।
  • मैसूर हवाई अड्डे से आप स्थानीय वाहन और टैक्सी की मदद से गोमतेश्वर मंदिर तक पहुँच सकते है। 

गोमतेश्वर मंदिर ट्रेन मार्ग से कैसे पहुंचे :

  • अगर आपने गोमतेश्वर मंदिर की यात्रा करने के लिए ट्रेन मार्ग का चुनाव किया है।
  • तो आपको बता दे की गोमतेश्वर मंदिर का सबसे नजदीकी रेल्वे जंक्शन हासन में स्थित है।
  • हासन का यह रेल्वे जंक्शन गोमतेश्वर मंदिर से करीबन 45 कि.मीटकी दूरी पर मौजूद है।

गोमतेश्वर मंदिर सड़क मार्ग से कैसे पहुंचे :

  • अगर अपने गोमतेश्वर मंदिर की यात्रा के लिए सड़क मार्ग का चुनाव किया है।
  • तो आप श्रवणबेलगोला शहर में कर्नाटक राज्य के सभी प्रमुख शहरो से यह स्थान अच्छी तरह से जुड़ा हुवा है।
  • आप आने प्राइवेट वाहन के इस्तेमाल से यातो श्रवणबेलगोला शहर में नियमित चलने वाली
  • स्थानीय बसों के इस्तेमाल से आप गोमतेश्वर मंदिर तक पहुँच सकते है। 

Gomateshwar Temple History Video –

गोमतेश्वर मंदिर के अन्य प्रश्न –

1 . गोमतेश्वर मंदिर कहा स्थित है ?

गोमतेश्वर मंदिर भारत के कर्णाटक राज्य के श्रवणबेलगोला नाम के तीर्थ स्थलों में से स्थित है।

जिस में बाहुबली मंदिर के नाम से पहचाना जाता है।

यह मंदिर में श्रवणबेलगोला में 3347 फीट की ऊंचाई पर विंध्यगिरि पहाड़ पर स्थित है। 

2 . गोमतेश्वर मंदिर की ऊंचाई कितनी है ?

इस मंदिर की प्रतिमा की ऊंचाई 17 मीटर है।

गोमतेश्वर मंदिर की प्रतिमा को 30 कि.मी की दुरी से देखा जा सकता है।

3 . गोमतेश्वर मंदिर का निर्माण कब करवाया गया था ?

गोमतेश्वर मंदिर की यह भगवान बाहुबली की प्रतिमा का निर्माण

ई.स 982 और 983 के बिच में गंगा राजा राजमल्ला के एक मंत्री

चामुण्डराय की अवधि के समय में इसका निर्माण करवाया गया है।

4 . भगवान भगवान बाहुबली का जन्म कहा हुवा था ?

भगवान बाहुबली का जन्म इक्षवाकू साम्राज्य के समय में अयोध्या में हुआ था।

5 . जैन तीर्थकर आदिनाथ के कितने पुत्र थे ?

भगवन आदिनाथ के करीबन 100 पुत्र थे इनमेसे भगवन बाहुबली उनके दूसरे पुत्र थे। 

6 . गोमतेश्वर मंदिर में कितने जैन तीर्थकरो की प्रतिमाये स्थित है ?

इस मंदिर के चारो तरफ एक बड़ा सा स्तंभित मंडप है।

जिस मंडप में जैन तीर्थकरो की 43 नक्काशीदार प्रतिमाये स्थित है। 

7 . गोमतेश्वर मंदिर का महामस्तकाभिषेक महोत्सव कितने साल में होता है ?

गोमतेश्वर मंदिर का महामस्तकाभिषेक महोत्सव करीबन 12 सालो में एक बार इस उत्सव का आयोजन किया जाता है। 

इसके बारेमे भी पढ़िए – champaner History In Hindi pavagadh

Conclusion –

दोस्तों उम्मीद करता हु आपको मेरा ये लेख Gomateshwar Temple History के बारे में पूरी तरह से समज आ गया होगा। इस लेख के द्वारा हमने bahubali gomateshwara और गोमतेश्वर मंदिर के बारे में जानकारी दी अगर आपको इस तरह के अन्य ऐतिहासिक स्थल और प्राचीन स्मारकों की जानकरी पाना चाहते है तो आप हमें कमेंट करे। आपको हमारा यह आर्टिकल केसा लगा बताइयेगा और अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे। धन्यवाद।

13 thoughts on “Gomateshwar Temple History In Hindi Karnatak – historyofindia1”

  1. a chronic disease in which bile Bile An emulsifying agent produced in the liver and secreted into the duodenum buy stromectol ireland FACS Associate Professor, Vice Chair, Education and Patient Safety Clinical Director, UW Health Clinical Simulation Program Section of Trauma, Acute Care Surgery, Burn and Surgical Critical Care Division of General Surgery University of Wisconsin, School of Medicine and Public Health, Madison, WI Medical Research What is the background for this study

  2. Money will come through investing when you purchase asset units and sell them for an expensive price using the Gcash app. However, the benefits are in exchange for the fact that you can lose money while investing when you sell assets at low prices. Once active, Honeygain securely shares your Internet connection, never gaining access to your personal data Time is running out… to get access to our #1 rated options trading alerts for only $1. Think of all the things you buy that are more than $1, perhaps an extra cup of coffee, or a subscription to a streaming service. But ask yourself, are those purchases really driving you to build wealth or distract you from your goals? If you are reading this then you are most likely interested in earning more to secure your financial future for your family. Click Here to Start getting Real-time Options Trade Alerts from Full-time Trader Chris Capre for Only $1! https://letibri.com/index.php/community/profile/lincolnpolson24/ Contact us in any of these ways: 13.2 Your Inactive Account will be terminated with written notice (or attempted notice) using your contact details. In the event of any such termination by us, other than where such closure and termination is made pursuant to paragraph 11 (Collusion, Cheating, Fraud and Criminal Activity) or paragraph 18 (Breach of the Terms of Use) of these Terms, we will refund the balance of your Account to you. If you cannot be located, the funds shall be remitted to the relevant gambling authority. This is something you should pay special attention to when claiming match deposit bonuses. Obviously, it is not the same if you redeem a 20% match bonus or a 200% match bonus. The bigger the percentage, the better the bonus. However, you should observe this characteristic of your bonus in combination with its maximum value.

  3. 孕妇还是应该少打麻将,因为打麻将的话会长时间的坐着对宝宝不好的。而且可能还会造成胎教而影响到宝宝 3、福利、棋牌全天奖励金币,你只需要一个机会就能在网络游戏中被大量金币击中; 4、关于棋牌游戏,打轻松胜仗,品种多样,让玩家随意选择; 八字测桃花 抢先跨入EHR时代 大家好,我是游戏日报爱打麻将的宋坨坨。在欢乐麻将中我们可以体验到各个地域的麻将模式,广东麻将中的规则是只许自摸不能吃牌,在这样的规则下我们要如何打好麻将。简而言之说最基础的策略就是让自己尽快听牌的同时让别人比自己更慢听牌。 财运:今日的财运整体表现一般,要记得借钱是借急不借穷,不要随便把钱借给别人,不然都是有去无回的。 https://noon-wiki.win/index.php?title=大_老_二_pass EA是全球知名的真人荷官视频游戏供应商,遍布全球百多个许可证持有者客户。 在 荷兰赌场 百家乐总是被称为Punto Banco。 不!这个保险百家乐,重点在于「保险」 EA是全球知名的真人荷官视频游戏供应商,遍布全球百多个许可证持有者客户。 散热问题是困扰大功率高压变频器安全运行的重要部分。本文主要介绍了百家樂网站HIVERT系列水冷型高压变频器散热的优越性,及其在河北迁安鑫达钢厂3#烧结风机的实际应用。 请不要忘记百家乐仅是您的一个娱乐活动,所以在开始游戏前您应制订好您的开销计划,并且严格执行该计划,不要超出开支计划。 这是无佣金的百家乐玩法,但仍用了其他方式来平衡「庄闲赔率」。像是游戏时如果庄家获得6点,就会向玩家收取初始赌注的一半,即0.5:1。另外还设置「超级6」来保险边注,该设计提高免水百家乐的刺激感,如果玩家投注且庄家为6,赔率则为15:1。

Leave a Comment

Your email address will not be published.