Bhainsrorgarh Fort History In Hindi

Bhainsrorgarh Fort History In Hindi | भैंसरोडगढ़ किले का इतिहास और जानकारी

नमस्कार दोस्तों Bhainsrorgarh Fort In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम भैंसरोडगढ़ दुर्ग घूमने की जानकारी बताने वाले है।भैंसरोडगढ़ दुर्ग चंबल और ब्राह्मणी नदियों से घिरा हुआ मुख्य किला है। भैंसरोडगढ़ दुर्ग का निर्माण रावत केसरी सिंह के पुत्र रावत लाल सिंह-द्वितीय ने करवाया था। वर्तमान समय में एक लक्जरी विरासत होटल में बदल दिया गया भैंसरोडगढ़ दुर्ग मेवाड़ साम्राज्य के अधीन होते होते कई राजाओ के अधीन रहा है। उसकी संरचना बहुत ही खूबसूरत है। क्योकि किला तीन तरफ नदियों से घिरा है।

अरावली पर्वतमाला के घने जंगलों के बीच बसा Bhainsrodgarh Kila की सुंदरता से दुनिया भर के पर्यटक आकर्षित होते है। राजस्थान का यहाँ किला पर्यटक साथ साथ इतिहास प्रेमियों के लिए भी एक पसंदीदा स्थल है। रावतभाटा का भैंसरोडगढ़ किला राजस्थान के वेल्लोर के नाम से प्रसिद्ध है। भैंसरोडगढ़ किला डोड शाखा के परमार, राठौड़, शक्तावत और चुंडावत के पश्यात हाड़ा राजाओ को मिला था। भैंसरोडगढ़ दुर्ग उदयपुर से 240 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में और कोटा से 51 किलोमीटर दक्षिण में स्थित है।

Bhainsrorgarh Fort History In Hindi

भैंसरोडगढ़ फोर्ट का इतिहास बताए तो उसका इतिहास 250 साल पहले का बताया जाता है। 1740 के दशक में भैंसरगढ के किला का निर्माण रावत केसरी सिंह के पुत्र रावत लाल सिंह-द्वितीय ने किया था। Bhainsrodgarh Durg पर दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी ने आक्रमण किया था। उस समय अलाउद्दीन खिलजी ने भैंसरोडगढ़ फोर्ट के पुराने मंदिरों को नस्ट करके इमारतों को भी तोड़ दिया था। वर्तमान समय में भैंसरोडगढ़ दुर्ग को एक शाही लक्जरी विरासत होटल में बदल दिया गया है।

Bhainsrorgarh Fort chittorgarh
Bhainsrorgarh Fort chittorgarh

इसके बारेमे भी जानिए – मध्य प्रदेश का हनुवंतिया टापू घूमने की संपूर्ण जानकारी

Best Time To Visit Bhainsrorgarh Fort

भैंसरोडगढ़ दुर्ग घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – अगर पर्यटक भैंसरोडगढ़ दुर्ग घूमने जाना चाहते है। तो आपको बता दे की यहाँ घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च महीने का है। क्योंकि उस समय राजस्थान के भैंसरोडगढ़ दुर्ग का मौसम बहुत खुशनुमा और सुहावना होता है। अगर पर्यटक सर्दियों के मौसम में भैंसरोडगढ़ दुर्ग की यात्रा करते है। तो बहुत अच्छा साबित होता है।

Bhainsrorgarh Fort Timings

भैंसरोडगढ़ दुर्ग खुलने और बंद होने का समय की जानकारी बताए तो भैंसरोडगढ़ दुर्ग यात्री के लिए हररोज़ सुबह 9.00 बजे से खोलते है। तो शाम 6.00 बजे बंध होता है। अगर पर्यटक पूर्ण रूप से और बारीकी से भैंसरोडगढ़ किले को देखना चाहते है। तो आपको तक़रीबन 1 से 2 घंटे का समय निकालकर जरुरी है। उस समय में आप बहुत अच्छे से bhainsrorgarh durg को देखने का मजा ले सकते है।

Bhainsrorgarh Fort hotel
Bhainsrorgarh Fort hotel

इसके बारेमे भी जानिए – कन्याकुमारी का मुख्य पर्यटन स्थल विवेकानन्द रॉक मेमोरियल

Bhainsrorgarh Kila Entry Fees

भैंसरोडगढ़ किले में पर्यटकों के प्रवेश और घूमने के लिए कोई एंट्री फीस नही है।

Bhainsrorgarh Fort Architecture

भैंसरोडगढ़ किले (kota fort) के परिसर में गणेश, माताजी, दो विष्णु मंदिर और चार मंदिर भगवान शिव जी के मन्दिर बने हुए देखने को मिलते हैं। यहाँ पुराने स्थापत्य ग्रंथों में कई उत्कृष्ट मूर्तियों का उल्लेख देखने को मिलता है। लेकिन उस सभी को संग्रहालयों में भेजा गया लगता है। उसमे एक सोते हुए विष्णु, एक शुरुआती ब्रिटिश पुरातत्वविद् ने सभी हिंदू मूर्तियों में सबसे सुंदर बताया था। यह किला एक विकट दुर्ग और प्राचीन भारतीय शास्त्रों में वर्णित जल दुर्ग की कोटि में आता है।

भैंसरोडगढ़ किले की फोटो गैलरी
भैंसरोडगढ़ किले की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी जानिए – नारायणी माता मंदिर और दर्शन की सम्पूर्ण जानकारी

Bhainsrorgarh Fort Hotel Contact

Bhainsrorgarh, 323304, Kota, India

Telephone: +91(1475)232006

The Palace, Po. via Kota Bhainsrorgarh (Near Bundi), Kota, Kota, India, 323304

Bhainsrorgarh Fort Images
Bhainsrorgarh Fort Images

Bhainsrorgarh Wildlife Sanctuary

भैंस रोड गढ़ अभ्यारण – भैंसरोगगढ़ वन्यजीव अभयारण्य राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में अरावली पहाड़ियों में स्थित है। यह राज्य का सबसे महत्वपूर्ण और विश्व प्रसिद्ध वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है। उसको 1983 में घोषित किया था। प्राकृतिक स्थान प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफरों के लिए एक आदर्श स्थल है। वन्यजीव अभयारण्य जानवरों और पक्षियों की कई प्रजातियों का घर है। 

यहाँ पर्यटक चिंकारा, लोमड़ी, लकड़बग्घा, हिरण, सियार, मृग, जंगली सूअर, मगरमच्छ, कछुए और छिपकली को देख सकते है। उसके अलावा प्रवासी पक्षियों जैसे फ्लेमिंगोस, सारस क्रेन, हंस, ब्लैक-बेलिड टर्न और रेड-क्रेस्टेड पोचर्ड को देख सकते हैं। यहाँ दो नदियों में तैरते हुए पानी में डॉल्फ़िन भी देख सकते हैं। मानसून के यहाँ का वातावरण बेहद आकर्षक दिखाई देता है। पर्यटक नदी के तट पर हरी-भरी हरियाली को देख आनंद ले सकते हैं।

Bhainsrorgarh Fort hotel bhainsrorgarh rajasthan
Bhainsrorgarh Fort hotel bhainsrorgarh rajasthan

इसके बारेमे भी जानिए – भारत के साथ दुनिया के सबसे खतरनाक रेलवे ट्रैक की जानकारी

How To Reach Bhainsrorgarh Fort

ट्रेन से भैंसरोडगढ़ दुर्ग कैसे पहुँचे

How To Reach Bhainsrodgarh Fort By Train – पर्यटक परिवार दोस्तों के साथ रेलवे से राजस्थान की यात्रा करना चाहते है। तो भैंसरोडगढ़ दुर्ग का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन कोटा रेलवे जंक्शन है। वह भैंसरोडगढ़ दुर्ग से तक़रीबन 75 कि.मी दूर स्थित है। कोटा रेलवे जंक्शन राजस्थान और भारत के सभी बड़े शहरों से रेल मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। कोटा रेलवे स्टेशन पहुच के पर्यटक ऑटो, टैक्सी या स्थानीय वाहनों से भैंसरोडगढ़ पहुंच सकते है।

भैंसरोडगढ़ किला फोटो
भैंसरोडगढ़ किला फोटो

सड़क मार्ग से भैंसरोडगढ़ दुर्ग कैसे पहुँचे

How To Reach Bhainsrorgarh Fort  By Road – भैंसरोडगढ़ दुर्ग राजस्थान राज्य के सभी बड़े शहरों से सड़क मार्ग से अच्छे से जुड़ा हुआ है। भैंसरोडगढ़ दुर्ग का रास्ता उदयपुर, जयपुर, जोधपुर के साथ साथ पड़ोसी राज्यों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। सड़क मार्ग से भैंसरोडगढ़ दुर्ग जाना चाहते है। तो एक अच्छा विकल्प है। राजस्थान के कई शहरो से दुर्ग के लिए बस सेवा उपलब्ध है। उसके अलावा निजी कार, टैक्सी या डीलक्स बसें, एसी कोच और राज्य द्वारा संचालित बसों से यात्रा कर सकते हैं।

फ्लाइट से भैंसरोडगढ़ दुर्ग कैसे पहुँचे

How To Reach Bhainsrorgarh Fort By Flight – अगर आप भैंसरोडगढ़ दुर्ग जाने के लिए फ्लाइट से जाना चाहते है। तो भैंसरोडगढ़ दुर्ग का सबसे निकटतम हवाई अड्डा डबोक हवाई अड्डा उदयपुर स्थित है। वह भैंसरोडगढ़ किले से तक़रीबन 245 किमी दूर है। पर्यटक  फ्लाइट से यात्रा करके उदयपुर हवाई अड्डा से भैंसरोडगढ़ दुर्ग जाने के लिए बस, टैक्सी या कैब किराये पर ले सकते हैं।

Bhainsrorgarh Fort hotel kota
Bhainsrorgarh Fort hotel kota

इसके बारेमे भी जानिए – भगवान शनि शिंगणापुर मंदिर में दर्शन और यात्रा की जानकारी

Bhainsrorgarh Fort Map भैंसरोडगढ़ किले का लोकेशन

Bhainsrorgarh Fort Information In Hindi Video

Interesting Facts About Bhainsrorgarh Fort

  • भैंसरोडगढ़ किला या भैंसुर का किला राजस्थान का एक प्राचीन किला है। 
  • चंबल और बामणी नदी के बीच भैंसरगढ़ एक अभेद्य किला स्थित है।
  • भैंसरोडगढ़ दुर्ग को राजस्थान का वेल्लोर भी कहते है। 
  • भैंसरोगगढ़ वन्यजीव अभयारण्य चित्तौड़गढ़ में अरावली पहाड़ियों में स्थित है।
  • यह प्राकृतिक स्थान प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफरों के लिए आदर्श है।
  • यहाँ यात्री चिंकारा, लोमड़ी, लकड़बग्घा, हिरण, सियार, मृग, जंगली सूअर, मगरमच्छ और कछुए को देख सकते है। 
  • आज शाही परिवार ने किले को एक लक्जरी विरासत होटल में बदल दिया है।
  • यहां महाराणा प्रताप के भाई शक्तिसिंह की छतरी बनी हैं।

FAQ

Q .भैंसरोडगढ़ दुर्ग कहां पर स्थित है?

चम्बल और बामनी नदि के तट पर अरावली पर्वतमाला की घाटी में भैंसरोड गढ़ दुर्ग स्थित हैं।

Q .भैंस रोड गढ़ का किला किस जिले में है?

रावतभाटा

Q .भैंस रोड गढ़ दुर्ग का निर्माण किसने करवाया था?

सलम्बर के रावत केसरी सिंह के पुत्र रावत लाल सिंह-द्वितीय

Q .गैंगस्टर किला कहां स्थित है?

गागरौन दुर्ग को गैंगस्टर किला कहते है।

Q .उटाला का किला कहा है?

उटाला का किला भैंसरोडगढ़ दुर्ग के पास ही स्थित था।

Conclusion

आपको मेरा लेख Bhainsrorgarh Fort History बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Bhainsrorgarh chittorgarh, Bhainsrorgarh Fort owner

और Bhainsrorgarh Fort contact number से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Bhainsrorgarh Fort Detail in Hindi की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Bhainsrorgarh village, Bhainsrorgarh royal family, Bhainsrorgarh Fort hotel website, चित्तौड़ का किला फोटो, कोटा का किला, राजस्थान का वेल्लोर किसे कहते हैं, नाहरगढ़ किला का रहस्य, भैंस रोड गढ़ से बिजोलिया के मध्य स्थित पठार कहलाता है, मेवाड़ का किला

इसके बारेमे भी जानिए – सवाई माधोगढ किले का इतिहास और जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.