Ajmer Sharif Dargah History In Hindi

Ajmer Sharif Dargah History In Hindi | अजमेर शरीफ़ दरगाह का इतिहास

नमस्कार दोस्तों Ajmer Sharif Dargah Information In Hindi में आपका स्वागत है। आज हम अजमेर शरीफ दरगाह राजस्थान घूमने की पूरी जानकारी बताने वाले है। अजमेर शरीफ दरगाह को अजमेर दरगाह के नाम से भी जाना जाता है। वह मोइनुद्दीन चिश्ती का मकबरा है, वह सिर्फ मुसलमानों के लिए नहीं बल्कि सभी धर्म के अनुयायियों के लिए भारत में सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। ख्वाजा मोइन-उद-दीन चिश्ती का अंतिम विश्राम स्थल होने के कारन इस्लाम के नैतिक और आध्यात्मिक मूल्यों को प्रजा के बीच फैलाने मेंउसका बहुत बड़ा योगदान है।

ख्वाजा मोइन-उद-दीन चिश्ती एक महान सूफी संत और उन्होंने पूरा जीवन गरीबों और दलितों के परमार्थ के लिए समर्पित कर दिया था। मस्जिद में हर साल लाखों लोग शीश टेकने के लिए आते हैं। क्योंकि वह सभी धर्मों के लोगों के लिए बहुत पवित्र माना जाता है। अजमेर शरीफ़ का निर्माण मुग़ल बादशाह हुमायूँ ने करवाया था। दरगाह में मकबरे, आंगन और दालान जैसे विभिन्न घटक शामिल हैं। उसकी संरचनाओं में निजाम गेट, बुलंद दरवाजा, जामा मस्जिद, औलिया मस्जिद, दरगाह तीर्थ, महफिलखाना और एक दर्जन संरचनाए शामिल है।

Ajmer Sharif Dargah History In Hindi

अजमेर शरीफ दरगाह का इतिहास – गरीब नवाज मोइन-उद-दीन चिश्ती का अंतिम विश्राम स्थल होने के कारन दरगाह अजमेर शरीफ सद्भाव और आध्यात्मिकता का प्रतीक है। शांति चाहने वाले लोगों के लिए एक जरूरी यात्रा है। मान्यता के मुताबिक जब सूफी संत 114 वर्ष के हुए तो उन्होंने नमाज अदा करने के लिए खुद को छह दिनों के लिए बंद कर लिया और अपने नश्वर शरीर को पीछे छोड़ दिया था। उसके कारण उनके सम्मान में यह उत्तम मस्जिद का निर्माण किया गया था।

हज़रत ख्वाजा मोइन-उद-दीन चिश्ती को भारत में इस्लाम का संस्थापक और दुनिया भर में इस्लाम का महान उपदेशक माना जाता था। उन्होंने अपने नेक उपदेश और सामाजिक कार्यों को प्रसिद्ध किया था। उसके लिए प्रसिद्ध थे। वह फारस से भारत आए और कुछ समय के लिए लाहौर में रहने के बाद अजमेर शहर में बस गए थे। 1236 में उनकी मृत्यु हो गई और तब से उनके विश्राम स्थल को अपार आध्यात्मिक शक्तियों के लिए जाना जाता है। मान्यता के मुताबिक दरगाह शरीफ पर सच्चे मन से की गई हर मनोकामना पूर्ण होती है।

Ajmer Sharif Dargah Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – राजसमन्द झील का इतिहास और जानकारी

Best Time To Visit Ajmer Sharif Dagah

अजमेर शरीफ के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय – अजमेर शरीफ जाने का सबसे अच्छा समय रजब के महीने के पहले छह दिनों में होता है। उस समय यहाँ प्रसिद्ध उर्स मेला आयोजित किया जाता है। दरगाह को इस समय के दौरान शानदार ढंग से सजाया जाता है और इसलिए यह आगंतुकों के लिए एक दृश्य उपचार है। तीर्थ यात्रियों को उस उत्सव के समय अजमेर शरीफ दरगाह की यात्रा जरुर करनी चाहिए। और दरगाह शरीफ पर सच्चे मन से नमाज अदा करनी चाहिए।

Ajmer Sharif Dargah Address – Ajmer Dargah, Ajmer, Rajasthan 305001

Tips For Visiting Ajmer Sharif Dargah

  • पवित्र स्थल की यात्रा करते समय दिशा-निर्देशों का पालन करना जरुरी है।
  • अजमेर शरीफ की यात्रा करते समय उचित कपड़े पहन कर जाएं। 
  • अगर आप यात्रा करते है, तो यात्रा करते अपने सामान को सुरक्षित रखना चाहिए। 
  • क्योकि यहाँ यात्रियों से चेन स्नैचिंग और लूट की बहुत सारी खबरें आती रहती हैं।
  • अजमेर शरीफ की यात्रा करते समय महंगे ज्वैलरी या गैजेट्स लेकर न जाएं।
Ajmer Sharif Dargah Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – छत्तीसगढ़ के राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

Ajmer Sharif Dargah Timings

अजमेर दरगाह खुलने का समय की बात करे तो खुलने का समय सुबह 5 बजे से रात 10 बजे तक और गर्मियों के समय में सुबह 4 बजे से रात 10 बजे तक मस्जिद को खुला रखा जाता है।

Ajmer Sharif Dargah Architecture

दरगाह अजमेर शरीफ की वास्तुकला की बात करे तो अजमेर शरीफ समृद्ध मुगल शैली की वास्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण और उसका निर्माण मुगलों ने करवाया गया था। अजमेर शरीफ का निर्माण तेरहवीं शताब्दी में हुआ था। वहाँ एक विशाल द्वार से पहुंचा जा सकता है उसको बुलंद दरवाजा कहते है वह दूसरे आंगन में खुलता है। महान सूफी संत, हज़रत ख्वाजा मोइन-उद-दीन चिश्ती की कब्र को एक गुंबददार कक्ष में स्थित है। वह एक चांदी की रेलिंग और संगमरमर की स्क्रीन से सुरक्षित है। अजमेर शरीफ का माहौल प्रसिद्ध कव्वालों के गीतों से गूंजता है।

जो दुनिया भर से दरगाह पर आते हैं। यात्रिओ और फकीरों को यहाँ आप देख सकते हैं। जो दरगाह के बहार भीख मांगते हैं। अजमेर शरीफ दरगाह के मकबरे के निर्माण में ज्यादातर सामग्री संगमरमर और सोने की परत है। दरगाह के बाहर एक छोटा सा बाजार जहां से तीर्थयात्री प्रसाद खरीदते हैं। यहाँ विशाल कड़ाही देख सकते है, उसका प्रयोग विशेष अवसरों पर चावल की खीर बनाने में करते है।

अजमेर शरीफ दरगाह की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – पंजाब के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

अजमेर दरगाह के स्मारक

  • निजाम गेट
  • डीग्स या बड़ा बर्तन 
  • समखाना या महफिलखाना
  • बेगमी दालान 
  • संदली  मस्जिद
  • बीबी हाफिज जमाल की मजार
  • औलिया मस्जिद
  • बाबाफरीद का चिल्ला
  • जन्नती दरवाजा
  • अकबरी मस्जिद

Celebrations At Ajmer Sharif Dargah

अजमेर शरीफ दरगाह में समारोह की बात करे तो मान्यता के मुताबिक जब सूफी संत 114 वर्ष के हुए तो उन्होंने नमाज अदा करने के लिए खुद को छह दिनों के लिए बंद कर लिया था। और अपने नश्वर शरीर को पीछे छोड़ दिया था। उसके कारन हर साल ‘उर्स’, एक खूबसूरत उत्सव, इस्लामी चंद्र कैलेंडर के सातवें महीने में दरगाह में छह दिनों के लिए आयोजित किया जाता है। पवित्र मकबरे का मुख्य द्वार, जो आमतौर पर रात में बंद रहता है। उर्स के सभी छह दिनों के दौरान पूरे दिन और रात में 2 या 3 घंटे को छोड़कर खुला रहता है। उस पवित्र मंदिर के दर्शन के लिए यह समय विशेष रूप से रंगीन है। एक पवित्र तीर्थस्थल, जो इस्लामी आस्था के विश्वासियों के साथ तालमेल में है।

अजमेर शरीफ़ दरगाह का फोटो

इसके बारेमे भी पढ़िए – द्वारकाधीश मंदिर का इतिहास और यात्रा की जानकारी

How To Reach Ajmer Sharif Dargah अजमेर शरीफ दरगाह कैसे पहुंचे?

भारत के अजमेर शहर जाने के लिए पर्यटक हवाई मार्ग, ट्रेन और सड़क मार्ग में से किसी से भी जा सकते है। अजमेर शरीफ दरगाह अजमेर शहर से 2 किमी दूर स्थित है। वहाँ कई बसों और कैब की सहायता से राज्य के सभी हिस्सों से दरगाह पहुंच सकते है। अजमेर शहर से 135 कि.मी दूर जयपुर का सांगानेर हवाई अड्डा अजमेर का निकटतम हवाई अड्डा है। अजमेर शहर का रेल्वे स्टेशन अजमेर जंक्शन रेलवे स्टेशन जो मुंबई, अहमदाबाद, जयपुर और दिल्ली लाइन पर स्थित है। राजस्थान राज्य सड़क परिवहन निगम से दिल्ली, जयपुर, उदयपुर, जोधपुर और जैसलमेर शहरों से अजमेर को जोड़ने के लिए डीलक्स और सेमी-डीलक्स बसें नियमित रूप से चलाता है।

अजमेर शरीफ़ दरगाह का इतिहास

इसके बारेमे भी पढ़िए – केदारकांठा ट्रेक की सम्पूर्ण जानकारी

Hazrat Khwaja Gharib Nawaz Dargah Map अजमेर शरीफ दरगाह का लोकेशन

Ajmer Sharif Dargah In Hindi Video

Interesting Facts

  • मुहम्मद बिन तुगलक 1332 में हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अजमेरी की दरगाह का दौरा करने वाले पहले व्यक्ति थे।
  • जामा मस्जिद पर अल्लाह के 99 पवित्र नामों के साथ 33 से अधिक कुरान की आयतें अंकित की गई हैं।
  • अजमेर शरीफ दरगाह की मान्‍यता मुस्लिम धर्म को मानने वालों का तीर्थ स्‍थल है
  • अजमेर शरीफ दरगाह भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर शहर में स्थित है। 
  • मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह राजस्थान का सबसे प्रसिद्ध तीर्थस्थल है।
  • मोइन-उद-दीन चिश्ती महान सूफी संत थे उसका जीवन गरीबों और दलितों के लिए समर्पित था।
  • अजमेर शरीफ का निर्माण मुगलों द्वारा करवाया गया था। 
  • अजमेर शरीफ दरगाह दरगाह शरीफ, ख्वाजा गरीबनवाज़ दर्गाह अजमेर, अजमेर दरगाह, अजमेर शरीफ के नामों से भी प्रसिद्ध है।
  • मांडू के सुल्तान ग़यासुद्दीन ख़िलजी ने 1465 में दरगाह और गुम्बद का निर्माण करवाया था।

FAQ

Q .अजमेर शरीफ़ दरगाह कहा है?

111, Dargah Sharif, Khadim Mohalla, Diggi Bazaar, Ajmer, Rajasthan 305001

Q .दरगाह अजमेर शरीफ का निर्माण किसने करवाया था?

दरगाह अजमेर शरीफ का निर्माण हैदराबाद के निज़ाम मीर उस्मान अली ख़ाँ ने करवाया था।

Q .दुनिया की सबसे बड़ी कढ़ाई कहां मौजूद है?

भारत के अजेमर शरीफ दरगाह में दुनिया की सबसे बड़ी कढ़ाई मौजूद है। 

Q .अजमेर शरीफ दरगाह क्यों प्रसिद्ध है?

अजमेर शरीफ दरगाह सूफी संतों का आशीर्वाद लेने दुनिया भर में प्रसिद्ध है। 

Q .क्या अजमेर शरीफ में हिंदू जा सकते हैं?

हाँ अजमेर शरीफ में हिंदू जा सकते हैं। 

Q .क्या महिलाओं को अजमेर शरीफ में जाने की अनुमति है?

हाँ महिलाओं को अजमेर शरीफ में जाने की अनुमति है। 

Q .ख्वाजा साहब का उर्स कब लगता है?

अजमेर में ईद के बाद चांद की पांच एवं छह तारीख यानि 18-19 मई को ख्वाजा साहब का उर्स लगता है। 

Conclusion

आपको मेरा लेख Ajmer Sharif Dargah History बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Ajmer Dargah sharif, Ajmer Sharif Dargah entry fee

और Ajmer Sharif Dargah open timing से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Ajmer dargah open or not 2022 की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Dargah sharif ajmer, Ajmer dargah sharif dargah shareef diggi bazaar ajmer rajasthan, Ajmer sharif ki dargah, Ajmer dargah, Dargah ajmer, Ajmer Sharif Dargah contact number, Ajmer Sharif Dargah miracle, Is ajmer sharif dargah open tomorrow, Things to do in ajmer sharif dargah, Golden temple, Ajmer Sharif Dargah photos, Ajmer Sharif History in Hindi

ख्वाजा गरीब नवाज की हिस्ट्री हिंदी में, अजमेर की दरगाह का इतिहास, अजमेर दरगाह का काला सच, अजमेर में किस सूफी संत की दरगाह है, ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती और पृथ्वीराज चौहान, अजमेर दरगाह खुलने का समय, अजमेर में किसकी दरगाह है

इसके बारेमे भी पढ़िए – रणथंभौर नेशनल पार्क घूमने की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.