Belur Math History in Hindi | बेलूर मठ का इतिहास और गुमने की जानकारी

Belur Math History in Hindi | बेलूर मठ का इतिहास और गुमने की जानकारी

आज के हमारे आर्टिकल Belur Math History in Hindi में सभी दोस्तों का स्वागत है। हम कोलकाता का एक प्रसिद्ध मठ और धार्मिक स्थल बेलूर मठ का इतिहास और गुमने की जानकारी देने वाले है। 

कोलकाता शहर की हुगली नदी के पश्चिमी किनारे पर चालीस एकड़ में फैला बेलूर मठ मिशन एव रामकृष्ण मठ का मुख्य कार्यालय है। वह मठ के चारो ओर सुन्दर फूल और अन्य वनस्पतियां मौजूद है। मंदिर के आगन में संग्रहालय एव अन्य शिक्षण संस्थान उपस्थित है। आज हम Belur Math president, Belur Math durga puja और Belur Math vidyamandir के साथ उनकी सभी अनसुनी माहिती से महीतगार करने वाले है। 

 अगर यहाँ कोई  गुमने के लिए जाता है। तो उनके चार पांच घंटे बहुत ही सरलता से व्यतीत हो जाते है। उस मठ को धर्मनिरपेक्षता के प्रतीक से जाना जाता है। क्योकि उस मठ में बौद्ध, इस्लामी, हिंदू और वास्तुकला की ईसाई शैलियों का प्रयोग हुआ है। कोलकाता शहर के सबसे प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक माना जाता है। वह एक ऐसा लोकप्रिय धार्मिक स्थान है। जो हजारोंपर्यटकों को अपनी और आकर्षित किया करता है। तो चलिए Belur Math kolkata की कहानी बताते है। 

Belur Math History in Hindi –

बेलूर मठ के इतिहास की जानकारी बताये तो वह मुख्य रूप से आध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानंद मिला हुआ है। 1897 साल मे अपने कुछ अनुयायिओं के साथ मिलके स्वामी विवेकानंद  बल्कि दो मठों की स्थापना करवाई थी। एक बेलूर मठ  और दूसरा चंपावत जिले के मायावती जो हिमालय में उपस्थित है। उस मठ का नाम अद्वैत आश्रम है। यह मैथ का मुख्य कार्य युवाओ को काम में शिक्षित करना था। स्वामी विवेकानंद ने अपने अंतिम पल यहाँ गुजरे थे। उस मठ की निर्माण शिलान्यास 13 मार्च 1929 को हुआ था। और उस निर्माण का कार्य मार्टिन बर्न एंड कंपनी ने किया था। 

इसके बारेमे भी जानिए – बैंगलोर पैलेस का इतिहास और जानकारी 

Belur Math की डिजाइन –

Architecture यानि बेलूर मठ की वास्तुकला और डिजाइन की माहिती बताये बेलूर मठ बहार से एक मस्जिद, एक चर्च और एक मंदिर के जैसा दिखता है। मठ का दरवाजा अजंता गुफाओं एव सांची स्तूप की बौद्ध शैलियों से प्रभावित है। मठ की खिड़किया एव बालकनियाँ मुगल शैलियों एव राजपूत वास्तुशिल्प डिजाइनों में बनवाया गया है। उस के मुख्य गुम्बज को यूरोपीय वास्तुकला स्थापित किया गया है। जमीन की सरंचना बताये तो चुनार के पत्थर से निर्मित ईसाई क्रॉस के आकार में बनी हुई है।112.5 फीट ऊंचे हनुमान और गणेश के चित्र बने हुए हैं। मंदिर में भारतीय धर्मों की विविधता दिखाई गई है। 

 बेलूर मठ परिसर

Belur Math History in Hindi | बेलूर मठ का इतिहास और गुमने की जानकारी
Belur Math History in Hindi | बेलूर मठ का इतिहास और गुमने की जानकारी

यह मठ तक़रीबन 40 एकड़ जमीन में फैला हुआ विशाल स्थान है। उस के परिसर में कई सरंचनाएं बानी हुई है। उस बेलूर मठ में रामकृष्ण संग्रहालय, पवित्र माता का मंदिर, स्वामी विवेकानंद मंदिर, रामकृष्ण की प्रतिमा और श्री रामकृष्ण मंदिर उपस्थित है। जिसकी पूरी जानकारी हम विस्तार से बताएँगे। 

Ramakrishna Museum –

Belur Math Campus में रामकृष्ण मिशन का मुख्यालय और एक संग्रहालय है। उस रामकृष्ण संग्रहालय में मिशन एव रामकृष्ण मठ के इतिहास के कुछ बहुमूल्य अवशेष मौजूद हैं। म्यूजियम में स्वामी विवेकानंद, शारदा देवी, रामकृष्ण और उनके अनुयायिओं ने प्रयोग किये हुए साधन और कलाकृतियां का अतुल्य एव अद्भुद संग्रह मौजूद हैं। विवेकानंद का एक लंबा कोट और सिस्टर निवेदिता की मेज जैसे साधन है। 

उस मठ के विशाल परिसर में रामकृष्ण संसथान से जुडी पॉलिटेक्निक एव डिग्री कॉलेज जैसी शैक्षणिक संस्थान उपस्थित है। उस जगह का शांत वातावरण सब के मन को शांति प्राप्त करता है। उस अभी आकर्षणों को देखते हुए बेलूर मठ को तीर्थयात्रा का दर्जा दिया गया है। आध्यात्मिक माहौल  पूरे विस्व में बहुत प्रसिद्ध हुआ है। रामकृष्ण संग्रहालय की टाइमिंग की बात करे तो वह सुबह 8:30 से 11:30 बजे और दोपहर 3:30 से शाम 5:30 बजे तक खुला रहता है। 

इसके बारेमे भी जानिए – भेड़ाघाट धुआंधार जबलपुर की जानकारी

श्री रामकृष्ण मंदिर –

वैसे तो श्री रामकृष्ण मंदिर यह पवित्र मठ का मुख्य आकर्षण है। क्योकि उस का निर्माण कार्य ही भारतीय धर्मों की विविधता को एक जुट करना था। यह मंदिर की डिजाइन को स्वामी विवेकानंद ने खुद अपने हाथो से बनाया था। और उसके वास्तुकार भी स्वामी विज्ञानानंद थे। क्योकि वह रामकृष्ण के प्रत्यक्ष मठवासी अनुयायी शिष्य थे।

पवित्र माता का मंदिर –

पवित्र बेलूर मठ के मुख्य प्रवेश द्वार पर उपस्थित पवित्र माता का मंदिर स्वामी विवेकानंद के गुरु रामकृष्ण की आध्यात्मिक पत्नी शारदा देवी को समर्पित बनवाया है। यह मंदिर उसी स्थान बना है। जिस जगह उन्होंने शारदा देवी के पार्थिव शरीर को जलाया गया था।

रामकृष्ण की प्रतिमा –

गुरु श्री रामकृष्ण की एक बहुत बड़ी प्रतिमा परिसर में उपस्थित है। वह संगमरमर से बने ‘डमरू’ के आकार के पेडल के ऊपर सौ पंखुड़ियों वाले कमल पर उपास्थित है। ऐसा कहा जाता है की उस में श्री रामकृष्ण के पवित्र अवशेष संरक्षित हैं। उस रामकृष्ण की मूर्ति को कोलकाता शहर के प्रसिद्ध मूर्तिकार स्वर्गीय गोपेश्वर पाल ने बनाई थी। उस मंदिर की सजावट श्री नंदलाल बोस ने की हुई है। 

स्वामी विवेकानंद मंदिर –

कलकत्ता की हुगली नदी के किनारे पर बेलूर मठ में स्वामी विवेकानंद की समाधि बनी है। जिस जगह स्वामी की राख रखी हुई है। स्वामी विवेकानंद का मंदिर भी उसी जगह बनवाया गया है। क्योकि 1902 की साल में स्वामी विवेकानंद ने यहाँ अपना देह त्याग किया था। और उस थान पर की उनके नश्वर देह का अंतिम संस्कार हुआ था। स्वामी मंदिर बेलूर मठ का एक बहुत बड़ा आकर्षणों है।

Belur Math Timing –

अप्रैल से सितंबर महीने में Belur Math opening time सुबह 6 बजे से 11:30 बजे तक खुला रहता है। तो शाम को 4 बजे से शाम 7 बजे तक खुला रहता है वही अक्टूबर से मार्च महीने में सुबह 6:30 बजे खुलता है। और 11:30 बजे बंध होता है। दोपहर 3:30 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है। हमारे लिखे वक्त आप कोई भी समय उस Belur Math kolkata timings में देखने के लिए जा सकते है। Belur Math aarti timings सुबह 7 बजे है। 

Belur Math के समारोह  –

मठ की Celebrations and Activities की बात करे तो सरस्वती पूजा, काली पूजा, दुर्गा पूजा और लक्ष्मी पूजा जैसे हिन्दू त्योहारों के साथ साथ यहाँ पवित्र माता, श्री रामकृष्ण और स्वामी विवेकानंद के जन्म जयंती को भी बहुत धाम धूम से मनाया जाता है। यहाँ क्रिसमस, चैतन्य , श्रीकृष्ण, बुद्ध, ईसा मसीह के जन्मदिन भी मनाये जाते है। उत्सवों के अलावा मठ सांस्कृतिक, आध्यात्मिक गतिविधियों के साथ ग्रामीण उत्थान, शिक्षा और चिकित्सा सेवाओं के लिए भी काम करते है। 

इसके बारेमे भी जानिए – कामाख्या देवी मंदिर का इतिहास

Belur Math के नजदीकी पर्यटक स्थल –

  • स्टेट आर्कियोलॉजिकल गैलरी
  • विक्टोरिया मेमोरियल
  • मदर हाउस
  • जोरासांको ठाकुर बाड़ी
  • बिरला मंदिर
  • कालीघाट मंदिर
  • कलकत्ता जैन मंदिर
  • एक्वाटिका
  • इस्कॉन मंदिर
  • निक्को पार्क
  • प्रिंसेप घाट
  • सेंट जॉन चर्च
  • इकोटूरिज्म पार्क
  • अलीपुर चिड़ियाघर
  • बिरला मंदिर 
  • ईडन गार्डन
  • साइंस सिटी
  • ताजपुर
  • सेंट पॉल कैथेड्रल
  • नखोदा मस्जिद
  • साइंस सिटी 
  • भारतीय संग्रहालय 
  • बिड़ला तारामंडल
  • पार्क स्ट्रीट
  • जलदापारा वन्यजीव अभयारण्य
  • हावड़ा ब्रिज
  • बॉटनिकल गार्डन
  • मार्बल पैलेस
  • बिड़ला औद्योगिक और प्रौद्योगिकी संग्रहालय
  • रबींद्र सरोवर

बेलूर मठ का प्रवेश शुल्क – 

कोई भी जगह आप अगर गुमने फिरने के लिए जाते है। तो आपको उस की सम्पूर्ण माहिती होना बहुत जरुरी है। जैसे की उस स्थान के नजदीकी पर्यटक स्थल हो होटल हो उस की प्रवेश फीस की जानकारी होना। लेकिन आपको ज्ञात करदे की बेलूर मठ की सेर करने पर आपको कोई भी फीस का भुकतान नहीं करना पड़ेगा क्योकि वह प्रवेश निशुल्क है। यानि यहाँ आप आराम से घूम सकते है।

बेलूर मठ के नजदीकी होटल्स –

वैसे तो कलकत्ता हमारे भारत का मुख्य शहर होने के कारन यहाँ बहुत आसानी के साथ आपको होटल और गेस्ट हॉउस के कमरे मिलते है। आपको अपने बजट के मुताबिक चॉइस करनी होती है। क्योकि वहा कम से काम बजट की और हाईफाई सुविधाओं वाली होटल आपको मिल सकती है। कोई भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है। 

बेलूर मठ का प्रसिद्ध खाना – 

वैसे तो कोलकाता भारत का बहुत ही प्रसिद्ध शहर है। इस लिए यहाँ आपको सभी प्रकार के खाने प्राप्त होते है। लेकिन यहाँ स्थानीय बंगाली व्यंजनों के कारन बंगाली खाना अधिक मिलता है। यहाँ का बंगाली भोजन मछली और चावल है। लेकिन शहर की होटल एव रेस्टोरेंट में इटालियन, मैक्सिकन, दक्षिण भारतीय व्यंजन, उत्तर भारतीय व्यंजन, अंग्रेजी भोजन और कॉन्टिनेंटल का लुप्त उठा सकते है। आपको यहाँ तिब्बती भोजन जैसे की मोमोस और थुप्पा मिलने वाला है। उस शहर की शान जैसे की क्रीम चुप, रसमलाई, शोंडेश, चमचम और रसगुल्ला जैसी बंगाली मिठाइयाँ खाने को मिलती है। 

बेलूर मठ जाने के लिए सबसे अच्छा समय –

बड़ा शहर होने के कारन आप कोई भी समय यहाँ गुमने के लिए जा सकते है। लेकिन अगर आपको कलकत्ता के दूसरे भी पर्यटक स्थान देखने का नाम हो तो आपके लिए अक्टूबर से फरवरी माह तक में जाना बहुत आवश्यक है। क्योकि उस समय शरद ऋतु एव सर्दियों के मौसम में आपको बेलूर मठ जाना अच्छा अनुभव होगा। क्योकि गर्मियों की सीजन मे लकाता का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस डिग्री के नजदीक पहुँचता है। 

इसके बारेमे भी जानिए – डुमस बीच सूरत का इतिहास

बेलूर मठ कोलकाता पहुँच ने के रास्ते –

रेलवे मार्ग –

How To Reach Belur Math Kolkata ?

यदि आप लोग पश्चिम बंगाल के मशहूर शहर कोलकाता में बेलूर मठ घूमने का सोचते है। और आपको रेलवे मार्ग से जाना है। तो आपके लिए सियालद और हावड़ा कोलकाता शहर के दो मुख्य रेलवे स्टेशन हैं। जो देश के साथ प्रमुख शहरो से जुड़ा हुआ है। कोलकाता उत्तर-पूर्वी भारत का प्रवेश द्वार कारन भारत के सभी बड़े स्टेशनों की ट्रेने यहाँ  हो करके गुजरती है।  हावड़ा और सियालद उतर के आप बहुत आसानी से टेक्सी, केब या ऑटो से आप बेलूर मठ पहुंच सकते है। 

हवाई मार्ग –

अगर किसी ने बेलूर मठ कोलकाता जाने के लिए हवाई मार्ग चुना है। तो आपको बतादे की नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा कोलकाता का घरलू हवाई अड्डा है। यहाँ से बेलूर मठ 11 किलोमीटर की दुरी पर है। वह उतरके बहुत आसानी से टेक्सी, केब या ऑटो से आप बेलूर मठ पहुंच सकते है। आने जाने के लिए बहुत आसान मार्ग है। 

सड़क मार्ग –

अगर किसी ने बेलूर मठ कोलकाता जाने के लिए सड़क मार्ग को पसंद किया है। तो कोलकाता भारत के सभी मुख्य शहरों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। देश के सभी नगरों से नियमित रूप से बस सेवाएं उपलब्ध हैं। अगर आपको खुद के कोई टैक्सी या कार से सफर करना चाहते है। तो बहुत ही आसानी के साथ कर सकते है। शहर नेशनल हाइवे 19 से जुड़ा हुआ है।  

Belur Math Kolkata Map – बेलूर मठ कोलकाता का मेप 

इसके बारेमे भी जानिए – साबरमती आश्रम का इतिहास

Belur Math History in Hindi Video- 

Belur Math Interesting Facts –

  • कोलकाता पश्चिम बंगाल में “सिटी ऑफ़ जॉय” के नाम से मशहूर है। 
  • बेलूर मठ में आप शांति के साथ प्राकृतिक सुन्दरता का अद्भुद अनुभव कर सकते हैं। 
  • हावड़ा स्‍टेशन से यहाँ तक जाने के लिए बस तथा टैक्‍सी मिल जाती है। 
  • बेलूर, कर्नाटक के सबसे प्रसिद्ध स्‍थलों में से एक है। यह हसन जिले में स्थित है। 
  • बेलूर के ऐतिहासिक, दर्शनीय, पर्यटन स्थल, घूमने लायक जगह, चेन्नाकेशव नदी के किनारे
  • शक्तिशाली होसाला साम्राज्य की प्रारंभिक राजधानी थी।

FAQ –

Q .बेलूर मठ के संस्थापक कौन थे ?

A .स्वामी विवेकानंद

Q .बेलूर मठ कहां पर स्थित है ?

A .कलकत्ता (हसन जिला)

Q .बेलूर कहां है ?

A .कलकत्ता में 

Q .बेलूर किस नदी पर है ?

A .हुगली 

Q .रामकृष्ण मठ की स्थापना कब हुई थी ?

A .1897

Q .What is Belur Math famous for?

A .Symbols of religious unity

Q .Can I stay at Belur Math?

A .No

इसके बारेमे भी जानिए – बठिंडा का किला मुबारक की जानकारी

Conclusion –

आपको मेरा Belur Math History बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Belur Math in kolkata, Belur Math in Hindi और Belur Math arati से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।

Note –

आपके पास Belur Math aarti song, Belur Math to howrah या Ramakrishna math belur की कोई जानकारी हैं।

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद 

1 .बेलूर मठ की स्थापना किसने की थी ?

2 .बेलूर मठ कहा है ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *