Best Places to Visit in Pathankot in Hindi

Best Places to Visit in Pathankot in Hindi | पठानकोट में घूमने के पर्यटक स्थल

नमस्कार दोस्तों Pathankot in Hindi आपका स्वागत है। आज हम पठानकोट पर्यटन में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहें की जानकारी बताने वाले है। पंजाब, कश्मीर और हिमाचल के पास पठानकोट कांगड़ा की तलहटी में स्थित है। पठानकोट अपने समृद्ध ऐतिहास और हरी भरी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। डलहौजी और कांगड़ा घाटी की तलहटी में स्थित, पठानकोट सभी यात्रिओ को भारत के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक प्रदान करता है। हिमालय की अद्भुत पृष्ठभूमि के साथ, शक्तिशाली हिमालय की तलहटी की के लिए पठानकोट शहर सबसे अधिक देखी जाने वाली जगह है।

समुद्र तल से 332 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, हिमाचल और जम्मू और कश्मीर का यह द्वार अपनी समृद्ध विरासत, बुनाई उद्योग, मंदिरों, जल निकायों और हनीमून के साथ बड़ी संख्या में पर्यटकों और यात्रियों को आकर्षित करता है। पठानकोट आपको आरामदायक होटल और रिसोर्ट ठहरने की बुकिंग के अवसर भी प्रदान करता है। शटरबग्स, हनीमून मनाने वालों, शांति चाहने वालों, परिवारों और सप्ताहांत यात्रियों के लिए आदर्श होने के कारण, यह हिल स्टेशन सभी को सुकून देता है। और रोमांचित करता है।

History of Pathankot in Hindi

पठानकोट का इतिहास देखे तो पंजाब का पठानकोट सबसे पुराना शहर है। पठानकोट में कई शासकों ने शासन किया है। 1781 में यहाँ नुपुर राज्य के सैयद खान का शासन था। 17 वीं शताब्दी के अंत तक यह क्षेत्र नूरपुर राज्य का हिस्सा था और राजपूतों का शासन था। नूरपुर राज्य की स्थापना दिल्ली के टौर राजपूत राणा भेट ने की थी। उन्होंने पहाड़ियों की तलहटी में पूरे देश पर अधिकार कर लिया था। महान महाकाव्य, महाभारत में, पठानकोट को ऑडुम्बर के रूप में जाना जाता है और आइन-ए-अकबरी की प्राचीन पुस्तक में, इसे ‘परगना मुख्यालय’ के रूप में उल्लेख किया गया था।

सिख इतिहास के अनुसार पठानकोट की स्थापना पहले सिख गुरु – गुरु नानक देव जी ने की थी। मध्ययुगीन काल के समय में अफगानिस्तान में पठान की गिलजई जाति सत्ता में आई थी। अफगानिस्तान की पठान, मारवात, खट्टक, युसुफजई और अन्य पठान भारत चले गए थे। वह पठानकोट और होशियारपुर में बस गए। जिसके चलते शहर का नाम पठानकोट पड़ा था। इतिहासकारो के अनुसार पठानकोट शब्द की उत्पत्ति ‘पठान’ शब्द से हुई है। वर्तमान में पठानकोट भारत के सैन्य जवानो का एशिया का सबसे बड़ा सैन्य अड्डा है।

Pathankot Places Photos
Pathankot Places Photos

इसके बारेमे भी जानिए – कोलकाता शहर के बिच स्थित विक्टोरिया मेमोरियल की जानकारी

पठानकोट घूमने का सबसे अच्छा समय

अगर आप खुद पठानकोट की यात्रा का आनंद लेना चाहते हैं। तो अक्टूबर से अप्रैल का समय सबसे अच्छा है। लेकिन आप पठानकोट के पास अन्य स्थानों की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं। तो आप यहाँ कोई भी समय आ सकते हैं। क्योंकि गर्मियों में भी मौसम (Pathankot weather) बहुत गर्म नहीं होता है। और साल भर शहर का मौसम बहुत ही सुहावना होता है। पर्यटक फैमली या फ्रेंडस के साथ पठानकोट के प्रसिद्ध पर्यटक स्थल घूमने जाते है। तो कोई भी मौसम में पठानकोट के दर्शनीय स्थल के लिए अच्छा है।

पठानकोट में घूमने के पर्यटक स्थल
पठानकोट में घूमने के पर्यटक स्थल

Pathankot Tourist Places

  • Hydraulic Research Station
  • Kali Mata Ka Mandir
  • Nagni Temple
  • Kali Mata Temple
  • Novelty Mall Pathankot
  • Shani Dev Mandir
  • Laxmi Narayan Temple
  • City Center Mall Pathankot
  • Mukteshwar temple
  • Nurpur Fort
  • Ranjit Sagar Dam
  • Shahpurkandi Fort
  • Kathgarh temple
  • Nagni Temple
  • Ashapurni Mandir

Famous Tourist Places of Pathankot

Mukteshwar temple Pathankot

पठानकोट के प्रमुख पर्यटक स्थल में सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक, मुक्तेश्वर मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। मंदिर भगवान शिव को समर्पित 350 वर्ष पुराना और एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। उसका नाम मंदिर के नाम पर रखा गया है। समुद्र तल से 2312 मीटर मंदिर ऊपर है। भव्य मंदिर धर्मग्रंथों में भगवान शिव को समर्पित अठारह मंदिरों में से एक है। पहाड़ी के ऊपर मुक्तेश्वर मंदिर का स्थान अद्भुत फोटोग्राफी करने के लिए एक आदर्श स्थल है। यहां सफेद संगमरमर का शिव लिंग देखने को मिलता है। उसमे तांबे की योनि और शिव लिंग के साथ गणेश, ब्रह्मा, विष्णु, पार्वती, हनुमान और नंदी की मूर्तियां हैं।

मुक्तेश्वर मंदिर पठानकोट में भगवान भोलेनाथ के दर्शन के साथ पर्यटक प्रकृति के लुभावने दृश्यों का आनंद ले सकते है। भव्य मंदिर को श्री मुक्तेश्वर महाराज जी का घर कहा जाता है। जो ध्यान का अभ्यास करने के लिए भी एक उपयुक्त स्थान है। यहां यात्री पहाड़ी की चोटी पर भी जा सकते हैं। उसके अलावा, चूंकि ट्रेक बहुत चुनौतीपूर्ण नहीं है और पहाड़ी तक का रास्ता फलों के बागों और जंगलों से ढका हुआ देखने को मिलता है। यहाँ जाने के लिए पर्यटकों को लगभग 2 घंटे का समय लगता हैं। मुक्तेश्वर मंदिर खुलने का समय सुबह 7.00 बजे से शाम 7.00 बजे तक और उसमे प्रवेश शुल्क नहीं है।

Pathankot Images
Pathankot Images

इसके बारेमे भी जानिए – असम राज्य के सबसे महत्वपूर्ण शहर डिब्रूगढ़ के टॉप पर्यटन स्थलों की जानकारी

Nurpur Fort Pathankot

Noorpur Fort Pathankot में स्थित एक 900 साल पुराना किला है। नूरपुर किला पठानकोट से 26 किमी की दूरी पर स्थित है। इस किले का निर्माण 10 वीं शताब्दी में पठानिया कबीले ने किया था। किले पर की नक्काशी को बखूबी आज भी देखा जा सकता है। पर्यटक किले के अंदर भगवान श्री कृष्ण को समर्पित मंदिर भी देख सकते हैं। सरकार की अनदेखी के चलते किला अब ज्यादा अच्छी अवस्था में नहीं है। फिरभी किला पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है। अंग्रेजों ने नष्ट किया पैलेस प्राचीन समय में पठानकोट की अद्भुत संरचनाओं में से एक था।

उसके पश्यात नूरपुर किला पठानकोट को 1905 में भूकंप ने ध्वस्त करदिया था। लेकिन फिर भी आज यहाँ किले का कुछ हिस्सा मौजूद है जो पर्यटकों को इसकी ऐतिहासिक सुन्दरता का अनुभव प्रदान करता है। नूरपुर किला का निर्माण पठानिया राजपूतों ने किया है। उसके पश्यात शाहजहाँ ने नूरजहाँ के नाम से उसका नाम रखा था। यहाँ गर्भगृह में स्थित कृष्ण मंदिर में भगवान कृष्ण और मीरा बाई की मूर्ति एक साथ पूजा होती है। यह मंदिर कृष्णा और मीराबाई के भक्तो के लिए प्रसिद्ध है।

पठानकोट इमेज
पठानकोट इमेज

Ranjit Sagar Dam Pathankot 

रणजीत सागर बांध सिंचाई और बिजली उत्पादन के लिए बनाया गया था। रावी नदी पर निर्मित डैम इंजीनियरिंग का एक आश्चर्यजनक काम है। और पंजाब राज्य की सबसे बड़ी जलविद्युत परियोजना है। 32 बिलियन क्यूबिक मीटर क्षमता वाले जलाशय का 60% जम्मू और कश्मीर क्षेत्र में आता है जबकि शेष 40% पठानकोट में रहता है । बिजली संयंत्र में चार टर्बाइन हैं जो कुल बिजली का 600 मेगावाट उत्पन्न करते हैं।

रणजीत सागर बांध बिजली उत्पादन के साथ एक प्रमुख पर्यटक स्थल है। जिन्हे देखने के लिए स्थानीय लोगो के साथ कई विदेशी पर्यटक भी आना पसंद करते है। डेम के आसपास की प्राकृतिक सुंदरता के देखकर कोई भी आश्चर्यचकित हो जाता है। उसकी नगरी को शाहपुर कंड़ी कहते है। वह प्रसिद्ध गुरुद्वारा श्री सिंह सभा का निवास स्थान है। खूबसूरत पहाड़ियों और घुमावदार झीलों के बिच स्थित रणजीत सागर सैलानी को आकर्षित करता है।

Pathankot Photos
Pathankot Photos

Shahpurkandi Fort Pathankot

शाहपुरकंडी किला 16वीं शताब्दी में बना पठानकोट का एक प्रसिद्ध किला है। किला एक सामरिक सैन्य किला था। जो अब पर्यटकों के लिए विश्राम गृह के रूप में कार्य करता है। यह रावी नदी के तट पर स्थित है और शहर के कुछ अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है। किला जम्मू और कश्मीर राज्य और पठानकोट के संगम पर स्थित है। यह पठानकोट के सबसे अच्छे पर्यटन स्थल में से एक है। शाहपुरकंडी किला का निर्माण 1505 में राजपूत प्रमुख जसपाल सिंह पठानिया ने नूरपुर और कांगड़ा की रक्षा के लिए किया था।

इसके बारेमे भी जानिए – असम के खूबसूरत पार्क काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान घूमने की सम्पूर्ण जानकारी 

Kathgarh temple Pathankot

काठगढ़ मंदिर भगवान शिव और पार्वती को समर्पित है। यह मंदिर अपने 6 फुट ऊँचे शिवलिंग के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर के लिंग की उत्पत्ति  रहस्यमय है। ऐसा कहाजाता है कि भगवान राम ने सीता माता की खोज के समय भरत के साथ मंदिर का दौरा किया था। मंदिर ब्यास और चोंच नदी के संगम पर स्थित रोमन शैली की वास्तुकला में बनाया गया है। पठानकोट शहर ने हिमाचल प्रदेश और जम्मू और कश्मीर के पहाड़ी क्षेत्रों में जाने वाले यात्रिओ का एक विश्राम स्थल था। डलहौजी, चंबा और कांगड़ा जैसे प्रसिद्ध हिल स्टेशन वाला शहर समृद्ध संस्कृति और इतिहास उसका आकर्षण है।

पठानकोट की तस्वीरें
पठानकोट की तस्वीरें

Hotels in Pathankot

पठानकोट में रुकने के लिए होटल्स और खाने की बात करे तो उत्तर भारतीय भोजन, पंजाबी भोजन, पहनकोट में आगंतुकों के पसंदीदा हैं। पठानकोट की विशिष्टताओं में दाल तरका, मटन टिक्का, मटन करी और मटर पनीर शामिल हैं। स्थानीय पंजाबी व्यंजनों में चन्ना बतूरा या छोले बतूरा, पनीर की विभिन्न किस्में, दाल मखनी, राजमा, लस्सी, सरसों दा साग और मकाई की रोटी शामिल हैं। पंजाबी व्यंजनों में एक स्टैंडआउट समृद्ध और मसालेदार मांसाहारी व्यंजन हैं।

उसके अलावा समोसा, पकौड़े और जलेबी, बर्फी, खीर, गुलाब जामुन और पलंग-टोड सहित मिठाइयाँ जैसे स्नैक्स आज़माएँ, जो एक प्रकार का मिल्क-केक है। पारंपरिक व्यंजनों के साथ यह आरा लीची के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ कोई भी फल का आनंद ले सकते है या कुछ ताज़ा लीची के रस में घूंट ले सकते है। पठानकोट पंजाब का एक छोटा शहर है। फिरभी पठानकोट में हाई बजट से लो बजट तक सभी प्रकार की होटल्स उपलध है।

  • Hotel Orchard Green
  • Tourist Lodge
  • Green Hotel & Restaurant
  • Hotel Jewel Premium

    Pathankot pictures
    Pathankot pictures

How to Reach Pathankot

ट्रेन से पठानकोट कैसे पहुंचे

पठानकोट में खुद का एक महत्वपूर्ण रेलवे जंक्शन है। क्योंकि यह भारतीय रेलवे को कांगड़ा घाटी रेलवे से जोड़ता है जो हिमाचल प्रदेश के विभिन्न स्थानों तक पहुंचने के लिए महत्वपूर्ण है। पर्यटकों को बता दे पठानकोटसे एक्सप्रेस और सुपर फ़ास्ट ट्रेनों से राज्य और देश के प्रमुख शहरों से जुड़ा है। ट्रेन से पर्यटकों को पठानकोट जाना एक अच्छी पसंद हो सकती है। वहाँ से यात्री ऑटो रिक्शा ले सकते हैं।

Pathankot to ahmedabad train 1,327.0 km

सड़क मार्ग से पठानकोट कैसे पहुंचे

पठानकोट पंजाब राज्य के सभी शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। जिसके चलते पठानकोट सड़क मार्ग से आसानी से पहुँच सकते है। पठानकोट तक बस/टैक्सी/सेल्फ ड्राइव से पहुंच सकते है। महाराणा प्रताप इंटर स्टेट बस टर्मिनल पठानकोट का एक प्रमुख बस स्टेशन है। बस के साथ साथ पर्यटक अपनी कार या एक टेक्सी बुक करके भी पठानकोट जा सकते है।

Pathankot to dalhousie 82 Kms

फ्लाइट से पठानकोट कैसे पहुंचे

पठानकोट में एक हवाई अड्डा है लेकिन वाणिज्यिक उड़ानें केवल नई दिल्ली और कुल्लू सहित सीमित शहरों से ही उपलब्ध हैं। निकटतम पूर्ण रूप से कार्यात्मक हवाई अड्डा अमृतसर में है। निकटतम हवाई अड्डा जम्मू पठानकोट से 89 कि.मी दूर स्थित है। अमृतसर एयरपोर्ट पर उतरने के बाद पर्यटक बस, टेक्सी या कार बुक करके पठानकोट पहुंच सकते है।

Pathankot to dharamshala 87 Kms

पठानकोट पर्यटक स्थल फोटो
पठानकोट पर्यटक स्थल फोटो

इसके बारेमे भी जानिए – हिमाचल प्रदेश के 10 सबसे खास पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

Pathankot Punjab Map पठानकोट का लोकेशन


Famous Tourist Places in Pathankot in Hindi Video

Interesting Facts About Pathankot

  • पंजाब के पठानकोट का एक बहुत ही खूबसूरत इतिहास है।
  • पठानकोट हवाई अड्डे का इस्‍तेमाल भारतीय वायु सेना द्वारा किया जाताहै।
  • पठानकोट शहर नूरपुर के पथानी राजपूत राज्य की राजधानी थी। 
  • पर्यटक स्थल के साथ शहर भारतीय वायु सेना और भारतीय सेना के रक्षा बलों का आधार स्थल है।
  • पठानकोट जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश का प्रवेशद्वार है।
  • जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश जाते पर्यटक अक्सर पठानकोट में रुकते है।
  • पठानकोट प्राचीन समय में उदुंबर के नाम से प्रसिद्ध था।

FAQ

Q .पठानकोट कहां पर है?

PathankotPunjab 145001

Q .कौन से महीने में पठान कोट जाना सही है?

अक्टूबर से अप्रैल का समय पठान कोट जाने में सबसे अच्छा है।

Q .पठानकोट कौन सा राज्य में है?

पंजाब

Q .पठानकोट कौन से क्षेत्र में आता है?

भारत के पंजाब राज्य का पठानकोट ज़िला और मुख्यालय है।

Q .पठानकोट क्यों प्रसिद्ध है?

प्राचीन शहर पठानकोट का ऐतिहासिक महत्व से प्रसिद्ध है।

Q .पठानकोट का पुराना नाम क्या है?

पठानकोट का प्राचीन नाम औदुम्बरा और धमेरी था।

Q .पठानकोट जिला कब बना?

पठानकोट को जिला का दर्जा 2011 में मिला था।

Conclusion

आपको मेरा Victoria Memorial Information बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Weather in pathankot, Punjab और

Where is pathankot से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Weather pathankot, punjab, Pathankot attack या 

Pathankot to gurdaspur की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

इसके बारेमे भी जानिए – भारत के सबसे बड़ी और विवादास्पद परियोजना सरदार सरोवर बांध

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *