Anand Bhawan Allahabad Information In Hindi

Anand Bhawan Allahabad Information In Hindi | आनंद भवन का इतिहास

नमस्कार दोस्तों Anand Bhawan Allahabad in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम नेहरू परिवार का पूर्व निवास यानि आनंद भवन इलाहाबाद की जानकारी बताने वाले है। इलाहाबाद का आनंद भवन नेहरू परिवार का पूर्व निवास है। उसको वर्तमान समय में भारत में स्वतंत्रता आंदोलन के युग की विभिन्न कलाकृतियों और लेखों को प्रदर्शित करने वाले संग्रहालय में तब्दील कर दिया गया है। दो मंजिला हवेली व्यक्तिगत रूप से मोतीलाल नेहरू द्वारा डिजाइन की गई थी।

आनंद भवन इलाहाबाद का एक ऐतिहासिक भवन संग्रहालय है। जो नेहरू परिवार का हुआ करता था। उस खूबसूरत संरचना का निर्माण मोतीलाल नेहरू जी द्वारा वर्ष 1930 में कराया गया था। और नेहरू परिवार के निवास स्थान के रूप में उपयोग होता था। मगर बाद में उसे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने उनके स्थानीय मुख्यालय यानी स्वराज भवन में परिवर्तित कर दिया था। उसमें जवाहर नक्षत्रशाला भी स्थित है। घर को चीन और यूरोप से आयातित लकड़ी के फर्नीचर और दुनिया भर की कलाकृतियों से खूबसूरती से सजाया गया है।

History of Anand Bhawan

आनंद भवन का इतिहास देखे तो आनंद भवन का इतिहास तक़रीबन 100 साल पुराना है। उस को राजनेता मोतीलाल नेहरू ने 1930 में नेहरू परिवार के निवास स्थान के लिए खरीदा था। उसके पश्यात मूल हवेली स्वराज भवन या आनंद भवन कहा जाता था। उसको भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के स्थानीय मुख्यालय में बदल दिया गया था। तक़रीबन 40 साल निवास करने के पश्यात 1970 में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आनंद भवन को भारत सरकार को दान में दे दिया था। उसके बाद नेहरू परिवार की यह विरासत को एक संग्रहालय में बदल दिया गया था।

आनंद भवन का इतिहास
आनंद भवन का इतिहास

इसके बारेमे भी पढ़िए – पोलो फॉरेस्ट का इतिहास और घूमने की जानकारी

Best Time To Visit Anand Bhavan

आनंद भवन घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – वैसे तो साल के किसी भी समय आनंद भवन देखने जा सकते है। मगर अगर आप आनंद भवन के साथ इलाहाबाद के दूसरे पर्यटक स्थल भी देखना चाहते है। तो आपको अक्टूबर से मार्च का समय सबसे अच्छा माना जाता है। गर्मियों में यहां दौरा करना थोड़ा अच्छा होता है। मगर मानसून के समय अच्छा नहीं होता है। यानि आदर्श नहीं है।

Anand Bhavan Entry Fee

आनंद भवन की एंट्री फीस की बात करे तो आनंद भवन के लिए अलग अलग विभाग के लिए अलग अलग एंट्री फीस है। अगर आप आनंद भवन म्यूजियम में जाना चाहते है। तो उसकी एंट्री फीस 20 रूपये है। आप अगर म्यूजियम और ग्राउंड फ्लोर दोनों में प्रवेश करना चाहते है। तो आपको 70 रूपये देने होते है। उसके अलावा नेहरू तारामंडल शो के लिए 60 रूपये देने होते है।

Anand Bhawan Images
Anand Bhawan Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – पटवों की हवेली का इतिहास और जानकारी

Anand Bhawan Timings

आनंद भवन की टाइमिंग की बात करे तो आनंद भवन सुबह 9.30 बजे खुलता और शाम 5.00 बजे तक खुला रहते हुए बंद किया जाता है। आपको बतादे की आनंद भवन हर सोमबार और राष्ट्रीय त्योहारों के अवकाश पर बंद रहता है। 

Attractions Of Anand Bhawan

आनंद भवन के प्रमुख आकर्षण में आनंद भवन संग्रहालय, नेहरू तारामंडल और स्वराज भवन शामिल है। आनंद भवन या नेहरु परिवार की यह विरासत को 1970 में यह टी विभागों में विभाजित करके परिवर्तित कर दिया गया था। 

Anand Bhawan Museum

आनंद भवन 1970 में भारत की तत्कालीन राष्ट्रपति इंदिरा गांधी ने भारत सरकार को दान कर दिया गया था। उसके पश्यात उसे नेहरू परिवार को श्रद्धांजलि के रूप में एक संग्रहालय में बदल दिया गया था। संग्रहालय नेहरू परिवार की यादगार वस्तुओं को प्रदर्शित करता है। जिसमें बहुत सारी व्यक्तिगत वस्तुएं हैं। जिसका उपयोग पंडित नेहरू ने अपने प्रवास के दौरान किया था।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की बैठकों से ब्रिटिश शासन के खिलाफ अपनी गतिविधियों की योजना बनाने के लिए यहां एकत्रित होने वाले षड्यंत्रकारियों की बैठकों से भी बहुत सारी तस्वीरें हैं। आप भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान पंडित नेहरू द्वारा लिखी और उपयोग की गई विभिन्न पुस्तकें और ऐतिहासिक अभिलेख भी पा सकते हैं। भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में पंडित नेहरू ने लिखी एव उपयोग की गई पुस्तकों और ऐतिहासिक अभिलेखों को भी देख सकते हैं।Anand Bhawan allahabad image

Anand Bhawan allahabad image
Anand Bhawan allahabad image

इसके बारेमे भी पढ़िए – पचमढ़ी हिल स्टेशन यात्रा की संपूर्ण जानकारी

Nehru Planetarium

आनंद भवन सिर्फ एक ऐतिहासिक संग्रहालय नहीं मगर हवेली के परिसर में एक विज्ञान तारामंडल भी स्थित है। नेहरू तारामंडल 1975 में बनाया गया था। उसका प्रबंधन जवाहरलाल नेहरू मेमोरियल फंड ने किया था। उसका निर्माण शहर के स्कूली बच्चों में विज्ञान के प्रति रुचि पैदा करने के लिए किया गया था। आप भी यहाँ स्कूली बच्चों की लंबी कतारें देख सकते है। आपको बतादे की तारामंडल हरे भरे बगीचों से घिरा हुआ है। हर साल यहाँ जवाहरलाल नेहरू व्याख्यान 14 नवंबर यानि उनकी जन्म जयंती पर आयोजित होता है।

Swaraj Bhavan

स्वराज भवन एक संग्रहालय विभाग है जो आनंद भवन के विस्तार के भीतर आप देख सकते है। यह नेहरू परिवार का पूर्व घर और मोतीलाल नेहरू के स्वामित्व में उसे 1920 के समय में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को सौंप दिया गया था। उस प्रकार भारतीय स्वतंत्रता की लड़ाई के समय यह एक महत्वपूर्ण स्थल बन गया था। यह विरासत संरचना जवाहरलाल नेहरू की बेटी इंदिरा गांधी का जन्मस्थान है। स्वराज भवन स्वतंत्रता का एक संग्रहालय है। उसको नेहरू जीवन शैली का प्राचीन स्थल और उसमें फर्नीचर और घरेलू सजावट हैं।

image of anand bhawan allahabad
image of anand bhawan allahabad

इसके बारेमे भी पढ़िए – नालदेहरा के पर्यटन स्थल और जानकारी

Places To Visit In Allahabad Around Anand Bhavan

  • इलाहाबाद किला
  • खुसरो बाग
  • त्रिवेणी संगम
  • फन गाँव वाटर पार्क
  • मनकामेश्वर मंदिर
  • न्यू यमुना ब्रिज
  • अल्फ्रेड पार्क
  • अलोपी देवी मंदिर
  • शोक स्तंभ
  • ऑल सेंट कैथेड्रल इलाहाबाद
  • माघ मेला
  • बड़े हनुमान मंदिर
  • नंदन कानन वाटर रिट्रीट

Local Food Of Prayagraj (Allahabad)

  • चाट 
  • कचौरी
  • लस्सी
  • हलवा
  • हरि नमकीन
  • समोसे
  • अवध फूड
  • बिरयानी
  • कबाब
  • कचौड़ी

इसके बारेमे भी पढ़िए – कुलधरा का इतिहास और कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी

Hotels in Allahabad

Hotel Shree Kanha Residency

Luxmi Hotel

Hotel Galaxy

Sangam Villa

Kunjpur Guest House

आनंद भवन की फोटो गैलरी
आनंद भवन की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क घूमने की जानकारी

How To Reach Anand Bhawan Allahabad

ट्रेन से आनंद भवन इलाहाबाद कैसे पहुंचे

How To Reach Allahabad By Train – ट्रेन से इलाहाबाद जाने के लिए इलाहाबाद जंक्शन 4 कि मी, प्रयाग स्टेशन 2 किमी और रामबाग स्टेशन 3 कि मी दूर है। वह भारतीय रेलवे के उत्तर-मध्य डिवीजन का मुख्यालय है। और भारत के सभी प्रमुख शहरों से रेलवे मार्ग से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप दिल्ली और कोलकाता से रात भर चलने वाली ट्रेनो से पहुंच सकते हैं। 

सड़क मार्ग से इलाहाबाद कैसे पहुँचे

How To Reach Allahabad By Road – सड़क मार्ग से इलाहाबाद जाने के लिए वह NH-2 पर पड़ता है। और सिविल लाइन्स बस स्टैंड से 5 किमी की दुरी पर स्थित है। इलाहाबाद शहर दिल्ली, आगरा, कानपुर, वाराणसी, पटना और कोलकाता से सड़क संपर्क से अच्छे से जुड़ा हुआ है। सड़क मार्ग से बस स्टेशन पहुंच कर आप बस पकड़ के आनंद भवन पहुंच सकते हैं।

फ्लाइट से इलाहाबाद कैसे पहुंचे

How To Reach Allahabad By Flight – अगर आप आनंद भवन जाने के लिए फ्लाइट से जाना चाहते है। तो इलाहाबाद का अपना हवाई अड्डा है। मगर यहाँ के लिए नियमित फ्लाइटस नहीं होती है। उसके लिए आप बमरौली एअरपोर्ट इलाहाबाद 15 किमी, लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय एअरपोर्ट, वाराणसी 150 कि.मी और अमौसी अंतर्राष्ट्रीय एअरपोर्ट, लखनऊ 200 किमी है। वहाँ आप बहुत अच्छे से आनंद भवन इलाहाबाद पहुच सकते है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – दुनिया के न्यूड बीच जहां बिना कपड़ों के नहाते हैं लोग

Anand Bhawan Map आनंद भवन इलाहाबाद का लोकेशन

Anand Bhawan Allahabad In Hindi Video

Interesting Facts

  • आनंद भवन इलाहाबाद का एक ऐतिहासिक भवन संग्रहालय है।
  • आनंद भवन इलाहाबाद का निर्माण मोतीलाल नेहरू जी ने 1930 में कराया था।
  • उसके के परिसर में स्थित स्वराज भवन मोतीलाल नेहरू जी की राजसी हवेली है।
  • 1920 में मोतीलाल नेहरू ने भवन को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को दान दे दिया था।
  • स्वराज भवन और आनंद भवन अब संग्रहालय में तब्दील हो चुके हैं।
  • आनंद भवन का इतिहास आज से लगभग 100 साल पुराना है।
  • यह राजश्री हवेली प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का जन्म स्थल है।

FAQ

Q .आनंद भवन स्थित है?

इलाहाबाद, प्रयागराज जिला, उत्तर प्रदेश, भारत

Q .इलाहाबाद में आनंद भवन क्या है?

आनंद भवन नेहरू परिवार का पूर्व निवास स्थल और आज एक संग्रहालय है।

Q .आनंद भवन का मालिक कौन है?

आनंद भवन का मालिक नेहरू परिवार था।

Q .आनंद भवन किस राज्य में स्थित है?

उत्तर प्रदेश

Q .आनंद भवन का संबंध किससे था?

आनंद भवन नेहरू परिवार से संबंधीत है।

Q .आनंद भवन किसने बनवाया था?

राजनेता मोतीलाल नेहरू ने 1930 में आनंद भवन बनवाया था।

Conclusion

आपको मेरा लेख Anand Bhawan Allahabad Information In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Anand bhawan kahan hai, Anand Bhavan owner

और Anand Bhawan Allahabad ticket price से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Anand bhawan allahabad planetarium timings की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

त्रिमूर्ति भवन, आनंद वन, विनय भवन का संबंध किससे है, आनंद भवन किससे संबंधित है, पं मोतीलाल नेहरूंनी घटनात्मक विकासाची मागणी करणारा ठराव, Anand bhawan school barabanki, pandit jawaharlal nehru, chacha nehru, Anandam, Anand Bhavan, Allahabad Timing, Anand bhawan allahabad contact number, jawaharlal nehru house allahabad

places to visit in allahabad, sangam allahabad, Anand Bhavan restaurant, Anand bhawan patanjali, victory tower, Anand bhawan udaipur, Anand bhawan allahabad planetarium ticket price, Anand bhawan allahabad timing,

इसके बारेमे भी पढ़िए – चंदोली नेशनल पार्क घूमने की सम्पूर्ण जानकारी

1,625 thoughts on “Anand Bhawan Allahabad Information In Hindi | आनंद भवन का इतिहास”

  1. Cells were harvested with trypsin 6 h after transfection, and plasmid DNA was isolated using the QIAprep Spin Miniprep Kit Qiagen 27106 how much lasix can you take in a day cialis sluta med p piller biverkningar yasmin His voice sly, gentle, funny, often startling, always human will speak to readers for generations to come through Ray Givens, Jack Foley, Chili Palmer and so many other unforgettable characters

  2. Wir freuen uns auf euch! Sportsbetting besticht nicht nur mit Sportwetten, sondern überzeugt uns auch beim Poker! Richtig gut was hier geboten wird. Zudem ist es möglich mit vielen verschiedenen Zahlungsmethoden Geld ein und auszuzahlen. Sogar Bitcoin wird hier angeboten. Wir freuen uns auf euch! +32 9 340 55 00workpref Jetzt kostenlos bei Winner anmelden und 90 Tage lang gratis Freerolls spielen! Editor in ChiefOliver Baccus Sichert euch hier das $8 gratis Startguthaben + den 100% bis $600 Bonus von 888Poker! Die besten Pokerseiten in Europa haben oftmals eine Glücksspiellizenz von der Malta Gaming Authority, aus Gibraltar oder von der altehrwürdigen UK Gambling Commission. Natürlich werden beim Poker in Deutschland EU-Lizenzen bevorzugt. Aber das ist Geschmackssache. Wir würden nicht sagen, dass die Lizenz der UK Gambling Commission irgendwie schlechter ist, nur weil Großbritannien nicht mehr zur EU gehört. https://arthurkznb087542.ambien-blog.com/17545561/slotmaschinen-echtgeld Double Triple Chance punktet mit der Neuauflage vom älteren Klassiker – Triple Chance. Es ist nicht nur schöner anzusehen, es ist auch lohnender. Auch wenn die Auszahlungsmöglichkeiten nicht das ganze Potenzial ausschöpfen, sind sie dennoch für ein 3-Walzen-Spiel völlig in Ordnung. Nun dann – Lust auf eine Spritztour? Diese Möglichkeit ist den meisten online Spielern bereits bekannt. Man hat an dieser Stelle die Chance seinen vorherigen Win ums 2fache anwachsen zu lassen, geht aber auch das zugehörige entsprechende Risiko ein. Wer direkt um echtes Geld zocken möchte, sollte das Vulkan Vegas wählen, da es im September 2022 insgesamt der beste Anbieter für Merkur Spiele ist. Man kann Double Triple Chance online kostenlos spielen, ohne lange suchen zu müssen. So gut wie jedes Online Casino mit Startguthaben bietet den beliebten Klassiker an, egal ob online oder offline. Spielt man online, kann man sogar Double Triple Chance ohne Anmeldung kostenlos spielen, wenn man nicht unbedingt um Echtgeld spielen möchte. Möchte man sich aber ans große Geld wegen und ein wenig risikofreudiger werden, muss man sich anmelden; bekommt dann aber auch oft einen Bonus.