Agrasen Ki Baoli In Hindi

Agrasen Ki Baoli In Hindi | अग्रसेन की बावली की कहानी और घूमने की जानकारी

नमस्कार दोस्तों Agrasen ki Baoli in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम नई दिल्ली में हैली रोड पर स्थित एक ऐतिहासिक स्मारक और दिल्ली की सबसे डरावनी जगह में शामिल अग्रसेन की बावली की कहानी और घूमने की जानकारी बताने वाले है। अग्रसेन की बावली या उग्रसेन की बावली नई दिल्ली में हैली रोड पर स्थित एक ऐतिहासिक स्मारक और पत्थरों और चट्टानों के विभिन्न वर्गीकरणों का एक एक प्राचीन जल भंडार है। वह 03 पत्थर की सीढ़ियों से बनी बावड़ी जमीन की गहराई से ऊपर है। दिल्ली शहर के मध्य व्यापारिक टावरों और आवासीय अपार्टमेंटों के बीच स्थित यह स्थान फोटोग्राफी प्रेमियों के लिए एक शांत अनुभव है।

संरचना की पुरानी ईंट की दीवारें इतिहास में वापस ले जाती हैं। अग्रसेन की बावली की संरचना 15 मीटर चौड़ी और 60 मीटर लंबी है। उसके नाप से पता चलता है। की वह काफी प्रभावशाली है। बनावट महाभारत के समय के आसपास हुई का प्रमाण मिलता है। जलाशय आज भी प्राचीन उद्देश्य को पूरा करता है क्योंकि बावली के निचले हिस्से में पानी आज भी देख सकते है। उसके दक्षिण-पश्चिम की ओर स्थित एक मस्जिद छत पर एक भारी पत्थर के साथ चार खंभों पर खड़ी है। 

Agrasen Ki Baoli History In Hindi

अग्रसेन की बावली का इतिहास रहस्य से भरा हुआ है। उस बात की पुष्टि होती है कि उसके निर्माण के पीछे कौन था। मगर ऐसा माना जाता है कि उसे राजा अग्रसेन ने महाभारत के समय के आसपास बनवाया था। उसका नाम से ही पता चलता है। 14 वीं शताब्दी में अग्रवालों ने उसका पुनर्निर्माण किया गया था। जो महाराजा अग्रसेन से उसकी उत्पत्ति का पता लगाता है। माना जाता है कि यह जलाशय एक महत्वपूर्ण सामुदायिक स्थान जहां महिलाएं इकट्ठा होती थीं और गर्मी में समय बिताती थीं। बावली की कोठरियों का उपयोग अनुष्ठानों और धार्मिक समारोहों के लिए भी किया जाता था।

Agrasen Ki Baoli Images

इसके बारेमे भी पढ़िए – उडुपी का कृष्ण मंदिर की जानकारी

Best Time To Visit Agrasen Ki Baoli

अग्रसेन की बावली घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – उग्रसेन की बावली और दिल्ली शहर के पर्यटक स्थलों की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय वसंत ऋतु या फरवरी का महिना है। दिसंबर एव  जनवरी के महीने में दिल्ली शहर में तेज ठंड पड़ती है। उसके कारन आप सितंबर से नवंबर और फरवरी से मार्च महीने में दिल्ली शहर की यात्रा कर सकते हैं। यह आकर्षक संरचना को देखने के लिए अप्रैल से जून में भी जा सकते है। मगर दिल्ली में घूमने के लिए गर्मी का मौसम अच्छा नहीं है।

अग्रसेन की बावली की कहानी और घूमने की जानकारी

Timings of Agrasen Ki Baoli

अग्रसेन की बावली खुलने का समय – अग्रसेन की बावली यात्रिओ को घूमने के लिए सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक खुली रहती है। उस समय में पर्यटक किसी भी समय दौरान यहाँ आसानी से घूम सकते है।

Entry Fee of Agrasen Ki Baoli

अग्रसेन की बावली को देखने और प्रवेश के लिए कोई भी शुल्क नही है।

अग्रसेन की बावली की फोटो गैलरी

इसके बारेमे भी पढ़िए – श्रवणबेलगोला के प्रमुख पर्यटन और तीर्थ स्थल की जानकारी

Architecture of Agrasen Ki Baoli

अग्रसेन की बावली की वास्तुकला – अग्रसेन की बावली की संरचना देखे तो अद्वितीय है। क्योंकि उसका आकार उस समय दिल्ली में मौजूद जलाशयों के पारंपरिक गोल आकार से बहुत अलग है। 103 सीढि़यों की श्रंखला में बनी यह बावली धीरे-धीरे जमीन में उतरती है। ये चरण तीन स्तरों पर बनाए गए हैं। जिनमें से प्रत्येक एक लैंडिंग के रूप में कार्य करता है जहां लोग आराम कर सकते हैं। ये स्तर बदले में धनुषाकार पत्थर की नक्काशी के समान एक दूसरे के लिए सुंदर समरूपता में स्थित हैं। उसकी वास्तुकला की शैली इंगित करती है कि उसे तुगलक काल के दौरान फिर से बनाया गया था। यह बावड़ी 60 मीटर लम्बी और 15 मीटर चौड़ाई के साथ एक खूबसूरत संरचना है।

Agrasen Ki Baoli Haunted Story In Hindi

अग्रसेन की बावली भूतिया और घटनाओं की शहरी किंवदंतियों के लिए बहुत प्रसिद्ध है। कई लोग उसको भूतिया मानते हैं। और यह कई अपसामान्य गतिविधियों का केंद्र रहा है। किंवदंती के मुताबिक जलाशय एक समय रहस्यमयी गहरे पानी से भर गया था। उसने लोगों को आत्महत्या करने के लिए कूदने के लिए मजबूर किया था। आधुनिक समय में कहा जाता है कि यह स्थान पर्यटकों पर एक बुरा प्रभाव डालता है। जो शाम के बाद गंतव्य पर रुकते हैं। कई रात के प्राणियों जैसे चमगादड़ और उल्लू की उपस्थिति जगह के विचित्र भाग को ऊपर उठाती है। प्रेतवाधित या नहीं ये घटनाएं दिलचस्प कहानियों के लिए तैयार होती हैं और गंतव्य को दिलचस्प बनाती हैं।

Agrasen Ki Baoli Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – अजमेर शरीफ़ दरगाह का इतिहास और जानकारी

Mosque At Agrasen Ki Baoli मस्जिद

यह आकर्षक संरचना के पश्चिम की ओर सीढ़ियों की एक छोटी सी उड़ान के ऊपर मस्जिद को देख सकते है। वह मस्जिद की छत गिर गई है। उसी के स्तंभ आज भी मौजूद देखने को मिलते हैं। उस स्तंभ पर बौद्ध-चैत्य नक्काशी दिखाई देती है। वह बलुआ पत्थर के खंभे मस्जिद के सामान्य डिजाइन की तुलना में बहुत अलग दिखाई देती हैं।

Agrasen Ki Baoli Movie Shooting

अग्रसेन की बावली का बॉलीवुड से सबंध है। सलमान खान से लेकर आमिर खान तक अभिनेताओं ने कई फिल्मों की शूटिंग यहां की हुई है। आमिर खान स्टारर पीके में उनके किरदार को अग्रसेन की बावली में जीते हुए दिखाया है। बावली सलमान खान अनुष्का शर्मा अभिनीत फिल्म सुल्तान और दिवंगत श्रीदेवी की पुरस्कार विजेता थ्रिलर मॉम में भी नजर आ रही है। 2012 में बावली में फॉर्मूला वन मॉडल का फोटो शूट भी किया था।

अग्रसेन की बावली का फोटो

Places To Visit Around Agrasen Ki Baoli

  • कुतुब मीनार
  • हुमायूं का मकबरा
  • इंडिया गेट
  • लाल किला
  • जामा मस्जिद
  • लोटस टेम्पल
  • स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर
  • लोधी गार्डन
  • कनॉट प्लेस
  • बिरला मंदिर
  • मुगल गार्डन
  • पुराना किला

How To Reach Agrasen Ki Baoli

अग्रसेन की बावली का निकटतम मेट्रो स्टेशन राजीव चौक है। डीटीसी यहाँ से बसों का संचालन करती है। वह दिल्ली के ज्यादातर लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों पर रुकती हैं। आप फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग में ट्रेवल करके दिल्ली आ सकते है। इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा दिल्ही शहर के पश्चिम भाग में स्थित है। वह दुनिया के सबसे अच्छे हवाई अड्डों में से एक है। दिल्ली देश के सभी प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। दिल्ली में चार स्टेशन दिल्ली जंक्शन, नई दिल्ली, हज़रत निज़ामुद्दीन और पूर्व में आनंद विहार है।

इसके बारेमे भी पढ़िए – राजसमन्द झील का इतिहास और जानकारी

Agrasen Ki Baoli Map अग्रसेन की बावली का लोकेशन

Agrasen Ki Baoli In Hindi Video

Interesting Facts

  • अग्रसेन की बावली नई दिल्ली में हैली रोड पर स्थित एक ऐतिहासिक स्मारक है। 
  • यह बावली को पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने अवशेष अधिनियम 1958 के तहत संरक्षित स्मारक घोषित किया है।
  • बावली की सीढ़ियों से नीचे जाते तापमान में गिरावट का अनुभव होता है।
  • अग्रसेन की बावली प्रेतवाधित होने के लिए प्रसिद्ध है। 
  • बावली में अक्सर अजीब उपस्थिति महसूस करने का दावा किया है।
  • आमिर खान अभिनीत राजू हिरानी की फिल्म  पीके की शूटिंग के बाद बावली लोकप्रिय हुई है।
  • खूबसूरत बावड़ी फोटोग्राफी प्रेमियों और कपल्स के लिए शानदार जगह है।
  • बावली मूल रूप से महाभारत युग के दौरान राजा अग्रसेन ने बनाई थी।
  • कई लोग मानते है की अग्रसेन की बावली में काले जादू या आत्मा का साया है।

FAQ

Q .अग्रसेन की बावली कहा है? 

अग्रसेन की बावली नई दिल्ली में हैली रोड पर स्थित स्मारक है। 

Q .अग्रसेन की बावली के पीछे की कहानी क्या है?

अग्रसेन की बावली की गिनती दिल्ली की सबसे डरावनी जगह में होती है। 

Q .अग्रसेन की बावली का निर्माण किसने करवाया था?

अग्रसेन की बावली का निर्माण राजा अग्रसेन ने महाभारत काल के समय में किया था। 

Q .अग्रसेन की बावली की स्थापना किसने की?

राजा अग्रसेन

Q .अग्रसेन की बावली क्यों प्रसिद्ध है?

अग्रसेन की बावली अपनी खूबसूरत संरचना और प्रेतवाधित होने के लिए प्रसिद्ध है।

Conclusion

आपको मेरा लेख Agrasen Ki Baoli In Hindi बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये Agrasen ki Baoli nearest metro, Agrasen ki Baoli built by

और Agrasen ki Baoli architecture से सबंधीत सम्पूर्ण जानकारी दी है।

अगर आपको किसी जगह के बारे में जानना है। तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है।

हमारे आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शयेर जरूर करे। जय हिन्द।  

Note

आपके पास Agrasen ki Baoli to humayun tomb की जानकारी हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिख हमे बताए हम अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद। 

! साइट पर आने के लिए आपका धन्यवाद !

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें !

Google Search

Agrasen ki Baoli photos, caption for Agrasen ki Baoli, Agrasen ki Baoli ticket price, qutub minar, jantar mantar, places to visit in delhi, रानीजी की बावड़ी का इतिहास, बावड़ी की घटना, बिनोता की बावड़ी का इतिहास

इसके बारेमे भी पढ़िए – छत्तीसगढ़ के राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

Leave a Comment

Your email address will not be published.