bhakra nangal dam pics

Bhakra Nangal Dam Bilaspur Information In Hindi | भाखड़ा बांध का इतिहास

आज हम Bhakra Nangal Dam Bilaspur Information In Hindi में प्रमुख पर्यटन स्थल और जानकारी देने वाले है। हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले में सतलुज नदी पर भाखड़ा नांगल बांध भाखड़ा गाँव में स्थित है।

भाखड़ा नांगल परियोजना को गोबिंद सागर के नाम से प्रसिद्ध है। 9.34 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी की केपेसिटी वाला भाखड़ा नांगल बांध भारत के स्वतंत्र होने के बाद नदी घाटी विकास योजनाओं में से एक हैं। हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले में सतलुज नदी पर बना भाखड़ा नागल बांध देश का सबसे लंबा बांध है। उससे बड़ा बांध बोल्डर बांध अमेरिका में है। टिहरी बांध के बाद भारत देश का दूसरा सबसे ऊंचा और दुनिया का तीसरा सबसे ऊंचा बांध और सबसे ऊंचे गुरुत्वाकर्षण बांधों में से एक है।

2009 की साल में भाखड़ा नांगल बांध पर्यटकों के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया था। जो भी पर्यटक भाखड़ा नांगल बांध देखना चाहते है। उन्हें हमारा यह आर्टिकल जरूर पढ़े क्योकि हमने भाखड़ा नांगल बांध का इतिहास, रोचक तथ्यों और भाखड़ा नांगल बांध परियोजना की सभी जानकारी बताई है। 1948 में शुरू हुआ भाखड़ा नांगल बांध का निर्माण 1962 में पूरा हुआ। अमेरिकी बांध निर्माता हार्वे स्लोकेम के निर्देशन में यह तैयार हुआ है।

Bhakra Nangal Dam Bilaspur Information In Hindi-

नाम भाखड़ा बाँध
नदी सतलुज नदी
पता नांगल, बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश (HP)
बाँध की लंबाई 520 मी (1,700 फीट)
बाँध की ऊंचाई 226 मी (741 फीट)
चौड़ाई 191 मी (625 फीट)
निर्माण तिथि 1948
उद्घाटन तिथि 1963
उद्घाटन कर्ता प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू
निर्माण खर्च 245.28 करोड़

भाखड़ा बांध का इतिहास –

भाखड़ा बांध शिवालिक पहाड़ियो के पास बना 1700 फीट लंबा और 740 फीट ऊंचा है। उसकी नीचे की चौड़ाई 625 और ऊपर की 30 फीट है। यहाँ से 13 किलोमीटर दूर नागल बांध 1000 फीट लंबा और 95 फीट ऊंचा स्थित है। भारत के हरियाणा, राजस्थान और पंजाब राज्यों को पीने और खेती के लिए पानी देने वाला यह बांध के पनबिजली संयंत्र से तक़रीबन 1325 मेगावॉट बिजली उत्पन्न होत्ती है। जो पंजाब, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और हरियाणा के लिए दी जाती है। यह बांध का निर्माण 1948 में शुरू किया गया था। और उसका निर्माण कार्य को 1962 में पूर्ण तैयार किया गया था। 

अमरीका के बांध निर्माता हार्वे स्लोकेम ने यह बांध को बनाया और प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 22 अक्टूबर 1963 को शुभारम्भ किया था। भाखड़ा बांध मे हरियाणा, राजस्थान और पंजाब की संयुक्त परियोजना है। जिस में राजस्थान की 15.2 % हिस्सेदारी और 250 से अधिक छोटे बड़े गांव और कस्बों को बिजली देते है। जिसमे सीकर, श्रीगंगानगर, झुंझनू, चुरू और हनुमानगढ़ जिले को बिजली मिलती है।

भाखड़ा नांगल बांध की फोटो गैलरी
भाखड़ा नांगल बांध की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी जानिए – जोग जलप्रपात शिमोगा कर्नाटक

Bhakra Nangal Dam Paragliding In Bilaspur –

साहसिक खेल में से एक बिलासपुर में पैराग्लाइडिंग का मजा लेना जरुरी है। पैराग्लाइडिंग में ज्यादा लगाव रखने वाले यात्रालुओ के लिए बहुत ही अच्छी और अद्भुत जगह मानीजाती है। लोकप्रिय पैराग्लाइडिंग के साथ 8 घंटे की उड़ान जो झील के पास आदर्श लैंडिंग ग्राउंड में होती है। बैंडला पहाड़ियाँ और यहाँ होने वाली पैराग्लाइडिंग यह स्थान को और लोकप्रिय बनाता है।

