Darjeeling Tourism Information In Hindi

Darjeeling Tourism Information In Hindi | दार्जिलिंग टूरिज्म की संपूर्ण जानकारी

नमस्कार दोस्तों Darjeeling Ki Yatra In Hindi में आपका स्वागत है ,आज हम दार्जिलिंग टूरिज्म की संपूर्ण जानकारी और darjeeling to gangtok दुरी भी बताने वाले है। पश्चिम बंगाल राज्य के उत्तर और पूर्वी हिमालय की तलहटी में दार्जिलिंग स्थित है। दार्जिलिंग हिमालय का एक रिसॉर्ट शहर है। जो वर्ष में 4.5 लाख से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करता है। पहाड़ियों और अद्भुत जलवायु में अपनी सुरम्य खूबसूरती के अलावा, दार्जिलिंग अपनी शीर्ष श्रेणी की सुगंधित चाय के लिए जाना जाता है। और जिसके लिए इसे दुनिया भर में पसंद किया जाता है। यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल दार्जिलिंग टॉय ट्रेन के लिए भी प्रसिद्ध है।

दार्जिलिंग समुद्र तल से 2134 मीटर की ऊँचाई पर एव उसकी सीमाएं भूटान, नेपाल और बांग्लादेश देश से मिलती है। विभिन्न बौद्ध मठों और हिमालय की शक्तिशाली चोटियों से घिरा दार्जिलिंग की वादियां बेहद मनमोहक और एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है। अपनी खूबसूरती के लिए यह स्थल दुनियाभर के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। यहाँ पर बौद्ध धर्म के लोग रहते है। और वहा नेपाली और बंगाली भाषा ज्यादा बोली जाती है। उसकी बाजारों से आप शॉपिंग भी कर सकते है।

Darjeeling Tourist Places

Darjeeling photo
Darjeeling photo
  • Himalayan Railway Museum
  • Padmaja Naidu  Temple
  • Himalayan Zoo
  • Mirik
  • Peace Pagoda
  • Tiger Hill
  • Samsing
  • Bhutia Tibet Museum
  • Army Statue
  • Ghoom Railway Museum
  • Batasia Loop
  • Ghum Monastery
  • Rock Garden
  • Tensing Rock HMI
  • Japanese Buddhist
  • Bengal Natural History Museum
  • Lloyd Botanical Garden
  • Ava Art Gallery
  • Dali Monastery
  • Rangeet Valley Passenger Ropeway
  • Buddhist Monastery
  • Mahakal Mandir
  • Tiger Hill Sunrise Observatory
  • Shrubbery Nightingale Park
  • Clock Tower
  • Mal Tourists’ Show Piece
  • Model Tea Factory
  • Kitam Bird Sanctuary
  • St Andrews Church
  • Ghum Museum
  • Modern Art Museum
  • Green Park and Green Lung Park

दार्जिलिंग आने का सबसे अच्छा समय

पर्यटकों को दार्जिलिंग घूमने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून के बीच का है। उस समय मौसम बहुत सुहावना होता है। मगर ज्यादातर लोग अक्टूबर से दिसंबर में सर्दियों के मौसम में यह स्थल का दौरा करते हैं। जुलाई से अगस्त के महीने में बारिश का होती हैं। यहाँ भारी वर्षा से हिल स्टेशन में कई बाधाएं होती हैं, इसलिए उस समय दार्जिलिंग नहीं जाना चाहिए है। अक्टूबर माह में हल्की ठंड पड़ती है। नवंबर से जनवरी तक सर्दीयो में (darjeeling temperature) तापमान 7 से 5 डिग्री के बीच रहता है। अप्रैल से जून में शहर का मौसम (darjeeling weather) और यात्रा सुखद होता है। वर्ष के इस समय में हरियाली सबसे अच्छी होती है।

darjeeling photo gallery
darjeeling photo gallery

Kitne Dino Ke Liye Darjeeling Aayen

दार्जिलिंग शहर में घूमने लायक अनेक पर्यटन स्थल स्थित हैं। इसलिए पर्यटकों को कम से कम चार दिन के टूर की योजना बनानी चाहिए। क्योकि आप बहुत अच्छे से देखना चाहते है। तो आपको यहां चार दिन जरूर जरूर गुजारने चाहिए। चार दिनों के समय में आप दार्जिलिंग के सभी अच्छे और देखने योग्य स्थलों को देख सकते हैं। आप अगर बहुत अच्छे से दार्जिलिंग की हिल्स  घूमना और देखना चाहते हैं। तो पांच दिनों की जरुरत रहती है। क्योकि आपको एक दिन यात्रा करके शाम को आराम भी चाहिए। जिससे दूसरे दिन फ्रेश हो करके आप घूमने की यात्रा शुरू कर सकते है।

darjeeling photo download
darjeeling photo download

दार्जिलिंग टूर का पहला दिन 

पर्यटकों को पहले दिन के टूर में गाइड नेपाल की सीमा यानि मिरिक, पशुपति नगर दिखाते हैं। उस स्थलों को देखने में आपके चार से छह घंटे लगते हैं। और उतना घूमने के बाद आपको आराम भी करना पड़ता है।

दार्जिलिंग टूर का दूसरा दिन 

यात्रिओ की दार्जिलिंग टूर दूसरे दिन सुबह चार बजे से साढ़े सात बजे के बीच शुरू होता है। जिसमे पर्यटकों को जीप में यिगा चोलंग बौद्ध मठ, टाइगर हिल और बतासिया लूप दिखाया जाता है। आप वह स्थलों को देख कर के बहुत ही आनंददित हो जाते है।

दार्जिलिंग टूर का तीसरा दिन 

पर्यटकों को तीसरे दिन स्थानीय पर्यटन यात्रा होती है। जिसमे दोपहर होजाता है। उसमे यात्रिओ को सात स्थल दिखाये जाते हैं। जिसे देखने का समय सुबह 9:30 बजे से 12 बजे और दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे के बीच का समय लगता हैं। उस समय के दौरान प्राणी उद्यान, हिमालयन पर्वतारोहण संस्थान, तेनजिंग रॉक, रोपवे, रॉय विला, तिब्बती शरणार्थी स्वयं सहायता केंद्र, लेबोंग स्टेडियम और छोटा रंग से छोटा रंगनीत टी एस्टेट दिखाया जाता है।

दार्जिलिंग टूर का चौथा दिन

पर्यटकों को चौथे दिन की दार्जिलिंग यात्रा में पांच प्वाइंट दिखाये जाते हैं। जिसको देखने में सुबह 9:30 बजे से 12 बजे और दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे के बीच का समय लगता हैं। उस समय के दौरान पर्यटकों को लाल कोठी, जापानी मंदिर, धीरधाम मंदिर, प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय और अवा आर्ट गैलरी दिखाते है।

दार्जिलिंग टूर का पांचवा दिन

पर्यटकों को पांचवें और अंतिम दिन की दार्जिलिंग यात्रा में 9 बजे से 12 बजे और शाम को 2 बजे से 5 बजे के समय में गंगामाया पार्क और रॉक गार्डेन दिखाया जाता है। दार्जिलिंग में यह पर्यटक स्थलों के साथ साथ बहुत कुछ देखने और घूमने के लायक है। जिसको पर्यटक अपने और सुविधा के अनुसार देख कर मजा ले सकते है।

दार्जिलिंग फोटो
दार्जिलिंग फोटो

Darjeeling में खरीदने के लिए प्रसिद्ध है

कई प्रकार की चाय, ऊनी वस्त्र, तिब्बती कालीन, तिब्बती कलाकृतियाँ, बैग, पर्वत से संबंधित तस्वीरें, चमड़े का सामान, किताबें और बौद्ध कलाकृतियाँ खरीदने के लिए हैं। तिब्बती शरणार्थी स्वयं सहायता केंद्र, तीस्ता बाजार, नेहरू रोड, घूम मठ बाजार, पशुपति नगर बाजार, ऑक्सफोर्ड बुक स्टोर, बतासिया लूप मार्केट, रिंक मॉल, चौक बाजार और अवा आर्ट गैलरी से खरीदारी करने की अच्छी जगहें हैं। दार्जिलिंग के कुछ प्रसिद्ध व्यंजन भी हैं। जिसमे मोमोज, आलू दम, थुकपा सूप नूडल, निगुरु वेजिटेबल फूड, सेल रोटी, चुरपी मिल्क स्नैक, टोंगबा लोकल बीयर, ग्रीन लीव्स गुंड्रुक, नेपाली थाली, काकरा अचार, दाल अचार, नागा व्यंजन, सिंकी वेज डिश, फगशापा, फिश करी और दूध आधारित शाफले स्नैक खा सकते है।

Darjeeling Images
Darjeeling Images

How To Reach Darjeeling

यह स्थल का निकटतम रेल न्यू जलपाईगुड़ी है। वह भारत के अधिकांश प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे, जिसे टॉय ट्रेन के नाम से भी जाना जाता है। वहा से 80 किमी दूर सिलीगुड़ी से दार्जिलिंग शहर पहुँचा जा सकता है। निकटतम हवाई अड्डा सिलीगुड़ी के पास बागडोदरा है। बगोदरा से दार्जिलिंग के लिए कैब आसानी से उपलब्ध हैं।

ट्रेन से दार्जिलिंग कैसे पहुंचे

दार्जिलिंग का निकटतम रेलवे स्टेशन न्यू जलपाईगुड़ी है। जो दार्जिलिंग शहर से 62 किमी दूर स्थित है। यहा स्टेशन से दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बैंगलोर, कोचीन और चेन्नई जैसे प्रमुख शहर जुड़े हुए है। दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे की प्रसिद्ध टॉय ट्रेन सेवा न्यू जलपाईगुड़ी से शुरू होती है और आपको लगभग 7 घंटे में दार्जिलिंग पहुंचा देगी। वहा से पर्टयक कैब या टेक्सी की सहायता से बहुत आसानी से दार्जिलिंग पहुंच सकता है।

दार्जिलिंग टूरिज्म की संपूर्ण जानकारी
दार्जिलिंग टूरिज्म की संपूर्ण जानकारी

सड़क मार्ग से दार्जिलिंग कैसे पहुंचे

सिलीगुड़ी से दार्जिलिंग के लिए नियमित बस सेवा होती है।  वह तक़रीबन 70 किमी दूर स्थित है। कलिम्पोंग एव कुर्सेओंग जैसे नजदीकी शहरों से बस सेवाएं उपलब्ध हैं। आप कलिम्पोंग, कुर्सेओंग और सिलीगुड़ी जैसे आस-पास के शहरों से दार्जिलिंग जा सकते हैं। नयनरम्य पहाड़ी के दृश्य के साथ सड़क नेटवर्क बहुत अच्छा है।

हवाई जहाज से दार्जिलिंग कैसे पहुंचे

दार्जिलिंग का बागडोगरा हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है। darjeeling airport से जेट एयरवेज, एयर इंडिया, इंडिगो, स्पाइस जेट और अन्य जैसे स्थानीय वाहकों की दिल्ली, गुवाहाटी और कोलकाता के लिए सीधी उड़ानें हैं। हवाई अड्डे पर दार्जिलिंग जाने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। उसमे आपको 3 घंटे का समय लगता है।

Darjeeling Location दार्जिलिंग का मेप

Darjeeling Top 10 Tourist Places In Hindi Video

Interesting Facts

  • दार्जिलिंग की उत्पत्ति दो तिब्बती शब्द दोरजे और लिंग से हुई है।
  • अपने चाय के बागानों, पर्यटक आकर्षणों और टॉय ट्रेन के लिए जाना जाता है।
  • भारत में पश्चिम बंगाल राज्य का दार्जिलिंग एक पहाड़ी इलाका है।
  • दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे यूनेस्कों की विश्व विरासत सूची में शामिल है।
  • यहां से दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची चोटी कंजनजंघा दिखाई देती है।
  • दार्जिलिंग आकाश में वज्रपात होने और तेज बिजली चमकने के लिए प्रसिद्ध है।
  • दार्जिलिंग की चाय को दुनिया में सबसे बेहतर किस्म की चाय माना जाता है।
  • चाय प्रेमियों के लिए दार्जिलिंग एक स्वर्ग सामान स्थल है।

FAQ

Q : दार्जिलिंग कहा है?

दार्जिलिंग भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का एक नगर है।

Q : दार्जिलिंग क्यों प्रसिद्ध है?

दार्जिलिंग समशीतोष्ण जलवायु, पर्वतीय स्थल और चाय के बागानों के लिए प्रसिद्ध है।

Q : दार्जिलिंग किस राज्य में है?

पश्चिम बंगाल

Q : दार्जिलिंग में क्या फेमस है?

टाइगर हिल सनसेट पॉइंट और दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल है।

Q : दार्जिलिंग कब जाये?

गर्मियों का महीना अप्रैल से जून के बीच दार्जिलिंग जाने के लिए सबसे बेस्ट माना जाता है।

Q : दार्जिलिंग का पुराना नाम क्या था?

दार्जिलिंग का पुराना नाम दोर्जीलिंग था।

Conclusion

आपको मेरा Darjeeling Tourism Information बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये darjeeling best time to visit और darjeeling hotels

, दार्जिलिंग टेंपरेचर से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

Note

आपके पास darjeeling nearest airport या darjeeling tour की कोई जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

इसके बारेमे भी जानिए –

कालीघाट काली मंदिर कोलकाता की जानकारी

जलियांवाला बाग के प्रमुख दर्शनीय स्थल

गंगटोक शहर में घूमने के 10 प्रमुख दर्शनीय स्थल

भारत  खूबसूरत राज्य सिक्किम यात्रा और घुमाने की जानकारी

चेरापूंजी के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *