Cuttack Tourism Place in Hindi

Cuttack Tourism Place in Hindi | उड़ीसा की सांस्‍कृतिक राजधानी कटक

नमस्कार दोस्तों Cuttack Tourism Place Information in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम उड़ीसा की सांस्‍कृतिक राजधानी कटक के पर्यटन स्थल की जानकारी और कटक के दर्शनीय स्थल बताने वाले है। कटक एक वाणिज्यिक शहर और ओडिशा का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। पूर्व की राजधानी कटक में बहुत सारे प्रभावशाली पर्यटक आकर्षण हैं। वर्तमान कटक भुवनेश्‍वर से 30 किमी दूर और प्राचीन समय में उड़ीसा की राजधानी बारानासी कटक के रूप में लोकप्रिय कटक राज्‍य के सबसे पुराने और बड़े शहरों में से एक है।

सांस्कृतिक और प्राचीन स्मारको के साथ कटक में यात्रिओ को आकर्षण की विस्तृत श्रंखला है। उसमे प्राचीन वस्तुओं, स्मारको और हस्तशिल्प की भूमि परिचय करवाता है। यहाँ बलियात्रा, जावा, बाली और सुमात्रा, दुर्गा पूजा और जनवरी में पतंग महोत्सव के त्योहारों की मेजबानी करता है। कटक अपने प्रसिद्ध चांदी के काम की वजह से  चांदी के शहर ( सिल्वर सिटी ) के नाम से भी जाना जाता है। यह शहर एक उच्च नियोजित शहर है और उसमे पर्यटकों को देखने योग्य कई पर्यटक आकर्षण हैं।

Cuttack Tourism Place

  • Bhitarkanika National Park & Wildlife Sanctuary
  • Cuttack Chandi Temple
  • Paramhansnath Temple
  • Dhableshwar Beach
  • Kadam-e-Rasool
  • Barabati Fort
  • Stone Revetment
  • Dhabaleshwar
  • Paradeep Beach

    cuttack tourist places photos
    cuttack tourist places photos

इसके बारेमे भी जानिए – एशिया की सबसे बड़ी खारे पानी की चिल्का झील घूमने की पूरी जानकारी

कटक घूमने का सबसे अच्छा समय

गर्मियों के मौसम (ग्रीष्मकाल) में यहाँ वातावरण बहुत गर्म होता हैं, अप्रैल-जून की चिलचिलाती गर्मी शहर के चारों ओर यात्रा करने में पर्यटकों को ज्यादा परेशान करती है। उसके साथ यहाँ की सर्दियाँ का मौसम हल्का होता हैं। सर्दिओ के मौसम में शहर (Cuttack weather) का न्यूनतम तापमान 8 डिग्री तक पहुँच जाता है। कटक शहर की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक होता है। मानसून में (जुलाई-सितंबर) में मध्यम वर्षा होती रहती है। पर्यटक बारिश के मौसम में भी शहर को देख सकते हैं।

कटक की यात्रा का कार्यक्रम

  • पहले दिन – देवी चंडी के कटक चंडी मंदिर और बाराबादी किले की यात्रा करें।
  • दूसरे दिन – भाबलेश्वर द्वीप, धबलेश्वर मंदिर, हस्तशिल्प भंडार और बाज़ारों पर जाएँ।
  • तीसरे दिन – नेताजी जन्मस्थान संग्रहालय और रेनशॉ विश्वविद्यालय को देखने जाए।
  • चौथे दिन – महानदी बैराज और सूर्यास्त बिंदु को जरूर देखना चाहिए।

    Cuttack tourism image
    Cuttack tourism image

Places To Visit In Cuttack

Bhitarkanika National Park & Wildlife Sanctuary

ओडिशा में कटक से 120 किमी दूर भितरकनिका वन्यजीव अभयारण्य स्थित है। भितरकनिका नेशनल पार्क एव अभयारण्य 650 वर्ग किलोमीटर में फैला है। उसकी समृद्ध समुद्री वनस्पति, पेड़ों और पौधों, नदियों और खाड़िया पर्यटकों को आकर्षित करती है। विश्व की कई दुर्लभ प्रजातिया जिसमे वनस्पतियों और जीवों का घर है। अभयारण्य सरीसृप प्रजातियों के लिए जाना जाता है। यहाँ आपको मगरमच्छ, हालांकि, यह ओलिव रिडले सी टर्टल, एशियन ओपन बिल और ब्लैक आइबिस जैसी प्रजातिया देखने को मिलती है। यह स्थल एविफ़ुना प्रजातियों के लिए आदर्श प्रवास का मौसम है।

उसमे पक्षियों की 215 प्रजातियाँ देख सकते हैं। अभयारण्य का आकर्षण दुर्लभ सफेद मगरमच्छ है। वह 23 फीट जितना बड़ा हो सकता है। यहाँ आप भारत का दूसरा सबसे बड़ा मैंग्रोव वन देख सकते हैं। पार्क में कई प्रवेश द्वार हैं लेकिन सबसे लोकप्रिय खोला से दंगमल तक नौका विहार है। वह प्रवेश द्वार से घने जंगलों से गुजरते एव समृद्ध पारिस्थितिकी का अनुभव करवाता है। पर्टयक प्रकृति और समृद्ध वन्य जीवन में रात बिताना चाहते हैं। तो वन गेस्ट हाउस में रह सकते हैं।

Barabati Fort
Barabati Fort

Barabati Fort

शहर से 8 किमी दूर ओडिसा में कटक में बरबती किला नक्काशीदार प्रवेश द्वार वाला एक प्रसिद्ध किला है। महानदी नदी पर स्थित गंगा राजवंश के दौरान बनाया गया था। History of the Barabati Fort 14 वीं शताब्दी का किला है। किला कटक शहर का एक सुंदर और नयनरम्य दृश्य प्रदान करता है। 9 मंजिला महल का निर्माण दुश्मन के हमलों से बचाने और स्मारक को किलेबंदी के साथ बनाया था। आज सांस्कृतिक और विभिन्न खेल आयोजनों के लिए किले के पास बाराबती स्टेडियम का निर्माण किया जाता है। 102 एकड़ में फैला किला 14 वीं शताब्दी में फिर से स्थापित किया गया था और किले की दीवारों को बलुआ पत्थर और लेटराइट से बनाया गया है।

इसके बारेमे भी जानिए – नामची के प्रमुख पर्यटक स्थल और घूमने की जानकारी

Cuttack Chandi Temple

महानदी के तट पर स्थित कटक चंडी का मंदिर (पीठासीन देवता) मंदिर है। देवी चंडी को समर्पित कटक चंडी मंदिर 3 हजार साल पुराना बताया जाता है। कटक के पर्यटन उद्योग में एक धार्मिक स्थल के रूप में महत्वपूर्ण होने के अलावा, मंदिर के स्थापत्य कला के आकर्षण भी साल भर हजारों पर्यटकों को आकर्षित करता हैं। मंदिर बाराबती क्षेत्र के दक्षिण में स्थित है। मंदिर में देवी दुर्गा की भव्‍य पूजा होती है। हर साल दुर्गा पूजा का त्‍यौहार मनाया जाता है। जो अश्विनी कृष्‍णा अष्‍टमी से शुरू होकर विजयदशमी तक चलता है। कटक चंडी मंदिर में हिंदू तीर्थयात्रियों द्वारा दौरा किया जाता है।

cuttack city photos
cuttack city photos

Stone Revetment

कटक में काठजुरी नदी के तट पर स्थित स्टोन रेवेटमेंट 11वीं शताब्दी में बनाया गया एक इंजीनियरिंग चमत्कार है। उसके पत्थर की दीवारों का निर्माण बाढ़ के पानी को शहर में प्रवेश करने से रोकने के लिए किया गया है। यह स्थल सब शून्य तकनीकी प्रगति के युग के दौरान किया गया था। उसी कारन प्रसिद्ध है। यह प्राचीन उड़ियावासियों के तकनीकी कौशल और तार्किक सोच का उदाहरण है।

Dhabaleshwar

धाबलेश्‍वर मंदिर मुख्य शहर से 37 किमी दूर भगवान शिव को समर्पित मंदिर है। यह टेम्पल महानदी नदी में एक द्वीप पर स्थित है।  कटक और नजदीकी शहरों के लोगों के लिए एक लोकप्रिय वीकेंड के रूप में कार्य करता है। 10वीं शताब्दी में स्थापित मंदिर एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल है। यह स्थल एक सुंदर प्राकृतिक और शांत वातावरण प्रदान करता है। कटक से नौकाओं और घाटों की सहायता से यहाँ पहुंच सकते है। उसके साथ एक फुट-ओवर ब्रिज है, जिससे लोग शुल्क देकर मंदिर तक जा सकते हैं।

Paradeep Beach

कटक से 94 किमी और पारादीप से 125 किमी दूर स्थित पारादीप ओडिशा के सबसे शांत समुद्र तटों में से एक है। सुनहरी झिलमिलाती रेत, नील के नीले पानी और विशाल शिलाखंडों से आच्छादित, समुद्र तट एक प्रमुख पर्यटन स्थल ही नहीं है। लेकिन देश का एक प्रमुख समुद्री बंदरगाह है। समुद्र तट पन्ना हरे जंगलों से सजा हुआ है। यह द्वीप महानदी नदी का वाणिज्यिक के साथ समुद्र तट बहुत सारे पर्यटकों को सुनहरी रेत के लंबे खंड में धूप सेंकने और एक्वा ब्लू वाटर में सिर्फ मस्ती करने के लिए आमंत्रित करता है। किनारे पर चट्टानों का पानी का छींटा एक अद्भुत समुद्री ड्राइव प्रदान करता है।

Cuttack image
Cuttack image

इसके बारेमे भी जानिए – नाथुला दर्रा सिक्किम घूमने की पूरी जानकारी

Paramhansnath Temple

परमहंसनाथ मंदिर कटक शहर के बाहरी हिस्‍स्‍से में स्थित भगवान महादेव को समर्पित मंदिर है। यह टेम्पल के पास में एक छिद्र है। जिसमे एक बहुत बड़ा छिद्र है। उस जगह से स्‍वयं पानी निकलता रहता है। यह विशाल छिद्र परमहंसनाथ मंदिर  मुख्य आकर्षण एव विशेषता है। उसको अनंत गर्व भी कहा जाता है। यहाँ हिन्दू धर्म के लोग यात्रा और दर्शन करने आते है।

Dhableshwar Beach

कटक में यात्री समुद्री लहरों का मजा लेना चाहता हैं। तो धाबलेश्‍वर तट जाना चाहिए। यह कटक से चार किमी दूर महानदी नदी के किनारे पर धाबलेश्‍वर एक शानदार द्वीप है। तट की सुंदरता, शांत वातावरण और निर्मल जल पर्यटकों के बीच बहुत प्रिय है। क्योकि यहां का सुंदर और सौम्‍य वातावरण लोगों में उत्‍साह और रोमांच भर देता है। यहाँ धाबरेश्‍वर वॉटर स्‍पोर्ट सेंटर आकर्षक स्‍थल है। जिन्हे देखने भारत और विदेशी सैहलानी आते रहते है।

Kadam-e-Rasool

कदम-ई-रसूल (क़दम-ए-रसूल तीर्थ) की शाही मस्जिद अद्भुत वास्तुकला देखने वाले को आश्चर्य में डालती हैं। यह संरचना का निर्माण अन्य मस्जिदों से अलग है। मुसलमानों की धार्मिक आस्‍था को ध्‍यान में रखकर उसको बनाया है। मस्जिद के परिसर में तीन खूबसूरत मस्जिदें बनवाई हैं। उस सभी के गुंबद और कमरे बहुत ही आकर्षक हैं। उसके साथ नवाबत खाना का एक कमरा भी है। उसको 18वीं शताब्‍दी में निर्मित किया गया था। एक गुबद पर पैगंबर मोहम्‍मद के पद चिह्न एक गोल पत्‍थर पर अंकित हैं।

Cuttack Photos
Cuttack Photos

Food of Cuttack कटक का स्थानीय भोजन 

कटक में उड़िया व्यंजन सभी रेस्तरां में सस्ती कीमतों पर मिलते है। चावल व्यंजनों में मुख्य है, और कटक में शाकाहारी और मांसाहारी सभी व्यंजन मिलते है। स्थानीय भोजन में दही वड़ा, घुगुनी, चाट, आलू दम, भिंडी भाजा, आलू पालक, जीरा पखला, साग, झींगा मलाई करी, केकड़ा कालिया और मछली करी खा सकते हैं। उसके साथ सामान्य व्यंजन में उत्तर भारतीय, दक्षिण भारतीय, चीनी, महाद्वीपीय और मुगलई व्यंजन भी यहां उपलब्ध होते हैं।

इसके बारेमे भी जानिए – सिक्किम का ताज गुरुडोंगमार झील घूमने की पूरी जानकारी

Hotels in Cuttack

कटक में रहने के लिए आपको हाई बजट से लेकरके लॉ बजट की सभी होटल और गेस्ट हाउस उपलब्ध होते है। जिन्हे आप ऑनलाइन और ऑफ़ लाइन दोनों तरीके से बुक कर सकते है। और आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ कटक की यात्रा में रुकने के लिए होटल का कमरा बहुत आसानी से पसंद कर सकते है। उसमे से कुछ नाम हम बताएँगे अगर आपको पसंद है। तो जा सकते है।

  • The Blue Lagoon Hotel Premium
  • OYO 11547 Royal Treat
  • OYO 15504 Maa Banadurga Guest House
  • Vaccinated Staff – OYO 18355 Hotel Moonlight
  • OYO 9564 Urban Legends
  • OYO 42633 Aarshi Palace
  • Capital O 70026 Hotel Jai Radisson

    उड़ीसा की सांस्‍कृतिक राजधानी कटक
    उड़ीसा की सांस्‍कृतिक राजधानी कटक

How to Reach Cuttack

ट्रेन से कटक कैसे पहुंचे

How To Reach Cuttack by train – कटक में रेलवे स्टेशन चेन्नई-कोलकाता लाइन पर पड़ता है। और नियमित ट्रेनों के माध्यम से देश के अन्य प्रमुख स्थलों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। वहा पहुंचने के बाद पर्यटक कटक में घूमने के लिए कैब या टेक्सी की सहायता ले सकते है। जो बहुत ही काम डैम में उपलब्ध होते है। 

सड़क मार्ग से कटक तक कैसे पहुंचे

How To Reach Cuttack by road – भारत के सभी प्रमुख शहरों और कस्बों से कटक के लिए हररोज बस सेवाएं उपलब्ध होती हैं। आप विभिन्न शहरों से रोड ट्रिप भी ले सकते हैं। जिससे पर्यटक कटक  सकते है। 

फ्लाइट से कटक कैसे पहुंचे

How To Reach Cuttack by flight – कटक का निकटतम हवाई अड्डा भुवनेश्वर में है। वह शहर के केंद्र से 25 किमी दूर है। वहा से आप टैक्सी ले सकते हैं या वहां से शहर के लिए बस ले सकते हैं।

Distance of Cuttack from major cities

  • Kolkata to Cuttack – 421 km
  • Hyderabad to Cuttack – 1,075 km
  • Chennai to Cuttack – 1,256 km
  • Bangalore to Cuttack – 1,463 km
  • Pune to Cuttack – 1,549 km
  • Mumbai to Cuttack – 1,646 km
  • Delhi to Cuttack – 1,686 km
  • Ahmedabad to Cuttack – 1,689 km
  • Jaipur to Cuttack – 1,708 km

    कटक का फोटो
    कटक का फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – गुजरात के छोटा उदयपुर का कुसुम विलास पैलेस का इतिहास और जानकारी

Cuttack Map कटक का लोकेशन

Cuttack Tourism Place in Hindi Video

Interesting Facts About Cuttack

  • ताराकाशी कला के लिए प्रसिद्ध कटक उड़ीसा राज्य में स्थित है।
  • कटक में प्राचीनता एवं आधुनिकता का मिश्रण देखने को मिलता है।
  • उड़ीसा की पुरानी राजधानी कटक आर्थिक व्यवस्था का केंद्र रही है।
  • कटक शब्द का अर्थं सेना की छावनी एव राजधानी शहर होता है।
  • वर्तमान समय में कटक को सिल्वर सिटी और ओडिशा का मिलेनियम सिटी भी कहते है।
  • पर्यटक यहां घूमते हुए मंदिर, किले, पहाड़ जैसी कई स्मारक देख सकते हैं।
  • 18वीं सदी में मराठाओं ने कटक शहर पर अपना राज्य स्थापित किया था।
  • उड़ीसा के राजा मुकुंदा हरिचंदन ने बाँध के पास नौ मंजिला इमारत बनाई थी।

FAQ

Q .कटक कहां है?

उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर से कटक तीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

Q .कटक क्यों प्रसिद्ध है?

कटक वर्तमान ओड़िशा की मध्ययुगीन राजधानी और यह किले, मंदिर और संग्रहालय के लिए प्रसिद्ध हैं।

Q .कटक में कौन सा मंदिर है?

कटका चंडी मंदिर, धाबलेश्‍वर मंदिर और परमहंसनाथ मंदिर है।

Q .कटक किस नदी के किनारे है?

यह नगर महानदी और उसकी सहायक नदी काठजोड़ी के मिलन स्थल पर बना है।

Q .कटक किस राज्य में है?

उड़ीसा

Conclusion

आपको मेरा Cuttack Tourism Place in Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Cuttack district tourism, Cuttack in hindi

और Cuttack city से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Cuttack durga puja 2021, Cuttack odisha या 

Cuttack distance की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Gold price today cuttack, Today gold rate in cuttack, Gold price today in cuttack, Cuttack in which state, Cuttack pin code, Cuttack to bhubaneswar distance, Cuttack dm twitter, Cuttack is situated on the banks of which river, www.cuttack.nic.in 2021, nic cuttack

कटक क्या है, कटक भूगोल, कटक मंडळ, कटक जिला, कटक अर्थ, कटक क्या होता है, कटक समानार्थी शब्द मराठी, यहां से कटक कितने किलोमीटर है, कटक meaning in Hindi, कटक in geography, कटक meaning in English, डॉल्फिन कटक, बाराबती किला, ललितगिरि

इसके बारेमे भी जानिए – भारत के गोवा राज्य के उत्तरी क्षेत्र में स्थित बागा बीच घूमने की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *