Bijasan Mata Mandir Indergarh In Hindi

Bijasan Mata Mandir Indergarh In Hindi | बिजासन माता मंदिर की जानकारी

नमस्कार दोस्तों Bijasan Mata Mandir In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम इंदरगढ़ के बिजासन माता मंदिर के दर्शन की पूरी जानकारी बताने वाले है। बीजासणमाता का प्रसिद्ध मन्दिर बूँदी जिले के इन्द्रगढ़ में स्थित है। इन्द्रगढ़ तहसील मुख्यालय होने के साथ ऐतिहासिक और प्रमुख धार्मिक स्थल है। बिजासन माता मंदिर राजस्थान की का निर्माण बूंदी के शासक राव शत्रुसाल के छोटे भाई इंद्रसाल ने करवाया था। बिजासन माता मंदिर उतना पवित्र है कि मंदिर के दर्शन करने दूर-दूर से भक्त आते है।

उसकी मनोकामना पूरी होती हैं। बूंदी जिले के इंदरगढ़ का मंदिर में स्थित बिजासन माता मंदिर में भक्त पुत्र प्राप्ति और नवविवाहित जोड़े सुखी वैवाहिक जीवन और समृद्धी की मनोकामना के लिए आते हैं। यहाँ के स्थानीय लोग मांगलिक अवसरों पर माता के दर्शन कर माता का आशीर्वाद लेते हैं। भक्तो को मंदिर तक पहुंचने में तक़रीबन 700 से 800 सीढ़ियां चढ़नी होती हैं। क्योकि बिजासन माता मंदिर पहाड़ी के ऊपर स्थित है।

Best Time To Visit Bijasan Mata Mandir Indergarh

अगर आपको बिजासन माता मंदिर इंदरगढ़ की यात्रा करने का अच्छा समय बताए तो वैसे तो पुरे साल भर मंदिर में दर्शन और घूमने के लिए जा सकते है। मगर यात्री यात्रा का पूरा मजा लेना चाहता हैं। तो नवरात्रि महोत्सव के समय मंदिर की यात्रा कर सकते हैं। उस समय मंदिर में बड़ा मेला लगता है। बिजासन माता मंदिर राजस्थान राज्य में विराजमान होने के कारन आपको गर्मी के मौसम में यहां की यात्रा नहीं करनी चाहिए। मंदिर की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च के महीने का होता है। क्योंकि उस मौसम में यहाँ का वातावरण बहुत सुहावना और गर्मी कम होती है।

bijasan mata ki photo

इसके बारेमे भी पढ़िए – ज्वालादेवी मंदिर का इतिहास और जानकारी

बिजासन माता मंदिर इंदरगढ़ की पौराणिक कथा और बिजासन माता की कहानी

बिजासन देवी मंदिर हिन्दुओ का पवित्र स्थल है क्योंकि यह स्थल पर भक्त कमलनाथ को देवी दुर्गा ने दर्शन दिए थे। कमलनाथ भक्त देवी दुर्गा के भक्त थे। उनसे माता देवी उनकी आस्था और श्रद्धा से प्रसन्न होते प्रकट हुई थी। और यहाँ बिजासन माता की मूर्ति को स्थापित किया था। देवी मा की मूर्ति राक्षस रक्तबीज के ऊपर विराजित है। मार्कंडेय पुराण में देवी दुर्गा का उल्लेख देखने को मिलता है। दुर्गा सप्तशती के आठवें अध्याय के मुताबिक देवी दुर्गा ने रक्तबीज साथ भयंकर लड़ाई लड़ी थी। रक्तबीज राक्षस को कई असाधारण वरदान मिले हुए थे।

इंदरगढ़ माताजी का मंदिर

जब रक्तबीज के खून की बूंद जमीन पर गिरती तो उससे शक्ति के बराबर का रक्तबीज पैदा हो जाता था। उसके कारन दुनिया में लाखों रक्तबीज पैदा हो गए थे। रक्तबीज को मारने के लिए देवी ने उसके खून को धरती पर नहीं गिरने देने को सोचा था। देवी माता ने जलती हुई मसालों से राक्षस रक्तबीज को जला दिया और उसके रक्त को इकट्ठा करके खुद पी लिया था। उस तरह से देवी दुर्गा ने रक्तबीज राक्षस को ख़त्म कर दिया और बिजासन देवी के रूप में प्रसिद्ध हुए है।

Shree Bijasan Mata Mandir Timing

बिजासन माता मंदिर के दर्शन का समय की बात बताए तो बिजासन माता मंदिर हर सुबह 5 बजे से शाम 7 बजे तक दर्शन के लिए खुला रहता हैं।

indergarh mataji photo

इसके बारेमे भी पढ़िए – मसूरी की यात्रा और पर्यटन स्थल की जानकारी

Bijasan Mata Mandir Ki Puja Vidhi बिजासन माता की पूजा विधि

सभी हिन्दू मंदिरो के जैसे ही बिजासन माता मंदिर में हर दिन चार आरती होती है। उसमे मंगल आरती, भोग आरती, संध्या आरती और शयन आरती शामिल है। उसके साथ साथ श्री दुर्गा शप्तसती का पाठ किया जाता है। नवजात शिशुओं को मुंडन संस्कार और बालों की रस्म के लिए मंदिर में पूजा की जाती है। उसके अलावा स्थानीय लोगों के साथ दूर-दूर से पर्यटक माता के दर्शन करने के लिए और नवविवाहित जोड़े बिजासन माता के दर्शन करने के लिए आते और पूजा करते हैं।

vijvasan mataji photo

Architectural Features Of Bijasan Mata Mandir

बिजासन माता मंदिर पहाड़ी पर स्थित होने के कारन पर्यटक को माता रानी के दर्शन करने के लिए और वहाँ पर जाने के लिए सीढ़ियाँ चढ़नी होती हैं। वह सीढिया भक्तो को मंदिर की ओर ले जाती है। बिजासन माता मंदिर जाने के लिए पर्यटकों को तक़रीबन एक हजार कदम पैदल पैदल ही चलना होता है।

बिजासन माता मंदिर की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – आभानेरी चांद बावड़ी का इतिहास और जानकारी

Religious Importance Of The Bijasan Mata Mandir

हमारे हिन्दु धर्म में बिजासन देवी को बहुत शक्तिशाली देवी के रूप में पूजन किया जाता है। मान्यता के मुताबिक भक्तो को देवी का चमत्कार तुरंत दिखाई देता है। उन्होंने कई भक्तो को अपनी कृपा से अंधे को दृष्टि भी दी है। यह मंदिर में भक्त अपनी कई इच्छाओं लेकरके आते और माता रानी उसकी इच्छा को पूर्ण करती है। उसके कारन भक्तो को माता की प्रार्थना और मंदिर के प्रति लोगों का दृढ़ विश्वास है। माता का मंदिर पूरे साल भक्तों और पर्यटकों की भीड़ से भरचक रहा करता है।

Festivals And Fairs In Bijasan Mata Mandir 

बिजासन माता मंदिर या भेसवामाता (बिजासन माता) मंदिर ट्रस्ट, ट्रस्टी द्वारा संचालित है। उसमे 11 सरकारी पदेन सदस्य, विधायक, जिलाध्यक्ष, पंचायत अध्यक्ष और सचिव और 16 गैर-सरकारी सदस्य शामिल हैं। जिसमें ट्रस्ट के प्रबंधक कलेक्टर राजगढ़ हैं। यहाँ बसंत पंचमी के अवसर पर मंदिर में एक माह का पशु मेला लगता है। उसमे दूर-दूर से श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। माघ मेला हर वर्ष बसंत पंचमी से लेकर माघ मास में पूर्णिमा तक चलता है। मेले के समापन तक पूर्णिमा की रात को मां भैस्वामाता (बिजासन माता मंदिर) के पालकी पहाड़ी के मुख्य मंदिर से मुख्य नगर भ्रमण होता है। बिजासन माता मंदिर में चैत्र और आश्विन के महीने में नवरात्रि को बड़े उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है।

बिजासन माता फोटो

इसके बारेमे भी पढ़िए – नाडाबेट मंदिर का इतिहास और जानकारी

Bijasan Mata Mandir Indergarh Map बिजासन माता मंदिर का लोकेशन

Bijasan Mata Mandir Indergarh Information In Hindi Video

Interesting Facts

  • बिजासन माता मंदिर राजस्थान के बूंदी जिले के इंदरगढ़ में स्थित प्रमुख धार्मिक स्थल है।
  • इन्द्रगढ़ तहसील मुख्यालय होने के साथ ऐतिहासिक महत्व का कस्बा है।
  • इन्द्रगढ़ में एक विशाल पर्वत शिखर पर बीजासणमाता का मंदिर स्थित है। 
  • बीजासणमाता के मन्दिर इन्द्रगढ़ तक पहुँचने का मार्ग काफी कठिन और दुर्गम है।
  • शारीरिक रूप से अशक्त लोग मन्दिर की चढ़ाई चढ़ने में असमर्थ है। 
  • मंदिर को बूँदी के शासक राव शत्रुसाल के भाई राजा इन्द्रसाल ने 1605 ई. में बनवाया था। 
  • उन्होंने पहाड़ी पर कई भव्य किले, मंदिर और महल भी बनवाए थे।

FAQ

Q .बिजासन माता मंदिर कहां है?

RJ SH 1, Indergarh, Rajasthan 323613

Q .बिजासन माता किसकी कुलदेवी है?

बिजासन माता मंदिर का निर्माण बूंदी के शासक राव शत्रुसाल के भाई इंद्रसाल ने करवाया था।

Q .इंदरगढ़ कौन से जिले में पढ़ती है?

राजस्थान के बूंदी जिले में इंदरगढ़ स्थित है।

Q .बिजासन माता की कितनी सीढ़ियां है?

बिजासन माता मंदिर तक पहुंचने के लिए 700 से 800 सीढ़ियां चढ़ने पड़ती हैं। 

Q .बिजासन माता कौन है?

बुंदेलखंड के आल्हा-उदल ने सिद्धिदात्री नौ दैवीयों को अनुष्ठान कर प्रसन्न किया तब से देवी को बिजासन माता कहते है।

Conclusion

आपको मेरा लेख Bijasan Mata Mandir History In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये बिजासन माता की कथा, Bijasan mata history

और Bijasan mata mandir rajasthan से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Badi bijasan mata mandir contact number की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

बिजासन माता के मंत्र

bijasan mata wikipedia

बिजासन माता का इतिहास

बिजासन माता चालीसा

इंदरगढ़ की माता जी

बिजासन माता का मंदिर कहां स्थित है

bijasan mata mp

इसके बारेमे भी पढ़िए – लक्ष्मी नरसिम्हा मंदिर का इतिहास और जानकारी

2 thoughts on “Bijasan Mata Mandir Indergarh In Hindi | बिजासन माता मंदिर की जानकारी”

  1. Cortez, USA 2022 05 29 05 28 34 [url=http://stromectol.bar/]stromectol online brighter tomorrow[/url] Among women with Stage IV, estrogen receptor positive breast cancer, the Oncotype DX breast cancer test provided information about cancer prognosis; this may help guide treatment decisions

  2. To help you remember to take dicyclomine, take it around the
    same times every day. Follow the directions on your prescription label carefully, and ask your doctor
    or pharmacist to explain any part you do not understand. Take dicyclomine exactly
    as directed. Do not take more or less of it or take it more often than prescribed by your
    doctor.

Leave a Comment

Your email address will not be published.