Albert Hall Museum History In Hindi Rajasthan – historyofindia1

Albert Hall Museum History In Hindi Rajasthan | अल्बर्ट हॉल संग्रहालय

राजस्थान के जयपुर में राम निवास उध्यान में Albert Hall Museum स्थित है राजस्थान का यह अल्बर्ट हॉल संग्रहालय सबसे पुराना है यह संग्रहालय को इंडो-सरैसेनिक वास्तुशैली के एक आदर्श प्रतिक के रूप में खड़े इस ईमारत को प्रिंस ऑफ़ व्हेल्स, अल्बर्ट एडवर्ड के नाम से पहचाना जाता है। 

अलबर्ट हॉल संग्रहालय को सरकारी संग्रहालय के नाम से भी पहचाना जाता है। इसमें विश्व के अनेक क्षेत्रो से लाये हुवे कलाकृतियों का एक व्यापर संग्रह है। यह संग्रहालय हरे भरे गार्डनों से भरा हुवा है। albert hall museum jaipur में अतीत के प्राचीन समय की वस्तुये और कलाकृतियो का बड़ा भंडार है। जो पर्यटकोको देखने में बहोत दिलचस्प कर देता है।

आज हम इस लेख में हम संग्रहालय में प्राचीन सिक्के , संगेमरमर की कलाशैली, मिट्टी के बर्तन , कलिनो , आकर्षक मिस्र albert hall museum mummy का संग्रह किया गया है। albert hall museum jaipur location राजस्थान में राम निवास उध्यान में स्थित। यह राजस्थान का संग्रहालय जयपुर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है जहा पर साल के सभी दिनों में पर्यटक इस संग्रहालय में देखने के लिए आते रहते है। अगर आप भी इस म्यूजियम के बारे में जानना चाहते है तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढियेगा। 

संग्रहालय का नाम अल्बर्ट हॉल संग्रहालय
दूसरा नाम  प्रिंस ऑफ़ व्हेल्स, अल्बर्ट एडवर्ड
राज्य  राजस्थान 
शहर जयपुर 
निर्माणकाल  ई.स 1880
निर्माणकर्ता महाराजा सवाई माधोसिंह द्रितीय 
वास्तुकला  इंडो-सरैसेनिक
संग्रहालय की मुख्य गैलरी कालीन गैलरी,क्ले आर्ट गैलरी,सिक्का गैलरी,ज्वेलरी गैलरी,म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स गैलरी,

Table of Contents

Albert Hall Museum History In Hindi –

जयपुर में स्थित albert museum hall का इतिहास करीबन 150 साल प्राचीन माना जाता है। इस संग्रहालय की नीव 6 फरवरी 1876 को प्रिंस ऑफ वेल्स अल्बर्ट एडवर्ड की जयपुर यात्रा के समय दौरान रखी गई थी। इस समारक का इस्तेमाल कैसे किया जाये इसका कोई उपयोग निश्चित नहीं था। ई.स 1880 में महाराजा सवाई माधोसिंह द्रितीय के कहने पर अस्थाई संग्रहालय का निर्माण करवाया गया था।

अल्बर्ट हॉल के निर्माण को साल 1887 में जयपुर पीडब्ल्यूडी के निदेशक सैमुअल स्विंटन जैकब ने पूर्ण करवाया था। जयपुर का यह अस्थायी संग्रहालयय जिसमे रखी कलाकृतियों को भारत के कई क्षेत्रो से एकठ्ठा करके लाया गया था। 

इसके बारेमे भी पढ़िए – Daulatabad fort History In Hindi Maharashtra

"<yoastmark

Albert Hall Museum की वास्तुकला –

albert hall museum jaipur architecture की बात करे तो वास्तुकला इंडो-सरैसेनिक में इसका निर्माण करवाया गया है। यह वास्तुशैली का यह संग्रहालय एक उत्तम उदाहरह मौजूद है। संग्रहालय की गलियारों को भिन्न-भिन्न प्रकार की शैलियों में भित्ति चित्रों के साथ शुशोभित किया गया है। संग्रहालय में यूरोपीय, मिस्र, चीनी, ग्रीक और बेबीलोनियन सभ्यताओं को भी चित्रित किया गया है। 

जयपुर का संग्रहालय की दीर्घाओं अतिति से प्राचीन चीज -वस्तुए और कलाकृतियों का एक बड़ा संग्रह किया गया है। संग्रहालय में प्राचीन सिक्के ,संगेमरमर की कला,मिटटी के बर्तन कलिनो और विशेष रूप से मिस्र की ममी रखी गई है।

अल्बर्ट हॉल संग्रहालयय के अन्दर देखने लायक गैलरी संग्रह –

जयपुर में स्थित यह अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में भिन्न-भिन्न मनोरंजन गैलरी है 19 वी शताब्दी से प्राचीन समय की चीज -वस्तुए और खजानो का प्रदर्शन करता है। संग्रहालय में पर्यटक कुछ इस तरह से गैलरी  देख सकते है। 

कालीन गैलरी :

संग्रहालय की कालीन गैलेरी विश्व में फ़ारसी उध्यान कालिनो का सबसे अच्छा उदाहरण है जिसकोसं 1632 में मिर्जा राजा जयसिंह के समय दौरान गए जिनके कारपेट में फ़ारसी उध्यान के नज़ारे को दिखाया गया है। कालीन गैलरी को चार हिस्सों में विभाजित किया गया है जिसको कई वर्गों में उपविभाजित है। विभिन्न रंगो प्रत्यक्ष भाग कालीन को शानदार और आकर्षक बनाता है। 

इस हिस्से में मछलिया , पंखी , कछुओं , अन्य चीनी पशुए , और अन्य जानवर भी देख सकते है इसके अलावा कालीन गैलेरी में डोरमैट, मुगल और पुष्प पैटर्न में गोलाकार कालीन भी पर्यटक देख सकते है। 

इसके बारेमे भी पढ़िए – Nilkanth Dham Temple Information In Hindi – Gujarat

क्ले आर्ट गैलरी :

संग्रहालय की क्ले आर्ट गैलेरी 19 वि शताब्दी की उत्तम मुद्राओं को दिखाता है इस मुद्राओ मे योगिक मुद्राये , समाजशास्त्रीय विषय , शिल्पकला ऐसी कई अन्य महत्व की चीजे मौजूद है। 

सिक्का गैलरी :

albert hall museum में सिक्का गैलेरी में पर्यटकों को मुगलो और अंग्रेज सरकार ध्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले सिक्के एक विस्तृत श्रृंखला देखने के लिए रखा गया है। इनमे रखे गए पंच-चिन्हित सिक्कों को सिक्कों के इतिहास में सबसे प्राचीन काल माना जाता है। इस संग्रहालय में रखे गए सिक्के अकबर , जहांगीर , और औरंगजेब के शासनकाल से सबंधिक कई मुगलकालीन सिक्के राजस्थान के कई क्षेत्र में से मिले गए है। 

ज्वेलरी गैलरी :

संग्रहालय में स्थित ज्वैलरी 19 वी शताब्दी में किसानो ध्वारा प्राचीन समय में पहने जाने वाले सभी सस्ते आभूषण इस गैलेरी में देख सकते है। ऐसे आभूषणों में चांदी और पीतल से बने हुवे थे वह आप देख सकते है। इन आभूषणों में पायल ,अंगूठी , हेयर पिन , हार इसके अलावा कई अन्य महंगी ज्वैलरी भी देख सकते है। 

म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स गैलरी :

संग्रहालय में म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स गैलरी में पर्यटक भारतीय यंत्र जैसे शहनाई , ढप , पुंगी , रावण हत्या ऐसे कई वाध्ययंत्र देख सकते है। अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में इसके अलावा पर्यटकों को देखने के लिए वस्त्र , संगेमरमर कला ,मिट्टी के बर्तन , प्रतिमाये ,धातुकला ,हथियार और कवच जैसे कई अन्य चीजे देख सकते है। 

इसके बारेमे भी पढ़िए – Iskcon Temple History In Hindi Delhi

Albert Hall Museum History In Hindi
Albert Hall Museum History In Hindi

Albert Hall Museum के बारे में कुछ रोचक तथ्य –

  • जयपुर का अल्बर्ट हॉल संग्रहालय  सरकारी केंद्रीय संग्रहालय के रूप में भी पहचाना जाता है। यह संग्रहालय राजस्थान का सबसे पुराना संग्रहालय माना जाता है। 
  • राजस्थान का यह प्राचीन संग्रहालय का नाम किंग अल्बर्ट एडवर्ड चतुर्थ के नाम पर से रखा गया है। 
  • अल्बर्ट हॉल संग्रहालयय इंडो-सरैसेनिक वास्तु शैली में  मिश्रण करके इसका निर्माण किया गया है। 
  • इस संग्रहालय को प्रथम टाउन हॉल जैसी ईमारत बनाने को सोचा था परन्तु महाराजा माधोसिंह द्रितीय ध्वारा एक संग्रहालय बनाने का निर्णय लिया गया था। 

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय की यात्रा के लिए टिप्स –

  • जयपुर का वातावरण बहोत शुष्क है इसलिए पर्यटकों को जरुरी चीजों को साथ में ले जाना अति आवश्यक होगा। 
  • जयपुर के अल्बर्ट हॉल संग्रहालयय की यात्रा के समय दौरान आप कन्फेटेबल कपड़ो का इस्तेमाल करे। 
  • अल्बर्ट हॉल संग्रहालय के अंदर प्लास्टिक और अन्य चीजे पर्यटक साथ में ले जाना प्रतिबंध है।      

अल्बर्ट हॉल म्यूजियम खुलने और बंद होने का समय –

जयपुर का यह अल्बर्ट हॉल म्यूजियम में जाने के लिए पर्यटक घूमने के लिए आप आवश्यक है कि अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में पर्यटकों प्रवेश करने के लिए सुबह 9.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक और albert hall museum closing time 7.00 बजे से रात 10 बजे का समय रहता है। 

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय की एंट्री फीस –

Albert Hall Museum
Albert Hall Museum
  • भारतीय पर्यटकों को albert hall museum ticket price – 40 रू
  • भारतीय स्टूडेंट्स के लिए – 20 रू
  • विदेशी स्टूडेंट्स के लिए – 150 रू
  • विदेशी पर्यटकों albert hall museum ticket – 300 रू
  • इस सात साल के पर्यटकों को albert hall museum entry fee नहीं है। 
  • राजस्थान दिवस यानि की विश्व विरासत दिवस , विश्व संग्रहालय दिवस और विश्व पर्यटन दिवस पर सभी पर्यटको के लिए संग्रहालय में प्रवेश नि:शुल्क है। 

इसके बारेमे भी पढ़िए – Sikandar Lodi Tomb History In Hindi Delhi

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय जयपुर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय –

अगर आप albert hall museum timings जानना चाहते है तो आप जयपुर की यात्रा नवंबर से फरवरी के सर्दियों का समय सबसे अच्छा है। क्योकि इस समय आपको शहर की यात्रा करने का एक आदर्श माहौल प्रदान करता है। जयपुर में मार्च से शुरू होने वाली ग्रीष्मकाल के समय दौरान जयपुर की यात्रा न करे क्योकि इस समय दौरान जयपुर का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच सकते है।  albert hall museum at night के समय को प्राथमिकता दीजाती है क्योकि जब यह पिले रंग की रोशनी से रोशन स्मारक सुन्दर और आकर्षक लगता है। 

Albert Hall Museum जयपुर के आकर्षण स्थल –

  • अक्षरधाम मंदिर
  • बिरला मंदिर
  • गलताजी मंदिर
  • मोती डूंगरी गणेश मंदिर
  • जगत शिरोमणि मंदिर
  • गोविंद देव जी मंदिर
  • चोखी ढाणी
  • राज मंदिर सिनेमा
  • अमर जवान ज्योति
  • सांभर झील
  • सामोद पैलेस
  • रामबाग पैलेस
  • अनोखी म्‍यूजियम ऑफ हैंड प्रिंटिग
  • म्यूज़ियम ऑफ लेगासीज
  • वैक्‍स म्‍यूज‍ियम
  • आम्रपाली संग्रहालय
  • नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क
  • जेम एंड ज्वैलरी संग्रहालय
  • सनराइज ड्रीम वर्ल्ड
  • चांद बावड़ी
  • मसाला चौक
  • वृंदावन गार्डन
  • स्टेच्यू सर्कल जयपुर
  • सेंट्रल पार्क जयपुर
  • चांद पोल
  • विद्याधर गार्डन
  • माधवेंद्र पैलेस स्कल्पचर पार्क
  • ईसरलाट 
  • सरगासूली टॉवर
  • ज़ूलॉजिकल गार्डन जयपुर
  • कनक वृंदावन गार्डन
  • जवाहर कला केन्द्र
  • हवा महल
  • आमेर का किला
  • सिटी पैलेस
  • नाहरगढ़ किला
  • जंतर मंतर
  • जयगढ़ किला
  • रामबाग पैलेस
  • महारानी की छतरी

Albert Hall Museum जयपुर कैसे पहुंचे –

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय जयपुर शहर में स्थित है इसलिए इस शहर में आने के बाद आप बेहद आसानी से अल्बर्ट हॉल संग्रहालय पहुंच सकते हैं। यहां आने के लिए देश के प्रमुख शहरों से ट्रेन, बस एवं हवाई यातायात का विकल्प मौजूद है।

हवाई जहाज से अल्बर्ट हॉल संग्रहालय कैसे पहुंचे :

जयपुर हवाई अड्डे को सांगानेर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा कहा जाता है और अल्बर्ट हॉल संग्रहालय से लगभग 30 मिनट की दूरी पर स्थित है। जयपुर घरेलू उड़ानों द्वारा दिल्ली, मुंबई, उदयपुर, जोधपुर, औरंगाबाद, कलकत्ता और वाराणसी से जुड़ा हुआ है। एयरपोर्ट के बाहर से आप प्रीपेड या रेडियो कैब सेवा या टैक्सी के माध्यम से अल्बर्ट हॉल संग्रहालय पहुंच सकते हैं।

इसके बारेमे भी पढ़िए – Akshardham Temple History In Hindi Delhi

ट्रेन से जयपुर अल्बर्ट हॉल संग्रहालय कैसे पहुंचे :

jaipur railway station to albert hall museum भारत के प्रमुख स्टेशनों से जुड़ा हुआ है। इस स्टेशन पर पहुंचने के बाद आप ऑटो, टैक्सी या फिर कैब से अल्बर्ट हॉल संग्रहालय पहुंच सकते हैं। 

सड़क मार्ग से जयपुर अल्बर्ट हॉल संग्रहालय कैसे पहुंचे :

जयपुर के लिए राजस्थान, गुजरात, दिल्ली और मुंबई के सभी प्रमुख स्थानों से राज्य परिवहन की बसें चलती हैं। इसके अलावा आप वोल्वो और लक्जरी एवं एसी बसों से भी यहां पहुंच सकते हैं। जयपुर पहुंचने के बाद स्थानीय परिवहन जैसे टैक्सी, रिक्शा और कैब से अल्बर्ट हॉल संग्रहालय पहुँच सकते है।

Albert Hall Museum Rajasthan Map –

Albert Hall Museum Video –

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय के अन्य प्रश्न –

1 . राजस्थान का अलबर्ट म्यूजियम किसने बनवाया था ?

अलबर्ट म्यूजियम का निर्माण महाराजा माधोसिंह द्रितीय ध्वारा करवाया गया था। 

2 . अल्बर्ट हॉल संग्रहालय का इतिहास कितने साल प्राचीन माना जाता है ?

राजस्थान के जयपुर में स्थित albert museum hall का इतिहास करीबन 150 साल प्राचीन माना जाता है। 

3 . अल्बर्ट हॉल संग्रहालय का निर्माण किसने पूर्ण करवाया था ?

अल्बर्ट हॉल के निर्माण को साल 1887 में जयपुर पीडब्ल्यूडी के निदेशक सैमुअल स्विंटन जैकब ने पूर्ण करवाया था। 

4 . राजस्थान के अल्बर्ट हॉल की नीव कब और किसने रखी थी ?

इस संग्रहालय की नीव 6 फरवरी 1876 को प्रिंस ऑफ वेल्स अल्बर्ट एडवर्ड की

जयपुर यात्रा के समय दौरान रखी गई थी। 

5 . जयपुर का अलबर्ट संग्रहालय किस वास्तुशैली में निर्माणित है ?

अलबर्ट हॉल की वास्तुशैली की बात करे तो इसकी वास्तुकला इंडो-सरैसेनिक में इसका निर्माण करवाया गया है। 

6 . अलबर्ट हॉल म्यूजियम में मुख्य कौनसी गैलेरिया है ?

अलबर्ट हॉल म्यूजियम में कालीन गैलरी, क्ले आर्ट गैलरी, सिक्का गैलरी , ज्वेलरी गैलरी , म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स गैलरी जैसी सुन्दर गैलेरी है। 

इसके बारेमे भी पढ़िए – Katyayani Mandir Chattarpur History In Hindi Delhi

Conclusion –

दोस्तों उम्मीद करता हु आपको मेरा ये लेख अलबर्ट हॉल संग्रहालय के बारे में पूरी तरह से समज आ गया होगा। इस लेख के द्वारा हमने albert hall museum jaipur के बारे में जानकारी दी अगर आपको इस तरह के अन्य ऐतिहासिक स्थल और प्राचीन स्मारकों की जानकरी पाना चाहते है तो आप हमें कमेंट करे। आपको हमारा यह आर्टिकल केसा लगा बताइयेगा और अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे। धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.