Bhakra Nangal Dam Water Sports And Fishing –

आज के समय में वाटर स्पोर्ट्स सभी के दिलो को मोहित करता है। आपको बतादे की बिलासपुर के गोबिंद सागर नदी के पास मोटर बोट रेसिंग, रेगाटास, वाटर स्कीइंग, कयाकिंग और सेलिंग का मजा भी मिल सकता है। यहाँ मौजूद वाटर स्पोर्ट्स की मजा सभी को आकर्षित करती है। यहाँ आप मछली पकड़ते हुए देख सकते है। मछली पकड़ना यह स्थान की लोकप्रिय गतिविधि है। आप बहुत ही कम शुल्क से किराए पर बोट ले करके अपना समय व्यतीत कर सकते है।

Bhakra Nangal Dam Images
Bhakra Nangal Dam Images

Bhakra Nangal Dam के प्रमुख पर्यटन स्थल –

Kahlur Fort – 

कोट-कहलूर के नाम से प्रसिद्ध कहलूर किला एक अद्भुत संरचना है। बिलासपुर जिले का यह फोर्ट ब्रिटिश सरकार के समय में रियासत कहलूर से प्रसिद्ध था। पहाड़ी पर बना कहलूर फोर्ट बिलासपुर का मुख्य आकर्षण है। समुद्र तल से किले की ऊंचाई तक़रीबन 3600 फीट  है। बांध के नजदीक होने के कारन यात्रालु अक्सर यह जगह पर पिकनिक के लिए आया करते है। उसकी वास्तुकला और इतिहास सभी के मन को आकर्षित करता है। क्योकि पूर्ण पत्थर से बना किला प्राचीन ढांचा पहाड़ी और हरियाली से बहुत ही नयनरम्य दिखाई देता है।

Vyas Cave –

सतलज नदी के किनारे व्यास गुफा स्थित है। ऐसा कहाजाता है की ऋषिवर और महाभारत के रचियेता व्यास अपनी तपस्या करने के समय यहाँ रहते थे। उसके लिए उस जगह को लोग व्यास गुफा कहते है। 610 मीटर की ऊंचाई पर स्थित गुफा सतलुज नदी के बाएं तट पर बनी है। उसके नाम से पहले यह गांव भी व्यासपुर के नाम से जाना जाता था। गुफा को देखना आपके लिए एक आल्हादक अनुभव दे सकता है।

bhakra nangal dam photo gallery
bhakra nangal dam photo gallery

इसके बारेमे भी जानिए – साइंस सिटी गुजरात

Markandeya Rishi Temple –

बिलासपुर से 20 कि.मी दूर मार्कंडेय ऋषि मंदिर जो ऋषि मार्कंडेय को समर्पित एक धार्मिक और हिन्दू मंदिर है। यहाँ यात्रालु मार्कंडेय जी के दर्शन करने के लिए आते है। मंदिर के पास में रहा झरना जिन्हे सबसे पवित्र कहा जाता है। क्योकि यह झरना औषधीय गुण से भरपूर है। यह मंदिर की सुंदरता पर्यटकों के मन को आकर्षित करती है। यह मंदिर की मान्यता है की ऋषि मार्कंडेय शारीरिक बीमारियों को ठीक करदेते है। और निःसंतानो को संतान प्राप्ति होती है। इसी वजह से यह मंदिर में लोग अक्सर दर्शन के लिए आते है।

Kandrour Bridge –

एक समय 80 मीटर की ऊँचाई पर बना कंदूर ब्रिज एशिया का सबसे ऊँचा पुल हुआ करता था। यह दुनिया के सबसे ऊँचे पुलों में से एक कहाजाता है। चूना पत्थर चट्टानों से बना यह ब्रिज की नदी हिमालय के बर्फ को पिघलने से पानी के कारण ग्रीष्मकाल के दौरान शुरू होती है। यह जगह गुमने और देखने के लिए अक्सर आया करते है।

bhakra nangal dam photo
bhakra nangal dam photo

Bachhretu Fort –

अपने शासनकाल के दौरान राजा रतन चंद ने 14 वीं शताब्दी में यह किले को बनवाया था। बिलासपुर जिले का सबसे प्राचीन किला फोर्ट बछरेटू है। फोर्ट की शानदार संरचना वर्तमान समय में एक खंडहर सी रह गयी है। मगर आज भी उसका ऐतिहासिक महत्व रहा है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के तहत यह किला यात्रलुओ के लिए खुला है। समुद्र तल से 3000 फीट की ऊंचाई पर बछरेटू किला स्थित है। और फ़ोटोग्राफ़ी और इतिहास रसिको के लिए यह जगह बहुत ही खूबसूरत कही जाती है।

Sri Naina Devi Ji Temple –

8 वीं शताब्दी के समय में राजा बीर चंद ने बिलासपुर जिले में श्री नैना देवी जी मंदिर का निर्माण करवाया था। यह मंदिर के निर्माण के साथ कई किवदंतिया और कहानिया प्रचलित है। क्योकि की यह मंदिर को बहुत पवित्र माना जाता है। यह टेम्पल राजा ने समुद्र तल से 1219 मीटर ऊंचाई पर निर्मित करवाया है। यह श्री नैना देवी के मंदिर में तीर्थयात्रियों की भीड़ हमेशा के लिए रहती है। क्योकि की रहस्यमय लोक कथाएँ में गिरा यह मंदिर तीर्थयात्रियों को यात्रा करने के लिए लुभाता है।

Laxmi Narayan Mandir –

बिलासपुर का लक्ष्मी नारायण मंदिर भगवान विष्णु और उनकी पत्नी माता लक्ष्मी को समर्पित है। बिलासपुर का यह अद्भुत मंदिर में आनेवाले भक़्त धन की देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा करके आशीर्वाद के लिए आया करते है। उसकी वास्तुकला देखे तो टेम्पले की बनावट शिखर शैली प्रकार की दिखाई देती है। जिससे वास्तुकला में रूचि रखने वाले यात्रिको को ज्यादा आकर्षित करता है। यह टेम्पले बिलासपुर बस स्टैंड के नजदीक ही स्थित है। अगर कोई बिलासपुर की यात्रा करता है तो उन्हें लक्ष्मी नारायण मंदिर जरूर देखना चाहिए।

nangal dam photo
nangal dam photo

इसके बारेमे भी जानिए – नंदी हिल्स का इतिहास

Nahar Singh Temple –

बिलासपुर के स्थानिक लोग बाबा नाहर सिंह में सबसे ज्यादा लगाव और विश्वास रहते हैं। जिसके चलते नाहर सिंह धौलरा की पूजा भी करते है। बाबा नाहर सिंह को समर्पित मंदिर मंदिर में उनकी चप्पलें रखी दिखाई देती है। यह टेम्पले एक धार्मिक महत्त्व रखता और यहाँ पर मई- जून के बिच के मंगलवार के दिन मेले का भी आयोजित हुआ करता है। जिन्हे देखने के लिए कई यांत्रिक आया करते है।

Koldam Dam –

सतलुज नदी पर बना कोल्डम बांध बिलासपुर से 18 कि.मी दूर स्थित है। कोलडैम भी यहाँ का मुख्य आकर्षण केंद्र है। क्योकि यहाँ की प्राकृतिक परिदृश्य से भरी जगह में लोग अपनी छुट्टिया और पिकनिक के लिए आया करते है। बिलासपुर की यह जगह कुदरती सौन्दर्य और बारिश की सीजन में बहुत ही लाजवाब दिखाई देती है।

भाखड़ा नांगल परियोजना
भाखड़ा नांगल परियोजना

भाखड़ा नांगल बांध कैसे पहुंचे –

रेलवे से भाखड़ा नांगल बांध कैसे पहुँचे –

अगर आप भाखड़ा नांगल बांध जाने के लिए rain को पसंद करते है। तो आपको बतादे की बिलासपुर में कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। लेकिन पंजाब राज्य का कीरतपुर साहिब यह बांध का नजदीकी रेलवे स्टेशन जो यहाँ से तक़रीबन 95 किमी दूर मौजूद है। यहाँ उतर कर आप टैक्सी से या बस से बिलासपुर पहुंच सकते है।

सड़क मार्ग से Bhakra Nangal Dam कैसे पहुंचें –

अगर आप भाखड़ा नांगल बांध जाने के लिए Road मार्ग को पसंद करते है। तो आपको बतादे की बिलासपुर hp यानि हिमाचल प्रदेश के सभी मुख्य शहरो से बहुत ही अच्छे से जुड़ा हुआ है। चंडीगढ़, दिल्ली और शिमला जैसे बड़े शहरो  की लिए नियमित रूप से बस सुविधाएं मौजुद है। आप बिलासपुर पहुंच के 20 किमी की दुरी तय करके भाखड़ा नांगल बांध पहुंच सकते है।

Bhakra Dam
Bhakra Dam

भाखड़ा नांगल बांध फ्लाइट से कैसे पहुंचे –

अगर आप भाखड़ा नांगल बांध जाने के लिए Flight को पसंद करते है। तो आपको बतादे की बिलासपुर का कोई हवाई अड्डा नहीं है। मगर शिमला हवाई अड्डा बिलासपुर का नजदीकी हवाई अड्डा जो 124 किमी दूर स्थित है। यहाँ  बहुत ही आसानी से बस से या टैक्सी किराये से बहुत ही आसानी के साथ पहुंच सकते है।

इसके बारेमे भी जानिए – तुगलकाबाद किला का इतिहास और जानकारी

Bhakra Nangal Dam Map –


Bhakra Nangal Dam Bilaspur Information In Hindi Video –

Interesting Fact –

  • सतलज नदी पर बना बांध दो बांधों भाखड़ा और नांगल बांधों से मिलकर बना है।
  • नांगल बांध भाखड़ा बांध से 13 किमी दूर स्थित है।
  • भाखड़ा नांगल बांध को जल विघुत उत्पादन और सिंचाई के लिए बनाया गया है।
  • पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान जैसे राज्यों को भाखड़ा बांध का पानी मिलता है।
  • भाखड़ा नांगल बांध का प्रशासन, रखरखाव और संचालन भाखड़ा प्रबंधन board (बीएमबी) करता है।
  • भाखड़ा बांध Multi-Purpose Project जो खेती के लिए है।
  • सतलुज-ब्यास नदी में बाढ़ रोकना, सिंचाई के लिए पानी और हाइड्रो-इलेक्ट्रिसिटी को उत्पन्न करना है।
  • बाँध के पीछे वाली झील का नाम ‘गोविन्द सागर’ जो सिक्खों के 10वें गुरु गोविन्द सिंह के नाम से है।
  • सरोवर  गोविंद सागर जलाशय की क्षमता 9.340 घन किमी है।
  • यह बांध शक्ति उत्पादन  टर्बाइन 5 x 108 MW, 5 x 157 MW फ्रांसिस टरबाइन की क्षमता रखता है।

    bhakra nangal dam pics
    bhakra nangal dam pics

Bhakra Nangal Dam FAQ –

Q : भाखड़ा बांध किस राज्य में है?

Ans :हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर के नांगल में भाखड़ा बांध स्थित है।

Q : भाखड़ा बांध की ऊंचाई कितनी है?

Ans :226 मी यानि 741 फीट भाखड़ा बांध की ऊंचाई है।

Q : भाखड़ा नांगल परियोजना कब शुरू हुई?

Ans :1948 में निर्माण कार्य शुरू हुआ और 22 अक्टूबर 1963 को

यह बांध का उद्घाटन पंडित जवाहर लाल नेहरू ने किया था।

Q : भाखड़ा डैम कौन सी नदी पर है?

Ans :सतलुज नदी पर भाखड़ा डैम बनाया गया है।

Q : भाखड़ा नहर की गहराई कितनी है?

Ans :यह नहर की गहराई करीब 26 फुट है एव चौड़ाई 20 फुट है।

Q : सबसे ऊंचा गुरुत्वीय बाँध कौन सा है?

Ans :भाखड़ा नांगल बाँध भूकंपीय क्षेत्र में स्थित विश्व का सबसे ऊंचा गुरुत्वीय बांध है।

इसके बारेमे भी जानिए – उत्तराखंड चार धाम का इतिहास और जानकारी

Conclusion –

आपको मेरा Bhakra Nangal Dam Bilaspur Information In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Bhakra nangal dam on which river और

Bhakra nangal dam is in which state से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

Note –

आपके पास Duniya ka sabse bada dam या

Bhakra nangal dam in hindi की कोई जानकारी हैं।

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *