Anandpur Sahib History in Hindi

Anandpur Sahib History in Hindi | आनंदपुर साहिब का इतिहास और जानकारी

नमस्कार दोस्तों Anandpur Sahib in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम आनंदपुर साहिब का इतिहास और घूमने की जानकारी बताने वाले है। आनंदपुर-साहिब पंजाब के रूपनगर जिले में स्थित और पाकिस्तानी सीमा के करीब है। आनन्दपुर साहिब सिख धर्म में अमृतसर के बाद दूसरा पवित्र स्थान है। क्योंकि यहां खालसा पंथ की स्थापना की गई थी। जिस स्थान पर यह पवित्र आयोजन हुआ उस स्थान पर एक गुरुद्वारा का निर्माण किया गया है। आनंदपुर साहिब शहर अपने गुरुद्वारों की भीड़ के लिए सबसे प्रसिद्ध है।

यहाँ सिख गुरुओं को मनाने के लिए कई सिख तीर्थयात्री आते रहते है। शहर के नजदीक चारों ओर पाँच किले हैं जो शहर के सैन्य इतिहास की गवाही देते हैं। आनंदपुर साहिब सिखों के लिए दुनिया के सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। यह शहर के पवित्र गुरुद्वारों से प्रार्थना करने और आशीर्वाद लेने के लिए हजारों पर्यटक शहर में आते हैं। एक तरफ सतलुज नदी और दूसरी तरफ विशाल शिवालिक से घिरा आनंदपुर साहिब गुरुद्वारा दोनों तेज नदी और बर्फ से ढकी चोटियाँ शहर में प्राकृतिक आकर्षण बनाती हैं।

Anandpur Sahib History in Hindi

आनन्दपुर साहिब शहर की स्थापना नौंवे गुरु तेग बहादुर 1665 के जून में की थी। उन्होंने आनंदपुर साहिब पहुंचने के बाद किरतपुर में रहने वाले अन्य सिख संप्रदायों से दूर चले गए थे। आनंदपुर साहिब जाने के एक दशक बाद गहन उत्पीड़न के कारन उसकी मृत्यु हो गई। मृत्यु को क्षेत्र में उनके अनुयायियों और उनके बेटे ने शहादत से देखा गया बाद गुरु गोबिंद सिंह सिखों के दसवें गुरु बने थे। गुरु गोबिंद सिंह जी ने यहाँ 28 वर्षों तक निवास किया था। यह सिख धर्म में दूसरे नंबर का सबसे पवित्र स्थान हैं।

गुरु गोबिंद सिंह की लोकप्रियता वर्षों तक बढ़ी, और छोटा आनंदपुर गांव सिखों की आबादी के साथ Gurudwara anandpur sahib एक हलचल भरे शहर में बदल गया था। यह जगह में कई गुरुद्वारे हैं जो खूबसूरती से बनाए गए हैं। जो हर आत्मा को शांति प्रदान करते हैं। आनन्दपुर साहिब के तख्त श्री केसगढ़ साहिब में ही गुरु गोबिंद सिंह ने सन 1699 में पंज प्यारों की उपाधि दी थी और खालसा पंथ की शुरुआत हुई थी।

Anandpur Sahib Images
Anandpur Sahib Images

इसके बारेमे भी जानिए – हिमाचल के पास पठानकोट में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह की जानकारी

आनंदपुर साहिब जाने का सबसे अच्छा समय

आनंदपुर साहिब उत्तर भारत के मैदानी विस्तार में स्थित है। आनंदपुर साहिब (weather anandpur sahib) की जलवायु वर्ष भर समशीतोष्ण रहती है। सर्दियों का मौसम घूमने का सबसे अच्छा समय है। क्योंकि उस मौसम में यहां का तापमान ठंडा होता है। जिससे पर्यटक आराम से शहर की सड़कों पर टहल सकते हैं। गर्मियां के मौसम में भी जा सकते हैं। लेकिन वह गर्म शुष्क हवाएं यानि लू का सामना करना पड़ता हैं। उसके कारन बाहर निकलना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। पर्यटक चाहे तो कोई भी समय दौरा कर सकते है।

Tourist Places to Visit in Anandpur Sahib

  • 1 .Takhat Sri Keshgarh Sahib
  • 2 .Gurudwara Sisganj
  • 3 .Gurudwara Bhora Sahib
  • 4 .Gurudwara Thara Sahib
  • 5 .Gurudwara Akal Bunga Sahib
  • 6 .Gurudwara Damdama Sahib
  • 7 .Gurudwara Shaheedi Bagh
  • 8 .Gurudwara Mata Jit Kaur
  • 9 .Gurudwara Guru Ka Mahal
  • 10 .Gurudwara Manji Sahib
  • 11 .Sri Guru Tegh Bahadur Sikh Museum
  • 12 .Virasat-e-Khalsa
  • 13 .Sarovar
  • 14 .Jhajjar Bachauli Wildlife Sanctuary
  • 15 .Ropar Wetlands
  • 16 .Maharana Pratap Sagar
  • 17 .Dharamsala
  • 18 .Amritsar
  • 19 .Bhakra Nangal
  • 20 .Naina Devi Temple

    Anandpur Sahib Photos
    Anandpur Sahib Photos

Gurudwara Takht Sri Kesgarh Sahib

Takhat Sri Kesgarh Sahib Ji – आनंदपुर साहिब गुरुद्वारा भारत में सबसे महत्वपूर्ण में से एक है। यह जगह  खालसा और पांच तख्त या सिख धर्म के पांच धार्मिक अधिकारियों की उत्पत्ति हुई थी। उसके बाद यह सिखों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल बन गया है। 1936 और 1934 के बीच, एक पहाड़ी पर बसे इस आनंदपुर साहिब गुरुद्वारा का निर्माण 30 वर्ग मीटर की विशाल भूमि पर किया गया था। जगमगाते आंगन में एक आकर्षक सफेद इमारत और तख्त कार्यालय है। गुरुद्वारा भवन में गुरु गोबिंद सिंह के खालसा के अवशेष हैं।

उसमे उनके हथियार और सिख ग्रंथ शामिल हैं। सिख धर्म के मिरी और पीरी पहलू इस गुरुद्वारे के गर्भगृह में खूबसूरती से परिलक्षित होते हैं। आप पवित्र लंगर दावत का आनंद लेने के लिए गुरुद्वारा जा सकते हैं या जगह के शांत परिसर में ध्यान कर सकते हैं। पर्यटक यहां दशमेश निवास के कमरों में भी रह सकते हैं। उसके साथ सतह गुरुद्वारे के पवित्र सरोवर में डुबकी लगाकर नहा सकते हैं। गुरुद्वारा तख्त श्री केसगढ़ साहिब में उसके अलावा विरासत-ए-खालसा धार्मिक संग्रहालय भी देखने लायक है।

इसके बारेमे भी जानिए – कोलकाता शहर के बिच स्थित विक्टोरिया मेमोरियल की जानकारी

Virasat e Khalsa Anandpur Sahib

विरासत-ए-खालसा सिख संग्रहालय सिख धर्म के सम्मान में बनाया गया है। वह गौरवशाली सिख इतिहास का जश्न मनाता है। पिछली शताब्दियों में सिख योद्धाओं के संघर्ष और विजय के अवशेषों और संस्मरणों को पर्यटक देख सकते है। संग्रहालय खालसा के जन्म की वर्षगांठ मनाता है। यह दसवें मानव गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा लिखे गए ग्रंथों को प्रदर्शित करता है। यह संरचना एक किले की शैली में बनाई गई है। उसमे एक राजसी पुल एक खड्ड के दोनों ओर दो ईमारत को जोड़ता है।

पश्चिम में छोटे भवन परिसर में एक भव्य प्रवेश प्लाजा, अनुसंधान और संदर्भ उद्देश्यों के लिए एक दो मंजिला पुस्तकालय और 400 की क्षमता वाला एक विशाल सभागार है। पूर्व में परिसर में एक स्मारक भवन और दीर्घाएं देखने को मिलती हैं। वह इमारत में एक किले की उपस्थिति बनाती हैं। यह स्थायी प्रदर्शनी स्थान प्राकृतिक परिवेश के बीच एक अलग आकर्षण है। परिसर की निर्माण शैली को देखकर यात्री देखते ही रह जाते है। क्योकि ढले हुए पत्थरों और कंक्रीट से बने बीम विशिष्ट स्थानों पर शेष रहते हैं। छतें स्टेनलेस स्टील के ढांचों से बनाई हैं। और दीवारें क्लासिक शहद के रंग के पत्थरों से बनी हैं।

आनंदपुर साहिब गुरुद्वारा फोटो
आनंदपुर साहिब गुरुद्वारा फोटो

Sarovar Anandpur Sahib

सरोवर आनंदपुर साहिब का पवित्र और पवित्र जल आत्मा के लिए एक शुद्धिकरण अनुष्ठान की तरह है। तक़रीबन 80 वर्ग मीटर (860 वर्ग फुट) के क्षेत्र में बना यह पवित्र झील स्थानीय लोगों और पर्यटकों के लिए समान रूप से देखने योग्य स्थान है। तख्त श्री केसगढ़ साहिब जी के पास स्थित सरोवर में तीर्थ यात्रा के लिए पवित्र शहर आनंदपुर साहिब आने वाले लोगों की भीड़ उमड़ती है। जल में डुबकी लगाने से आध्यात्मिक शुद्धि के साथ बुरे विचार दूर रहते हैं। यहाँ कई लोगों को श्रद्धेय झील में डुबकी लगाते देख सकते है। 

Naina Devi Temple

हिमाचल प्रदेश का श्री नैना देवी जी का मंदिर बिलासपुर जिले में एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। समुद्र तल से 1219 मीटर की ऊंचाई पर स्थित मंदिर का निर्माण 8वीं शताब्दी में राजा बीर चंद ने करवाया था। मंदिर के निर्माण के बाद नैना देवी मंदिर के साथ कई रहस्यमय लोक कथाएँ जुडी हैं। यह मंदिर बहुत पवित्र माना जाता है। मंदिर एक त्रिकोणीय पहाड़ी पर और सती के 52 शक्ति पीठों में से एक है। हिंदू के सभी प्रमुख त्योहारों को मंदिर में पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है। 

Jhajjar Bachauli Wildlife Sanctuary

झज्जर बचौली वन्यजीव अभ्यारण्य आनंदपुर साहिब से सिर्फ 15 किमी दूर स्थित है। यह नेचर रिजर्व प्रकृति प्रेमियों, वन्यजीव फोटोग्राफरों और साहसिक उत्साही लोगों के लिए आदर्श स्थान है। सतलुज नदी के करीब स्थित अभयारण्य पर्यटकों को प्रकृति का आनंदमय दृश्य प्रदान करता है। यहाँ यात्रिओ को कैमरा और दूरबीन जरूर साथ लाना चाहिए। 289 एकड़ के क्षेत्र में फैला अभयारण्य में 218 एकड़ झज्जर गांव से संबंधित है और 55 एकड़ बचौली गांव से संबंधित है।

1998 में वन्यजीव अभ्यारण्य घोषित किया गया था। सुखद और सुहावने मौसम के कारण नवंबर से मार्च तक सर्दियों के महीनों के दौरान सबसे अच्छी यात्रा कर सकते है। अभयारण्य में यूकेलिप्टस, खैर, नीम, शीशम, आंवला, सुबाबुल जैसे कई प्रकार के पेड़-पौधे और जानवर देखने को मिलते हैं। उसमे पर्यटक तेंदुए, हिरण, पैंगोलिन, जंगली सूअर, जंगली मुर्गी, मॉनिटर छिपकली, नीले बैल, जंगली बिल्लियां, अजगर और सांप के साथ कई जानवरों को देख सकते है।

Anandpur Sahib tourist places
Anandpur Sahib tourist places

इसके बारेमे भी जानिए – असम राज्य के सबसे महत्वपूर्ण शहर डिब्रूगढ़ के टॉप पर्यटन स्थलों की जानकारी

Sri Guru Tegh Bahadur Sikh Museum

1983 में निर्मित यह संग्रहालय आपको गुरु तेग बहादुर सिंह की कुछ सबसे कीमती चीजों से परिचित कराएगा। यहां रखे अवशेष और कलाकृतियां पूरे इतिहास में सिखों के संघर्ष की एक उत्कृष्ट याद दिलाता हैं। श्री गुरु तेग बहादुर सिख संग्रहालय की यात्रा आपके लिए सिख धर्म के गौरवशाली अतीत के बारे में जानने और अतीत के कुछ अमूल्य अवशेषों और कलाकृतियों की भव्यता को देखने का एक अवसर मिलता है। संग्रहालय 1983 में गुरु की शहादत की 300 वीं वर्षगांठ को चिह्नित करने के लिए बनाया गया था। 

Ropar Wetlands

रोपड़ वेटलैंड्स हिमालयी शिवालिक रेंज में स्थित आनंदपुर साहिब से 50 कि.मी दूर है। यह प्रसिद्ध मानव निर्मित आर्द्रभूमि है। उसको 1952 में बनाया गया था। यहाँ दलदल 1365 हेक्टेयरमें फैला और उसमे नौ स्तनधारी प्रजातियों, 35 अन्य मछली नस्लों, नौ प्रकार के आर्थ्रोपोड का निवास स्थान है। रोपड़ आर्द्रभूमि में पर्यटकों के लिए एक अच्छी तरह से विकसित खूबसूरत प्राकृतिक जगह हैं। 

आनंदपुर साहिब का उत्सव

पर्यटकों को होली पर यहाँ विशेष आयोजन देखने को मिलता है। क्योकि यहाँ का होली उत्सव जीवंत रंगों, उत्सव की रोशनी और एक प्रभावशाली मार्शल आर्ट को प्रदर्शित करता है। उसके अलावा दिवाली जैसे पारंपरिक हिंदू त्योहार भी उत्साह के साथ मनाए जाते हैं। अधिकांश गुरुद्वारों में गुरु नानक जयंती पर उत्सव की दावतें और किराए होते हैं। उसमे स्थानीय व्यंजन परोसे जाते हैं और प्रदर्शनियों का आयोजन किया जाता है। Special Events on Holi की बात करे तो होला मोहल्ला तीन दिन मनाया जाता है।

Shopping in Anandpur Sahib

पर्यटक यहाँ से बैग, ऊनी कपड़े, चमड़े के जूते, तांबे और पीतल के आभूषण, और हस्तशिल्प कुछ चुनिंदा चीजें भी खरीद सकते हैं। उसके अलावा जीवन जरुरत की सभी चीजे भी मिलती है। जिन्हें आप आनंदपुर साहिब से घर ले जा सकते हैं। उसके अलावा सिख धर्मग्रंथों या जगह के इतिहास का विवरण देने वाली पुस्तक भी खरीद सकते हैं। पर्यटक अपनी छुट्टी को यादगार बनाने के लिए संगमरमर से बने स्मृति चिन्ह भी ले सकते है।

आनंदपुर साहिब का इतिहास और जानकारी
आनंदपुर साहिब का इतिहास और जानकारी

आनंदपुर साहिब का प्रसिद्ध और स्थानीय भोजन

पंजाब के केंद्र में स्थित आनंदपुर एक शहर है। यहाँ ज्यादातर पंजाबी शहरों और कस्बों की तरह पंजाबी भोजन पसंद करता है। परांठे, भारी करी और प्रसिद्ध पंजाबी लस्सी यहाँ के स्थानीय व्यंजनों के लोकप्रिय हैं। यह शहर में छोटे-छोटे रेस्तरां कई ढाबे उपलब्ध हैं। जिसमे स्वच्छ रूप से ताजा भोजन मिलता हैं। उसके साथ आप लंगर में भोजन कर सकते है। लंगर का भोजन निःशुल्क हैं और गुरुद्वारा जाने वाले सभी तीर्थयात्रियों के लिए उपलब्ध हैं। 

इसके बारेमे भी जानिए – असम के खूबसूरत पार्क काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान घूमने की सम्पूर्ण जानकारी 

Hotels in Anandpur Sahib

आनंदपुर पंजाब का एक शहर है। लेकिन पर्यटकों हाई बजट से लेकरके लॉ बजट यानि सभी प्रकार की होटल और गेस्ट हाउस उपलब्ध है। जिसको आप ऑनलाइन और ऑफ़ लाइन बुक कर सकते है। और आपकी यात्रा के दौरान बहुत आसानी से होटल में कमरा ले सकते है। कुछ नाम हम बताएँगे अगर आपको पसंद आते है। तो आप उस होटल में जरूर जा सकते है। 

  • Hotel Baaz
  • Anand @ The Satluj
  • Hotel friend’s corner
  • OYO 47040 Vibes Hotel
  • Villa 20C, The Woodside, Kasauli

How to Reach Anandpur Sahib

ट्रेन से आनंदपुर साहिब कैसे पहुंचे

पर्यटकों को बतादे की आनंदपुर साहिब का अपना रेलवे स्टेशन है। यह स्टेशन से प्रमुख उत्तर भारतीय शहरों की ट्रेनें रुकती हैं। स्टेशन शहर के पास ही स्थित हैं। लेकिन आपको बतादे की ट्रेन सुविधाजनक विकल्प नहीं हैं। क्योंकि सड़क मार्ग से यात्रा तेज और अधिक आरामदायक होती रहती है। लेकिन रेलवे से भी आप बहुत आसानी से यात्रा कर सकते है। 

सड़क मार्ग से आनंदपुर साहिब कैसे पहुंचे

आनंदपुर साहिब देश के सभी बड़े शहरों से अच्छी तरह से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। चंडीगढ़ और लुधियाना जैसे शहर 100 किलोमीटर के पास थित हैं। नजदीकी शहरों से आनंदपुर साहिब के लिए नियमित बसें उपलब्ध हैं। दिल्ली से सड़क मार्ग में 5 घंटे का समय लगता है। आनंदपुर साहिब में स्थानीय परिवहन की बात करे तो ऑटो रिक्शा उपलब्ध है। उसके साथ आनन्दपुर साहिब में सार्वजनिक बसें भी हैं।

फ्लाइट से आनंदपुर साहिब कैसे पहुंचे

हवाई मार्ग से आनंदपुर साहिब जाने के लिए सीधा कोई हवाई अड्डा नहीं है।

आनंदपुर साहिब का निकटतम हवाई अड्डा जो वह से 89 किमी दूर चंडीगढ़ हवाई अड्डा है।

उसके अलावा साहनेवाल हवाई अड्डा, लुधियाना 98 किमी दूर है।

आनंदपुर साहिब पहुंचने के लिए, आप दोनों हवाई अड्डों के बाहर टैक्सी को पसंद कर सकते हैं।

उसके अलावा आप मुख्य बस स्टेशन से बस ले सकते हैं।

इसके बारेमे भी जानिए – हिमाचल प्रदेश के 10 सबसे खास पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

Anandpur Sahib Map आनंदपुर साहिब का लोकेशन

Anandpur Sahib Tourism in Hindi Video

Interesting Facts About Anandpur Sahib

  • अमृतसर के बाद आनंदपुर साहिब सिख धर्म का दूसरा पवित्र स्थान है। 
  • आनंदपुर साहिब जी में कोई मत्था टेकने आता है, उसकी सारी इच्छाएं पूरी होती है।
  • पंजाब राज्य के उत्तर दक्षिण में यह शहर चंडीगढ़ से 80 कि.मी दूर स्थित है।
  • श्री गुरु गोविंद सिंह जी ने गुरुद्वारे मैं 25 साल से अधिक समय व्यतीत किया था।
  •  तख्त श्री केसगढ़ साहिब गुरुद्वारा आनन्दपुर साहिब के मध्यकेन्द्र में स्थित है।
  • गुरुद्वारे के गर्भगृह में कैमरे और मोबाइल फोन के उपयोग की अनुमति नहीं है।

FAQ

Q .आनंदपुर साहिब कहा है?

आनंदपुर साहिब पंजाब के रूपनगर जिले में स्थित है।

Q .आनंदपुर साहिब का पुराना नाम क्या है?

आनंदपुर साहिब का पहला नाम चक्क नानकी था।

Q .आनंदपुर साहिब कौन से राज्य में है?

पंजाब

Q .आनंदपुर साहिब की दूसरी लड़ाई कब हुई?

बैसाख 1705 विक्रमी संवत को आनंदपुर साहिब की दूसरी लड़ाई हुई थी। 

Q .चक्क नानकी का आधुनिक नाम क्या है?

चक्क नानकी का आधुनिक नाम आनंदपुर साहिब है। 

Conclusion

आपको मेरा Anandpur Sahib History बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Anandpur sahib gurudwara, Gurudwara near me और

Anandpur sahib weather से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो कहै मेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Anandpur sahib punjab, Anandpur sahib resolution या 

Anandpur sahib district की जानकारी हैं। 

या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे / तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है।

तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

इसके बारेमे भी जानिए – भारत के सबसे बड़ी और विवादास्पद परियोजना सरदार सरोवर बांध

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *